मुख्य समाचार
दीपवीर की फोटो का इंतजार करते-करते ऐसा हो गया स्मृति ईरानी का हाल, पोस्ट वायरल IPL 2019 : चेन्नई सुपरकिंग्स ने 22 खिलाड़ियों को किया रिटेन UP TET Exam 2018: परीक्षा से ठीक पहले प्रशासन ने किया बड़ा बदलाव दीपिका की शादी पर जब भड़क उठे जॉन अब्राहम, कही ये बड़ी बात जावित्री अस्पताल की 20वीं वर्षगांठ पर वार्षिक समारोह का आयोजन MP चुनाव : कांग्रेस को बड़ा झटका, यह वरिष्ठ नेता सैकड़ों समर्थकों के साथ भाजपा में हुआ शामिल राजस्थान चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ी कामयाबी, BJP के दो बड़े नेता और सैंकड़ों समर्थक पार्टी में शामिल #Deepvir wedding: कोंकणी के बाद आनंद कारज की रस्म की तैयारी शुरु महिला विश्‍व मुक्‍केबाजी चैंपियनशिप का काउंट डाउन शुरू, मैरीकॉम को पहले राउंड में मिली बाई भारत का नाम गर्व से ऊंचा करने वाले 18 वर्षीय एथलीट ने लगाई फांसी
 

आखिर ईवीएम पर खामोश क्यों है कांग्रेस...


SUYOGYA RAJ DWIVEDI 14/05/2017 02:24 PM
4555 Views

14-05-2017143025इस_मामले_में_का1लखनऊ: वर्तमान में सभी राजनीतिक दल सिर्फ एक ही राग अलाप रहे हैं, वह है ईवीएम। ईवीएम के मुद्दे को लेकर जिस प्रकार सियासी पारा गरमाया है उसने अब आम जन के मन में भी सन्देह पैदा कर दिया है। लोगों के मन में अब यह कौंधने लगा है कि अगर वाकई ईवीएम के जरिए ऐसा हुआ है तो यह लोकतंत्र के लिए खतरे की घंटी है।

ईवीएम, ईवीएम और सिर्फ ईवीएम... 

सभी सियासी दल ईवीएम के मुद्दे पर चुनाव आयोग के दरवाजे पर हैं। आयोग ने पार्टियों को यह साबित करने को कह दिया है की आखिर किस तरह से ईवीएम में टेंपरिंग की जा सकती है। सबसे पहले इस मुद्दे को उठाने का श्रेय जाता है बहुजन समाज पार्टी मुखिया मायावती को।

यूपी चुनाव के नतीजे पूरी तरह से आए भी नहीं थे कि बसपा सुप्रीमों मायावाती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर ईवीएम में गड़बड़ी कर चुनाव जीतने का आरोप लगा दिया। इसके बाद इस मुद्दे ने तूल पकड़ा। मायावती की उंगली पकड़कर आम आदमी पार्टी ने भी ईवीएम का राग अलापना शुरू कर दिया।

अखिलेश भी आए साथ... 

ईवीएम पर समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव ने भी दबे सुर से मायावती के बीजेपी पर लगाए गए आरोपों का समर्थन किया था। अखिलेश यादव ने मायावती के आरोपों का समर्थन करते हुए कहा था कि, "मायावती एक बड़ी नेता हैं। अगर उन्होंने इस तरह का आरोप लगाया है तो इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

सबसे शांत कांग्रेस... 

ईवीएम के पूरे घटनाक्रम में अगर सबसे शांत कोई राजनीतिक दल दिख रहा है तो वो है कांग्रेस। इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि कांग्रेस के कई बड़े नेता ईवीएम को पूरी तरह सुरक्षित मानते हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ईवीएम को पूरी तरह सही बताते हुए कहा था कि अगर ईवीएम में किसी तरह की कोई गड़बड़ी होती तो पंजाब में कांग्रेस को इतनी बड़ी जीत ना मिलती। 

कांग्रेस के भीतर ही ईवीएम को लेकर दो अलग-अलग राय रखने वाले नेता मौजूद हैं इस वजह से कांग्रेस खुलकर इस मुद्दे पर अपनी राय रखने से बचती नजर आ रही है। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री विरप्पा मोइली ने भी ईवीएम को सही बताते हुए कहा था कि कांग्रेस को अपनी हार स्वीकार करनी चाहिए और इसके लिए ईवीएम को दोष नहीं देना चाहिए। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने भी ईवीएम को सही ठहराया था। 

कांग्रेस की चुप्पी की वजह... 

  • अभी हाल ही में कई राज्यों में उपचुनाव हुए जिनमें कांग्रेस ने जीत दर्ज की। 
  • कर्नाटक में हुए उपचुनाव की दोनों सीटें जीती कांग्रेस। 
  • मध्य प्रदेश में पहले से जीती हुई सीट बचाने में कामयाब रही कांग्रेस। 
  • झारखंड में भी विपक्ष के साझा उम्मीदवार ने भाजपा को हरा दिया। 
  • पश्चिम बंगाल में भी तृणमूल कांग्रेस का उम्मीदवार जीता।

14-05-2017182321आखिर_ईवीएम_पर_ख

14-05-2017182359आखिर_ईवीएम_पर_ख

14-05-2017182338आखिर_ईवीएम_पर_ख

 

 

Web Title: why is congress silent over EVM issue - Congress News ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया


loading...