मुख्य समाचार
India vs Afghanistan: कप्तानी संभालते ही धोनी ने रचा इतिहास एकता ला रहीं XXX की नई वेब सीरीज, पूरी तरह से है अनसेंसर्ड, बोल्डनेस की सारी... लड़कियों की अश्लील तस्वीरें भेजता था गोल्ड मेडलिस्ट, गिरफ्तार प्रेमी से मिलना प्रेमिका को पड़ा भारी, पिता ने दी खौफनाक सजा हमलावर हुए अखिलेश यादव, कहा लोकतंत्र का अपहरण करने की साजिश में जुटी भाजपा  कांग्रेस का प्रचार करने के लिए राहुल गांधी ले आये बड़ी हीरोइन, बना दिया स्टार प्रचारक बिग बॉस 12: सलमान खान ने अनूप जलोटा से खुलेआम कह दी ऐसी बात, वजह जानकर उड़ जाएंगे होश कांग्रेस ने बनाई फेंकू एक्सप्रेस, जानिए कहां चलेगी ये ट्रेन भारी बारिश से तबाही में 11 की मौत 45 गायब, रेड अलर्ट जारी 
 

... तो क्या सच में अटल की इस हार के पीछे थी बहन जी ?


GAURAV SHUKLA 17/08/2018 15:25:37
1073 Views

LUCKNOW. संसद के मानसून सत्र में विपक्ष द्वारा लाये गये अविश्वास प्रस्ताव के दौरान भले ही मोदी सरकार विश्वास मत हासिल करने में कामयाब हो गयी हो, लेकिन उस बीच अटल के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की चर्चा जोरों पर हुई। चर्चा में वह दौर शामिल था जब महज एक वोट से वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार गिर गयी थी। यह बात दरअसल 1999 की थी। जब तमिलनाडू की तत्कालीन मुख्यमंत्री जयललिता ने अपनी पार्टी को एनडीए से अलग कर लिया औऱ वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार विश्वास मत साबित करने के लिए मजबूर हो गयी। 

MAYAWATI KI WAJAH SE GIRI THI ATAL SARKAAR
बात उस दौर की है जब 1998 के चुनाव में एनडीए को पूर्ण बहुमत नहीं मिला औऱ एआईएडीएमके के समर्थन से एनडीए ने केन्द्र में सरकार बनाई। इसके 13 माह बाद जयललिता ने वाजपेयी सरकार से समर्थन वापस ले लिया और सरकार अल्पमत में आ गयी। जिसके बाद राष्ट्रपति ने सरकार को बहुमत साबित करने को कहा। विश्वास प्रस्ताव साबित करने को लेकर गहमागहमी का दौर शुरू हुआ। कथिततौर पर उस दौरान ओडिशा के तत्कालीन सीएम गिरधर गमांग ने सरकार के खिलाफ वोट दिया जो कि ठीक दो माह पहले 18 फरवरी को सीएम पद की शपथ ले चुके थें लेकिन उन्होंने लोकसभा से इस्तीफा नहीं दिया था और वह कोरापुट संसदीय क्षेत्र की नुमांइदगी कर रहे थे। कहा जाता है कि वह वोट देने गये औऱ कांग्रेस का सदस्य होने के नाते उन्होंने सरकार के खिलाफ वोट किया। उस वक्त किसी को भी अंदाजा नहीं था कि अटल सरकार महज एक वोट से गिर जाएगी लेकिन जब ऐसा हुआ तो गमांग सुर्खियों में आ गये। इसके बाद सीएम रहते हुए वोट देने को लेकर उनकी आलोचना हुई। यह बहस शुरू ही होती कि खबर आ गयी बसपा सुप्रीमो वोटिंग में हिस्सा नहीं लेंगी। लेकिन आखिर वक्त पर उन्होंने भी सदन में आकर बीजेपी के खिलाफ वोट कर दिया। 

 

 


कथित तौर पर उस समय गमांग ने नहीं बल्कि मायावती और नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसद सैफुद्दीन सोज ने भी सरकार के खिलाफ वोट दिया। जिसके चलेत विश्वास मत में अटल की सरकार को शिकस्त का सामना करना पड़ा। लोकसभा स्पीकर ने ऐलान किया कि विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 269 और विरोध में 270 वोट पड़े। जिसके बाद महज 13 माह पहले सत्ता में आई सरकार गिर गयी। 

अंतिम यात्रा पर भारत रत्न अटल, देखें LIVE

Web Title: MAYAWATI KI WAJAH SE GIRI THI ATAL SARKAAR ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया