वीडियो: भूखे पेट काम करते-करते बेहोश हो गए थे पं दीन दयाल उपाध्याय


UMENDRA SINGH 25/09/2017 20:06:12
185 Views

25-09-2017202314tw483vGkg81

LUCKNOW. एक बार की बात है जब राष्ट्रधर्म पत्रिका जिसकी नींव पं दीन दयाल उपाध्याय ने रखी थी, वह कार्यालय में कोई काम कर रहे थे। अचानक काम करते-करते वे बेहोश हो गए। आनन-फानन में उनको डॉक्टर के पास ले जाया गया जहां पता लगा कि उनके पेट में अन्न का एक दाना तक नहीं है। होश आने पर उनसे पूछा गया कि आपने खाना क्यों नहीं खाया तो वह मासूमियत से बोले कि मेरी जेब में चवन्नी ही थी, सोचा कहीं और काम आ सकती है।

कुछ ऐसे ही प्रसंग आज सोमवार को राजेन्द्र नगर स्थित राष्ट्र धर्म पत्रिका के कायार्लय में सामने आए। अवसर था राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पर्याय माने जाने वाले पत्रकार और चिंतक पं दीन दयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष पर मनाए गए समारोह का। समारोह में वक्ताओं ने श्री उपाध्याय के जीवन से जुड़ी कई बातें बताईं। राष्ट्र धर्म के प्रभारी निर्देशक सर्वेश चन्द्र दिवेदी ने उनके आर्थिक अनुशासन के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि जेब में चवन्नी होते हुए भी वह भूखे काम करते रहे कि शायद इस पैसे से पत्रिका का कोई काम हो जाए जो राष्ट्र निर्माण में सहायक हो।

25-09-2017202505YctGkWU9PB2

भगवान के काम करने के लिए हुआ जन्म

समारोह में संघ प्रचारक एवं क्षेत्र व्यवस्था प्रमुख राम जी भाई ने कहा कि पं उपाध्याय का जन्म भगवान के काम के लिए हुआ था। उन्होंने कहा कि भले ही वह आज हमारे बीच नहीं है लेकिन उनके विचार हमेशा जिंदा रहेंगे और सबको सही रास्ता दिखाएंगे।

यह भी पढ़ें: अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस आज से भारत दौरे पर, फाइनल हो सकती है जेट-ड्रोन की डील

पंडित जी को एक बार दूर से देखा था

इस अवसर पर राष्ट्र धर्म पत्रिका के संपादक ओम प्रकाश पांडेय ने बताया कि पंडित जी एक बार दूर से देखने का सौभाग्य उनको भी मिला था। उन्होंने कहा कि वह कई बार ऐसे-ऐसे शब्दों का प्रयोग कर लेते थे कि उनका अर्थ जानने के लिए शोध तक करना पड़ता था। इस अवसर पर उन्होंने मार्क्सवादियों को देश को तोड़ने वाला भी करार दिया।

जितना कहा जाए कम है

समारोह में इंटेलिजेंस ब्यूरो के ज्वाइंट डायरेक्टर रतन श्रीवास्तव भी मौजूद थे। उन्होंने पंडित जी के विचारों की सराहना की और कहा कि उनके बारे में जितना ज्यादा कहा जाए उतना कम है।

25-09-2017202612YR7EizBGj13

ब्रह्म पर उनके विचार अद्भुत थे

इस मौके पर न्यूज टाइम्स नेटवर्क के संपादक सौरभ मिश्रा ने बताया कि पं उपाध्याय का ब्रह्म पर ज्ञान अद्भुत था। उन्होंने कहा कि एक बार जब उनसे पूछा गया कि ब्रह्म क्या है तो उन्होंने सटीक जवाब दिया कि सत्य है। जब उनसे पूछा गया कि कितने ब्रह्म हैं तो बोले कि सिर्फ एक। जब पूछा गया कि ब्रह्म कौन है तो कहा कि मैं ही ब्रह्म हूं।

हमेशा ही प्रासंगिक रहेंगे विचार

समारोह में मनकामेश्वर मंदिर की महंत देव्या गिरी भी पहुंची थीं। उन्होंने पं उपाध्याय के विचारों को हमेशा प्रांसगिक रहने वाला बताया। साथ ही कहा कि उनका अनुसरण करके ही हम सफल हो सकते हैं। उन्होंने संघ की राष्ट्र निर्माण में भूमिका बताने के साथ ही योगी सरकार की तारीफ की। महंत ने कहा कि अभी सरकार कचरा साफ कर रही है जो पिछली सरकार में इकट्ठा हो गया था। इस अवसर पर संघ से जुड़े महेन्द्र मोदी, अरविन्द, कुमार अशोक पांडे, रामनरेश आदि सदस्य मौजूद रहे। समारोह का संचालन पवन पुत्र ने किया। समारोह में पंडित जी की मूर्ति पर माल्यार्पण भी किया गया।

Web Title: deen dayal upadhyay, RSS, rashtriya swayam sevak sangh, lucknow, aishbagh, BJP, rashtra dharma magazine ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


loading...