मुख्य समाचार
 

मुंबई की सेबी अदालत में पेश हुए सुब्रत रॉय,अगली पेशी पर तय हो सकते हैं आरोप


FIROZ QUIRAISHI 22/04/2017 08:45
225 Views

22-04-2017085101मुंबई_की_सेबी_अ1नई दिल्ली। सुब्रत रॉय के खिलाफ 31 मार्च को सत्र न्यायालय में बनी सेबी की अदालत ने गैर जमानती वारंट जारी किया था जिसके बाद अदालत में सहारा के वकीलों ने गैर जमानती वारंट निरस्त करने की अर्जी दी। 

अदालत ने इस शर्त पर अर्जी कबूल की कि जब भी जरूरत होगी सुब्रत रॉय को अदालत में हाजिर रहना होगा।  उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट निरस्त कर दिया। जिसके बाद सहारा समूह के मालिक सुब्रत रॉय शुक्रवार को मुंबई में सेबी की अदालत में पेश हुए।

यह भी पढ़ें...राज्यपाल ने कहा -जरुर पूरा होगा उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने का सपना

मामले में सुब्रत रॉय के वकील धनंजय दुबे ने बताया कि गैरजमानती वारंट जारी होने के बाद बॉम्बे हाई कोर्ट में अपील की गई थी।

हाई कोर्ट ने सेबी कोर्ट में ही हाजिर होकर वारंट वापस लेने के लिए निवेदन करने का आदेश दिया था साथ ही सेबी से भी कहा था कि वो वारंट रद्द करने का विरोध ना करे।

अदालत के आदेश पर सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय ने बांड भर कर औपचारिकता पूरी कर दी। 2 लाख रुपये की सिक्योरिटी की औपचारिकता भी जल्द ही पूरी कर ली जाएगी।

यह भी पढ़ें...स्मृति ईरानी ने ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर ममता बनर्जी पर बोला हमला

मामले में सुब्रत रॉय सहित अशोक चौधरी, रविशंकर दुबे, वंदना भार्गव भी आरोपी हैं. मामला 2009 का है, जब सहारा ग्रुप ने सहारा हाउसिंग और सहारा रियल इस्टेट के नाम पर डिबेंचर जारी किया था लेकिन उसके लिए सेबी की जरूरी अनुमति नहीं ली थी।

कंपनी ने 3 करोड़ से भी ज्यादा निवेशकों ने 5 -5 हजार रुपये की फिक्स्ड डिपाजिट ली थी| जबकि कानून है कि 50 से ज्यादा निवेशकों के पैसे जमा करने पर स्टॉक एक्सचेंज में रजिस्टर्ड करना होता है और उसके लिए सेबी की अनुमति लेनी पड़ती है।

एक अनुमान के मुताबिक सहारा ने डिबेंचर के जरिए तकरीबन 24 हजार करोड़ रुपये जमा किए। सेबी एक्ट और कंपनी एक्ट का उलंघन करने के इस मुकदमे में 18 मई को आरोप तय हो सकता है।

यह भी पढ़ें...शराब माफिया के आगे बौनी बनी मोहनलाल गंज पुलिस, गंभीर रूप से घायल की नहीं लिखी रिपोर्ट

सेबी सूत्रों ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय में जो मामला है वो रुपयों की रिकवरी का है जबकि यहां अपराधिक मामले की सुनवाई हो रही है। दोषी पाए जाने पर 10 साल की सजा का प्रावधान है।

 

Web Title: Subrata Roy, appearing in Mumbai's SEBI Adalat, may decide on next cell ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


loading...