मुख्य समाचार
मई में दिल्ली में प्रस्तुति देंगे रोजर सांचेज तीन तलाक पर रीता बहुगुणा जोशी का बड़ा बयान लखनऊ में पहली बार आयोजित मोटर स्पोर्ट में युवा दिखायेंगे हुनर शॉर्ट सर्किट से सब्जी मंडी में लगी आग धार्मिक पर्यटन का केंद्र बनेगा यूपी जम्मू दौरे पर गए अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को दिया धन्यवाद बीजेपी की श्रीविजय पर माया के बाद अखिलेश का वार...  हादसा: विवाह समारोह के दौरान गिरा छज्जा, 9 की मौत बंथरा में युवकों ने की किशोरी के साथ छेड़छाड़ नक्सली हमले के बाद सुकमा में सीआरपीएफ का एक हेलीकॉप्टर क्रैश बेटी जन्म पर मिलेगा 50 हजार का बॉण्ड डेविड वार्नर ने कहा, श़ॉन मार्श ने शानदार प्रदर्शन किया दम्पति की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत आज से होगा केजीएमयू में इलाज सस्ता EVM को हार के लिए दोष देना अपने से मुंह चुराने जैसा : कुमार विश्वास कोपा अमेरिका में आयोजित होने वाले टूर्नामेंट की टीमों में होगा विस्तार बीजद ने व्यापार संघ का किया गठन रक्षा निर्माण नीति जल्द ही आ रही है : अरुण जेटली दाऊद इब्राहीम की हालत गंभीर,छोटा शकील ने कहा-वह ठीक हैं लखनऊ: युवती से गैंगरेप के 5 आरोपी गिरफ्तार दो स्थानों पर आग लगने से लाखों का हुआ नुकसान विनोद चौधरी के बेटे की शादी में पहुंचे सलमान मायावती का अगला दांव, गुजरात चुनाव... isro: भारत 5 मई को लॉन्च करेगा जीसैट-9 IPL: मजबूत इंडियंस को कड़ी चुनौती देंगे लायंस घर बैठे 2 घंटे में मंगाएं सिमकार्ड अगले शैक्षणिक सत्र में जुड़ेगा परशुराम पर अध्याय फिलीपींस में महसूस किए गए भूकंप के झटके IPL: अपने घर में बेंगलोर से भिड़ेगी पुणे टीम योगीराज: DM-SSP के दिलों की धड़कन बढ़ा देगी सुबह 9 से 11 बजे की घंटी  मेरे बेटे को स्पाइडर मैन पसंद : क्रिस प्राट सज्जन जिंदल ने शरीफ से की मुलाकात, विपक्ष ने जताई चिंता धीरे धीरे गाने को लेकर प्रशंसकों में जबर्दस्त क्रेज आईडीएफसी का चौथी तिमाही में शुद्ध लाभ 4 फीसदी से ज्यादा गायत्री प्रजापति को जमानत देने वाले जज सस्पेंड वीडियो हुआ वायरल, बुजुर्ग रिक्शेवाले को पीटने वाला सिपाही निलंबित स्कूल के बाहर खड़े होंगे सिर्फ छात्रों और स्टाफ के वाहन बड़े घर की तलाश में हैं बियोंसे नॉवेल्स भारतीय विद्यार्थियों को अमेरिका की मिजूरी स्टेट यूनिवर्सिटी देगी स्कॉलरशिप दुनिया की समस्याओं के समाधान का रास्ता लोकतंत्र: हामिद अंसारी आयुष यादव की शवयात्रा: वंदे मातरम के नारों से गूंजा कानपुर 2016-17 में ईपीएफ पर 8.65 फीसदी ब्याज को सरकार की मंजूरी अल्बानिया में इलिर मेटा बने देश के नए राष्ट्रपति बेवॉच के लिए प्रियंका चोपड़ा सही विकल्प : ड्वेन जॉनसन रक्षा निर्माण नीति जल्द ही आ रही है: अरुण जेटली अरविंद केजरीवाल बोले, हां हमने गलतियां की हैं... टेनिस: एंजेलिक केरबर पोर्शे प्री से हुईं बाहर शहीदों के परिवारों की मदद को आगे आए IAS अधिकारी चीन उठाएगा पाकिस्तान की रेल परियोजना का पूरा खर्च बाहुबली-2: पहले ही दिन कमाए 100 करोड़ IPL: सनराइजर्स हैदराबाद ने किंग्स इलेवन को 26 रनों से दी मात उत्तर कोरिया ने फिर किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद को पड़ा हार्ट अटैक, वेंटिलेटर पर चल रहा इलाज

36 Views

जेटली ने अमेरिका के समक्ष एच-1बी वीजे का मुद्दा उठाया


ANAMIKA PANDEY 21/04/2017 03:54 PM

21-04-2017155648अमेरिका_के_समक्1

वाशिंगटन । वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अमेरिका के अपने वर्तमान दौरे में अमेरिकी प्रशासन से एच-1बी वीजा के मुद्दे पर चर्चा की है

 भारतीय वित्त मंत्रालय के अनुसार, जेटली ने अमेरिकी वाणिज्य मंत्री विलबर रोस से हुई मुलाकात में इस मुद्दे पर चर्चा की। उन्होंने 'हाल के कार्यकारी आदेशों का जिक्र किया जिनसे एच-1बी वीजा पर सख्ती के संकेत मिल रहे हैं।'

यह भी पढ़ें- अबुजा हवाई अड्डे की मरम्मत पूरी

अमेरिकी प्रशासन पर गौर 

वित्त मंत्री ने अमेरिकी अर्थव्यवस्था में कुशल भारतीय पेशेवरों के योगदान को रेखांकित किया और उम्मीद जताई कि अमेरिकी प्रशासन कोई भी फैसला लेते हुए इस पहलू पर गौर करेगा।

सीतारमण ने कहा, "केवल अमेरिका ही नहीं, कई देश ऐसे (प्रतिबंधात्मक) कदम उठा रहे हैं।"मंत्री ने कहा कि प्रतिबंधात्मक वीजा व्यवस्था से भारत में संचालित अमेरिकी कंपनियों पर भी असर पड़ेगा।

निर्मला सीतारमण ने अमेरिका को वादा याद दिलाया

जेटली अमेरिका की पांच दिवसीय यात्रा पर हैं, जहां वह अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की बैठकों में भाग लेंगे। भारतीय वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने नई दिल्ली में मीडिया से कहा कि अमेरिका ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में भारत को एक निश्चित संख्या में एच-1बी वीजा देने का वादा किया था और हम 'चाहते हैं कि अमेरिका यह वादा निभाए।'

यह भी पढ़ें- जापान का मार्च में व्यापार अधिशेष 5.64 अरब डॉलर

उन्होंने कहा, "यह एकतरफा मुद्दा नहीं है, जिससे भारतीय कंपनियां प्रभावित होंगी..बल्कि भारत में भी कई अमेरिकी कंपनियां हैं जो सालों से यहां व्यापार कर रही हैं।"



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया