<link>www.newstimes.co.in</link><description> delivers news and information on the latest top stories, Videsh, Desh, Cricket, Entertainment, Business, Life Style, Editors Artical and other related local news</description><copyright>© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved</copyright><language>hi</language><lastBuildDate>20-10-2019 01:12:09</lastBuildDate><item><title>पांच दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम की हुई शुरुआतhttps://www.newstimes.co.in/news/82663/भारत/उत्तर-प्रदेश-/panch-diwsiy-faculty-programme-ki-hui-survat-903093Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019182014panchdiwsiyf1.jpeg' alt='Images/19-10-2019182014panchdiwsiyf1.jpeg' />डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि के घटक संस्थान आईईटी लखनऊ में शनिवार को विवि के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में एडवांसेस इन रिन्यूएबल एंड बायोएनर्जी विषय पर एक पांच दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम की शुरुआत हुयी| उक्त विषय पर एफडीपी आयोजन का उद्देश्य अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर शोध कार्यों को बढ़ावा देना है| एफडीपी के शुभारम्भ सत्र में  विवि के कुलपति प्रो पाठक ने कहा कि वर्तमान में अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर शोध की महती आवश्यकता है| ऐसे में एफडीपी के आयोजन से शिक्षकों में अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर शोध के लिए प्रेरित हो सकेंगे| उन्होंने कहा कि पूरे विश्व के तेल और गैस के स्त्रोत खत्म ही रहे हैं ऐसे में अक्षय एवं हरित ऊर्जा ही ऊर्जा का मुख्य स्त्रोत के विकास की जरुरत बढ़ती जा रही है| 

पांच दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम की हुई शुरुआत

Lucknow. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि के घटक संस्थान आईईटी लखनऊ में शनिवार को विवि के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में एडवांसेस इन रिन्यूएबल एंड बायोएनर्जी विषय पर एक पांच दिवसीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम की शुरुआत हुयी| उक्त विषय पर एफडीपी आयोजन का उद्देश्य अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर शोध कार्यों को बढ़ावा देना है|

Images/19-10-2019182024panchdiwsiyf2.jpeg

एफडीपी के शुभारम्भ सत्र में  विवि के कुलपति प्रो पाठक ने कहा कि वर्तमान में अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर शोध की महती आवश्यकता है| ऐसे में एफडीपी के आयोजन से शिक्षकों में अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर शोध के लिए प्रेरित हो सकेंगे| उन्होंने कहा कि पूरे विश्व के तेल और गैस के स्त्रोत खत्म ही रहे हैं ऐसे में अक्षय एवं हरित ऊर्जा ही ऊर्जा का मुख्य स्त्रोत के विकास की जरुरत बढ़ती जा रही है| 

यह भी पढ़ें... Kamlesh Tiwari हत्याकांड : देर रात हुआ पोस्टमार्टम और शव लेकर सीतापुर रवाना हो गयी पुलिस
इस अवसर पर संस्थान के निदेशक प्रो एचके पालीवाल ने बताया कि वर्तमान के सबसे प्रासंगिक विषय अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर आयोजित एफडीपी में आईआईटी, दिल्ली, आईआईटी, रूडकी, आईआईटी बीएचयू, विभिन्न एनआईटी के आचार्य व्याख्यान देंगे| 

Images/19-10-2019182014panchdiwsiyf1.jpeg

साथ ही अक्षय एवं हरित ऊर्जा में रिसर्च गैप पर भी चर्चा की जाएगी| आईआईटी बीएचयू से पधारे प्रो प्रदीप कुमार ने कहा कि तकनीक ही एक ऐसा उपकरण है जो अक्षय एवं हरित ऊर्जा स्त्रोत को मुख्य ऊर्जा स्त्रोत में तब्दील कर पूरे विश्व को ऊर्जा संकट से बचा सकती है| इस साथ ही एनआईटी जयपुर के प्रो सुशांत उपाध्याय, आईईटी, रूडकी के प्रो आईडी मल्ल अक्षय एवं हरित ऊर्जा पर विभिन्न शोध समस्याओं की चर्चा की| शुभाम्भ सत्र में  एफडीपी के संयोजक डॉ धनंजय सिंह, सह आचार्य, आईईटी, लखनऊ, प्रो ओपी सिंह सहित 70 से अधिक प्रतिभागी शिक्षक उपस्थित रहे|

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
हमलावर हुईं प्रियंका, कहा - अर्थव्यवस्था ढही जा रही आपका काम उसको सुधारना है न कि कॉमेडी सर्कस चलानाhttps://www.newstimes.co.in/news/82661/भारत/उत्तर-प्रदेश-/hamlavar-hui-congress-mahasachiv-priyanka-gandhi-903091Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019173904hamlavarhuic1.JPG' alt='Images/19-10-2019173904hamlavarhuic1.JPG' />कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने नोबल पुरस्कार के लिए चयनित अर्थशास्त्री के संदर्भ में की गयी टिप्पणी को लेकर केंद्रीय मंत्री पर जोरदार हमला बोला। चयनित अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी के संदर्भ में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की टिप्पणी पर हमलावर होते हुए प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि अर्थव्यवस्था ढही जा रही है। आपका काम उसको सुधारना है न कि कॉमेडी सर्कस चलाना।  प्रियंका ने अपने ट्वीट में लिखा, भाजपा नेताओं को जो काम मिला है उसको करने की बजाय दूसरों की उपलब्धियों को झुठलाने में लगे हैं। नोबेल पाने वाले ने अपना काम ईमानदारी से किया, नोबेल जीता। अर्थव्यवस्था ढही जा रही है। आपका काम उसको सुधारना है न कि कॉमेडी सर्कस चलाना।

हमलावर हुईं प्रियंका, कहा - अर्थव्यवस्था ढही जा रही आपका काम उसको सुधारना है न कि कॉमेडी सर्कस चलाना

Lucknow. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने नोबल पुरस्कार के लिए चयनित अर्थशास्त्री के संदर्भ में की गयी टिप्पणी को लेकर केंद्रीय मंत्री पर जोरदार हमला बोला। चयनित अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी के संदर्भ में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की टिप्पणी पर हमलावर होते हुए प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि अर्थव्यवस्था ढही जा रही है। आपका काम उसको सुधारना है न कि कॉमेडी सर्कस चलाना। 

Images/19-10-2019173904hamlavarhuic1.JPG

यह भी पढ़ें... 9 मांगों पर सहमति बनने के बाद अंतिम संस्कार को तैयार हुए कमलेश तिवारी के परिजन
गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने अर्थशास्त्र के क्षेत्र में 2019 के नोबेल पुरस्कार के लिए चुने गए भारतीय-अमेरिकी अभिजीत बनर्जी को लेकर टिप्पणी की थी। उन्होंने उसे वाम की ओर झुकाव वाला बताया था। पीयूष गोयल ने पुणे में संवाददाताओं से कहा, "मैं अभिजीत बनर्जी को नोबेल पुरस्कार जीतने की बधाई देता हूं। आप सभी जानते हैं कि उनकी सोच पूरी तरह वाम की ओर झुकाव वाली है।"

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
हिन्दूवादी नेता की हत्या पर अखिलेश और मायावती की चुप्पी हैरान करने वाली!https://www.newstimes.co.in/news/82660/भारत/उत्तर-प्रदेश-/akhilesh-Yadav-aur-mayawati-ki-chuppi-hairan-karne-wali903090Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019173707akhileshYadav1.JPG' alt='Images/19-10-2019173707akhileshYadav1.JPG' />देश की योगी सरकार कानून व्यवस्था के मामले में फ्लाप साबित हो रही है। प्रदेश में आए दिन हत्या जैसी संगीन वारदातें रुकने का नाम नहीं ले रही हैं।

हिन्दूवादी नेता की हत्या पर अखिलेश और मायावती की चुप्पी हैरान करने वाली!

Lucknow. प्रदेश की योगी सरकार कानून व्यवस्था के मामले में फ्लाप साबित हो रही है। प्रदेश में आए दिन हत्या जैसी संगीन वारदातें रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। राजधानी में ही हिन्दूवादी नेता की दिनदहाड़े निर्मम तरीके से हत्या कर दी जाती है। हिन्दूवादी नेता की हत्या के बाद तनाव बना हुआ है, लेकिन इस बीच विपक्ष की भूमिका हैरान करने वाली है। 

Images/19-10-2019173707akhileshYadav1.JPG

प्रदेश के झांसी में पुष्पेन्द्र यादव के एनकाउंटर को फर्जी बताकर आंदोलन करने वाले समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव और प्रदेश में जंगलराज का दावा करने वाली बसपा सुप्रीमो मायावती की हिन्दूवादी नेता कमलेश तिवारी के मर्डर पर सोशल मीडिया पर चुप्पी हैरान करने वाली है। 

कमलेश तिवारी की हत्या को कई घंटे बीत गए हैं, लेकिन सपा और बसपा दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं ने इस मुद्दे पर सोशल मीडिया पर कोई सक्रियता नहीं दिखाई है। जबकि दोनों दलों के नेता सरकार को कानून व्यवस्था पर लगातार घेरते रहते हैं। हालांकि इस मामले में भी सपा-बसपा के पास बीजेपी सरकार को घेरने का मौका था। वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने इस मुद्दे को लेकर योगी सरकार सबसे पहले हमला बोला था।

यह भी पढ़ें - 

कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में बोले डीजीपी : मोहसिन शेख, फैजान और रशीद पठान को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी

समाजवादी सरकार में मंत्री रहे इस वरिष्‍ठ नेता ने कोर्ट में किया सरेंडर, लगा था ये बड़ा आरोप

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
इस टैम्‍पो चालक ने गर्लफ्रेंड से किया वादा निभाया, अब अधिकारी भी कर रहे सलामhttps://www.newstimes.co.in/news/82658/भारत/Tampo-driver-fulfilled-the-promise-given-to-his-girlfriend-now-the-officers-are-also-saluting903088Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019163204Tampodriverf1.jpg' alt='Images/19-10-2019163204Tampodriverf1.jpg' />इंसान की मेहनत कभी बेकार नहीं जाती सफलता पाने की चाह हो तो हर मुश्किलों को पाया जा सकता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है मनोज कुमार शर्मा नाम के शख्स ने। मनोज की यह कहानी उनके दोस्त अनुराग पाठक ने किताब की शीर्षक '12th फेल, हारा वही जो लड़ा नहीं ' में बखूब लिखी है। इस कहानी में संघर्ष वह हकीकत है, जिसे आप कभी भुला नहीं पाएंगे। यही नहीं यह कहानी आपको जीवन में कुछ करने के लिए प्रेरणा भी देंगे।

इस टैम्‍पो चालक ने गर्लफ्रेंड से किया वादा निभाया, अब अधिकारी भी कर रहे सलाम

Lucknow. इंसान की मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, सफलता पाने की चाह हो तो हर मुश्किलों को पाया जा सकता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है मनोज कुमार शर्मा नाम के शख्स ने। मनोज की यह कहानी उनके दोस्त अनुराग पाठक ने किताब की शीर्षक '12th फेल, हारा वही जो लड़ा नहीं ' में बखूब लिखी है। इस कहानी में संघर्ष वह हकीकत है, जिसे आप कभी भुला नहीं पाएंगे। यही नहीं यह कहानी आपको जीवन में कुछ करने के लिए प्रेरणा भी देगी। कहानी में यह बात काफी दिलचस्प है कि मनोज कभी टैंपो चलाया करते थे। उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड को आईपीएस बनने का वादा किया था और उसे तमाम संघर्षों को झेलते हुए कर दिखाया।

Images/19-10-2019163204Tampodriverf1.jpg

एसडीएम की प्रशासनिक पावर को देख मनोज के मन में परीक्षा पास कर इस पद को हासिल करने का विचार आया। वह 12वीं फेल थे और परिवार भी गरीब था। इसलिए उन्होंने और उनके भाईयों को टैंपो तक चलाना पड़ा था। एक बार मनोज का टैंपों पुलिस ने पकड़ लिया तो वह सहायता मांगने एसडीएम के पास पहुंच गए। जब उनसे एसडीएम ने पढ़ाई के बारे में सवाल किया। मनोज ने उनको यह नहीं बताया कि वह 12वीं फेल है। इसके बाद वह ग्वालियर चले आए। मनोज के पास रुपए नहीं थे, इस कारण वह मंदिर में भिखारियों के पास सोते थे। 

यहां उनको लाइब्रेरी में चपरासी की नौकरी मिल गई। पुस्तकालय में रहकर उन्होंने गोर्की और अब्राहम लिंकन जैसे कई महान हस्तियों के बारे में अध्ययन किया। किताबें पढ़कर कुछ बनने का सपना देखा और तैयारी में जुट गए। मनोज के जीवन की कहानी में एक दिलचस्प मोड़ यह भी है कि वह किसी लड़की से सच्चा प्यार करते थे। लेकिन इंटरमीडिएट फेल होने के कारण दिल की बात कहने से डरते थे। मनोज ग्वालियर से दिल्ली आ गए। उनके पास रुपए नहीं होने के कारण कुत्ते टहलाने की नौकरी कर ली। इस काम के लिए उनको चार सौ रुपए प्रति कु्त्ते के मिलते थे। उन्होंने अपनी तैयारी जारी रखी। उनके सर दिव्यकीर्ति ने तैयारी करने के लिए एडमिशन की फीस भरी थी।

यह भी पढ़ें... अकाली दल को लगा करारा झटका,सुखदेव सिंह ढीढ़सा ने राज्यसभा सदस्यता से दिया इस्तीफा

पहले ही प्रयास में प्री परीक्षा बड़ी आसानी से पास कर ली। दूसरे और तीसरे प्रयास में उनको नौकरी नहीं मिली। चौथी बार जब वह परीक्षा में बैठे तो मेंस में पहुंच गए। अंग्रेजी कमजोर होने के कारण उनको मेंस की परीक्षा में दिक्कत आई। वह बताते हैं कि एक लड़की से प्यार करते थे, उस लड़की से यह कहा था कि यदि तुम साथ दो तो मैं दुनिया पलट सकता हूं। इसके बाद उन्होंने मेंस की परीक्षा पास की और आईपीएस बन गए।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, इस पार्टी के लिए प्रचार करेंगी सपना चौधरीhttps://www.newstimes.co.in/news/82657/भारत/हरियाणा/election-se-pahle-bjp-ko-jhatka903087Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-20191633179bZFcTV61i.jpeg' alt='Images/19-10-20191633179bZFcTV61i.jpeg' />हरियाणा की मशहूर डांसर सपना चैधरी लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुईं थीं, लेकिन विधानसभा चुनावों में वह हरियाण लोकहित पार्टी का प्रचार करेंगी। प्रचार के लिए सपना का कार्यक्रम भी तय हो गया है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी में सपना चौधरी से विरोधी उम्मीदवारों का प्रचार किये जाने को लेकर नाराज है।

चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, इस पार्टी के लिए प्रचार करेंगी सपना चौधरी

New Delhi. हरियाणा की मशहूर डांसर सपना चाैधरी (Sapna Choudhary) लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुईं थीं, लेकिन विधानसभा चुनावों में वह हरियाणा लोकहित पार्टी (Haryana Lokhit Party) का प्रचार करेंगी। प्रचार के लिए सपना (Sapna Choudhary) का कार्यक्रम भी तय हो गया है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) में सपना चौधरी (Sapna Choudhary) से विरोधी उम्मीदवारों का प्रचार किये जाने को लेकर नाराज है।

Images/19-10-2019162652electionsepa1.JPG

बता दें कि हरियाणा में हो रहे विधानसभा चुनावों में डांसर और गायिका सपना चौधरी (Sapna Choudhary) से मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) सहित कई लोगों ने प्रचार कराने के लिए पुरजोर कोशिश की थी, लेकिन सपना चौधरी ने पार्टी के लिए प्रचार नहीं किया। वहीं, अब भाजपा (BJP) सदस्य सपना चौधरी (Sapna Choudhary) ने हरियाणा जनहित पार्टी के सिरसा सीट से उम्मीदवार गोपाल कांडा (Gopal Kanda) और रानियां से उम्मदवार गोविंद कांडा (Govind kanda) के समर्थन में कार्यक्रम करने को लेकर हामी भी भरी है। यही नहीं, सपना चौधरी (Sapna Choudhary) ने एक वीडियो जारी कर कांडा बंधुओं के समर्थन में मतदान की अपील भी की है।

बीजेपी को हो सकता है नुकसान

सपना चौधरी (Sapna Choudhary) के इस कदम से भारतीय जनता पार्टी (BJP) में नाराजगी है। बताया जा रहा है कि सपना चौधरी (Sapna Choudhary) की शिकायत भाजपा आलाकमान से की जाएगी। माना जा रहा है कि सपना के रोड शो से बीजेपी (BJP) का काफी नुकसान भी हो सकता है। 

Images/19-10-20191633179bZFcTV61i.jpeg

टिकट न मिलने से नाराज हैं सपना

बता दें कि डांसर एवं गायिका सपना (Sapna Choudhary) लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी (BJP) में शामिल हुईं थीं। माना जा रहा है कि बीजेपी (BJP) उन्हें लोकसभा चुनाव में टिकट दे सकती है, लेकिन नहीं दिया था। इसके बाद से ऐसा मामना जाने लगा था कि विधानसभा चुनाव में उन्हें मैदान में उतारा जा सकता है। सपना (Sapna Choudhary) ने टिकट के दावेदारी भी की थी, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला सका। 

बताया जा रहा है कि सपना (Sapna Choudhary) टिकट न मिलने से बीजेपी (BJP) से नाराज हैं। इसी नाराजगी के चलते उन्होंने बीजेपी (BJP) के प्रचार अभियान से खुद को अलग कर लिया है और विपक्षी पार्टी के प्रचार के लिए हामी भरी है।

यह भी पढ़ें - 

प्रवर्तन निदेशालय ने इकबाल मिर्ची से जुड़े मनी लान्ड्रिंग मामले में कई जगह छापेमारी की

जन्मदिन विशेष : कौन थीं मातंगिनी हजारा, भारत छोड़ो आंदोलन में निभाई अहम भूमिका

सरदार पटेल की जयंती से पहले अमित शाह का बड़ा ऐलान, कहा- सीआरपीएफ और बीएसएफ ...

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
अकाली दल को लगा करारा झटका,सुखदेव सिंह ढीढ़सा ने राज्यसभा सदस्यता से दिया इस्तीफाhttps://www.newstimes.co.in/news/82654/भारत/अन्य-राज्यों-से/Akali-Dal-shocked-Sukhdev-Singh-Dhedsa-resigns-from-Rajya-Sabha-membership903084Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP97<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019152314AkaliDalshoc1.jpg' alt='Images/19-10-2019152314AkaliDalshoc1.jpg' />.

अकाली दल को लगा करारा झटका,सुखदेव सिंह ढीढ़सा ने राज्यसभा सदस्यता से दिया इस्तीफा

चंडीगढ़.पंजाब में अकाली दल को करारा झटका लगा है। अकाली दल के वरिष्ठ नेता सुखदेव सिंह ढीढ़सा ने शनिवार को राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। ढीढ़सा ने अपना इस्तीफा राज्यसभा के सभापति व उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू को और पार्टी प्रमुख अकाली दल को भेजा है। 

Images/19-10-2019152314AkaliDalshoc1.jpg

ढीढ़सा ने इससे पहले भी अपने सारे पदों से दिया था इस्तीफा

अकाली दल के वरिष्ठ नेता सुखदेव सिंह ढीढ़सा ने शनिवार को राज्यसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। इससे पहले भी ढीढ़सा ने पार्टी के सारे पदों से इस्तीफा दिया था। वहीं ढीढ़सा ने इस्तीफा देने के पीछे अपनी बढ़ती उम्र और स्वासथ्य में लगातार गिरावट बताया था।

आपको बता दें कि अकाली दल के वरिष्ठ नेता सुखदेव सिंह ढींढसा ने एक लंबा राजनीतिक सफर तय किया है। सुखदेव सिंह ढीढ़सा पार्टी के बहुत ही अनुभवी नेताओं में जाना जाता है। वहीं इस खबर के बाद अकाली दल में कोहराम मच गया है।

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
जन्मदिन विशेष : कौन थीं मातंगिनी हजारा, भारत छोड़ो आंदोलन में निभाई अहम भूमिकाhttps://www.newstimes.co.in/news/82653/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Birthday-Special:-Who-was-Matangini-Hazara-played-an-important-role-in-Quit-India-Movement903083Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019151728BirthdaySpeci3.jpg' alt='Images/19-10-2019151728BirthdaySpeci3.jpg' />मातंगिनी हजारा का जन्म 19 अक्टूबर 1870 को तत्कालीन पूर्वी बंगाल के मिदनापुर जिले के होगला गांव में हुआ था।

जन्मदिन विशेष : कौन थीं मातंगिनी हजारा, भारत छोड़ो आंदोलन में निभाई अहम भूमिका

Lucknow: मातंगिनी हजारा का जन्म 19 अक्टूबर 1870 को तत्कालीन पूर्वी बंगाल के मिदनापुर जिले के होगला गांव में हुआ था। गरीबी के कारण बारह वर्ष की उम्र में उनका विवाह 62 वर्षीय विधुर के साथ कर दिया गया। छह वर्ष के बाद वे नि:संतान विधवा हो गईं। जैसे-तैसे गरीबी में दिन गुजार रही थीं। 1932 में देशभर में स्वाधीनता आंदोलन चला और जुलूस उनके घर के सामने से गुजरा तो वे भी जुलूस के साथ चल पड़ीं। इसके बाद वे तन - मन - धन से देश के लिए समर्पित हो गईं।

Images/19-10-2019151703BirthdaySpeci1.jpeg

 17 जनवरी 1933 को कर बंदी आंदोलन का नेतृत्व किया, गवर्नर एंडरसन को काले झंडे दिखाए तो गिरफ्तार कर ली गईं। छ: मास का सश्रम कारावास हुआ। भारत छोड़ो आंदोलन की रैली के लिए घर-घर जाकर 5000 लोगों को तैयार किया। तिरंगा हाथ में लिए रैली का नेतृत्व करते हुए मातंगिनी जुलूस के साथ जब सरकारी डाक बंगले पर पहुंचीं तो पुलिस ने वापस जाने को कहा। मातंगिनी टस से मस न हुईं। अंग्रेजी सिपाहियों ने गोली चला दी। गोली मातंगिनी के बाएं हाथ में लगी। तिरंगे को गिरने से पहले ही दूसरे हाथ में ले लिया। दूसरी गोली दाएं हाथ में और तीसरी माथे पर लगी। मातंगिनी वहीं शहीद हो गईं। इस बलिदान ने क्षेत्र के लोगों में जोश भर दिया परिणामस्वरूप लोगों ने दस दिनों के अंदर ही अंग्रेजों को वहां से खदेड़ दिया और स्वाधीन सरकार स्थापित की, जिसने 21 माह काम किया। आज हममें से कितने लोग हैं जो मातंगिनी हजारा जैसी कोई वीरांगना हुई थी यह जानते हैं?

Images/19-10-2019151728BirthdaySpeci3.jpg

जब आंदोलन में लिया था हिस्सा

वो साल 1930 का था जब आंदोलन में उनके गांव के कुछ युवकों ने भाग लिया था। ये वो समय था जब पहली बार मातंगिनी ने स्वतंत्रता के बारे में सुना और जाना कि अंग्रेज कैसे उनके देश पर राज कर रहे हैं। साल 1932 में एक गांव में जुलूस निकला गया था। वंदे मातरम् बोलते  हुए जुलूस प्रतिदिन निकलते थे। जब ऐसा एक जुलूस उनके घर के पास से निकला, तो उसने बंगाली परंपरा के अनुसार शंख ध्वनि से उसका स्वागत किया और जुलूस के साथ चल दी। उस समय मातंगिनी ने देखा कि जुलूस में कोई महिला शामिल नहीं है ऐेसे में उन्होंने जुलूस में शामिल होने का फैसला किया था।

जिसके बाद देखते ही देखते वह कई आंदोलन में शामिल हुई। जिसमें राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी के 'नमक सत्याग्रह' भी शामिल है। आपको महात्मा गांधी ने 12 मार्च, 1930 में अहमदाबाद के पास स्थित साबरमती आश्रम से दांडी गांव तक 24 दिनों का पैदल मार्च निकाला था। दांडी मार्च जिसे नमक मार्च, दांडी सत्याग्रह के रूप में भी जाना जाता है 1930 में महात्मा गांधी के द्वारा अंग्रेज सरकार के नमक के ऊपर कर लगाने के कानून के विरुद्ध किया आंदोलन था। इस आंदोलन में हिस्सा लेने वाले क्रांतिकारियों को गिरफ्तार किया गया, किंतु मातंगिनी की वृद्धावस्था देखकर उन्हें छोड़ दिया गया। 

बता दें, उन्होंने तामलुक पुलिस स्टेशन पर जाकर तिरंगा झंडा फहरा दिया था। जिसके बाद को अंग्रेजी सरकार ने उन प्रताड़ित किया। 1933 में गवर्नर को काला झंडा दिखाने पर उन्हें 6 महीने की सजा काटनी पड़ी। 29 सितंबर 1942 को तामलुक पुलिस स्टेशन पर मातंगिनी ने तिरंगा झंडा अपने हाथ में ले ले लिया और फहराने लगी। उनकी ललकार सुनकर लोग फिर से एकत्र हो गए थे। जब रैली तामलूक शहर के बाहरी इलाके में पहुंची, तो लोगों को वहां से जाने के लिए कहा गया था हजारा ने आदेश का पालन करने से इंकार कर दिया और वंदे मातरम् बोलते हुए आगे बढ़ने लगीं। जिसके बाद अंग्रेजी सेना ने उन पर गोली चला दी।  

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#NewstimesTrending : 9 मांगों पर सहमति बनने के बाद अंतिम संस्कार को तैयार हुए कमलेश तिवारी के परिजन https://www.newstimes.co.in/news/82655/भारत/उत्तर-प्रदेश-/kamlesh-tiwarai-ke-antim-sanskar-ko-raji-hue-parijan-903085Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019153329kamleshtiwara7.jpg' alt='Images/19-10-2019153329kamleshtiwara7.jpg' />हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या मामले में प्रशासन की ओर से परिजनों 9 मांगों को मान लिया गया। इन मांगों के माने जाने के बाद कमलेश तिवारी के परिजन पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार करने को लेकर तैयार हुए। जिन मांगों पर बनी सहमति के बाद परिजन समझौते के लिए तैयार हुए उनके तहत 

#NewstimesTrending : 9 मांगों पर सहमति बनने के बाद अंतिम संस्कार को तैयार हुए कमलेश तिवारी के परिजन 

-Gaurav Shukla

Images/19-10-2019154326SmJfTuyhVg.jpg

Lucknow. हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या मामले में प्रशासन की ओर से परिजनों 9 मांगों को मान लिया गया। इन मांगों के माने जाने के बाद कमलेश तिवारी के परिजन पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार करने को लेकर तैयार हुए।

Images/19-10-2019152955kamleshtiwara1.JPG

Images/19-10-2019153027kamleshtiwara2.jpg
* मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से रविवार(20/10/2019) को शाम को परिजनों और शुभचिंतकों की मुलाकात होगी। 
* एसआईटी और एनआईए के द्वारा जांच सुनिश्चित हो जो आईजी स्तर के उच्च अधिकारी के अधीन होगी।  
* कमलेश के परिजनों की सुरक्षा अगले 48 घंटे में सुनिश्चित की जाएगी। 
* कमलेश तिवारी राष्ट्रीय अध्यक्ष थे अतः उनकी गरिमानुसार उनके परिजनों को आर्थिक सहायता दी जाएगी। 
* कमलेश तिवारी के ज्येष्ठ पुत्र सत्यम तिवारी को सरकारी नौकरी की अनुशंशा सरकार से करवाई जाएगी। 
* कमलेश तिवारी के परिजनों के आवेदन पर आत्मरक्षा शस्त्र अनुज्ञाप्ति तत्काल दी जाएगी। 
* सरकारी योजना के अंतर्गत परिजनों को एक उचित आवास की व्यवस्था की जाएगी जो लखनऊ शहर के अंदर होगा। 
* समुचित सम्मान के साथ मृतक कमलेश तिवारी का अंतिम संस्कार प्रशासन की मौजूदगी में होगा। 
* कमलेश तिवारी के परिजनों व शुभचिंतकों की शिकायत की निष्पक्ष जांच एडीएम और अपर पुलिस अधीक्षक की संयुक्त टीम द्वारा बयान दर्ज कराकर दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कठोरतम कार्यवाही की जाएगी। 


शाम को पुनः होगी समीक्षा, बक्शे नहीं जाएंगे आरोपी : मुख्यमंत्री 

कमलेश तिवारी की हत्या को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ का कहना है कि, हत्यारे जिस रूप में आए और सुरक्षागार्ड से पूछकर अंदर गये, बैठ और जलपान किया। इसके बाद निजी सहायक और पुत्र को बाहर भेजने के दौरान उनकी हत्या की। यह दहशत पैदा करने की शरारत है। इसमें तीन को गुजरात और दो लोगों को लखनऊ में हिरासत में लिया गया है। मामले की विवेचना जारी है। मामले में प्रभावी कार्यवाही का निर्देश दिया गया है जिसकी विवेचना एक बार फिर शाम को की जाएगी। इस तरह की कोई भी वारदात स्वीकार नहीं की जाएगी।  

Images/19-10-2019153109kamleshtiwara3.jpg

तीनों ने कबूल किया अपना गुनाह - डीजीपी 
कमलेश की हत्या को लेकर डीजीपी उत्तर प्रदेश ओपी सिंह ने शनिवार को बताया कि हत्याकांड के सभी आरोपियों की पहचान हो गयी है जिसके चलते 24 घंटे के भीतर हत्याकांड का पर्दाफाश हो गया। मामले में अभी तक तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। डीजीपी ने बताया कि घटनास्थल की जांच के दौरान मिला मिठाई का डिब्बा अहम सुराग बना और गुजरात पुलिस की मदद से तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी हुई। इसी के साथ परिजनों द्वारा दर्ज कराई गयी प्राथमिकी पर बिजनौर निवासी अनवरूल हक और नईम काजमी को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की गयी। फिलहाल हत्या 2015 में दिये गये बयान के कारण ही हुई। अभी पुलिस फरार दोनों आरोपियों के पीछे लगी हुई है। जल्द ही उनकी भी गिरफ्तारी कर ली जाएगी। 

Images/19-10-2019153144kamleshtiwara4.jpgImages/19-10-2019153220kamleshtiwara5.jpgImages/19-10-2019153300kamleshtiwara6.jpgImages/19-10-2019153329kamleshtiwara7.jpg

#KamleshTiwari ,  #कमलेश_तिवारी_हत्या , #KamleshTiwariMurder , #KamleshTiwariMurderCase ,

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
यूपी विधानसभा उपचुनाव: इन सीटों पर सपा-बसपा ने लगाया जोर, चौंकाने वाले होंगे परिणाम https://www.newstimes.co.in/news/82652/भारत/UP-assembly-by-election:-SP-BSP-put-emphasis-on-these-seats-results-will-be-startling903082Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019145247UPassemblyby2.jpeg' alt='Images/19-10-2019145247UPassemblyby2.jpeg' />उत्तर प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव (Assembly by-election) का बिगुल बजते ही सभी राजनीतिक दल अपने-अपने महारथियों के साथ मैदान में ताल ठोकने को तैयार हैं। वहीं बसपा को इस बार परिणाम अच्छे आने की उम्मीद है। दरअसल, यूपी में 11 सीटों पर हो रहे विधानसभा उपचुनाव में कुछ सीटों के परिणाम (results) में उलटफेर होने की संभावना जताई जा रही है।

यूपी विधानसभा उपचुनाव: इन सीटों पर सपा-बसपा ने लगाया जोर, चौंकाने वाले होंगे परिणाम

Lucknow. उत्तर प्रदेश में यूपी विधानसभा उपचुनाव (Assembly by-election) का बिगुल बजते ही सभी राजनीतिक दल अपने-अपने महारथियों के साथ मैदान में ताल ठोकने को तैयार हैं। वहीं बसपा को इस बार परिणाम अच्छे आने की उम्मीद है।

Images/19-10-2019145131UPassemblyby1.JPG

दरअसल, यूपी में 11 सीटों पर हो रहे विधानसभा उपचुनाव में कुछ सीटों के परिणाम (results) में उलटफेर होने की संभावना जताई जा रही है। 11 सीटों में से 9 सीटें तो पहले से ही बीजेपी के पास थीं, वहीं, रामपुर और जलालपुर की सीटों पर सपा-बसपा (SP-BSP) का कब्जा रहा है। रामपुर (rampur) सपा का गढ़ रहा है जिसके लिए अखिलेश यादव पूरा जोर लगा रहे हैं। इसके अलावा इगलाश, घोसी और गंगोह पर विपक्षी दल अपना दावा कर रहे हैं। 

Images/19-10-2019145247UPassemblyby2.jpeg

   आजम का गढ़ रामपुर सीट

इन दिनों मुकदमों में फंसे आजम खान के गढ़ रामपुर की सीट पर हमेशा उनका कब्जा रहा है। इस सीट पर मोदी लहर के बावजूद 2017 के चुनाव में आजम को 1 लाख से ज्यादा वोटों से जीत मिली थी। जो बीजेपी और बसपा से बहुत ज्यादा थे।

इस बार यहां से सपा ने उनकी पत्नी तंजीन फातमा को चुनाव में उतारा है। बसपा ने मुस्लिम दलितों पर भरोसा जताते हुए मसूद खान को अपना प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने भी मुस्लिम प्रत्याशी उतारकर अपने वोट बैंक को संभालने का प्रयास किया है। वहीं बीजेपी ने भी भारत भूषण गुप्ता के लिए पूरी ताकत लगा दी है। 

  बसपा के चौंकाने वाले हो सकते हैं परिणाम

बसपा का गढ़ माने जाने वाली सीट जलालपुर पर इस बार विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा की पुत्री छाया वर्मा को चुनाव मैदान में उतारा गया है। बसपा के प्रदेश अध्यक्ष मुनकाद अली ने कहा,  इस बार उपचुनाव के परिणाम निश्चित तौर पर चौंकाने वाले  होंगे।

हमें उम्मीद है कि इस बार हम पूरी सीटों पर जीतकर इतिहास कायम करेंगे। बसपा ही लोगों की पहली पसंद बनेगी। इगलाश सीट पर आरएलटी और सपा का कोई प्रत्याशी न होने का फायदा हमें मिल रहा है। उनके समाज के लोग भी हमारे साथ ही है। 

यह भी पढ़ें... प्रदेश में शीघ्र ही लागू होगी कौशलाचार्य सम्मान योजना

रतनमणि लाल का कहना है कि इस बार ऐसा विपक्षी दलों ने अपने चुनाव प्रचार को उतनी गंभीरता से आगे नहीं बढ़ाया है। इस कारण इनका प्रचार उतना जोर नहीं पकड़ पाया है। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि पार्टी और प्रचार कमजोर होने के बावजूद प्रत्याशी मजबूत होने पर कम अंतर से भी चुनाव जीत सकता है।

इगलाश, जलालपुर, रामपुर, घोसी और गंगोह में ऐसी संभावना बन सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसा भी हो सकता है कि जिन्हें बीजेपी मजबूत सीट समझ रही हो, वहां पर उन्हें मुश्किल हो सकती है, क्योंकि कई जगह पार्टी के प्रत्याशी कमजोर दिख रहे हैं।

  स्थानीय मुद्दे होंगे हावी

लाल ने कहा, ‘उपचुनाव में स्थानीय मुद्दे बहुत हावी होते हैं। उपचुनाव में कोई एक तरह की हवा नहीं चलती है। आमचुनाव के मुद्दे राष्ट्रीय होते हैं। इसमें प्रचार और प्रत्याशी का अपना व्यक्ति चुनाव को एक शेप देता है। लेकिन उपचुनाव में ऐसा नहीं होता है।

भाजपा लोकल मुद्दे के बजाय राष्ट्रवाद और पकिस्तान पर जोर दे रही है। विपक्ष को उन सीटों पर उम्मीद होनी चाहिए। जहां उनका प्रत्याशी मजबूती हो और उनके प्रचार में लोकल मुद्दे को प्रमुखता दी गई हो, क्योंकि उपचुनाव में कोई सरकार बनाने के लिए वोट नहीं करता है।’

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
Ind vs SA Ranchi Test: रोहित शर्मा ने अर्धशतक लगाकर की इस रिकॉर्ड की बराबरीhttps://www.newstimes.co.in/news/82650/भारत/झारखंड/Ind-vs-SA-Ranchi-Test:Rohit-Sharma-creates-new-record-by-scoring-50903080Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1550<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019142613IndvsSARanc1.jpg' alt='Images/19-10-2019142613IndvsSARanc1.jpg' /> इंडिया बनाम साउथ अफ्रीका (Ind vs SA) 3rd Test Match: रांची टेस्ट मैच के पहले दिन टीम इंडिया (Team India) की शुरुआत संघर्ष पूर्ण रही

Ind vs SA Ranchi Test: रोहित शर्मा ने अर्धशतक लगाकर की इस रिकॉर्ड की बराबरी

Ranchi. इंडिया बनाम साउथ अफ्रीका (Ind vs SA) 3rd Test Match: रांची टेस्ट मैच के पहले दिन टीम इंडिया (Team India) की शुरुआत संघर्ष पूर्ण रही। शुरुआती तीन विकेट जल्दी-जल्दी गिरे, लेकिन इसके बाद रोहित शर्मा (Rohit Shamra) सावधानी से बल्लेबाजी करते हुए एक छोर थामा और टीम के लिए अर्धशतकीय पारी खेली। अपने टेस्ट करियर (test career) का 11वां अर्धशतक (half century) लगाते ही, रोहित शर्मा ने एक शानदार रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। बता दें कि खबर लिखे जाने तक रोहित नाबाद खेल रहे हैं। 

Images/19-10-2019142613IndvsSARanc1.jpg

Ind vs SA: रोहित ने रांची टेस्ट मैच की पहली पारी में अर्धशतक जड़ा

►रोहित ने की गंभीर व अजहर की बराबरी

रांची टेस्ट मैच (Ranchi Test Match) की पहली पारी में अर्धशतक लगाते ही रोहित ने एक टेस्ट सीरीज (test series)  में दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ सबसे ज्यादा अर्धशतक लगाने के मामले में गौतम गंभीर (Gautam Gambhir)  और मो. अजहरुद्दीन (Mohammad Azharuddin)  की बराबरी कर ली। इससे पहले गंभीर ने प्रोटियाज के खिलाफ एक टेस्ट सीरीज में 2010 में लगातार तीन बार 50 या उससे ज्यादा का स्कोर बनाया था वहीं अजहर ने 1996 में ये कमाल किया था। 

►रांची टेस्ट में शानदार शुरुआत 

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में बतौर ओपनर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने पहली बार भारत के लिए पारी की शुरुआत की थी और पहले टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक ठोका था। उन्होंने पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में 176 और दूसरी पारी में 123 रन बनाए थे।

इसके बाद पुणे टेस्ट मैच (Pune Test Match) में उन्होंने सिर्फ 14 रन की पारी खेली थी। रांची में फिर से फॉर्म में लौटते हुए अर्धशतक लगाकर रिकॉर्ड बनाया। बता दें कि रांची के जेएससीए स्टेडियम (JSCA Stadium) पर टेस्ट मैच में रोहित का यह पहला अर्धशतक है। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
लोक सेवा आयोग की भर्तियों में नहीं होगा साक्षात्कारhttps://www.newstimes.co.in/news/82649/भारत/Public-service-commission-recruitments-will-not-be-interviewed903079Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019141327Publicservice1.jpg' alt='Images/19-10-2019141327Publicservice1.jpg' />लोक सेवा आयोग भर्ती परीक्षा पास करने के लिए अभ्यर्थियों को तीन चरणों को क्लीयर करना पड़ता था। जिनमें प्री, मेंस और इंटरव्यू होता था। लेकिन राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए अब साक्षात्कार खत्म कर दिया है। ऐसे में अब अभ्यर्थियों को केवल लिखित परीक्षा में सफल होना होगा।

लोक सेवा आयोग की भर्तियों में नहीं होगा साक्षात्कार

New Delhi. लोक सेवा आयोग भर्ती परीक्षा पास करने के लिए अभ्यर्थियों को तीन चरणों को क्लीयर करना पड़ता था। जिनमें प्री, मेंस और इंटरव्यू होता था। लेकिन राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए अब साक्षात्कार खत्म कर दिया है। ऐसे में अब अभ्यर्थियों को केवल लिखित परीक्षा में सफल होना होगा।

Images/19-10-2019141327Publicservice1.jpg

लोक सेवा आयोग (public service Commission) भर्ती परीक्षा में अब इंटरव्यू का सिर दर्द अभ्यर्थियों के लिए खत्म हो गया है। बताते चलें कि लिखित परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद भी अभ्यर्थी इंटरव्यू में बाहर हो जाते थे। लेकिन राज्य सरकार (State Government) के निर्णय के बाद अब सिर्फ लिखित परीक्षाएं ही पास करनी होगी। बता दें कि आंध्र प्रदेश लोक सेवा आयोग की भर्तियों के लिए अब इंटरव्यू नहीं देना पड़ेगा।

आंध्र प्रदेश लोक सेवा आयोग भर्ती प्रक्रिया से इंटरव्यू को खत्म कर दिया गया है। राज्य के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी (Jaganmohan Reddy) ने गत गुरुवार को आयोग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी। इस बैठक में बड़ा बदलाव करते हुए यह अहम फैसला लिया। अब 1 जनवरी, 2020 से आयोग द्वारा जो भी परीक्षाएं अयोजित कराई जाएंगी, सभी में इसे लागू किया जाएगा। ऐसा शायद पहली बार होगा जब किसी लोक सेवा आयोग द्वारा बिना इंटरव्यू के सिर्फ लिखित परीक्षा के आधार पर ही अभ्यर्थियों को नौकरी मिलेगी।

यह भी पढ़ें... सरदार पटेल की जयंती से पहले अमित शाह का बड़ा ऐलान, कहा- सीआरपीएफ और बीएसएफ ...

आंध्र प्रदेश सरकार (Government of Andhra Pradesh) ने लोक सेवा आयोग की परीक्षा से इंटरव्यू खत्म करने का जो निर्णय लिया है, उसकी तारीफ और बुराई दोनों ही हो रही है। कुछ लोगों का कहना है कि साक्षात्कार खत्म करने से अभ्यर्थी की वास्तविक प्रतिभा का पता नहीं लग पाएगा, जो लोग समर्थन में हैं, उनका कहना है कि इस निर्णय से भर्ती प्रक्रिया में भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद की प्रथा हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी।

सीएम जगनमोहन रेड्डी ने प्रदेश के लोक सेवा आयोग के अधिकारियों से यह कहा  कि परीक्षाओं को लेकर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) से सहायता ले सकते हैं। जिससे परीक्षाओं में किसी भी तरह की गड़बड़ियां नहीं होने पाए। लिखित परीक्षा पूरी तरह से परदर्शी होनी चाहिए। साथ ही खाली पदों को भरने का निर्देश भी दिया है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
समाजवादी सरकार में मंत्री रहे इस वरिष्‍ठ नेता ने कोर्ट में किया सरेंडर, लगा था ये बड़ा आरोपhttps://www.newstimes.co.in/news/82647/भारत/उत्तर-प्रदेश-/sp-leader-ne-court-me-kiya-surrender903077Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019140141spleadernec1.jpg' alt='Images/19-10-2019140141spleadernec1.jpg' />समाजवादी पार्टी सरकार में पूर्व मंत्री रहे कद्दावर नेता ने स्पेशल कोर्ट एमपीएमएलए में सरेंडर कर दिया है और उन्होंने जमानत याचिका दाखिल की। वहीं, कोर्ट ने सुनवाई के बाद उनकी जमानत को मंजूर करते हुए रिहा कर दिया।

समाजवादी सरकार में मंत्री रहे इस वरिष्‍ठ नेता ने कोर्ट में किया सरेंडर, लगा था ये बड़ा आरोप

Lucknow. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) सरकार में पूर्व मंत्री रहे कद्दावर नेता ने स्पेशल कोर्ट एमपीएमएलए (Mpmla court) में सरेंडर कर दिया है और उन्होंने जमानत याचिका दाखिल की। वहीं, कोर्ट ने सुनवाई के बाद उनकी जमानत को मंजूर करते हुए रिहा कर दिया। बता दें कि पूर्व पूर्व मंत्री पर सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने का आरोप है।

Images/19-10-2019140141spleadernec1.jpg

विशेष अदालत एमपी एमएलए (Mpmla court) के जज बाल मुकुन्द के सामने अधिवक्ता गोपाल सिंह, एडीसी राजेश गुप्ता और बचाव पक्ष से वकील मनोज सिंह जमानत याचिका पर अपनी दलील रख रहे थे। कोर्ट ने मामले में सुनवाई के बाद पूर्व मंत्री वीरेन्द्र सिंह (Virendra Singh) की जमानत याचिका को मंजूर करते हुए रिहा कर दिया है।

पूर्व मंत्री सहित 86 लोगों के खिलाफ चार्जशीट 

बता दें कि वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र ममें 16 सितम्बर 2009 को प्रदेश सरकार के खिलाफ कचहरी में सपा समर्थक प्रदर्शन कर रहे थे। सपा नेताओं पर आरोपी है प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ता उग्र हो गए और परिसर में लगी सरकारी होर्डिंगों को फाड़ दिया था। इस मामले में पुलिस ने पूर्व मंत्री वीरेन्द्र सिंह सहित 86 लोगों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट को भेजी है।

यह भी पढ़ें - 

हरियाणा -महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव: चुनाव प्रचार का आखिरी दिन,सभी दलों के नेता मैदान में डटे

सरदार पटेल की जयंती से पहले अमित शाह का बड़ा ऐलान, कहा- सीआरपीएफ और बीएसएफ ...

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
बिना अकृषिक घोषित कराए खेती की जमीन पर निर्माण करने से सरकार को दो फीसदी राजस्व का नुकसानhttps://www.newstimes.co.in/news/82651/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Two-percent-revenue-loss-to-the-government-due-to-construction-on-agricultural-land-without-being-declared-unskilled903081Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019143001Twopercentre1.jpg' alt='Images/19-10-2019143001Twopercentre1.jpg' />सरकार के राजस्व का नुकसान होने के साथ ही किसान की भूमि की कीमत बढ़ती है

बिना अकृषिक घोषित कराए खेती की जमीन पर निर्माण करने से सरकार को दो फीसदी राजस्व का नुकसान

LUCKNOW.  जनपद के ग्रामीण इलाकों में बिना किसी अनुमति के किसानों द्वारा खेतों में म​कानों और मल्टी स्टोरी दुकानों का निर्माण किया जा रहा है, जिससे सरकार के राजस्व का नुकसान होने के साथ ही किसान की भूमि की कीमत बढ़ती है फिर भी किसान बिना अनुमति निर्माण करते जा रहे हैं।

Images/19-10-2019143001Twopercentre1.jpg

किसान अपनी आवश्यकतानुसार किसी भी खेत में मकान या दुकान का निर्माण करते चले ला रहे हैं और सरकार के पास इतने कर्मचारी नहीं हैं कि वह हर जगह इसकी जानकारी रख सकें, जिसका फायदा किसान उठाते हैं। 

नायब तहसीलदार धर्मेन्द्र सिंह का कहना है कि कोई भी किसान यदि अपनी जमीन को अकृषिक घोषित कराए बिना निर्माण करता है तो प्रशासन स्वत: संज्ञान लेकर उससे सर्किल रेट का 2 फीसदी शुल्क लेकर उसकी जमीन को अकृषिक घोषित कर देता है। इसके अलावा यदि किसान उसको स्वयं अकृषिक घोषित करा लेता है तो उसकी जमीन की कीमत बढ़ जाती है। 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
सरदार पटेल की जयंती से पहले अमित शाह का बड़ा ऐलान, कहा- सीआरपीएफ और बीएसएफ ...https://www.newstimes.co.in/news/82644/भारत/sardar-patel-ki-jayati-se-pahle-bada-elan903074Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019125859sardarpatelk1.JPG' alt='Images/19-10-2019125859sardarpatelk1.JPG' /> देश के पहले गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई (Sardat Ballabh bhai Patel) पटेल की जयंती (31 अक्टूबर) से पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने बड़ा ऐलान किया गया है।

सरदार पटेल की जयंती से पहले अमित शाह का बड़ा ऐलान, कहा- सीआरपीएफ और बीएसएफ ...

New Delhi. देश के पहले गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई (Sardat Ballabh bhai Patel) पटेल की जयंती (31 अक्टूबर) से पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने बड़ा ऐलान किया गया है। उन्होंने सीआरपीएफ (CRPF) और बीएसएफ (BSF) सहित केंद्रीय सुरक्षा बलों को देश की सुरक्षा और एकता सुनिश्चित करने के संकल्प के साथ कार्यालयों में सरदार पटेल की तस्वीर (Sardar Patel Portrait) लगाने का निर्देश दिया है।

Images/19-10-2019125859sardarpatelk1.JPG

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने केन्द्रीय सुरक्षा बलों, बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स और केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स को निर्देश दिया है कि 'भारत की सुरक्षा और एकता को हम अक्षुण रखेंगे' संदेश के साथ सरदार पटेल की तस्वीर लगाने का निर्देश दिया है। बता दें कि सरदार पटेल (Sardar Patel) के नाम पर मोदी सरकार ने कई योजनाएं भी शुरू की हैं।

यह भी पढ़ें- 

कमलेश_तिवारी हत्याकांड : देर रात हुआ पोस्टमार्टम और शव लेकर सीतापुर रवाना हो गयी पुलिस

कमलेश तिवारी हत्याकांड: मौलाना अनवारुल हक गिरफ्तार, सिर काटने पर रखा था 51 लाख का ईनाम

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
सरकारी जमीन की धोखाधड़ी करने वालों पर मलिहाबाद पुलिस व प्रशासन 13 महीने बाद भी मेहरबान क्यों ?https://www.newstimes.co.in/news/82646/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/-Why-did-the-Malihabad-police-and-administration-be-kind-to-the-government-land-fraudsters-even-after-thirteen-months?903076Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019135719WhydidtheMa1.jpg' alt='Images/19-10-2019135719WhydidtheMa1.jpg' />मलिहाबाद पुलिस का आलम यह है कि मुकदमा दर्ज होने के तेरह महीने बीत जाने के बाद भी न चार्जसीट लगी और न ही किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी की गयी।

सरकारी जमीन की धोखाधड़ी करने वालों पर मलिहाबाद पुलिस व प्रशासन 13 महीने बाद भी मेहरबान क्यों ?

LUCKNOW. मलिहाबाद पुलिस का आलम यह है कि मुकदमा दर्ज होने के 13 महीने बीत जाने के बाद भी न चार्जशीट लगी और न ही किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी की गयी। धोखाधड़ी का यह मामला तहसील के वर्तमान रजिस्ट्रार ने गत वर्ष मलिहाबाद थाने में दर्ज कराया था। 

Images/19-10-2019135719WhydidtheMa1.jpg

बताते चलें कि तहसील म​लिहाबाद में पूर्व में तैनात रहे कुछ अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने मिलकर कसमंडी कला स्थित तालाब की जमीन का रकबा कम करके कुछ व्यक्तियों के नाम पट्टा कर दिया था और बाद में उसमें की कुछ जमीन अपने लड़के और पत्नी के नाम बैनामा करा लिया। करीब तीन दशक पहले के इस मामले का सितम्बर 2018 में न्यूज टाइम्स द्वारा खुलासा करने के बाद रजिस्ट्रार कानूनगो ने थाना मलिहाबाद में इस प्रकरण में संलिप्त कर्मचारियों के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई थी। इस मामले की विवेचना कर रहे दरोगा सर्वेश कुमार शुक्ला ने एक बार पूछने पर बताया था कि तहसील वाले उनको कोई अभिलेख नहीं दे रहे हैं, जबकि थाने के सामने तहसील है जहां एसडीएम तक सभी अधिकारी बैठते हैं। इससे साफ जाहिर होता है कि दरोगा द्वारा किसी के इशारे पर आरोपियों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। 

दूसरी ओर जब पूर्व में तैनात रहे एसडीएम ने अपने न्यायालय में वाद दायर करके एक ही ​दिन में गलत तरीके से दर्ज किए गए लोगों के नाम खारिज करके रकबे को तालाब में दर्ज करा दिया। तो 13 महीने बाद 115 डी का निस्तारण क्यों नहीं हुआ और न ही आज तक तालाब की सुरक्षित जमीन से कब्जा हटाया गया। उच्च न्यायालय के आदेशानुसार सरकार की सुरक्षित जमीनों को खाली कराने के लिए किसी आदेश की अब शायद जरूरत नहीं है फिर भी तहसील के किसी भी अधिकारी ने कोई रुचि नहीं ली। जिससे सरकारी जमीनों पर कब्जे बढ़ते जा रहे हैं। 

दूसरी ओर बंजर की जमीन पर कब्जा करके मकान बनाने वाले बसंतपुर के प्रधान राजवीर सिंह का मकान तहसील प्रशासन ने जेसीबी से ढहा दिया और एंटी भूमाफिया के तहत जेल भी भेज दिया। जबकि तालाब, चरागाह और खलिहान की जमीनों पर मकान बनाने वालों पर तहसील प्रशासन मौन धारण किए है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
प्रदेश में शीघ्र ही लागू होगी कौशलाचार्य सम्मान योजनाhttps://www.newstimes.co.in/news/82642/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Kaushalacharya-Samman-scheme-will-be-implemented-soon-in-the-state903072Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019123250Kaushalacharya1.jpg' alt='Images/19-10-2019123250Kaushalacharya1.jpg' />छोटे-छोटे कारीगरों को प्रोत्साहित करने के लिए शीघ्र ही कौशलाचार्य सम्मान योजना लागू की जायेगी।

प्रदेश में शीघ्र ही लागू होगी कौशलाचार्य सम्मान योजना

LUCKNOW. केन्द्रीय कौशल विकास मंत्री महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान के सभागार में भारतीय कौशल विकास केन्द्र, उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन के सहयोग से पी0एच0डी0 चैम्बर आफ काॅमर्स एण्ड इंडस्ट्रीज द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश कौशल विकास एवं लघु उद्योग सम्मेलन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि उद्योगों को प्रशिक्षित मानव प्रबंधन उपलब्ध कराने के लिए केन्द्र और राज्य सरकार मिलकर व्यापक स्तर पर विभिन्न ट्रेडों में लोगों को प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं। प्रशिक्षण के उपरान्त लोगों को दक्ष करने के उद्देश्य से अप्रेन्टिस कार्यक्रम भी चलाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कौशल विकास केन्द्रों को और प्रभावी बनाया जा रहा है। तकनीकी श्रम के माध्यम से रोजगार के व्यापक अवसर लोगों को सुलभ होंगे।  

Images/19-10-2019123250Kaushalacharya1.jpg

उन्होने कहा कि केन्द्र सरकार व राज्य सरकार मिलकर प्रदेश एवं देश को आगे बढ़ाने का कार्य करेंगे। स्किल मैन पावर के लिए आर0पी0एल0 स्कीम चलाई गई है। उन्होंने कहा कि लेबर मैनेजमेंट इनफारमेंशन सिस्टम डेवलप किया जा रहा है। 54 लाख लोगों को विभिन्न क्षेत्र में ट्रेंड किया गया है तथा 12 लाख को रोजगार भी प्राप्त हुआ है। शिक्षक दिवस पर छोटे-छोटे कारीगरों को प्रोत्साहित करने के लिए शीघ्र ही कौशलाचार्य सम्मान योजना लागू की जायेगी।

उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि यू0पी0 इन्वेस्टर्स समिट का सफल आयोजन हुआ। आने वाले समय में उद्यम भी स्थापित हो जायेंगे। इनमें से सर्विस सेक्टर जल्दी तैयार हो जाएगा। उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश में लेबर इंडेक्स नहीं है। लेबर इंडेक्स मायने यह है कि आने वाले समय में भारत के राज्यों में एग्रो प्रोसेसिंग, हैवी इन्डस्ट्री, मीडियम स्केल इन्डस्ट्रीज या सर्विस सेक्टर में कितने लोगों की आवश्यकता पड़ने वाली है। राज्य स्तर पर इसका प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है, जल्द ही इसको लागू किया जायेगा। 

श्री सिंह ने कहा कि वर्तमान में भारत की अर्थव्यवस्था टेक्नालाजी के पदार्पण से कई चीजों में परिवर्तन आया है। जल्द ही बड़ी संख्या में रोजगार का सृजन भी होगा।  डिजिटल इंडिया प्रोग्राम के तहत पूरे प्रदेश में एक लाख 25 हजार गांवों को आप्टिकल फाइबर केबिल से जोड़ा गया है। इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए स्किलिंग की आवश्यकता है।

उद्योग मंत्री ने कहा कि शिक्षा विभाग के साथ समन्वय स्थापित करके एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम में कौशल विकास के चैप्टर को जोड़ा जायेगा। नौकरियां देने में यह महत्वपूर्ण चैप्टर साबित होगा। उन्होंने कहा कि टूरिज्म बहुत बड़ा क्षेत्र है। इसमें रोजगार की असीम सम्म्भावना है। खादी को प्रमोट किया जा रहा है। खादी को लोकप्रिय बनाने के लिए इटली और फ्रांस में आयोजित होने वाले फैशन शो में खादी परिधानों का भी डिस्प्ले कराया जायेगा।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
मिलावटखोरों पर नकेल कसेगी FSSAI, त्योहार के पहले छापेमारी शुरूhttps://www.newstimes.co.in/news/82641/भारत/FSSAI-to-crack-down-on-adulterers-raids-begin-before-festival903071Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019122339FSSAItocrack1.jpg' alt='Images/19-10-2019122339FSSAItocrack1.jpg' />त्योहारों के आते ही खाद्य सामग्रियों में मिलावटी का खेल शुरू हो जाता है। दिवाली त्योहार के मद्देनजर भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने दुकानों में बनने वाली मिठाईयों और अन्य खाद्य पदार्थों में मिलावट को रोकने के लिए छापेमारी शुरू कर दी है। दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में मिठाई में नकली खोया (fake Khoya) (मावा) और घी जैसे दुग्ध उत्पादों की मिलावट पर सख्ती बरतनी शुरू कर दी गई है।

मिलावटखोरों पर नकेल कसेगी FSSAI, त्योहार के पहले छापेमारी शुरू

Lucknow. त्योहारों के आते ही खाद्य सामग्रियों में मिलावट का खेल शुरू हो जाता है। दिवाली त्योहार के मद्देनजर भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने दुकानों में बनने वाली मिठाईयों और अन्य खाद्य पदार्थों में मिलावट को रोकने के लिए छापेमारी शुरू कर दी है। दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में मिठाई में नकली खोया (fake Khoya) (मावा) और घी जैसे दुग्ध उत्पादों की मिलावट पर सख्ती बरतनी शुरू कर दी गई है।

Images/19-10-2019122339FSSAItocrack1.jpg

FSSAI ने खासकर मिठाइयां बनाने वाले दुकानदारों को स्वास्थ्य सुनिश्चित करने का निर्देश जारी किया है। खाद्य नियामक (food regulator) ने कहा कि त्योहारी सीजन के समय खाने पीने वाली चीजों की डिमांड बढ़ जाती है। ऐसे में उसे पूरा करने के लिए डेयरी (dairy products) उत्पादों में मिलावट करने की आशंका भी अधिक हो जाती है।  

यह भी पढ़ें... ट्राई का ऐलान, 31 अक्टूबर तक बंद हो जाएंगे सात करोड़ मोबाइल नम्बर, जल्द करा लें पोर्ट

FSSAI ने त्योहारी सीजन के दौरान दिल्ली-एनसीआर में दुग्ध उत्पादों में किसी भी तरह की मिलावट नहीं हो इसके लिए निगरानी रखनी शुरू कर दी है। 44 जगहों की पहचान करते हुए खाद्या पदार्थों के नमूने भी कलेक्ट किए गए हैं। लिए गए नमूनों का तीन नवंबर तक परीक्षण किया जाएगा। जांच रिपोर्ट सामने आने के बाद गड़बड़ी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
Kamlesh_Tiwari हत्याकांड : देर रात हुआ पोस्टमार्टम और शव लेकर सीतापुर रवाना हो गयी पुलिस https://www.newstimes.co.in/news/82639/भारत/उत्तर-प्रदेश-/kamlesh-tiwari-hatyakand-ke-baad-shav-lekar-ravana-hui-police-903069Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019110644kamleshtiwari2.jpg' alt='Images/19-10-2019110644kamleshtiwari2.jpg' />थाना अंतर्गत खुर्शेदबाग में शुक्रवार को हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के बाद कई जगह उग्र प्रदर्शन देखने को मिला। कमलेश की हत्या की खबर सामने आते ही उनके समर्थक नाका, कैसरबाग, अमीनाबाद औऱ सीतापुर रोड पर हंगामा और तोड़फोड़ करने लगे। जिसके बाद पुलिस ने देर रात कमलेश के शव का पोस्टमार्टम करवाया। रात 1.05 बजे कमलेश का पोस्टमार्टम कड़ी सुरक्षा के बीच हुआ। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस की सुरक्षा में कमलेश का शव निकला। इस दौरान समर्थकों पर लाठीचार्ज भी किया गया। देर रात इंजीनियरिंग कॉलेज से गाड़ी घुमावाकर शव को खुर्शेदबाद लाया गया। जहां से 2 बजे रात में शव को सीतापुर ले जाया गया। इसी सब के बीच देर रात तकरीबन 10 बजे कमलेश के समर्थक थाना मड़ियांव अंतर्गत इंजीनियरिंग कॉलेज चौराहे पर एकत्र होकर उग्र प्रदर्शन करने लगे। जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर स्थित पर नियंत्रण किया। 

Kamlesh_Tiwari हत्याकांड : देर रात हुआ पोस्टमार्टम और शव लेकर सीतापुर रवाना हो गयी पुलिस 

Lucknow. राजधानी में नाका थाना अंतर्गत खुर्शेदबाग में शुक्रवार को हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के बाद कई जगह उग्र प्रदर्शन देखने को मिला। कमलेश की हत्या की खबर सामने आते ही उनके समर्थक नाका, कैसरबाग, अमीनाबाद औऱ सीतापुर रोड पर हंगामा और तोड़फोड़ करने लगे। जिसके बाद पुलिस ने देर रात कमलेश के शव का पोस्टमार्टम करवाया। रात 1.05 बजे कमलेश का पोस्टमार्टम कड़ी सुरक्षा के बीच हुआ।

Images/19-10-2019110631kamleshtiwari1.jpegImages/19-10-2019110644kamleshtiwari2.jpg
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
महाराष्ट्र चुनाव: हाथ में तलवार और भगवा धागा बांधकर शिवसेना में शामिल हुए सलमान खान...https://www.newstimes.co.in/news/82638/भारत/Maharashtra-election:-Salman-Khan-joins-Shiv-Sena-with-sword-and-saffron-thread-in-hand-903068Sat, 19 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/19-10-2019105245Maharashtrael2.jpg' alt='Images/19-10-2019105245Maharashtrael2.jpg' />बॉलीवुड के सुल्तान सलमान खान (salman khan) जितने चर्चा में रहते हैं उतनी ही चर्चा में उनका बॉडीगार्ड शेरा भी रहता है। सलमान अक्सर शेरा के साथ फोटो शेयर करते नजर आते हैं। बजरंगी भाईजान शेरा का हर तरह से सपोर्ट करते हैं। वहीं सलमान के बॉडीगार्ड शेरा ने एक बड़ा फैसला लिया है जो आपको चौंका देगा।

महाराष्ट्र चुनाव: हाथ में तलवार और भगवा धागा बांधकर शिवसेना में शामिल हुए सलमान खान...

Mumbai. बॉलीवुड के सुल्तान सलमान खान (salman khan) जितने चर्चा में रहते हैं उतनी ही चर्चा में उनका बॉडीगार्ड शेरा भी रहता है। सलमान अक्सर शेरा के साथ फोटो शेयर करते नजर आते हैं। बजरंगी भाईजान शेरा का हर तरह से सपोर्ट करते हैं। वहीं सलमान के बॉडीगार्ड शेरा ने एक बड़ा फैसला लिया है जो आपको चौंका देगा।

Images/19-10-2019105232Maharashtrael1.JPG

दरअसल, एक्टर सलमान के बॉडीगार्ड शेरा (bodygaurd shera) ने शिवसेना ज्वाइन करने का फैसला किया और शिवसेना( shivshena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (udhav thakre) की मौजूदगी में शुक्रवार को उनकी पार्टी में शामिल हो गए। युवा सेना के प्रेसिडेंट आदित्य ठाकरे ने शेरा को तलवार देकर और उनके हाथ में भगवा धागा बांधकर उन्हें पार्टी में शामिल किया है।

यह भी पढ़ें... सुपरमॉडल बेला हदीद बनी दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला

खबरों की मानें तो शेरा करीब 22 साल से सलमान खान के बॉडीगार्ड बनकर उनकी सुरक्षा कर रहे हैं। बताते चले कि सलमान खान के साथ परछाईं की तरह चलने वाले शेरा का असली नाम गुरमीत सिंह जॉली है। 

बताते चलें कि महाराष्ट्र में 21 ऑक्टूबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने हैं। आज चुनाव प्रचार का अंतिम दिन है। ऐसे में तमाम पार्टियां प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक रही हैं। इसी बीच शिवसेना ने बड़ा कार्ड खेलते हुए सलमान के करीबी शख्स में से एख उनके बॉडीगार्ड को अपनी पार्टी में शामिल कर लिया। 

Images/19-10-2019105245Maharashtrael2.jpg

हालांकि चुनाव प्रचार क आखिरी दिन शेरा शिवसेना का प्रचार करेंगे या नहीं अभी इस बारें में कोई खबर नहीं है। शिवसेना ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेरा के पार्टी में शामिल होने की कुछ तस्वीरें भी शेयर की हैं। 
 

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में शिवसेना, भारतीय जनता पाटी के साथ मिलकर चुनाव  लड़ने की तैयारी में हैं, 124 सीटों पर शिवसेना के उम्मीदवार हैं और बाकी 164 सीटों पर बीजेपी और उसके सहयोगी  दल उम्मीदवार हैं। इस चुनाव के परिणाम 24 अक्टूबर को आएंगे महाराष्ट्र में करीब 8.94 करोड़ मतदाता हैं। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
पशु गणना रिपोर्ट: देश में गायों की संख्या में 18 फीसदी की बढ़ोतरी https://www.newstimes.co.in/news/82633/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Animal-census-report-18-pratishat-increase-in-cows-in-the-country903062Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019190008Animalcensus1.jpg' alt='Images/18-10-2019190008Animalcensus1.jpg' />गायों के संरक्षण को लेकर काम कर रहीं उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार के लिए बड़ी खुशखबरी है। दरअसल, 20वीं पशुगणना के मुताबिक, देश में गायों की आबादी में करीब 18 फीसदी की इजाफा हुआ हैै।

पशु गणना रिपोर्ट: देश में गायों की संख्या में 18 फीसदी की बढ़ोतरी 

New Delhi. गायों के संरक्षण को लेकर काम कर रहीं उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार के लिए बड़ी खुशखबरी है। दरअसल, 20वीं पशुगणना के मुताबिक, देश में गायों की आबादी में करीब 18 फीसदी की इजाफा हुआ हैै।

Images/18-10-2019190008Animalcensus1.jpg

पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय ने पशुगणना रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में पिछली गणना के मुताबिक गायों की संख्या में करीब 18 फीसदी बढ़ोतरी हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में गायों की आबादी 14.51 करोड़ है। 

वहीं, राष्ट्रीय मुस्लिम मंच (गौ सेवा प्रकोष्ठ) के राष्ट्रीय संयोजक फैज अहमद ने कहा कि केंद्र सरकार, यूपी सरकार और हरियाणा सरकार के अभियान के बाद लोगों में काफी जागरूकता आई है, जिससे गाय का पालन बढ़ गया है। गायों की संख्या में इजाफा होना हमारे लिए खुशी की बात है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
 दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को 6 महीने की हुई जेलhttps://www.newstimes.co.in/news/82632/भारत/दिल्ली/Delhi-Assembly-Speaker-Ramnivas-Goyal-jailed-for-6-months903061Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP97<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019185206DelhiAssembly1.jpg' alt='Images/18-10-2019185206DelhiAssembly1.jpg' />.

 दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को 6 महीने की हुई जेल

New Delhi. देश की राजधानी दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को 6 महीने जेल की सज़ा सुनाई है। दरअसल रामनिवास गोयल साल 2015 में मनीष घई नामक एक बिल्डर के घर में जबरन घुसने से संबंधित है। इसे लेकर कोर्ट ने बीते शुक्रवार को गोयल को दोषी ठहराया था। फिलहाल 10 हजार रुपये के मुचलके पर विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को जमानत दी है। 

Images/18-10-2019185206DelhiAssembly1.jpg

कोर्ट ने दलीलें देने के लिए 18 अक्टूबर की तारीख तय की

राउज एवेन्यू अदालत के एसीएमएम समर विशाल ने रामनिवास गोयल व अन्य को दोषी ठहराते हुए सज़ा पर दलीलें सुनने के लिए 18 अक्टूबर की तारीख तय की थी। अदालत ने गोयल को अनधिकृत प्रवेश की धारा में दोषी ठहराया था। मामले में गोयल के साथ सुमित गोयल,हितेश खन्ना,अरुल गुप्ता और बलबीर सिंह को भी दोषी ठहराया गया था। शहदरा से आम आदमी पार्टी के नेता व ​विधायक और उनके समर्थकों ने विवेक विहार स्थित बिल्डर और नेता मनीष घई के घर पर छापा मारा था। 

पुलिस ने घई की शिकायत पर एफआईआर की थी

पुलिस ने घई की शिकायत पर एफआईआर की थी। दोषियों का कहना था कि घई के घर में शराब,कंबल और दूसरा सामान रखा था,जो विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को बांटा जाना ​था। गोयल ने कहा था कि उन्होंने ही पहले इस बाबत पुलिस को 100 नंबर पर सूचना दी थी। वह पुलिस के साथ ही घई के घर गए थे। दूसरी ओर घई का आरोप था कि दोषियों ने उसके घर में अलमारी,ड्रायर,रसोई का सामान,खिड़कियां और शीशे तोड़ दिए थे। इसके अलावा में रह रहे मजदूरों के साथ हाथापाई की थी। पुलिस ने सितंबर 2017 में सात लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर कहा था कि घई को मजदूरों ने फोन कर बताया था कि कुछ लोग जबरन घर में घुस गए हैं और वहां तोड़फोड़ कर रहे हैं।


 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
भीख नहीं अधिकार चाहिए, भत्ता नहीं रोजगार चाहिए : राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टीhttps://www.newstimes.co.in/news/82631/भारत/दिल्ली/No-begging-rights-no-allowance-no-employment:-National-Nationalist-Party903060Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019180149Nobeggingrig2.jpg' alt='Images/18-10-2019180149Nobeggingrig2.jpg' />No begging rights, no allowance, no employment: National Nationalist Party

भीख नहीं अधिकार चाहिए, भत्ता नहीं रोजगार चाहिए : राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी

Lucknow: राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी आर.आर.पी. अपनी मांगो को लेकर दिल्ली  की आम आदमी पार्टी (आप) की केजरीवाल सरकार के खिलाफ 7 नवम्बर से प्रत्येक गुरुवार को दिल्ली सचिवालय पर गिरफ्तारी देगी। यह जानकारी आर.आर.पी. ने दी है। आर.आर.पी. पिछले चार वर्ष से केजरीवाल सरकार से दिल्ली के तेरह लाख शिक्षित युवाओं को भी महत्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) की तर्ज पे कम से कम १२० दिन की रोजगार गारंटी की मांग कर रही है। इस सम्बन्ध में कई बार लिखित अपील और धरना भी दिया गया परन्तु सात हजार करोड़ से लागू होने वाली दिल्ली के तेरह लाख शिक्षित युवाओं के लिए रोजगार गारंटी सुनिश्चित नहीं कर रही है जबकि सरकार काम गिनाने और चेहरा चमकाने के लिए सात हजार तीन सौ करोड़ रुपया विज्ञापन में खर्च कर चुकी है। 

Images/18-10-2019180149Nobeggingrig2.jpg

अब शिक्षित रोजगार गारंटी सुनिश्चित कराने के लिए आर.आर.पी. ने आर-पार के संघर्ष का संकल्प लिया है और साथ ही आर.आर.पी. के कार्यकर्ताओं ने 7 नवम्बर से प्रत्येक गुरुवार दोपहर एक बजे आई.टी.ओ. स्थित दिल्ली सचिवालय पर गिरफ्तारी भी देगें।

राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी  नें बताया कि संविधान ने सभी को रोजगार की गारंटी दी है, जिसके तहत ग्रामीण रोजगार गारंटी एक्ट बना और ग्रामीणों को १०० दिन की रोजगार गारंटी मिल गई, परन्तु शहर में रहनें वाले युवाओं को ये गारंटी नहीं मिली जिसकी मांग वर्षों से लगातार होती रही है परन्तु सरकार के कान पे जूं तक नहीं रेंगी लिहाजा अब मजबूरन युवाओं के हक के लिए आर.आर.पी. आर-पार का निर्णायक लड़ाई के लिए सरकार के खिलाफ मैदान ताल ठोकेगी। आर.आर.पी. ने बताया कि आज यदि भारत दुनिया का सबसे युवा देश है तो कुछ साल बाद दुनिया का सबसे बुजुर्ग देश होगा जो विस्फोटक स्थिति होगी जिसे बचाना होगा।

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
यूपीपीएससी से रक्षा अध्ययन विषय हटने पर शिक्षकों और छात्रों में रोषhttps://www.newstimes.co.in/news/82629/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Fury-among-teachers-and-students-on-removal-of-defense-studies-subject-from-UPPSC903058Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019172643Furyamongtea1.jpg' alt='Images/18-10-2019172643Furyamongtea1.jpg' />उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने मुख्य परीक्षा से रक्षा अध्ययन विषय को वैकल्पिक विषय से हटा दिया है, जिससे शिक्षकों और छात्रों में रोष है। छात्रों ने शुक्रवार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर विषय को फिर से शामिल करने की मांग की है।

यूपीपीएससी से रक्षा अध्ययन विषय हटने पर शिक्षकों और छात्रों में रोष

Kanpur. उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (Uttar Pradesh Public Service Commission) ने मुख्य परीक्षा (Main exam) से रक्षा अध्ययन विषय (Defense studies subjects) को वैकल्पिक विषय से हटा दिया है, जिससे शिक्षकों और छात्रों में रोष है। छात्रों ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) को पत्र लिखकर विषय को फिर से शामिल करने की मांग की है।

Images/18-10-2019172643Furyamongtea1.jpg

कानुपर के डीएवी कॉलेज (DAV College) के रक्षा एवं स्त्रातेजिक अध्ययन विभाग के छात्रों और शिक्षकों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) को पत्र लिखा है। पत्र में कहा कि रक्षा एवं स्त्रातेजिक अध्ययन जैसे गम्भीर एवं समसामयिक विषय को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (Uttar Pradesh Public Service Commission) की परीक्षा से हटा दिया गया है। किसी राष्ट्र की प्रगति बिना सुरक्षा के सम्भव नहीं है, इस विषय के अंतर्गत राष्ट्रीय सुरक्षा (National Security) आन्तरिक सुरक्षा (Internal Security) तथा सुरक्षा के विभिन्न आयाम जैसे पर्यावरण सुरक्षा (Environmental Security), परमाणु उर्जा (Nuclear Energy), अन्तरिक्ष युद्ध (Space War), साइबर सुरक्षा (Cyber Security), नागरिक सुरक्षा (Civil Security), अंतर्राष्ट्रीय सम्बंध (International Relations) और विदेश नीति (Foreign Policy) आदि जैसे गम्भीर विषयों पर छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं, जो आगे चलकर राष्ट्र निर्माण में एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में अपना योगदान देते हैं। साथ ही साथ समाज में इन गम्भीर विषयों पर जनजागरूकता का भी कार्य करते हैं। वर्तमान में नव राष्ट्र निर्माण के परिकल्पना सुयोग्य एवं कुशल नेतृत्व के हाथों में हैं। इसके बावजूद रक्षा एवं स्त्रातेजिक अध्ययन जैसे विषय को प्रतियोगी परीक्षा से हटाना कतई न्याय संगत नहीं है। छात्रों ने सीएम योगी (CM Yogi) से उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (Uttar Pradesh Public Service Commission) की परीक्षा में रक्षा अध्ययन विषय (Defense studies subjects) को फिर से शामिल कराने की मांग की है।

छात्रों ने मांग पत्र की प्रतिलिपि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) , राज्यपाल आनंदी बेन पटेल (Governor Anandi Ben Patel) , रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh), मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (Human Resource Development Minister Ramesh Pokhriyal 'Nishank'), राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (National Security Advisor Ajit Doval) और यूपी लोकसेवा आयोग (Uttar Pradesh Public Service Commission)  के अध्यक्ष को भी भेजी है।

यह भी पढ़ें- 

ब्लैकलिस्ट होने से बचा पाकिस्तान, FATF ने फरवरी तक दी सुधरने की मोहलत

आईएनएक्स मीडिया केस: सीबीआई ने पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदम्बरम सहित 14 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की

ट्राई का ऐलान, 31 अक्टूबर तक बंद हो जाएंगे सात करोड़ मोबाइल नम्बर, जल्द करा लें पोर्ट

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#Newstimestrending : हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की घर में घुसकर हत्याhttps://www.newstimes.co.in/news/82628/भारत/उत्तर-प्रदेश-/hindu-samaj-party-ke-neta-kamlesh-tiwari-ki-ghar-me-ghukar-hatay-newstimes-trending903057Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019171719hindusamajpa5.JPG' alt='Images/18-10-2019171719hindusamajpa5.JPG' />शुक्रवार 18 अक्टूबर को एक बार फिर गोलियों की तड़तड़ाहट हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की मौत के दौरान सुनाई दी। हमलावरों ने पहले कमलेश का गला रेतते हुए उन पर कई वार किये फिर उन्हें गोली मार दी। आनन फानन में कमलेश को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गयी।  खुर्शीदबाग स्थित हिंदू समाज पार्टी के कार्यालय में यह वारदात उस दौरान हुई जब कमलेश से मिलने के बहाने हमलावर उनके पास आए। बातचीत के दौरान उन्होंने चाय पी और नौकर को कुछ सामान लाने के लिए बाहर भेज दिया। बकौल नौकर जब वह वापस आया तो उसने देखा भगवा वस्त्र पहन कर आए दोनों युवक मौके से फरार हैं और कमलेश का खून से लथपथ शरीर जमीन पर पड़ा हुआ है। जिसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर तमंचा औऱ कारतूस भी बरामद कर लिया। 

#Newstimestrending : हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की घर में घुसकर हत्या

Lucknow. सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में लगातार हो रही आपराधिक घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। आलम यह है कि गुरुवार (17 अक्टूबर 2019) को सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को लेकर गंभीर टिप्पणी करते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि यूपी में जंगलराज है, वह यूपी सरकार से परेशान हो गए हैं। यह खबर शुक्रवार को अखबारों की सुर्खियां बनी ही थी कि उसी दिन राजधानी में एक और हत्या की वारदात ने पूरे प्रदेश को हिल कर रख दिया। 

Images/18-10-2019171405hindusamajpa1.JPG

शुक्रवार (18 अक्टूबर,2019) को एक बार फिर गोलियों की तड़तड़ाहट हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की मौत के दौरान सुनाई दी। हमलावरों ने पहले कमलेश का गला रेता, उसके बाद उन्हें गोली मार दी। आनन फानन में कमलेश को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गयी। 

Images/18-10-2019171505hindusamajpa2.jpg

खुर्शीदबाग स्थित हिंदू समाज पार्टी के कार्यालय में यह वारदात उस दौरान हुई, जब कमलेश से मिलने के बहाने हमलावर उनके पास आए। बातचीत के दौरान उन्होंने चाय पी और नौकर को कुछ सामान लाने के लिए बाहर भेज दिया। बकौल नौकर जब वह वापस आया तो उसने देखा भगवा वस्त्र पहन कर आए दोनों युवक मौके से फरार हैं और कमलेश का खून से लथपथ शरीर जमीन पर पड़ा हुआ है। जिसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर तमंचा औऱ कारतूस भी बरामद कर लिया। 

Images/18-10-2019171743hindusamajpa6.jpeg

इलाके में फैला आक्रोश 

कमलेश की हत्या की खबर सामने आते ही इलाके में आक्रोश फैल गया। हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन शुरु हुआ और बाजारों को बंद करवा दिया गया। मौके पर तनाव को देखते हुए लखनऊ के तमाम अधिकारियों समेत कई थानों की फोर्स और पीएसी को बुलाया गया। 

Images/18-10-2019171523hindusamajpa3.jpg

घटनास्थल पर पहुंचे एसएसपी कलानिधि नैथानी 

हमले की जानकारी मिलते ही कमलेश तिवारी को घायल अवस्था में ट्रामा सेंटर रेफर किया गया था, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी। पुलिस के मुताबिक, घटना के खुलासे के लिए कई टीमों को लगा दिया गया है। मौके से एक असलहा बरामद हुआ है। प्रथम दृष्टया व्यक्तिगत रंजिश के चलते हत्या का मामला दिखाई दे रहा है। फिलहाल मामले को लेकर विवेचना जारी है। 

Images/18-10-2019171542hindusamajpa4.JPG

एडीजी जोन लखनऊ 

एडीजी जोन लखनऊ एसएन साबत ने बताया कुछ व्यक्ति कमलेश तिवारी से मिलने के लिए आए हुए थे, उन्होंने साथ बैठकर बातचीत की और सूक्ष्म जलपान भी किया। इसी बीच सहायक को कुछ सामान लाने बाहर भेजा गया। इसी  दौरान वारदात को अंजाम दिया गया। उन्‍होंने कहा कि जल्‍द ही हत्‍यारों को पकड़ लिया जाएगा। 

Images/18-10-2019171719hindusamajpa5.JPG

हाल ही में हटाई गयी थी रासुका

बता दें कि हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी ने दिसंबर, 2015 में पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ विवादित बयान दिया था। इस बयान को लेकर काफी हंगामा हुआ था। इस बयान के चलते कमलेश की गिरफ्तारी भी हुई थी। वह फिलहाल जमानत पर रिहा चल रहे थे। हाल ही में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने कमलेश तिवारी पर लगी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) हटा दिया था।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
आर्थिक मंदी: राहुल ने मोदी सरकार को दी नसीहत, कहा- कांग्रेस की लें मददhttps://www.newstimes.co.in/news/82627/भारत/दिल्ली/Rahul-Gandhi-said-that-government-should-take-help-of-Congress-manifesto-to-deal-with-recession903056Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019164443RahulGandhis3.PNG' alt='Images/18-10-2019164443RahulGandhis3.PNG' />देश में आर्थिक मंदी के मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर एक बार फिर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने दावा किया है कि केंद्र सरकार के पास इस स्थिति से निपटने के लिए कोई योजना नहीं है। साथ ही राहुल ने सरकार को कांग्रेस की योजना से मंदी के हालात से निपटने की नसीहत दी है। 

आर्थिक मंदी: राहुल ने मोदी सरकार को दी नसीहत, कहा- कांग्रेस की लें मदद

New Delhi. देश में आर्थिक मंदी के मुद्दे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर एक बार फिर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने दावा किया है कि केंद्र सरकार के पास इस स्थिति से निपटने के लिए कोई योजना नहीं है। साथ ही राहुल ने सरकार को कांग्रेस की योजना से मंदी के हालात से निपटने की नसीहत दी है। 

Images/18-10-2019164242RahulGandhis1.jpg

शुक्रवार को राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा है कि ग्रामीण भारत गंभीर संकट में है। अर्थव्यवस्था डूब गयी है और सरकार को नहीं पता कि क्या करना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री को मंदी से निपटने के लिए कांग्रेस के घोषणा पत्र की मदद लेनी चाहिए जिसमें स्थिति का पूर्वानुमान लगाकर इससे निपटने के उपाय बताए गए है।

Images/18-10-2019164340RahulGandhis2.PNG

बता दें कि राहुल गांधी ने इस ट्वीट के साथ एक न्यूज़ वेबसाइट की खबर भी शेयर की है। जिसमें कहा गया है, ग्रामीण खपत सामान्यत: शहरी खपत की तुलना में तेजी से बढ़ती है लेकिन इस तिमाही का रुख इसके ठीक उलट है। सितंबर तिमाही में ग्रामीण खपत 7 साल में सबसे निचले स्तर पर है। 

यह भी पढ़ें:-...​​​​वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के आरोपों पर पूर्व पीएम मनमोहन​ सिंह ने तोड़ी चुप्पी, बोले- मोदी सरकार...

इससे पहले राहुल गांधी ने गुरुवार को पीएम मोदी पर सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के उद्योपातियों के साथ बंदर बांट का आरोप लगाया था। राहुल ने ट्वीट करके कहा था कि पीएम मोदी (#BechendraModi) देश के PSUs को सूट-बूट वाले मित्रों के साथ बंदर बाँट कर रहा है, जिसे देश ने वर्षों की मेहनत से खड़ा किया है।

Images/18-10-2019164443RahulGandhis3.PNG

उन्होंने आगे लिखा कि ये लाखों PSU कर्मचारियों के लिए अनिश्चितता और भय का समय है। मै इस लूट के विरोध में उन सभी कर्मचारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा हू।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
प्राणि उद्यान में सबका दुलारा 'हुक्कू बंदर' अब नहीं रहाhttps://www.newstimes.co.in/news/82625/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Hukku-monkey-is-no-longer-in-zoological-gardens903054Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019163349Hukkumonkeyi1.jpg' alt='Images/18-10-2019163349Hukkumonkeyi1.jpg' />नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान लखनऊ में रह रहे लोकप्रिय हुक्कू बन्दर की शुक्रवार सुबह मौत हो गई है। हुक्कू बन्दर की तबियत खराब होने की जानकारी कीपर ने पशु चिकित्साधिकारी डॉ. उत्कर्ष शुक्ला दी।

प्राणि उद्यान में सबका दुलारा 'हुक्कू बंदर' अब नहीं रहा

Lucknow. नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान (Nawab Wajid Ali Shah Zoological Garden) लखनऊ में रह रहे लोकप्रिय हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) की शुक्रवार सुबह मौत हो गई है। हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) की तबियत खराब होने की जानकारी कीपर ने पशु चिकित्साधिकारी डॉ. उत्कर्ष शुक्ला दी। उन्होंने हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) को तत्काल वन्यजीव चिकित्सालय ले जाने का प्रबन्ध किया गया, जहां चिकित्सा आरम्भ की गई। लेकिन वृद्ध हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) को बचाया नहीं जा सका। हुक्कू बन्दर की मौत से पूरा प्राणि उद्यान (Zoological Garden) शोकाकुल हो गया। वह सभी का दुलारा था। 

Images/18-10-2019163349Hukkumonkeyi1.jpg

बता दें कि हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) कालू उर्फ श्याम के नाम से दर्शकों तथा प्राणि उद्यान (Zoological Garden) अधिकारी और कर्मचारियों के बीच में लोकप्रिय था तथा प्राणि उद्यान (Zoological Garden) हुक्कू बन्दर  (Hukku Monkey)के नाम से विख्यात भी था।

1988 में देहरादून से  लखनऊ प्राणि उद्यान लाया गया था

यह नर हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) देहरादून से 27 नवम्बर 1988 को लखनऊ प्राणि उद्यान (Zoological Garden) लाया गया था। उस वक्त इस नर हुक्कू बन्दर (Hukku Monkey) की उम्र 07 से 08 वर्ष के बीच बतलाई गयी थी। इस प्रकार कालू उर्फ श्याम की उम्र 38 से 39 वर्ष की आंकी गयी है। इस प्रकार यह हुक्कू बन्दर एक रिकार्ड उम्र से अधिक उम्र प्राणि उद्यान में जिया। 

यह भी पढ़ें-

ब्लैकलिस्ट होने से बचा पाकिस्तान, FATF ने फरवरी तक दी सुधरने की मोहलत

आईएनएक्स मीडिया केस: सीबीआई ने पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदम्बरम सहित 14 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की

ट्राई का ऐलान, 31 अक्टूबर तक बंद हो जाएंगे सात करोड़ मोबाइल नम्बर, जल्द करा लें पोर्ट

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
सुपरमॉडल बेला हदीद बनी दुनिया की सबसे खूबसूरत महिलाhttps://www.newstimes.co.in/news/82623/भारत/दिल्ली/Supermodel-Bela-becomes-the-most-beautiful-woman-of-the-world903052Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1550<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019160841SupermodelBel2.jpg' alt='Images/18-10-2019160841SupermodelBel2.jpg' />सुपरमॉडल बेला हदीद (Bel'a Hadid) को ग्रीक के गणितज्ञों ने दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला का दर्जा दिया है

सुपरमॉडल बेला हदीद बनी दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला

New Delhi. सुपरमॉडल बेला हदीद (Bel'a Hadid) को ग्रीक के गणितज्ञों ने दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला का दर्जा दिया है। "Golden Ratio of Beauty Phi Standards" के पैमाने पर विश्व की सबसे खूबसूरत महिला का निर्धारण करने वाले वैज्ञानिकों ने विक्टोरिया सीक्रेट मॉडल (Victoria Secret Model) के चेहरे के लिए बेला का चयन किया है, जो इस पैमाने पर करीब-करीब सटीक बैठता है। बता दें, "Golden Ratio of Beauty Phi" क्लासिक ग्रीक कैलकुलेशन (Greek Calculation) के आधार पर खूबसूरती को परिभाषित करता है। 

Images/18-10-2019160828SupermodelBel1.jpg

इस पैमाने (parameter) के मुताबिक, चेहरे के अनुपात (face ratio) को तय मानकों के जरिए नापा जाता है। गौरतलब है कि ग्रीक स्कॉलर्स ने इस पैमाने को सुंदरता के वैज्ञानिक फॉर्म्युला (formula) के अनुरूप परिभाषित करने की कोशिश करते वक्त लागू किया था।

'गोल्डन रेशियो' (Golden Ratio) पैमाने के अनुसार, 23 वर्षीय बेला का चेहरा माप से 94.35% तक मेल खाता है। वहीं इसी पैमाने के अनुसार, पॉप दीवा बियॉन्से (Beyonce) को दूसरे स्थान पर रखा गया है। उनका चेहरा 92.44% पैमाने के अनुरूप है। एक्ट्रेस अंबर हर्ड (Amber Heard) 91.85% के अनुपात के साथ तीसरे स्थान पर हैं, जबकि पॉप स्टार एरियाना ग्रांडे (Ariana Grande) 91.81% के साथ चौथे स्थान पर हैं। 

Images/18-10-2019160841SupermodelBel2.jpg

बता दें कि यह माप लंदन के प्रतिष्ठित हार्ले स्ट्रीट (Harle Street) के एक लोकप्रिय फेशियल कॉस्मेटिक सर्जन डॉक्‍टर जूलियन डी सिल्वा (Julian D' Silva) ने लिया। डॉक्‍टर जूलियन ने सूत्रों को बताया, "बेला हदीद अपने चेहरे के पर्फेक्‍ट माप की वजह से स्‍प्‍ष्‍ट विजेता हैं। उन्‍हें सबसे ज्‍यादा 99.7% नंबर ठुड्डी यानी कि चिन के लिए मिले। इस हिसाब से पर्फेक्‍ट शेप से उनका चेहरा सिर्फ 0.3% कम है।" 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
कृषि और किसानों के लिए चमत्कारी जैविक खाद है पंचगव्यhttps://www.newstimes.co.in/news/82626/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Panchgavya-is-the-miracle-organic-fertilizer-for-agriculture-and-farmers903055Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019164145Panchgavyais3.jpg' alt='Images/18-10-2019164145Panchgavyais3.jpg' />सनतन धर्म में गाय को माता का दर्जा दिया गया है।

कृषि और किसानों के लिए चमत्कारी जैविक खाद है पंचगव्य

Lucknow: सनातन धर्म में गाय को माता का दर्जा दिया गया है। हिंदू लोग गाय की पूजा करते हैं। गाय से प्राप्त होने वाली चीजों को अत्यन्त पवित्र और लाभकारी माना गया है। गाय से मुख्य रूप से कुल पांच चीजें प्राप्त होती हैं। ये हैं- दूध, दही, मक्खन, मूत्र और गोबर। इन्हें ही सामूहिक रूप से पंचगव्य कहा जाता है। इन पांचों ही चीजों का अलग-अलग लाभ बताया गया है। पंचगव्य आधारित खेती जहां एक तरफ मनुष्य के सेहत के लाभदायक है तो वहीं दूसरी तरफ कम लागत पर किसान की आय में दुगनी वृद्धि भी होती है। भारत शुरू से ही कृषि प्रधान देश रहा है लेकिन आज किसानों हालत बहुत माली हो गयी है उसके पीछे सबसे बड़ा कारण महंगे रासयनिक खाद और दवाईयां है। इसलिए किसानों और कृषि दोनों का बचाना है तो हमें पंचगव्य आधारित खेती करनी होगी।

Images/18-10-2019164015Panchgavyais2.jpg

पंचगव्य क्या है

गाय से मिलने वाली दूध, दही, मक्खन, मूत्र और गोबर के मिश्रण बनाया जाने वाले पदार्थ को ही पंचगव्य कहा जाता है। पंचगव्य का आयुर्वेद में बहुत ही महत्व पूर्ण स्थान है। आयुर्वेद में इसे औषधि की मान्यता प्राप्त  है। पंचगव्य समर्थकों का दावा है कि गोमूत्र चिकित्सा कुछ प्रकार के कैंसर सहित बहुत से बीमारियों के इलाज के लिए लाभकारी है। हालांकि इन दावों का कोई वैज्ञानिक समर्थन नहीं है। पंचगव्य का उपयोग कृषि कार्यों में उर्वरक और कीटनाशक के रूप में भी किया जाता है। 

Images/18-10-2019163951Panchgavyais1.jpg

पंचगव्य का कृषि में लाभ

पंचगव्य जमीन के अंदर सुक्ष्म जीवाणुओं में बढ़ोत्तरी करके भूमि की उर्वरा शक्ति में सुधार करता है और फसल की पैदावार में बृद्धि के साथ-साथ कीटाणुओं से भी लड़ने की क्षमता बढ़ता है। यह सरल और कम लागत वाली भी है। यह किसानों को आर्थिक रुप से भी फायदेमंद है।

पंचगव्य बनाने के लिए प्रयोग होने वाली समाग्री

पंचगव्य बनाने के लिए गाय का दूध, घी, दही, गोमूत्र और गोबर का प्रयोग किया जाता है। इसे पहले दिन 4 कि.ग्रा. गोबर व 1.25 लीटर गोमूत्र में 200 ग्राम देशी घी अच्छी तरह मिलाकर मटके या प्लास्टिक की टंकी में डाल दें। अगले तीन दिन तक इसे रोज हाथ से हिलायें। अब चौथे दिन सारी सामग्री को आपस में मिलाकर मटके में डाल दें व फिर से ढक्कन बंद कर दें। इस मिश्रण को 15 दिनों के लिए छायें में रख दें फिर प्रतिदिन सुबह और शाम के समय अच्छी तरह लकड़ी से हिलाएं। इस तरह 20 दिनों के बाद पंचगव्य उपयोग के लिए बनकर तैयार हो जायेगा। इसके बाद जब इसका खमीर बन जाय और खुशबू आने लगे तो समझ लें कि पंचगव्य तैयार हो गया है।

Images/18-10-2019164145Panchgavyais3.jpg

इसके विपरीत अगर खटास भरी बदबू आए तो हिलाने की प्रक्रिया एक सप्ताह और बढ़ा दें। इस तरह पंचगव्य तैयार होता है अब इसे 10 ली. पानी में 250 ग्रा. पंचगव्य मिलाकर किसी भी फसल में किसी भी समय उपयोग कर सकते हैं। इसे एक बार बना कर 6 माह तक उपयोग कर सकते हैं। इसको बनाने की लागत 70 रु. प्रति लीटर आती है।

पंचगव्य उपयोग की विधि

पंचगव्य का उपयोग अनाज व दालों तथा में किया जाता है। छिड़काव के समय खेत में पर्याप्त नमी होनी आवश्यक है। बीज उपचार से लेकर फसल कटाई के 25 दिन पहले तक 25 से 30 दिन के अन्तराल में इसका उपयोग किया जा सकता है। प्रति बीघा 5 ली. पंचगव्य 200 ली. पानी में मिलाकर पौधों के तनों के पास छिड़काव करें।

पंचगव्य के प्रयोग के समय वरतें ये सावधानियां

पंचगव्य का उपयोग करते समय खेत में नमी का होना आवश्यक है। एक खेत का पानी दूसरे खेतों में नहीं जाना चाहिए। इसका छिड़काव सुबह 10 बजे से पहले तथा शाम 3 बजे के बाद करना चाहिए। पंचगव्य मिश्रण को हमेशा छायादार व ठण्डे स्थान पर रखना चाहिए। इसको बनाने के 6 माह तक इसका प्रयोग अधिक प्रभावशाली रहता है। टीन, स्टील व ताम्बा के बर्तन में इस मिश्रण को नहीं रखना चाहिए। इसके साथ रासायनिक कीटनाशक व खाद का उपयोग नहीं करना चाहिए।\

पंचगव्य के फायदें

पंचगव्य के प्रयोग से कृषि में लागत कम लगनी पढ़ती पड़ती है और उत्पादन ज्यादा होता है। पंचगव्य के प्रयोग से सब्जियों, फलों, और दूसरें कृषि उत्पादों की आयु बढ़ती है। पंचगव्य जनित साग, सब्जियां, फल और अन्य खाने से इंसान रोग कम होने की संभावना रहती है। 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
ट्राई का ऐलान, 31 अक्टूबर तक बंद हो जाएंगे सात करोड़ मोबाइल नम्बर, जल्द करा लें पोर्टhttps://www.newstimes.co.in/news/82619/भारत/Seven-crore-mobile-numbers-will-be-closed-by-31-October903048Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019142707Sevencroremo1.JPG' alt='Images/18-10-2019142707Sevencroremo1.JPG' />टेलीकाॅम रेगुलेटरी अथाॅरिटी आफ इंडिया (ट्राई) ने एयरसेल और डिशनेट के उपभोक्ताओं को अंतिम चेतावनी जारी की है।

ट्राई का ऐलान, 31 अक्टूबर तक बंद हो जाएंगे सात करोड़ मोबाइल नम्बर, जल्द करा लें पोर्ट

New Delhi. टेलीकाॅम रेगुलेटरी अथाॅरिटी आफ इंडिया (ट्राई) ने एयरसेल (Aircel) और डिशनेट (Dishnet) के उपभोक्ताओं को अंतिम चेतावनी जारी की है। ट्राई ने कहा, जो उपभोक्ता एयरसेल (Aircel) और डिशनेट (Dishnet)  की सेवाएं ले रहे हैं, उनकी सेवाएं 31 अक्टूबर को बंद हो जाएंगी। इसलिए इससे अपने नम्बर को पोर्ट करा लें।

Images/18-10-2019142707Sevencroremo1.JPG

ट्राई की ओर से जारी किये गये बयान के मुताबिक, टेलीकाॅम कम्पनी एयरसेल (Aircel) ने जब काम करना बंद किया था तो उसके पास 90 मिलियन उपभोक्ता था, लेकिन अब तक करीब 19 मिलियन लोग अपने नम्बर को पोर्ट करा चुके हैं। जबकि 70 मिलियन (सात करोड़) उपभोक्ताओं को अपना नम्बर पोर्ट कराना है। 

सिर्फ 31 अक्टूबर तक का समय बचा

ट्राई ने कहा कि यदि उपभोक्ता अपने नम्बर को 31 अक्टूबर, 2019 तक पोर्ट नहीं कराते हैं, तो उनकी सेवाएं बंद कर दी जाएंगी। बता दें कि एयरसेल (Aircel) और डिशनेट (Dishnet) के उपभोक्ता, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश ईस्ट, कर्नाटक, जम्मू कश्मीर सहित तमाम राज्यों मेें हैं। इन सभी उपभोक्ताओं के पास अब सिर्फ 31 अक्टूबर तक का समय बचा हुआ है।

यह भी पढ़ें - 

राहुल के घर पर प्रियंका गांधी करेंगी अहम बैठक, इस बड़े मुद्दे पर होगी चर्चा

Chandrayaan-2 के IIRS ने भेजी चांद की सतह की तस्वीर

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की गोली मारकर हत्या https://www.newstimes.co.in/news/82618/भारत/उत्तर-प्रदेश-/lucknow-naka-me-kamlesh-tiwari-ko-mari-gai-goli-903047Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019135915lucknownakam1.jpg' alt='Images/18-10-2019135915lucknownakam1.jpg' />शुक्रवार 18 अक्टूबर को एक बार फिर गोलियों की गड़गड़ाहट सुनाई दी। दोपहर में अचानक हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी को गोली मार दी गयी। हमलावर कमलेश को गिफ्ट देने के बहाने उनके घर में घुसे और उन्हें गोली मार दी गयी।  प्राप्त जानकारी के मुताबिक नाका के खुर्शिदबाग में हुई इस घटना के आरोपी घायल कमलेश तिवारी के जानने वाले ही बताए जा रहे हैं। पुलिस का कहना है कि कमलेश को से बातचीत के दौरान उन्हें गोली मारी गयी है। वहीं पुलिस घटना के सामने आने के बाद सीसीटीवी खंगालने में लगी हुई है। 

हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की गोली मारकर हत्या

Lucknow. राजधानी में शुक्रवार 18 अक्टूबर को एक बार फिर गोलियों की गड़गड़ाहट सुनाई दी। दोपहर में अचानक हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी को गोली मार दी गयी। हमलावर कमलेश को गिफ्ट देने के बहाने उनके घर में घुसे और उन्हें गोली मार दी गयी। जिसके बाद इलाज के दौरान ट्रामा सेंटर में उनकी मौत हो गयी। 

Images/18-10-2019135915lucknownakam1.jpg

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
पीएमसी बैंक घोटाला: खाताधारकों को सुप्रीम कोर्ट से लगा तगड़ा झटका, सुनवाई से किया इनकारhttps://www.newstimes.co.in/news/82617/भारत/महाराष्ट्र/Account-holders-face-a-major-setback-from-Supreme-Court-refusal-to-hear903046Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019135047Accountholder1.JPG' alt='Images/18-10-2019135047Accountholder1.JPG' />पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक घोटाले को लेकर खाताधारकों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। दरअसल, पीएमसी बैंक खाताधारकों ने आरबीआई की ओर धन निकासी की पाबंदी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी,

पीएमसी बैंक घोटाला: खाताधारकों को सुप्रीम कोर्ट से लगा तगड़ा झटका, सुनवाई से किया इनकार

New Delhi. पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक (Punjab and Maharashtra Bank) घोटाले को लेकर खाताधारकों को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से बड़ा झटका लगा है। दरअसल, पीएमसी बैंक (PMC Bank) खाताधारकों ने आरबीआई (RBI) की ओर धन निकासी की पाबंदी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में अपील की थी, लेकिन शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुनवाई से इनकार कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता सम्बंधित हाईकोर्ट (High Court) में अपील कर सकते हैं।

Images/18-10-2019135047Accountholder1.JPG

पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक (Punjab and Maharashtra Bank) की ओर से सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दायर की गई याचिका में खाताधारकों ने कहा था कि बैंक में उनकी जिंदगी भर की कमाई है। उन्होंने बहुत ही मेहनत और ईमानदारी से पैसा कमाया था। बैंक घोटाले के कारण आरबीआई ने खाते से पैसा निकालने की सीमा तय कर दी है, जो काफी कम है। इससे व्यापार में बाधाएं आ रही हैं। याचिकाकर्ताओं ने निवेदन किया था कि उनका जमा पैसा निकालने के लिए आरबीआई को निर्देशित किया जाए, जिससे खाताधारकों को राहत मिल सके।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने खाताधारकों की याचिका पर सुनवाई करते हुए मना कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा कि इस मामले की सुनवाई पहले हाईकोर्ट में होनी चाहिए। याचिकाकर्ताओं को सम्बंधित हाईकोर्ट में अपील दायर करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें - 

राहुल के घर पर प्रियंका गांधी करेंगी अहम बैठक, इस बड़े मुद्दे पर होगी चर्चा

हरियाणा में अचानक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की रैली हुई रद्द

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
करवाचौथ पर देर तक नहीं आया पति तो धर्मांतरण कर हिंदू बनी युवती ने लगाई फांसीhttps://www.newstimes.co.in/news/82609/भारत/उत्तर-प्रदेश-/karvachauth-par-patni-ne-kiya-atmhatya-ka-prayash-903038Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019134050karvachauthpa1.png' alt='Images/18-10-2019134050karvachauthpa1.png' />करवाचौथ व्रत के दौरान गुरुवार को इंदिरा नगर की एक महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। इंदिरा नगर सेक्टर 14 की रहने वाली जाहन्वी उर्फ नाजिया द्वारा पति के देर शाम तक घर न आने पर आत्महत्या का प्रयास किया गया। हालांकि समय रहते पड़ोसियों की सूझबूझ और पुलिस की तत्परता से उसकी जान बचा ली गयी।  गौरतलब है कि मूलरूप से सीतापुर की रहने वाली नाजिया का प्रेम संबंध इंदिरा नगर सेक्टर 14 निवासी योगेंद्र जायसवाल से था। विवाह में धर्म बाधा बना तो नाजिया ने धर्मांतरण किया और सात साल पहले दोनों ने प्रेम विवाह कर लिया। गुरुवार को जब नाजिया ने अन्य महिलाओं की तरह करवाचौथ का व्रत रखा और पति को कई बार फोन करने पर भी कोई जवाब नहीं मिला तो उसने नाराज होकर फांसी लगा ली। 

करवाचौथ पर देर तक नहीं आया पति तो धर्मांतरण कर हिंदू बनी युवती ने लगाई फांसी

Lucknow. राजधानी में गुरुवार को जब शहर की तमाम महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रख रही थी तभी इंदिरा नगर की एक महिला ने फांसी लगाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। इंदिरा नगर सेक्टर 14 की रहने वाली जाहन्वी उर्फ नाजिया द्वारा पति के देर शाम तक घर न आने पर आत्महत्या का प्रयास किया गया। हालांकि समय रहते पड़ोसियों की सूझबूझ और पुलिस की तत्परता से उसकी जान बचा ली गयी। 

Images/18-10-2019134050karvachauthpa1.png

गौरतलब है कि मूलरूप से सीतापुर की रहने वाली नाजिया का प्रेम संबंध इंदिरा नगर सेक्टर 14 निवासी योगेंद्र जायसवाल से था। विवाह में धर्म बाधा बना तो नाजिया ने धर्मांतरण किया और सात साल पहले दोनों ने प्रेम विवाह कर लिया। गुरुवार को जब नाजिया ने अन्य महिलाओं की तरह करवाचौथ का व्रत रखा और पति को कई बार फोन करने पर भी कोई जवाब नहीं मिला तो उसने नाराज होकर फांसी लगा ली। 

यह भी पढ़ें... 4 से 15 नवंबर तक लागू रहेगा ऑड-ईवन नियम, इस बार यह हुए हैं बदलाव

पड़ोस की महिलाओं ने देख किया फोन 

पूजा के लिए नाजिया का इंतजार कर रही पड़ोस की महिलाओं ने जब कई बार आवाज लगाने पर उसे नहीं देखा तो वह उसके घर पहुंच गयी। खिड़की से झांककर देखने पर उन्होंने पाया कि नाजिया फांसी लगाने जा रही थी। जिसके बाद आनन फानन में पुलिस को मामले की सूचना दी गयी। मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़कर नाजिया को बाहर निकाला। नाजिया को फंदे से नीचे उतारने के बाद पुलिस ने योगेंद्र की तलाश शुरु की। देर रात तकरीबन 12.30 बजे पुलिस ने योगेंद्र को तलाशने में सफलता हासिल की। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
पिता लालू से भी आगे निकले तेजस्वी, शानदार रिकॉर्ड बनाकर आलोचकों का मुंह किया बंदhttps://www.newstimes.co.in/news/82608/भारत/बिहार/पटना/Number-of-Rashtriya-Janata-Dal-members-exceeded-one-crore903037Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019133954NumberofRash2.jpg' alt='Images/18-10-2019133954NumberofRash2.jpg' />आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव गैर-मौजूदगी में पार्टी की कमान संभाल रहे तेजस्वी यादव के नेतृत्व को लेकर कई बार सवाल उठाए गए। लेकिन तेजस्वी ने एक शानदार रिकॉर्ड बनाकर आलोचकों को मुंहतोड़ जवाब दिया है। दरअसल, तेजस्वी ने आरजेडी के सदस्यता अभियान में पुराने सारे रिकॉर्ड को तोड़ दिया। इसके साथ ही उन्होंने अपने पिता लालू को पीछे छोड़ दिया है। 

पिता लालू से भी आगे निकले तेजस्वी, शानदार रिकॉर्ड बनाकर आलोचकों का मुंह किया बंद

Patna. आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव की गैर-मौजूदगी में पार्टी की कमान संभाल रहे तेजस्वी यादव के नेतृत्व को लेकर कई बार सवाल उठाए गए। लेकिन तेजस्वी ने एक शानदार रिकॉर्ड बनाकर आलोचकों को मुंहतोड़ जवाब दिया है। दरअसल, तेजस्वी ने आरजेडी के सदस्यता अभियान में पुराने सारे रिकॉर्ड को तोड़ते हुए अपने पिता लालू को पीछे छोड़ दिया है। 

Images/18-10-2019133941NumberofRash1.jpg

एक करोड़ तक पहुंची आरजेडी के सदस्यों की संख्या

आरजेडी के चुनाव प्रचार और सदस्यता अभियान से जुड़े एक नेता के मुताबिक वर्ष 1997 में आरजेडी के सदस्यों की संख्या 72 लाख थी जो आज एक करोड़ तक जा पहुंची है। इसमें बिहार में 78 लाख 90 हजार सदस्य बने हैं, जबकि 16 लाख से ज्यादा लोग अन्य प्रदेशों से हैं। इसके अलावा लगभग सवा लाख लोगों ने ऑनलाइन सदस्यता ली है। इसमें अभी कुछ और इजाफा होने की संभावना है। 

Images/18-10-2019133954NumberofRash2.jpg

गरीबों की पार्टी बनी करोड़पति 

बीते कुछ वर्षों से खाली खजाने के साथ राजनीति कर रही आरजेडी का पार्टी फंड मालामाल हो गया है। सदस्यता अभियान से आरजेडी का फ़ंड 5 करोड़ तक पहुंच गया। आरजेडी ने सदस्यता अभियान शुल्क पांच रूपया रखा है उस हिसाब से अगर देखा जाए तो अनुमानित तौर पर अभी तक पार्टी के खाते में तकरीबन पांच करोड़ रुपए आए हैं।

यह भी पढ़ें:-... लालू की पार्टी तोड़ने की तैयारी में यह बागी नेता, कहा- आरजेडी के कई विधायक हमारे साथ

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
IPL सीजन 13: रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू में होगा यह बड़ा बदलावhttps://www.newstimes.co.in/news/82610/भारत/दिल्ली/IPL-Season-13-:-Royal-Challengers-Bangalore-to-witness-key-changes903039Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1550<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019134646IPLSeason131.jpg' alt='Images/18-10-2019134646IPLSeason131.jpg' />इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) के 13वें सीजन (season 13) में दर्शकों को बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा

IPL सीजन 13: रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू में होगा यह बड़ा बदलाव

New Delhi. इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) के 13वें सीजन (season 13) में दर्शकों को बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा। आईपीएल (IPL) की फ्रेंचाइजी टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू (Royal Challengers Bangalore) महिला सपोर्ट स्टाफ (female support staff) की नियुक्ति करने वाली टूर्नामेंट (tournament) की पहली टीम बन गई है। बता दें कि विराट कोहली (captain Virat Kohli) की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स ने नवनीता गौतम (Navnita Gautam) को बतौर स्पोर्ट्स मसाज थेरेपिस्ट (sports massage therapist) नियुक्त किया है। 

Images/18-10-2019134853IPLSeason134.PNG

नवनीता गौतम आईपीएल टूर्नामेंट (IPL Tournament) के अगले सीजन में आरसीबी (RCB) टीम के साथ जुड़ेंगी। आईपीएल इतिहास में ऐसा पहली बार होगा कि, किसी महिला स्पोर्ट स्टाफ की नियुक्ति की गई है। टीम आरसीबी (Team RCB) ने ट्वीट के जरिये बताया कि, "नवनीता गौतम टीम को तैयार करने और बेहतर तरीके से उबरने में मदद करने के लिए मसाज थेरेपी का इस्तेमाल करेंगी। हमें पहली आईपीएल टीम होने पर गर्व है, जिसमें एक महिला सहायक स्टाफ सदस्य हैं।" नवनीता रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के हेड फिजियोथेरेपिस्ट इवान स्पीचली और स्ट्रेंथ एंड कंडीशनिंग कोच शंकर बासु के साथ काम करेंगी। 

Images/18-10-2019134711IPLSeason133.PNG

वह टीम से संबंधित तैयारी, प्रेरणा, और सभी व्यक्तिगत शारीरिक बीमारियों से संबंधित विशेष तकनीक पर भी काम करेंगी। आरसीबी चेयरमैन संजीव चूड़ीवाला ने एक बयान में कहा कि इस ऐतिहासिक पल को लेकर वह काफी उत्साहित हैं। 

गौरतलब है कि अगस्त में आरसीबी ने माइक हेसन को बतौर क्रिकेट संचालन निदेशक (Director of Cricket Operations) और साइमन कैटिच को नए प्रमुख कोच के रूप में चुना था। टीम में बेहतरीन खिलाड़ी होने के बाद भी आरसीबी अब तक खिताबी ट्रॉफी नहीं जीत पायी है। पिछले सीजन में टीम को लगातार 6 मैचों में हार मिली थी। शर्मनाक प्रदर्शन करने के बाद टीम को आखिरी पायदान से संतोष करना पड़ा था। 

Images/18-10-2019134646IPLSeason131.jpg

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
वजनदार शिशुओं में एलर्जी होने की संभावना ज्यादाhttps://www.newstimes.co.in/news/82607/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Weighty-babies-are-more-likely-to-have-allergies903036Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019130018Weightybabies1.jpg' alt='Images/18-10-2019130018Weightybabies1.jpg' />शोधकर्ताओं ने पाया है कि वजनदार शिशुओं में बचपन की फूड एलर्जी या एक्जिमा से पीड़ित होने की संभावना ज्यादा होती है।

वजनदार शिशुओं में एलर्जी होने की संभावना ज्यादा

Canberra. शोधकर्ताओं ने पाया है कि वजनदार शिशुओं में बचपन की फूड एलर्जी या एक्जिमा से पीड़ित होने की संभावना ज्यादा होती है। यह शोध जर्नल ऑफ एलर्जी एंड क्लिनिकल इम्यूनोलॉजी में प्रकाशित हुआ है। शोधकर्ताओं की टीम ने मानवों पर किए गए पूर्व के अध्ययनों का आकलन करते हुए यह समीक्षा की है। 15,000 शोध की स्क्रिनिंग करने के बाद उन्होंने 42 की पहचान की है, जिसमें 20 लाख से ज्यादा एलर्जी पीड़ितों का डाटा शामिल है।

Images/18-10-2019130018Weightybabies1.jpg

ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड यूनिवर्सिटी की कैथी गैटफोर्ड ने कहा, "हमने जन्म के समय वजन व गर्भकालीन उम्र व बच्चों व वयस्कों के एलर्जी संबंधी बीमारियों की घटनाओं का विश्लेषण किया।" गैटफोर्ड ने कहा, "बच्चे के जन्म के समय वजन में प्रत्येक किलोग्राम की वृद्धि से बच्चे में फूड एलर्जी का 44 फीसदी खतरा बढ़ता है या एक्जिमा होने का 17 फीसदी खतरा होता है।" इसमें से ज्यादातर शोध विकसित देशों के बच्चो पर किए गए, जिसमें ज्यादातर यूरोपीय हैं।

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
यूपी में जंगलराज जैसी स्थिति, वहां की सरकार से तंग आ चुके हैं हम: सुप्रीम कोर्टhttps://www.newstimes.co.in/news/82604/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Supreme-Court-said-that-the-situation-like-Jungle-Raj-in-UP-we-are-fed-up-with-the-UP-government903033Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019114326SupremeCourt2.jpg' alt='Images/18-10-2019114326SupremeCourt2.jpg' />बुलंदशहर के सैकड़ों वर्ष पुराने एक मंदिर से जुड़े प्रबंधन के मामले में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को लेकर एक गंभीर टिप्पणी की है। जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि वह यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं। ऐसा लगता है यूपी में जंगलराज है। कोर्ट ने सवाल किया कि आखिर ऐसा क्यों होता है कि अधिकतर मामलों में यूपी सरकार की ओर से पेश वकीलों के पास संबंधित अथॉरिटी का कोई उचित निर्देश नहीं होता। 

यूपी में जंगलराज जैसी स्थिति, वहां की सरकार से तंग आ चुके हैं हम: सुप्रीम कोर्ट

New Delhi. बुलंदशहर के सैकड़ों वर्ष पुराने श्री सर्वमंगला देवी बेला भवानी मंदिर से जुड़े मामले में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को लेकर गंभीर टिप्पणी की है। जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि वह यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं। ऐसा लगता है यूपी में जंगलराज है। कोर्ट ने सवाल किया कि आखिर ऐसा क्यों होता है कि अधिकतर मामलों में यूपी सरकार की ओर से पेश वकीलों के पास संबंधित अथॉरिटी का कोई उचित निर्देश नहीं होता। 

Images/18-10-2019114149SupremeCourt1.jpg

पीठ ने यूपी सरकार के वकील को लगायी फटकार

बुलंदशहर में करीब 300 वर्ष पुरानी श्री सर्वमंगला देवी बेला भवानी मंदिर के प्रबंधन से जुड़े मामले में जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने सुनवाई की। इस दौरान पीठ ने यूपी सरकार ओर से पेश एडिशनल एडवोकेट जनरल से पूछा कि क्या यूपी में कोई ट्रस्ट या सहायतार्थ ट्रस्ट एक्ट है? क्या वहां मंदिर व सहायतार्थ चंदे को लेकर कोई कानून है? जिस पर वकील ने कहा कि इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

Images/18-10-2019114326SupremeCourt2.jpg

वकील के इस जवाब पर नाराजगी जाहिर करते हुए पीठ ने कहा कि ऐसा लगता है कि प्रदेश सरकार चाहती ही नहीं कि वहां कानून हो। लगता है वहां जंगलराज है। पीठ ने कहा कि वह यूपी सरकार से परेशान हो गए हैं। हमेशा यही देखने को मिलता है कि सरकार की ओर से पेश वकीलों के पास उचित निर्देश नहीं होते हैं। फिर चाहें वह दीवानी मामला हो या आपराधिक मामले। पीठ ने पूछा कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है? 

मुख्य सचिव को कोर्ट ने किया तलब 

वहीं, जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले में अब यूपी के मुख्य सचिव को तलब किया है। पीठ ने कहा कि वह सीधे मुख्य सचिव से जानना चाहते हैं कि क्या यूपी में मंदिर और सहायतार्थ चंदे को लेकर कोई कानून है? पीठ ने यूपी के मुख्य सचिव को मंगलवार को पेश होने को कहा है। 

यह भी पढ़ें:-...मुख्तार अंसारी के बेटे के घर से विदेशी बंदूकें, 4 हजार से ज्यादा कारतूस बरामद
 
बता दें कि करीब 300 वर्ष पुरानी श्री सर्वमंगला देवी बेला भवानी मंदिर के प्रबंधन मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गयी है। विजय प्रताप सिंह की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दायर की गयी में हाईकोर्ट के उस आदेश को चुनौती दी है जिसमें मंदिर के चढ़ावे को वहां काम करने वाले पंडों को दे दिया गया था।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
फैजुल्लागंज में बुखार से मासूम की गयी जान https://www.newstimes.co.in/news/82603/भारत/उत्तर-प्रदेश-/faizullaganj-me-bukhar-se-masum-ki-gai-jaan-903032Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019112230faizullaganjm1.jpg' alt='Images/18-10-2019112230faizullaganjm1.jpg' />फैजुल्लागंज में बुधवार को देर रात एक 11 माह के बच्चे की जान बुखार की वजह से चली गयी। हालांकि अभी भी 15 और लोग इस बुखार की चपेट में हैं।  प्राप्त जानकारी के मुताबिक फैजुल्लागंज हरिओम नगर निवासी ई रिक्शा चालक रामजी मिश्रा की बीटे दीपाली तेज बुखार से पीड़ित को मंगलवार को तेज बुखार से पीड़ित हो गयी। जब रामजी अपनी बेटी को डॉक्टर के पास ले गया तो उन्होंने डेंगू की आशंका जाहिर की। इसी बीच दीपाली को बुखार के साथ उल्टियां भी शुरु हो गयीं। बुधवार को जब दीपाली की तकलीफ बढ़ी तो परिजन एक बार फिर उसे नजदीकी अस्पताल ले गये और जहां से डॉक्टरों ने उसे ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया।  ट्रामा सेंटर ले जाने के दौरान ही दीपाली ने रास्ते में दम तोड़ दिया। ट्रामा पहुंचने पर कैजुअल्टी में डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया।  गौरतलब है कि अभी तक तकरीबन राजधानी से तकरीबन 550 डेंगू के मामले सामने आ चुके हैं। इससे अभी तक फिलहाल 7 लोगों की मौत हो चुकी है। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग अभी तक एक भी मौत होने की बात को नहीं स्वीकार रहा है। जब भी कोई मामला आता है तो सिर्फ कोशिशों का हवाला दे दिया जाता है। 

फैजुल्लागंज में बुखार से मासूम की गयी जान

Lucknow. राजधानी के फैजुल्लागंज में बुधवार को देर रात एक 11 माह के बच्चे की जान बुखार की वजह से चली गयी। हालांकि अभी भी 15 और लोग इस बुखार की चपेट में हैं। 

Images/18-10-2019112230faizullaganjm1.jpg

यह भी पढ़ें... 4 से 15 नवंबर तक लागू रहेगा ऑड-ईवन नियम, इस बार यह हुए हैं बदलाव
गौरतलब है कि अभी तक तकरीबन राजधानी से तकरीबन 550 डेंगू के मामले सामने आ चुके हैं। इससे अभी तक फिलहाल 7 लोगों की मौत हो चुकी है। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग अभी तक एक भी मौत होने की बात को नहीं स्वीकार रहा है। जब भी कोई मामला आता है तो सिर्फ कोशिशों का हवाला दे दिया जाता है। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
दीक्षांत समारोह के बाद 9 अधिकारी और कर्मचारी हुए सम्मानित https://www.newstimes.co.in/news/82602/भारत/उत्तर-प्रदेश-/dikshant-samaroh-me-9-adhikari-karmchari-hue-sammanit-903031Fri, 18 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019104553dikshantsamar3.jpeg' alt='Images/18-10-2019104553dikshantsamar3.jpeg' />डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि में गुरुवार को विवि के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में 17 वें दीक्षांत समारोह के सफलता पूर्वक आयोजन पर एक बैठक आयोजित की गयी। बैठक में  विवि के समस्त कर्मचारियों के द्वारा 17 वें दीक्षांत समारोह में योगदान प्रदान करने के लिए बधाई दी गयी।   इस अवसर पर विवि के कुलपति प्रो पाठक ने उकृष्ट योगदान के लिए 9 अधिकारीयों एवं कर्मचारियों को सम्मानित भी किया। इसमें निर्माण एवं मीडिया प्रभारी आशीष मिश्र, उप परीक्षा नियंत्रक आशुतोष द्विवेदी, व्यवस्था अधिकारी प्रवीन कुमार, सहायक कुलसचिव सौरभ सिंह, सहायक स्टोरकीपर इंचार्ज राजीव मिश्रा, आशुलिपिक जया प्रसाद, रविकांत दुबे, गौरव त्यागी, सहायक कुलसचिव आयुष श्रीवास्तव को प्रशस्तिपत्र देकर सम्मानित किया गया। 

दीक्षांत समारोह के बाद 9 अधिकारी और कर्मचारी हुए सम्मानित 

Lucknow. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि में गुरुवार को विवि के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में 17 वें दीक्षांत समारोह के सफलता पूर्वक आयोजन पर एक बैठक आयोजित की गयी। बैठक में  विवि के समस्त कर्मचारियों के द्वारा 17 वें दीक्षांत समारोह में योगदान प्रदान करने के लिए बधाई दी गयी।  

Images/18-10-2019104436dikshantsamar1.jpegImages/18-10-2019104454dikshantsamar2.jpeg

इस अवसर पर विवि के कुलसचिव नन्द लाल सिंह ने कहा कि विवि  के कुलपति प्रो पाठक के कुशल नेतृत्व में विवि दिन-प्रतिदिन सकारात्मक प्रगति कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह प्रो पाठक के नेतृत्व का परिणाम है कि विवि हर एक चुनौती का सफलता पूर्वक समाधान कर पाने में सक्षम हुआ है। उन्होंने विवि के समस्त कर्मचारियों द्वारा दीक्षांत समारोह में किये गये उत्कृष्ट कार्य के लिए बधाई दी। उन्होंने परीक्षा विभाग द्वारा दीक्षांत समारोह में किये गये कार्य की भी सराहना की। 

Images/18-10-2019104553dikshantsamar3.jpeg

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
अंतर्राष्ट्रीय गरीबी उन्मूलन दिवस : बढ़ती हुई जनसंख्या भी गरीबी का कारणhttps://www.newstimes.co.in/news/82597/भारत/उत्तर-प्रदेश-/International-Poverty-Alleviation-Day:-Increasing-population-also-causes-poverty903026Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019185018International2.jpg' alt='Images/17-10-2019185018International2.jpg' />17 अक्टूबर को विश्व गरीबी निवारण दिवस के रुप में मनाया जाता।

अंतर्राष्ट्रीय गरीबी उन्मूलन दिवस : बढ़ती हुई जनसंख्या भी गरीबी का कारण

Lucknow: 17 अक्टूबर को विश्व गरीबी निवारण दिवस के रुप में मनाया जाता। इस दिवस के मनाने का उद्देश्य है विश्व समुदाय से गरीबी को दूर करना, क्योंकि सुरसा की तरह मुह फैलाए खड़ी गरीबी निवारण के लिए हर साल यह दिवस मनाया जाता है। महत्मा गांधी ने कहा था कि गरीबी कोई दैवीय अभिश्राप नहीं है बल्कि यह मानव द्वारा रचित सबसे बड़ी समस्या है। विश्व भर में फैली गरीबी की समस्या के समाधान के लिए संयुक्त राष्ट्र में 1992 में हर साल 17 अक्टूबर को गरीबी उन्मूलन दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गई। विश्व भर में गरीबी हटाने के लिए बहुत सारी योजनाएं चल रही है। भारत में भी गरीबी हटाने के लिए सरकार बहुत सारी योजनाएं चला रही है। 

Images/17-10-2019185005International1.png

भारत में गरीबी का सबसे बड़ा करण बढ़ती हुई जनसंख्या भी है। क्योंकि जिस अनुपात से जनसंख्या में बृद्धि हो रही उस हिसाब से न तो प्राकिृतक संसाधन बढ़ रहे है न गरीब लोगों तक सरकारी मदद पहुंच पा रही है। भारत में गरीबी उन्मूलन के नाम पर चलाई जा रही सरकारी योजनाओं का लाभ पात्र लोगों तक नहीं पहुंच पा रहा है। बल्कि सरकार और प्रशासन से जुड़े लोग इसका पूरा फायदा उठा रहे हैं भ्रष्टाचार का मकड़ जाल फैलाए हुए हैं। देश में कभी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने एक चुनाव के दौरान “गरीबी हटाओ” का नारा उछाला था। सत्ता में तब इंदिरा गांधी आ गईं पर गरीबी तब से अब तक बढ़ी ही है। उस समय भी कहा जाता था कि इंदिरा गांधी जी ने गरीबी को नहीं गरीबों को ही हटाने का कार्य किया था। जगह-जगह झुग्गी-झोपड़ियों को हटाया गया और वहां रहने वाले गरीबों को फ्लैट बनाकर देने के दावे किए गए। आज यह गरीब और भी गरीब हो गए।

Images/17-10-2019185018International2.jpg

गरीबी से संबन्ध सिर्फ किसी व्यक्ति विशेष की मासिक या सालाना आय से नहीं बल्कि स्वास्थ्य, राजनीतिक भागीदारी, देश की संस्कृति और सामाजिक संगठनों की उन्नति से भी है। भारत में गरीबी का मुख्य कारण बढ़ती जनसंख्या, कमजोर कृषि, भ्रष्टाचार, रूढ़िवादी सोच, जातिवाद, अमीर-गरीब में ऊंच-नीच, नौकरी की कमी, अशिक्षा, बीमारी आदि हैं। भारत एक कृषि प्रधान देश है. इसके बावजूद भारत में मौजूद सबसे ज्यादा संख्या मे किसान ही इस गरीबी के दंश को झेलने के लिए मजबूर हैं। अगर इस देश और समाज से गरीबी को हटाना है तो सबसे जरूरी है कि बड़े पैमाने पर गरीबों के बीच उनके अधिकारों की जागरुकता फैलाई जाए साथ ही राजनैतिक स्तर पर नैतिकता को मजबूत करना होगा जो उस गरीबी को देख सके जिसकी आग में छोटे बच्चों का भविष्य (जिन्हें देश के भावी भविष्य के रूप में देखा जाता है) तेज धूप में सड़कों पर भीख मांग कर कट रहा है।
 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
महाराजगंज: तमंचे के दम पर बदमाशों ने HDFC बैंक से लूटे 20 लाख रुपएhttps://www.newstimes.co.in/news/82593/भारत/उत्तर-प्रदेश-/महाराजगंज/Maharajganj:-Criminals-looted-20-lakh-rupees-from-HDFC-bank-on-the-basis-of-Gun903022Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019164125MaharajganjC2.PNG' alt='Images/17-10-2019164125MaharajganjC2.PNG' />यूपी में बदमाशों के हौसले बुलंद नजर आ रही हैं। प्रदेश में हर रोज हत्या, दुष्कर्म और लूट की घटनाएं सामने आ रही हैं। ताजा मामला महाराजगंज का है जहां पर एचडीएफ़सी बैंक में दिनदहाड़े लाखों की लूट की घटना सामने आयी हैं। वहीं, घटना के बाद पुलिस बदमशों की तलाश में जुट गयी है। 

महाराजगंज: तमंचे के दम पर बदमाशों ने HDFC बैंक से लूटे 20 लाख रुपए

Maharajganj. यूपी में बदमाशों के हौसले बुलंद नजर आ रहे हैं। प्रदेश में हर रोज हत्या, दुष्कर्म और लूट की घटनाएं सामने आ रही हैं। ताजा मामला महाराजगंज का है, जहां एचडीएफ़सी बैंक में दिनदहाड़े लाखों की लूट की घटना सामने आयी हैं। वहीं, घटना के बाद पुलिस बदमाशों की तलाश में जुट गयी है। 

Images/17-10-2019164030MaharajganjC1.PNG

जानकारी के मुताबिक, यह घटना शहर के फरेंदा थाना क्षेत्र की है, यहां आनंदनगर स्थित एचडीएफ़सी बैंक में दोपहर 12.35 बजे दो बाइक पर सवार चार बदमाश हेलमेट लगाकर बैंकपहुंचे। चारों बैंक के अंदर पहुंचकर पहले तो लोगों को धमकाया और उसके बाद कैश काउंटर से 20 लाख रुपए नगद लेकर फरार हो गए। यह पूरी घटना बैंक में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है। 

Images/17-10-2019164125MaharajganjC2.PNG

यह भी पढ़ें:-...कानपुर: 3 तस्कर किए गिरफ्तार, 80 लाख की अफीम बरामद

वहीं, बदमाशों के जाने बाद पुलिस को घटना की जानकारी दी गयी। जिसके बाद मौके पर पहुंचे एसपी रोहित सिंह सजवान के साथ पुलिस टीम ने अपराधियों के बारे में जानकारी शुरू कर दी है। एसपी का कहना है कि पूर्व में हुई कुछ घटनाओं की तरह ही यह भी घटना हुई है। जल्द ही उनको गिरफ्तार कर लिया जायेगा और रुपयों की रिकवरी भी की जाएगी।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
धूमधाम से मनाया गया छोटू फाउंडेशन का वर्षगांठ उत्सव ‘तरंगhttps://www.newstimes.co.in/news/82592/भारत/उत्तर-प्रदेश-/chotu-foundation-ka-varshganth-utsav-tarang-903021Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/18-10-2019162925GVcUW98WGw.jpg' alt='Images/18-10-2019162925GVcUW98WGw.jpg' />छोटू फाउंडेशन की प्रथम वर्षगांठ पर ‘तरंग‘ कार्यक्रम का आयोजन गोमती नगर स्थित संगीत नाटक अकादमी में किया गया। इस दौरान भारतीय संस्कृति तथा सामाजिक जागरूकता पर पन्द्रह से अधिक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये तथा लखनऊ की 12 सामाजिक कार्यकर्ताओ को ‘चेंजमेकर अवार्ड 2019‘ से सम्मानित किया गया। जिसमे रत्ना अस्थाना, शरद पटेल, निलय अग्रवाल, अनन्य शर्मा, रोहित सिंह, पायल सिंह, अमित सक्सेना, अनुराग साहू, मोहम्मद फुजैल कुरैशी, जुनैद हाश्मी, कलीम अहमद शिब्ली, मानसी प्रीत जेयासि शमिल रहे। 

धूमधाम से मनाया गया छोटू फाउंडेशन का वर्षगांठ उत्सव ‘तरंग

Images/17-10-2019155244chotufoundati1.jpeg

Lucknow. राजधानी में बुधवार 16 अक्टूबर को छोटू फाउंडेशन की प्रथम वर्षगांठ पर ‘तरंग‘ कार्यक्रम का आयोजन गोमती नगर स्थित संगीत नाटक अकादमी में किया गया। इस दौरान भारतीय संस्कृति तथा सामाजिक जागरूकता पर पन्द्रह से अधिक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये तथा लखनऊ की 12 सामाजिक कार्यकर्ताओ को ‘चेंजमेकर अवार्ड 2019‘ से सम्मानित किया गया। जिसमे रत्ना अस्थाना, शरद पटेल, निलय अग्रवाल, अनन्य शर्मा, रोहित सिंह, पायल सिंह, अमित सक्सेना, अनुराग साहू, मोहम्मद फुजैल कुरैशी, जुनैद हाश्मी, कलीम अहमद शिब्ली, मानसी प्रीत जेयासि शमिल रहे। 

Images/18-10-2019161547dklsOLa4kx.jpg

कार्यक्रम में तौर मुख्य अतिथि उपस्थित संयुक्ता भाटिया ने कहा कि समाज में युवा पीढ़ी को आगे बढ़कर स्वर्णिम भारत बनाने में आगे आना पड़ेगा जिसमें छोटू फाउंडेशन के संस्थापक मोहम्मद आरिफ समाज में एक अच्छी पहल के साथ बच्चों को पढ़ाने का कार्य कर रहे हैं।  मैं आज इस मंच से आह्वान करुंगी कि वह समाज के प्रति जागरूक बने और अपना योगदान दें इस अवसर पर लोरेटो स्कूल की प्रिंसपल असिता दास भी उपस्थित रही।

Images/17-10-2019155259chotufoundati2.jpeg

इस कार्यक्रम में लखनऊ शहर कि प्रमुख हस्तिया भी शामिल रही जो समाज में जन जागरण का कार्य करते हैं राजेश सिंह, महेंद्र अग्रवाल, सैयद मासूम रजा, हरदयाल मौर्या, भास्कर दुबे, आरती दुबे, नील सिंह, सीमा वर्मा राकेश सिंह, पुरुजित सिंह, रोहित सिंह, शैलजा पांडेय, नील सिंह, एकता अग्रवाल, अब्दुल कुद्दूस हाशमी, सत्येंद्र सिंह मोहित सिंह चैहान, सिद्धार्थ आदि उपस्थित रहे। 

Images/17-10-2019155319chotufoundati3.jpeg

 

Images/18-10-2019162925GVcUW98WGw.jpg
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
कानपुर: 3 तस्कर किए गिरफ्तार, 80 लाख की अफीम बरामदhttps://www.newstimes.co.in/news/82590/भारत/उत्तर-प्रदेश-/कानपुर/-BADASSA--चिल्ला----जगदीशपुरा--जगनेर--फतेहगंज---बेकन-गंज---बसई-जगनेर--सदर-बाजार-Kanpur:-3-smugglers-arrested-80-lakhs-of-opium-recovered903019Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019155036Kanpur3smug1.jpg' alt='Images/17-10-2019155036Kanpur3smug1.jpg' />यूपी में मादक पदार्थों के कालेकारोबार पर नारकोटिक्स ब्यूरो और एक्साइज विभाग की नजरें टेंढी हो गयी हैं। गुरूवार ऐसी ही एक कार्रवाई में नारकोटिक्स ब्यूरों ने झारखंड के तीन तस्करों को धर दबोचा। कानपुर में हुई इस धर पकड़ में लाखों की की अफीम के साथ लाखों की नगदी भी बरामद हुई है। इस कार्रवाई को नारकोटिक्स ​ब्यूरों की बड़ी सफलता माना जा रहा है। 

कानपुर: 3 तस्कर किए गिरफ्तार, 80 लाख की अफीम बरामद

- नारकोटिक्स ब्यूरो और पुलिस की संयुक्त टीम ने की छापेमारी
- 20 लाख की नगदी भी तस्करों के पास से हुई बरामद

Kanpur. यूपी में मादक पदार्थों के कालेकारोबार पर नारकोटिक्स ब्यूरो और एक्साइज विभाग की नजरें टेंढी हो गयी हैं। गुरूवार ऐसी ही एक कार्रवाई में नारकोटिक्स ब्यूरों ने झारखंड के तीन तस्करों को धर दबोचा। कानपुर में हुई इस धर पकड़ में लाखों की की अफीम के साथ लाखों की नगदी भी बरामद हुई है। इस कार्रवाई को नारकोटिक्स ​ब्यूरों की बड़ी सफलता माना जा रहा है। 

Images/17-10-2019155036Kanpur3smug1.jpg

मिली जानकारी के अनुसार राजधानी लखनऊ कानपुर पहुंचे नारकोटिक्स विभाग के दल ने सटीक सूचना के आधार पर काकादेव पुलिस के साथ रावतपुर स्टॉप के निकट छापेमारी की। 
इस छापेमारी में टीम ने तकरीबन एक करोड़ की बरामदगी की है। टीम को 9.8 किलोग्राम अफीम बरामद हुई है जिसकी कीमत लगभग 80 लाख रुपए आंकी जा रही है जबकि 20 लाख की नगदी भी तीनों तस्करों के पास से बरामद हुई है। 
इस पूरी कार्रवाई को अंजाम देने वाली टीम में नारकोटिक्स लखनऊ की नौ सदस्य मौजूद रहे। पूछताछ में तस्करों ने अपने अपने नाम क्रमश: मनोज कुमार, हेवई निवासी मनोज कुमार व राजदीप बताए है। 
तीनों ही झारखंड के बारीसाकी के रहने वाले है। टीम के मुताबिक बरामद की गयी अफीम अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तकरीबन 80 लाख कीमत की है। 
ये तस्कर झारखंड के अफीम की डिलिवरी शहजहांपुर के जलालाबाद करने जा रहे थें। तीनों अभी पूछताछ की जा रही है। इस काले कारोबार से जुड़े और लोगों के नाम भी सामने आ सकते हैं। 

यह भी पढ़ें...यूपी: बांदा में बेकाबू ट्रक ने बेजुबानों को रौंदा, 12 की मौत

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के आरोपों पर पूर्व पीएम मनमोहन​ सिंह ने तोड़ी चुप्पी, बोले- मोदी सरकार...https://www.newstimes.co.in/news/82589/भारत/manmohan-singh-ne-todi-chuppi903018Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019154639manmohansingh1.JPG' alt='Images/17-10-2019154639manmohansingh1.JPG' />पूर्व प्रधानमंत्री डाॅ. मनमोहन सिंह ने गुरुवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के आरोपों पर चुप्पी तोड़ी।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के आरोपों पर पूर्व पीएम मनमोहन​ सिंह ने तोड़ी चुप्पी, बोले- मोदी सरकार...

New Delhi. पूर्व प्रधानमंत्री डाॅ. मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh) ने गुरुवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) के आरोपों पर चुप्पी तोड़ी। उन्होंने वित्तमंत्री (Finance Minister) के आरोपों पर करारा पलटवार किया। मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh) ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार  (Modi Government) पिछली सरकारों के सिर पर दोष मढ़ने का जुनून सवार है। उन्होंने कहा कि आर्थिक सुस्ती (Economic slowdown) और सरकार की उदासीनता का असर भारतीयों के भविष्य पर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि व्यापारिक प्रतिष्ठान (Business establishment) बंद हो रहे हैं, किसानों पर संकट बढ़ रहा है और देश में आयात निर्यात की समस्याएं खड़ी हो रही हैं, लेकिन भाजपा सरकार (BJP Government) समाधान ढूंढने की बजाय विपक्ष पर दोष मढ़ने में मशगूल है।

Images/17-10-2019154639manmohansingh1.JPG

पूर्व प्रधानमंत्री डाॅ. मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh) ने कहा कि किसान (Farmer) आज आत्महत्या कर रहे हैं, इस मामले में महाराष्ट्र (Maharashtra) पहले नम्बर पर है और निवेशक  (Investors) राज्य को छोड़ कर दूसरी जगह शिफ्ट हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार (Modi Government) सिर्फ दूसरों पर आरोप मढ़ने का काम कर रही है। हालांकि इससे पहले भी पूर्व पीएम अर्थव्यवस्था (Economy) को लेकर चिंता जाहिर कर चुके हैं। 

केंद्रीय मंत्री ने मनमोहन सिंह पर लगाया बड़ा आरोप

वहीं, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh) के आरोपों के तुरंत बाद केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Union Minister Piyush Goyal) ने जवाब दिया। उन्होंने कहा कि पूर्व पीएम को अपनी सरकार की विफलता को स्वीकार करना चाहिए। उन्होंने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh) पर बड़ा आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वह भ्रष्ट सरकार चला रहे थे, जिसमें कई विवाद भी हुए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार (Congress Government) के दौरान भ्रष्टाचार (Corruption) के अलावा कोई नया उद्योग नहीं था। उन्होंने कहा कि हम गठबंधन सरकार (coalition government) चलाते हैं वो भी भ्रष्टाचार मुक्त (Corruption Free)। 

वित्तमंत्री ने पूर्व पीएम पर लगाये थे गम्भीर आरोप

बता दें कि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने मंगलवार को कोलंबिया यूनिवर्सिटी (Columbia University) के स्कूल आफ इंटरनेशनल एंड पब्लिक अफेयर्स (School of International and Public Affairs) में एक व्याख्यान के दौरान बैंकों की हालत के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh)  और पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन (Former RBI Governor Raghuram Rajan) को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि सरकारी बैंकों (Public banks) के लिए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh) और पूर्व गवर्नर रघुराम राजन (Former RBI Governor Raghuram Rajan) का कार्यकाल सबसे बुरा दौर था। 

फोन पर ही साठगांठ कर दे दिया जाता था लोन

वित्त मंत्री (Finance Minister) ने कहा था कि वह रघुराम राजन (Raghuram Rajan) का महान विद्वान के तौर पर सम्मान करती हैं, लेकिन उनके ही दौर में बैंक लोन (Bank loan) से जुड़ी काफी दिक्कतें थीं।  उन्होंने कहा कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह (Former Prime Minister Manmohan Singh) के कार्यकाल में ही फोन पर ही साठगांठ करके भारी कर्ज दे दिया जाता था। इस मुश्किल से निकलने के लिए बैंक आज सरकारी पूंजी पर ही निर्भर हैं।

यह भी पढ़ें-

एनआईए ने दिवाली से पहले आतंकी हमले अलर्ट किया जारी, गोरखपुर में दिखे पांच संदिग्ध

सर्बिया की संसद में गरजे कांग्रेस सांसद शशि थरूर,कहा हम कश्मीर मुद्दा खुद सुलझा लेंगे

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
यूपी: बांदा में बेकाबू ट्रक ने बेजुबानों को रौंदा, 12 की मौतhttps://www.newstimes.co.in/news/82588/भारत/उत्तर-प्रदेश-/बांदा/--गिरवान----BABERU---अतर्रा--कमासिन---कालिंजर----कोतवाली---कोतवाली-देहात--जसपुरा-----तिंदवारी---नरैनी---पैलानी--मटौंध-----मरका---UP:-Uncontrollable-truck-crushed-innocent-cattle-in-Banda-12-killed903017Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019151833UPUncontroll3.jpg' alt='Images/17-10-2019151833UPUncontroll3.jpg' />यूपी के बांदा जिले में तेज रफ्तार ट्रक से कुचलकर 12 गोवंशों की मौत के ग्रामीणों ने जमकर तांडव किया। आक्रोशित ग्रामीणों ने जाम लगा दिया। यह जाम तकरीबन पांच घंटे तक लगा रहा। जाम की सूचना पर पुलिस और प्रशासनिक अमला मौके पर पहुंच गया। काफी मान मनौवल के बाद जब एसडीएम ने गौशाला बनवाने का आश्वासन दिया तब जाकर ग्रामीण शांत हुए। गोवंशों के शवों को पोस्टमार्टम के बाद दफन करवा दिया गया। घटना बांदा-बहराइच राजमार्ग पर तिंदवारी थाना क्षेत्र में गुरूवार शुक्रवार सुबह हुई। 

यूपी: बांदा में बेकाबू ट्रक ने बेजुबानों को रौंदा, 12 की मौत

- आक्रोशित ग्रामीणों ने बांदा-बहराइच राजमार्ग किया जाम
- पांच घंटे तक चला प्रदर्शन, गोशाला के आश्वासन पर शांत हुआ मामला

