मुख्य समाचार
DU Admissions 2017: एसआरसीसी ने कट ऑफ घोषित किया श्रीनगर: CRPF टीम पर आतंकी हमला,SI शहीद छत्तीसगढ़ में भी हो सकेगा मौसम विज्ञान में पीएचडी शिवपाल ने फिर बोला अखिलेश पर हमला, जो पिता नहीं हुआ वो केरल : स्कॉटलैंड में पादरी की हत्या की जांच चाहता है कांग्रेस मस्से से छुटकारा पाने के लिए करें घरेलू उपाय स्पेसएक्स ने किया रॉकेट का दोबारा इस्तेमाल, लॉन्च किया उपग्रह जम्मू-कश्मीर के पुलिसकर्मी की हत्या, एसआईटी गठित नच बलिए फिनाले में हिस्सा नहीं ले सकेंगी कॉमेडियन भारती सिंह इस तरह से करें नकली दूध की पहचान कुंडली भाग्य में नजर आएंगे शब्बीर अहलूवालिया अगर नहीं किया ये काम तो आपका आधार कार्ड हो जाएगा बंद... संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने की पाकिस्तान हमले की निंदा प्यार का पैगाम देता है रमजान पुलिस ने यासीन मलिक को लिया हिरासत में एक बार फिर लालू यादव ​मुश्किल में, कार्यकर्ता ने तेजप्रताप पर मारपीट का लगाया आरोप उप्र में उमस भरी गर्मी से मिली लोगों को राहत सीरिया में विद्रोहियों ने किया रॉकेट हमला, चार की मौत छोटे कद की लड़की के साथ करें डेटिंग रहेंगे खुश योगी सरकार को झटका, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आदेश को किया रद्द वीडियो: ग्रेटर नोएडा के जेवर में पीपीपी मॉडल पर बनेगा इंटरनेशनल एयरपोर्ट राष्ट्रीय राजधानी में आज धूप छाँव जैसा दिन वीडियो: UP में भ्रूण हत्या पर रोक लगायेगी योगी सरकार, मुखबिर योजना का शुभारंभ AAP की बढ़ीं मुश्किलें,ऑफिस ऑफ़ प्रॉफिट मामले में EC ने खारिज की दलीलें फ्यूज हो गई सलमान की ट्यूबलाइट, जानें वजह मुख्यमंत्री योगी अादित्यनाथ ने भ्रूण हत्या रोकने के लिए मुखबिर योजना का किया शुभारम्भ भारत में GST समाधान के लिए DHL ने किया ऐलान.... इस डिजाइनर के साड़ी पर हिजाब पहनाने से लोगों ने इनके साथ वो किया जो ... अमेरिका: जंगलों में लगी आग को लेकर आपात स्थिति घोषित कलयुगी लैला-मजनू की करतूत जानकर उड़ जायेंगे आपके होश, रात में आया पत्नी का प्रेमी... शनि अमवस्या आज, जाने कैसे करें अपने दुखों का अंत BJP नेता ने महिला CO पर जमाई धौंस, गिरफ्तार अब फेसबुक की प्रोफाइल फोटो कोई नहीं कर सकेगा डाउनलोड बांग्लादेश: सड़क दुर्घटना में 16 लोगों की मौत OMG: घरवालों ने बेटी को दी प्यार की ऐसी सजा, चारपाई पर बांधकर... तो बाथरूम में ये बातें करते हैं आपके कलीग्स वरुण धवन को वन्य जीवों से हुआ प्यार OMG: 25 लाख रुद्राक्ष से दुनिया का अनोखा और सबसे ऊंचा शिवलिंग गुरुवार को भूलकर भी नहीं करें ये काम जाने फर्स्ट पर्सन ऑफ इंडिया बनने की पूरी प्रक्रिया और पावर सऊदी अरब के मक्का में आतंकी हमले की साजिश नाकाम इंसान को मरते समय आते हैं ऐसे विचार व्हाट्सऐप: एक उभरता हुआ न्यूज़ प्लेटफार्म कृष फ्रेंचाइजी पर काम करना अच्छा रहा : ऋतिक चीन ने मानसरोवर यात्रा में अटकाया रोड़ा, श्रद्धालु परेशान ट्रेन में भीड़ के बर्बर हमले में किशोर की मौत, 3 घायल किशोरी ने अपना बाल विवाह रद्द कराने के लिए दायर की याचिका अमेरिका समेत तीन देशों की यात्रा पर रवाना हुए पीएम BSNL ने ईद के मौके पर बांटी ईदी चीन में भारी भूस्खलन से 100 से ज्यादा लोगों के जिंदा दफ्न होने की आशंका स्वामी ने रजनीकांत से कहा, ना आएं राजनीति में वरना... एक क्लिक पर नौकरी दिलाएगा यह फीचर भारत में कतरी रियाल के विनिमय पर रोक नहीं : RBI सोशल मीडिया पर अफवाहें फैलाने वालों पर नकेल कसेगी मोदी सरकार सलमान खान ने कहा कि सुनील ग्रोवर कमेडियन नहीं हैं भारत के साथ परमाणु समझौता चाहता है अमेरिका ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम दिल को करता है बीमार थेरेसा ने EU नागरिकों को ब्रेक्सिट के बाद ब्रिटेन में ही ठहरने का दिया प्रस्ताव

