मुख्य समाचार
 

चाइना के खिलाफ भारत के पक्ष में 3 और देश


KAVITA JOSHI 13/11/2017 13:03:02
563 Views

13-11-2017134820570g6MPlSk1

नई दिल्ली। चीन और भारत का हमेशा से ही चूहे-बिल्ली सा रिश्ता रहा है। चाइना की गतिविधियां भारत के लिए तो हमेशा से चिंता का विषय रही हैं, लेकिन इस बार भारत के पक्ष में और भी देश खड़े हुए हैं। चीन के आक्रामक रुख से परेशान कई देशों के बीच एक अनौपचारिक गठजोड़ शक्ल ले रहा है।

यह भी पढ़े...ऐसे बनाएं चावल और दाल का वेज ऑमलेट
भारत, अमेरिका, जापान और आस्ट्रेलिया ने पहली बार फिलीपींस की राजधानी मनीला में एक बैठक में भारत-प्रशांत क्षेत्र और उसके भविष्य की स्थिति पर चर्चा की। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि भारत, आस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका के विदेश मामलों के अधिकारी भारत-प्रशांत क्षेत्र में साझा हित के मुद्दों पर संवाद के लिए मनीला में मिले। चीन को इस गठजोड़ की भनक मिल चुकी है।

इनके बीच की चर्चाएं आपसी और अन्य भागीदारों के साथ साझा किए जाने वाले बढ़ते संपर्क क्षेत्र में शांति, स्थिरता और समृद्धि को बढ़ावा देने पर केंद्रित थीं। माना जा रहा है कि इस सिलसिले को आगे बढ़ाने के लिए वियतनाम के डेप्युटी पीएम फाम बिन मिन सोमवार से गुरुवार तक भारत की यात्रा पर हैं। 

यह भी पढ़े...ऐसे बनाएं चावल और दाल का वेज ऑमलेट

वियतनाम और चीन के बीच साउथ चाइना सी को लेकर विवाद चल रहा है। इस बीच वियतनाम की सेना को भारत काफी मदद करने के मूड में है। कहा जा रहा है कि वियतनाम को भारत की ओर से मिसाइल की सप्लाई पर चल रही बातचीत आगे बढ़ सकती है। इसी महीने मालाबार सैन्य अभ्यास में भारत और अमेरिका के साथ जापान भी होगा। भारत ने ऑस्ट्रेलिया के साथ हाल में द्विपक्षीय अभ्यास किया है, जो आगे चलकर मालाबार में शामिल हो सकता है। ये सभी साउथ चाइना सी और हिंद महासागर में चीन की दखल को चुनौती दे सकते हैं। 

हाल में सिंगापुर में हुए शंगरी ला डायलॉग में भारत चीन के विरोधी देशों से गठजोड़ को आगे बढ़ा सकता था, लेकिन इससे चीन के और भड़कने का अंदेशा था। 

 

Web Title: agains of china 3 country Support india ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


loading...