मुख्य समाचार
मुकुल रॉय को 6 साल के लिए पार्टी से सस्पेंड, बोले - दुर्गा पूजा के बाद दूंगा इस्तीफा जोया अख्तर की मेड इन हेवन में दिखेंगी श्वेता त्रिपाठी नई पार्टी नहीं बनाएंगे मुलायम, बोले - अखिलेश के फैसले से संतुष्ट नहीं हूँ विक्रमादित्य ने कहा, रणवीर सिंह ही निभा सकते हैं कपिल देव का किरदार BIgg Boss 11: सलमान बनें टीवी के सबसे ज्यादा फीस लेने वाले स्टार BHU में बवाल : ACM की हुई छुट्टी, 1000 लोगों पर FIR, SO लाइन हाजिर सरकार के भरोसे नहीं, अपना कार्य स्वयं करें BJP में शामिल दलित, OBC नेताओं को RSS बंधुआ मजदूर ही बनाएगा - मायावती BHU हिंसा असामाजिक तत्वों का पूर्व नियोजित षड्यंत्र : कुलपति अखिलेश से कलह के बाद मुलायम आज कर सकते हैं नई पार्टी का ऐलान Bhopal: नवंबर में बघेलखंड उत्सव संयुक्त राष्ट्र के अनुसार बांग्लादेश में 4,70,000 रोहिंग्याओं को आश्रय की जरूरत

गोरखपुर बीआरडी: लीपापोती के खेल के बीच प्राचार्य की पत्नी पूर्णिमा भी निलंबित


GAURAV SHUKLA 19/08/2017 10:11:14
135 Views

19-08-2017101343eEm8Rgmapd1

Lucknow. गोरखपुर के बीआरडी(बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज) में हुई बच्चों की मौत मामले में लीपापोती का खेल जारी है। इसी खेल के बीच निलंबित प्राचार्य डॉ राजीव मिश्र की पत्नी डॉ पूर्णिमा शुक्ला को निलंबति कर दिया गया है। पूर्णिमा शुक्ला के बारे में कहा जाता है कि वह अस्पताल अपनी कुर्सी पर तो कभी कभी जाती थी लेकिन यह सच है कि मेडिकल कॉलेज की सारी कुर्सियां उन्ही के इशारे पर नाचती थी। फिलहाल आयुष विभाग की उच्चस्तरीय जांच में प्रथम दृष्टया आरोपों के सही पाए जाने पर डॉ पूर्णिमा शुक्ला को निलंबित करवाया। 

यह भी पढ़ृें... जिन्हें हमने दी नौकरी योगी सरकार उन्हीं पर चलवा रही लाठियां : अखिलेश
जांच में पाए गये यह तथ्य 
बच्चों की मौत के बाद ऑक्सीजन का भुगतान कमीशन के लिए रोके जाने की मांग सामने आ रही है। 
प्रवक्ता राज्य सरकार सिद्धार्थनाथ सिंह के मुताबिक कमीशन की मांग के लिए डॉ पूर्णिमा शुक्ला को दोषी माना जा रहा है। 
मार्च में डॉ पूर्णिमा शुक्ला ने मेडिकल कॉलेज परिसर से संबद्धता मिलने के बाद गोला चिकित्सालय जाना बंद कर दिया था। 
बावजूद इसके डॉ पूर्णिमा का वेतन अब तक इसी अस्पताल से कैसे बनता चला आ रहा था। 

यह भी पढ़ें... कॉल सेंटर में हो रही थी पार्टी, पुलिस ने मारा छापा तो दिखा कुछ ऐसा नजारा
जांच के बाद आयुष विभाग के विशेष सचिव यतींद्र मोहन व संयुक्त सचिव ऋषिकेश दुबे व होम्योपैथी निदेशक वीके विमल ने शुक्रवार को शासन को अपनी रिपोर्ट सौंपी जिसके बाद निलंबन की कर्रवाई की गयी। 

न्यूजटाइम्स न्यूज पोर्टल पर देश दुनिया के साथ ही आपके पास पड़ोस की खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए अपने मोबाईल फोन पर हमारा मोबाईल एप डाउनलोड करें।

Download App


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


मना॓रंजन और पढ़ें..

loading...