मुख्य समाचार
मायावती का ये प्लान निकाय चुनाव में पार्टी को दिला सकता है बड़ी जीत... अब पैन कार्ड में दर्ज हो सकेगा मां का नाम जापान ने जीता पहला चाइना ओपन खिताब अगले साल भारत और बांग्लादेश के साथ त्रिकोणीय T20 सीरीज खेलेगा श्रीलंका खर्च के साथ ड़ाले बचत की भी आदत OnePlus 5T लॉन्च, 6 इंच फुल-स्क्रीन वाले इस फोन में है 8 जीबी रैम अभी-अभी : चुनाव से पहले BJP विधायक ने छोड़ी पार्टी , कहा - BJP दलितों पर... बैकों को आधार पंजीयन के लिए मिलेंगे मशीन और स्टाफ यूपी में भी खुल सकता है पुलिस विश्वविद्यालय, DGP ने भेजा प्रस्ताव Box Office Collection: दर्शकों को भाया तुम्हारी सुलु का नॉटी अंदाज, दो दिन में कमाए इतने करोड़ नहीं हटवा पाए साइकिल ट्रैक तो भगवा रंग देकर किया ऐसा इस्तेमाल  गुजरात चुनाव 2017 : बीजेपी ने जारी की 36 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट 2019 चुनाव से पहले BJP के लिए बुरी खबर, इस नेता ने छोड़ा पार्टी का साथ... दबंग 3 में मलाइका की जगह आइटम का तड़का लगाएंगी सनी लियोनी कम नेग मिलने पर नर्सों ने नवजात को छोड़ा, हुई मौत  एमसीडी चुनाव: मड़ियांव में सपा प्रत्याशी ने की जनसभा, सुनी समस्याएं VIDEO: महाराजगंज में पुलिस की हैवानियत, नाबालिग को लाठी-डंडे से जमकर पीटा "Miss World 2017" का खिताब रहा भारत की मानुषी छिल्लर के नाम #BIOGRAPHY 32: Indira Gandhi की जीवनी लाउडस्पीकर का फायदा उठा विधवा से सामूहिक दुष्कर्म, शव को टुकड़ों में बांट खेत में फेंका फेसबुक पर जल्द ही जुमांजी VR का अनुभव पीएम मोदी को छोड़ रक्षा मंत्री पर हमलावर हुए राहुल, पूछे तीन सवाल राजस्थान में भूकंप के झटके 14 साल की लड़की के साथ 20 लोगों ने किया रेप, 3 दोस्तों ने ऐसे रची पूरी घटना  आईएसएल : पूर्व विजेता चेन्नई एफ़सी का लक्ष्य विजयी आगाज भाजपा विधायक ने कांग्रेस सांसद को कहे अपशब्द, दी थप्पड़ मारने की धमकी 20 सालों बाद कांग्रेस पार्टी में होगा यह अहम फेरबदल, बैठक में इस नाम पर लग सकती है मुहर  संदीप यादव पर नाडा ने लगाया चार साल का बैन केशव मौर्य ने अखिलेश पर साधा निशाना, कहा - डरे हुए है अखिलेश यादव खाने के तेलों पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ी इंफोसिस में 30 नवंबर से शुरू होगा शेयर पुनर्खरीद कार्यक्रम

CM नीतीश का आदेश : भागलपुर घोटाले की CBI जांच


ANAMIKA PANDEY 18/08/2017 09:07:41
467 Views

18-08-2017090854vlKr52vVbD1

Patna. बिहार में हाल के दिनों में भागलपुर के सबसे बड़े घोटाले में CM नीतीश कुमार ने CBI जांच की सिफारिश की है।  सृजन एक गैर सरकारी संस्था है, जो जिले में महिलाओं के विकास के लिए कार्य करती थी। दरअसल इस संस्था का मुख्य धंधा करोड़ों का गोरखधंधा था। इस संस्था ने पिछले कई साल से बैंकों की मिलीभगत से सरकारी जमा खाते से करीबन 300 करोड़ रुपये से ज्यादा की अवैध निकासी की। 

यह भी पढ़ें... क्या BJP अध्यक्ष अमित शाह को खुश कर पाएंगे...

 रिपोर्ट के अनुसार शुक्रवार को भागलपुर के सबौर ब्लॉक में पहुंचा जहां पर 'सृजन' का मुख्य दफ्तर था। वैसे तो इस दफ्तर को आर्थिक अपराध शाखा, जो इस पूरे गोरखधंधे की जांच कर रही है, द्वारा सील किया जा चुका है लेकिन रिपोर्ट में इस दफ्तर के अंदर गई और पाया कि यहां पर महिलाओं को सशक्त और रोजगार प्रदान करने के लिए इस संस्था के द्वारा पापड़, मसाले, साड़ियां और हैंडलूम के कपड़े बनवाए जाते थे। इस दफ्तर में पाए गए मसाले और पापड़ सभी 'सृजन' ब्रांड से बाजार में बेचे जाते थे।

सामने आएगा करोड़ों का घोटाला

 पापड़ और मसाले बनाने का धंधा केवल दुनिया को गुमराह करने के लिए था और असल में करोड़ों रुपये सरकारी खजाने से अवैध निकासी करना इस संस्था का मुख्य काम था। जांच में यह बात सामने आई है कि अब तक 300 करोड़ रुपये से ज्यादा जो इस संस्था ने सरकारी खजाने से अवैध रुप से निकाले थे। इस पैसे को बाजार में निवेश किया, साथ ही रियल एस्टेट में भी लगाया। इन पैसों से लोगों को 16% ब्याज दर पर लोन भी मुहैया कराया गया।

18-08-2017090948vlzJpfpWPn2

दो तरीकों से होती थी अवैध निकासी
भागलपुर के SSP मनोज कुमार ने बताया कि यह संस्था दो तरीकों से इस पूरे सरकारी खजाने से अवैध निकासी का काम करती थी । एक तरीका था स्वाइप मोड और दूसरा था चेक मोड। स्वाइप मोड के जरिए भारी रकम राज्य सरकार या केंद्र सरकार द्वारा भागलपुर जिले के सरकारी खातों में जमा कराए जाते थे। स्वाइप मोड में राज्य सरकार या केंद्र सरकार एक पत्र के माध्यम से बैंक को सूचित करती थी कि कितनी राशि बैंक में जमा करा दी गई है।  बैंक के अधिकारी भी इस पूरे गोरखधंधे में शामिल थे। वह सरकारी खाते में इस पैसे को जमा नहीं दिखाकर 'सृजन' के खाते में इस पूरे पैसे को जमा कर दिया करते थे।

यह भी पढ़ें... बीच बाजार चोरी हो गए 900 किलो टमाटर

 केंद्र सरकार जो भी पैसे भागलपुर जिले के सरकारी खातों में जमा कराना था वह चेक के माध्यम से किया जाता था। एक बार सरकारी खाते में चेक जमा हो जाता था तो फिर जिलाधिकारी के दफ्तर में शामिल कुछ लोग जो कि इस गोरखधंधे में हिस्सा थे, जिलाधिकारी के फर्जी हस्ताक्षर से अगले दिन वही राशि 'सृजन' के अकाउंट में जमा करा दिया करते थे।

 

 

न्यूजटाइम्स न्यूज पोर्टल पर देश दुनिया के साथ ही आपके पास पड़ोस की खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए अपने मोबाईल फोन पर हमारा मोबाईल एप डाउनलोड करें।

Download App


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


loading...