183 Views

पीएम मोदी के लौटने के बाद ऑस्ट्रेलिया सरकार ने लिया बड़ा फैसला, हजारों भारतीय हो गए बेरोजगार


admin 18/04/2017 05:11 PM

18-04-2017172114पीएम_मोदी_के_लौ2नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऑस्ट्रेलिया से लौटते ही ऑस्ट्रेलिया सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। ऑस्ट्रेलिया सरकार का यह फैसला उन भारतीयों के लिए बुरी खबर है जो ऑस्ट्रेलिया में कार्यरत है। ऑस्ट्रेलिया ने बढ़ती बेरोजगारी को रोकने के लिए 95,000 से अधिक अस्थायी विदेशी कर्मचारियों द्वारा उपयोग किए जा रहे वीजा कार्यक्रम को समाप्त कर दिया। इनमें ज्यादातर भारतीय शामिल हैं।

इस कार्यक्रम को 457 वीजा के नाम से जाना जाता है। इसके तहत कंपनियों को उन क्षेत्रों में चार साल तक विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करने की अनुमति थी जहां कुशल ऑस्ट्रेलियाई कामगारो की कमी है। 

ऑस्ट्रेलियाई लोगों को मिलेगी पहली प्राथमिकता 

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकॉम टर्नबुल ने कहा, "हम आव्रजन देश हैं लेकिन ऑस्ट्रेलियाई कामगारों को अपने देश में रोजगार में पहली प्राथमिकता मिलनी चाहिए। इसीलिए हम 457 वीजा समाप्त कर रहे हैं। इस वीजा के जरिये अस्थायी तौर पर विदेशी कर्मचारी हमारे देश में आते हैं। यह भारत के लिए दुख का विषय है क्योकि वीजा रखने वालों में ज्यादातर भारतीय हैं। उसके बाद ब्रिटेन का स्थान है। 

उन्होंने कहा, ‘‘हम 457 वीजा को रोजगार का पासपोर्ट होने की अब अनुमति नहीं देंगे और ये रोजगार आस्ट्रेलियाई के लिये होने चाहिए।’’ एबीसी की रिपोर्ट के अनुसार 30 सितंबर की स्थिति के अनुसर आस्ट्रेलिया में 95,757 कर्मचारी 457 वीजा कार्यक्रम के तहत काम कर रहे थे। अब इस कार्यक्रम की जगह दूसरा वीजा कार्यक्रम लाया जाएगा
 
टर्नबुल ने कहा कि नया कार्यक्रम यह सुनिश्चित करेगा कि विदेशी कर्मचारी उन क्षेत्रों में काम करने के लिये ऑस्ट्रेलिया आयें जहां कुशल लोगों की काफी कमी है न कि केवल इसीलिए आयें कि नियोक्ता को ऑस्ट्रेलियाई कामगारों के बजाए विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करना आसान है। प्रधानमंत्री ने यह घोषणा हाल ही में भारत यात्रा से लौटने के बाद की है। 

 

 



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


मना॓रंजन और पढ़े..