Lucknow. यूपी के बांदा जिले में तेज रफ्तार ट्रक से कुचलकर 12 गोवंशों की मौत के ग्रामीणों ने जमकर तांडव किया। आक्रोशित ग्रामीणों ने जाम लगा दिया। यह जाम तकरीबन पांच घंटे तक लगा रहा। जाम की सूचना पर पुलिस और प्रशासनिक अमला मौके पर पहुंच गया। काफी मान मनौवल के बाद जब एसडीएम ने गौशाला बनवाने का आश्वासन दिया तब जाकर ग्रामीण शांत हुए। गोवंशों के शवों को पोस्टमार्टम के बाद दफन करवा दिया गया। घटना बांदा-बहराइच राजमार्ग पर तिंदवारी थाना क्षेत्र में गुरूवार शुक्रवार सुबह हुई। 

Images/17-10-2019151746UPUncontroll1.jpg

मिली जानकारी के अनुसार बांदा-बहराइच राजमार्ग पर मुंगूस गांव के सामने प्रतिदिन की तरह आवारा मवेशियों का झुंड सड़क पर विचरण कर रहा था। 
इसी बीच एक तेज रफ्तार ट्रक इन बेजुबानों पर कहर बन कर टूट पड़ा। एक के बाद एक कर 12 गोवंशों की ट्रक से कुचलकर मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गयी। 
जबक चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। सड़क पर बेजुबान गोवंशों के शवों को देखकर ग्रामीणों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। 

Images/17-10-2019151811UPUncontroll2.jpg

आनन फानन ग्रामीणों ने राजमार्ग पर जाम लगा दिया। ग्रामीणों ने गोवंशों के हत्यारे चालक को पकड़ने और मवेशियों के लिए गौशाला बनवाने की मांग शुरू कर दी। 
देखते ही देखते दोनों ओर वाहनों की कतारे लग गयी। मवेशियों की मौत पर जाम की सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासनिक अमला हरकत में आ गया। 

Images/17-10-2019151833UPUncontroll3.jpg

कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गयी। ग्रामीणों को समझाने में पुलिस नाकाम रही। ग्रामीण प्रशासनिक अधिकारी को मौके पर बुलवाने की जिद पर अड़े रहे। 
कुछ ही देर में एसडीएम सदर सुरजीत सिंह और तहसीलदार अवधेश कुमार मौके पर पहुंचे उन्होंने गोशाला बनवाने का आश्वासन देकर ग्रामीणों का शांत किया साथ ही पुलिस को निर्देश दिया कि घटना के आरोपी चालक का पता लगा कर उसे गिरफ्तार किया जाए। 
इस दौरान तकरीबन पांच घंटे तक राजमार्ग जाम रहा। पशु चिकित्सक की मौजूदगी में मवेशियों का पोस्टमार्टम कराया गया इसके बाद उन्हें जमीन में गड्ढा खुदवा कर दफन कर दिया गया। 

यह भी पढ़ें...उन्नाव: श्मशान घाट में भिड़े दो पक्ष जमकर हुई मारपीट

 


 
 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#NewstimesTrending : जम्मू कश्मीर में 3 दिनों में तीसरी हत्या, आतंकी ऐसे बना रहे निशाना https://www.newstimes.co.in/news/82586/भारत/उत्तर-प्रदेश-/jammu-kashmir-me-teen-dino-me-3-hatya-903015Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019144101jammukashmir2.jpg' alt='Images/17-10-2019144101jammukashmir2.jpg' />जम्मू कश्मीर के शोपियां में आतंकियों ने 2 व्यापारियों को गोली मारी गयी। गोली लगने के बाद एक व्यक्ति की मौत हो गयी जबकि दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। मृतक की पहचान चरणजीत सिंह निवासी फाजिल्का पंजाब के रूप में हुई। इतना ही नहीं आतंकवादियों ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में छत्तीसगढ़ के एक प्रवासी मजदूर की भी गोली मारकर हत्या कर दी। छत्तीसगढ़ बेसोली निवासी मजदूर सेठी कुमार सागर को काकपोरा रेलवे स्टेशन के पास उस दौरान गोली मारी गयी जब वह एक अन्य नागरिक के साथ टहल रहे थे। जिसके बाद छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने मजदूर के परिवार को 4 लाख रुपये की सहायता देने का ऐलान भी किया। 

#NewstimesTrending : जम्मू कश्मीर में 3 दिनों में तीसरी हत्या, आतंकी ऐसे बना रहे निशाना 

Lucknow. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने और सुरक्षों बलों की कार्रवाई से बौखलाए आतंकी बाहरी लोगों को निशाना बना रहे हैं। इस कड़ी में आतंकियों ने 14 अक्टूबर से लेकर 16 अक्टूबर तक तीन वारदातों को अंजाम दिया है। बुधवार को एक ओर जहां शोपियां में आतंकियों द्वारा सेब व्यापारी की गोली मारकर हत्या कर दी गयी वहीं पुलवामा में आतंकियों ने छत्तीसगढ़ के एक प्रवासी मजदूर की गोली मारकर हत्या कर दी। जबकि इससे पहले सोमवार(14 अक्टूबर) को राजस्थान में एक ट्रक ड्राइवर की गोली मारकर हत्या की गयी थी। 

Images/17-10-2019144028jammukashmir1.JPGImages/17-10-2019144112jammukashmir3.jpgImages/17-10-2019144101jammukashmir2.jpg

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
उन्नाव: श्मशान घाट में भिड़े दो पक्ष जमकर हुई मारपीटhttps://www.newstimes.co.in/news/82585/भारत/उत्तर-प्रदेश-/उन्नाव/-कोतवाली-Unnao:-Two-sides-clashed-in-the-cremation-ground903014Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019142308UnnaoTwosid3.jpg' alt='Images/17-10-2019142308UnnaoTwosid3.jpg' />राजधानी के पड़ोसी जनपद उन्नाव के बारासगवर थाना क्षेत्र दाह संस्कार के दौरान दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इस घटना में तकरीबन दो दर्जन से अधिक लोग घायल हुए हैं। मामला सीमावर्ती क्षेत्र का होने के चलते घटना की सूचना पर दो जनपदों की पुलिस आनन फानन मौके पर पहुंची। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार हुआ। घटना की पृ​ष्ठभूमि में दाह संस्कार स्थल की बेशकीमती जमीन का विवाद सामने आ रहा है। फिलहाल पुलिस अभी तक किसी बलवाई को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। 

उन्नाव: श्मशान घाट में भिड़े दो पक्ष जमकर हुई मारपीट

- दो जनपदों की पुलिस की मौजूदगी में हुआ दाह संस्कार
- घटना की पृष्ठभूमि में जमीन विवाद की बात
- दो जिलों के सीमावर्ती इलाके की घटना

Unnao. राजधानी के पड़ोसी जनपद उन्नाव के बारासगवर थाना क्षेत्र दाह संस्कार के दौरान दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इस घटना में तकरीबन दो दर्जन से अधिक लोग घायल हुए हैं। मामला सीमावर्ती क्षेत्र का होने के चलते घटना की सूचना पर दो जनपदों की पुलिस आनन फानन मौके पर पहुंची। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार हुआ। घटना की पृ​ष्ठभूमि में दाह संस्कार स्थल की बेशकीमती जमीन का विवाद सामने आ रहा है। फिलहाल पुलिस अभी तक किसी बलवाई को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। 

Images/17-10-2019142218UnnaoTwosid1.jpg

मिली जानकारी के अनुसार फतेहपुर जनपद के औंग कस्बा की 80 वर्षीया धूनदेवी के निधन के बाद परिजन और ग्रामीण शव का अंतिम संस्कार करने गंगा तट पर पहुंचे थे। 
आरोप है कि जैसे ही वे उन्नाव जनपद के बारासगवर थाना क्षेत्र के लालाखेड़ा मजरे उसरहापुरवा पहुंचे तो वहां के निवासियों ने उन्हें शवदाह से रोक रोक दिया। 
शव यात्रा में शामिल लोगों ने विरोध किया तो दूसरे पक्ष के लोगों मारपीट शुरू की। इसके बाद कोई बचाव में तो दवाब बनाने के लिए एक दूसरे पर जुट पड़ा। 
दो जिलों के दो गांवों के ग्रामीणों के बीच सीमा क्षेत्र में हो रहे इस संघर्ष की सूचना से पुलिस के हाथ पांव भी फूल गए। 
आनन फानन दोनों ही जिलो से यूपी डायल 100 के अलावा थानों की पुलिस पहुंच गयी। भारी पुलिस बल की मौजूदगी के देर शाम 7 बजे मृतक का दाह संस्कार हो सका। 

Images/17-10-2019142308UnnaoTwosid3.jpg

  मारपीट में ये हुए घायल 
श्मशान घाट पर हुई मारपीट की इस घटना में कई लोग घायल हुए। घायलों में मोनू पटेल (32), जयदीप (24), सुरेश (35), गुड्डू (38), महेश (32), नवल (40),
चंद्रिका (45), मिथिलेश कुमार (27), व सागर समेत (50) समेत एक दर्जन से अधिक लोग हैं। ये सभी पड़ोसी जनपद के होने के कारण इलाज के लिए वहां चले गए।   
  कहीं श्मशान घाट की बेशकीमती जमीन तो नहीं वजह
घटना के पीछे श्मशान घाट की बेशकीमती जमीन को वजह माना जा रहा है। लोगों का मानना है कि मामले में राजनीतिक ध्रुवीकरण के लिए ग्रामीणों को उकसाकर घटना को अंजाम दिया गया। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि भयवश को श्मशान घाट की ओर शव लेकर न जाए ताकि यह जमीन कब्जाई जा सके। 
  एक माह पहले भी हुई थी ऐसी ही घटना
यह कोई पहला मामला नहीं है एक माह पहले भी ऐसी एक घटना हुई थी। बीती 15 सितम्बर को बड़ाहार गांव के रहने वाले मौजीलाल की शव यात्रा में गए ग्रामीणों से भी मारपीट की गयी थी। उस घटना के दौरान तत्कालीन थानाध्यक्ष ने कार्रवाई का भरोसा दिलाया था। सीमा विवाद के चलते पुलिस अपनी जिम्मेदारी से पाला झाड़ती रहती है। 

यह भी पढ़ें...पाक का नापाक प्लान: अयोध्या मसले की आड़ में दिल्ली और यूपी दहलाने की साजिश

 

 

 

विडियो क्रेडिट - यू ट्यूब 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#NewstimesTrending : 4 से 15 नवंबर तक लागू रहेगा ऑड-ईवन नियम, इस बार यह हुए हैं बदलाव https://www.newstimes.co.in/news/82583/भारत/दिल्ली/delhi-me-odd-evan-rule-4-se-15-nov-tak-rahega-laagu903012Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019134900delhimeodde2.jpg' alt='Images/17-10-2019134900delhimeodde2.jpg' />मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार(17 अक्टूबर) को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया कि 4 नवंबर से लेकर 15 नवंबर तक ऑड ईवन लागू रहेगा। लागू ऑड ईवन दायरे से केंद्र सरकार के मंत्री बाहर रहेंगे और दो पहिया वाहनों को भी इससे छूट रहेगी। इसी के साथ मरीजों को ले जाने वाले वाहनों को भी रोका नहीं जाएगा। हालांकि दूसरे राज्यों की गाड़ियां भी इसके दायरे में आएंगी। 

#NewstimesTrending : 4 से 15 नवंबर तक लागू रहेगा ऑड-ईवन नियम, इस बार यह हुए हैं बदलाव 

Lucknow. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार(17 अक्टूबर) को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया कि 4 नवंबर से लेकर 15 नवंबर तक ऑड ईवन लागू रहेगा। लागू ऑड ईवन दायरे से केंद्र सरकार के मंत्री बाहर रहेंगे और दो पहिया वाहनों को भी इससे छूट रहेगी। इसी के साथ मरीजों को ले जाने वाले वाहनों को भी रोका नहीं जाएगा। हालांकि दूसरे राज्यों की गाड़ियां भी इसके दायरे में आएंगी। 

Images/17-10-2019134832delhimeodde1.jpgImages/17-10-2019134957delhimeodde3.jpgImages/17-10-2019134900delhimeodde2.jpg

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
PMC: परेशान खाताधारकों के लिए अब आखिरी उम्मीद है ये दिग्गज कांग्रेसीhttps://www.newstimes.co.in/news/82591/भारत/महाराष्ट्र/मुंबई/PMC-bank-scam:-account-holders-delegation-to-meet-former-PM-Manmohan-Singh903020Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019155036PMCbankscam2.jpg' alt='Images/17-10-2019155036PMCbankscam2.jpg' />पीएमसी बैंक घोटाले के शिकार खाताधारकों का सब्र दिनों-दिन खत्म होता जा रहा है। परेशान खाताधारक मदद के लिए अब हर जगह चक्कर लगा रहे हैं। इसी कड़ी में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से मिलने के बाद अब पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से मुलाक़ात करेंगे। 15 खाताधारकों का एक प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को मनमोहन सिंह से मुंबई में मिलेगा और उनके सामने अपनी समस्याओं को रखेगा। साथ ही इस मामले में दखल देने की भी अपील करेंगा।

PMC: परेशान खाताधारकों के लिए अब आखिरी उम्मीद है ये दिग्गज कांग्रेसी

Mumbai. पीएमसी बैंक घोटाले के शिकार खाताधारकों का सब्र दिनों-दिन खत्म होता जा रहा है। परेशान खाताधारक मदद के लिए अब हर जगह चक्कर लगा रहे हैं। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से मिलने के बाद खाताधारक अब पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से मुलाक़ात करेंगे। 15 खाताधारकों का एक प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को मनमोहन सिंह से मुंबई में मिलेगा और उनके सामने अपनी समस्याओं को रखेगा। साथ ही इस मामले में दखल देने की भी अपील करेगा। 

Images/17-10-2019154958PMCbankscam1.PNG

वहीं, पीएमसी बैंक के पूर्व एमडी जॉय थॉमस और पूर्व डायरेक्टर एस सुरजीत सिंह अरोड़ा को गुरुवार सुबह मुंबई की एस्प्लेनेड कोर्ट में पेश किया गया। जिसके बाद ने कोर्ट ने जॉय थॉमस को 14 दिन की न्यायिक हिरासत और सुरजीत सिंह अरोड़ा को 22 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में भेजा दिया है। 

बता दें कि पीएमसी घोटाले में 3 खाताधारकों की मौत हो चुकी है। इनमें फट्टोमल पंजाबी और संजय गुलाटी की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। इसके बाद मंगलवार को मुंबई के वरसोवा इलाके में रहने वाली 39 वर्षीय एक डॉक्टर ने आत्महत्या कर ली है। 

Images/17-10-2019155036PMCbankscam2.jpg

सुप्रीम कोर्ट याचिका पर सुनवाई को तैयार

इससे पहले बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से पीड़ित खाताधारकों को बड़ी राहत मिली। कोर्ट घोटाले के संबंध में दायर एक याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया। याचिका स्वीकार करते हुए कहा है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए कोर्ट इस याचिका पर सुनवाई करेगा। इस मामले की सुनवाई 18 अक्टूबर को होगी।

सुप्रीम कोर्ट में यह जनहित याचिका बिजॉन मिश्रा की तरफ से दाखिल की गई थी। याचिका में 15 लाख खाताधारकों की सुरक्षा पर चिंता जताते हुए उनके लिए 100 प्रतिशत इंश्योरेंस कवर की मांग की गई है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
जानिये, कौन से सेलेब्स इस साल पहली बार मनाएंगे #KarwaChauthhttps://www.newstimes.co.in/news/82582/भारत/दिल्ली/These-Bollywood-celebs-will-celebrate-krwachauth-for-the-first-time903011Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1550<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019133249r5zlU4tmuw.jpg' alt='Images/17-10-2019133249r5zlU4tmuw.jpg' />करवा चौथ (Karwa Chauth) का नाम भारत (India) के बड़े त्योहारों (festivals) में शुमार किया जाता है

जानिये, कौन से सेलेब्स इस साल पहली बार मनाएंगे #KarwaChauth

New Delhi. करवा चौथ (Karwa Chauth) का नाम भारत (India) के बड़े त्योहारों (festivals) में शुमार किया जाता है। शादी-शुदा महिलाओं के बीच इस त्योहार का खासा महत्व रहता है। इस वर्ष भी विवाहित महिलाएं 17 अक्टूबर को बड़े धूमधाम से करवा चौथ (karwa chauth) मनाएंगी। बॉलीवुड सेलेब्स (Bollywood celebs) के बीच भी करवा चौथ को लेकर खासा उत्साह देखने को मिलता है। बता दें कि कई ऐसे सेलेब्स हैं, जो इस साल अपना पहला करवा चौथ (first karwa chauth) मनाएंगे। आइये आपको बताते हैं उन सेलेब्स (celebs) के बारे में जो इस बार अपना पहला करवा चौथ मनाएंगे। 

Images/17-10-20191332376BhxWBIEpZ.jpeg

►दीपिका पादुकोण-रणवीर सिंह

14 नवंबर 2018 में रणवीर-दीपिका (Ranvir singh- deepika padukone) शादी के बंधन में बंधे थे। दोनों की शादी काफी धूमधाम से हुई थी, जिसमें सिर्फ परिवार और खास दोस्त शामिल हुए थे। इसके बाद हुए ग्रैंड रिसेप्शन में फिल्म इंडस्ट्री (film industry) के दिग्गजों ने शिरकत की थी।

सोशल मीडिया (social media) पर शादी के फोटो (wedding pics) तेजी से वायरल (viral)  हुए थे। वर्कफ्रंट की करें तो दीपिका और रणवीर एक बार फिर जल्दी ही बड़े पर्दे पर फिल्म 83 (film 83) में साथ नजर आएंगे। इसके अलावा दीपिका की फिल्म छपाक (chapaak) भी 2020 में रिलीज होगी। 

Images/17-10-2019133324gvwHevpvzX.jpg

►प्रियंका चोपड़ा- निक जोनस

साल 2018 में 1 दिसंबर को प्रियंका चोपड़ा (priyanka chopra) और निक जोनस (nick jonas) ने भी शादी की थी। हिन्दू रीति दोनों ने जोधपुर (jodhpur) के उम्मैद भवन (umaid bhavan palace)  में काफी शाही तरीके से शादी की थी, जिसमें काफी लिमिटेड लोगों ने शिरकत की थी। इसके अलावा कैथोलिक (catholic) रीति रिवाज से भी दोनोंं ने शादी की थी। शादी के बाद प्रियंका अब न्यूयॉर्क (New York) में सेटेल हो गई हैं। वर्कफ्रंट की बात करें तो लंबे समय बाद प्रियंका ने फिल्म द स्काई इज पिंक (The Sky Is Pink) से बॉलीवुड (bollywood) में वापसी की है। 

Images/17-10-2019133300vNeXMMDNfR.jpg

►नुसरत जहां-निखिल जैन

बंगाली (bengali) एक्ट्रेस और तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) की सांंसद नुसरत जहां (Nusrat Jahan) ने इसी साल 2019 में बिजनेसमैन निखिल (Nikhil Jain) से शादी की है। दोनों की शादी ने काफी सुर्खियां बंटोरी। वहीं दूसरे धर्म में शादी करने और बाद में सिंदूर लगाने को लेकर नुसरत को काफी विवादों का भी सामना करना पड़ा था। मुस्लिम लड़की होने के बाद भी निखिल से शादी के बाद, नुसरत हिंदू धर्मों के भी सारे त्योहार मनाती हैं। ऐसे में उम्मीद है कि नुसरत करवाचौथ (karwa chauth) का त्योहार भी मनाएंगी। 

Images/17-10-20191333121RSqWfQiuq.jpg

►पूजा बत्रा- नवाब शाह 

बॉलीवुड एक्ट्रेस पूजा बत्रा (Pooja Batra)  ने एक्टर नवाब (Nawab Shah) से अचानक शादी कर के सबको हैरत में डाल दिया था। सोशल मीडिया (social media) पर एक फोटो के जरिए दोनों ने अपनी शादी के बारे में खुलासा किया था। 4 जुलाई 2019 को पूजा बत्रा ने नवाब शाह से शादी की, जिसका खुलासा सोशल मीडिया पर एक फोटो के जरिए किया था।

► कपिल शर्मा- गिन्नी

इसके अलावा टीवी के मशहूर कॉमेडियन (comedian)  कपिल शर्मा (Kapil Sharma) ने 12 दिसंबर 2018 को अपनी बचपन की दोस्त गिन्नी (Ginni) से शादी की थी। कपिल शर्मा तो जल्द ही पापा बनने वाले हैं। इस साल इन दोनों का भी पहला करवचौथ है।

Images/17-10-2019133249r5zlU4tmuw.jpg
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
धोनी के भविष्य पर चयनकर्ताओं से करूंगा बात: सौरभ गांगुलीhttps://www.newstimes.co.in/news/82580/भारत/अन्य-राज्यों-से/BCCIs-future-president-Saurabh-Ganguly-said-that-he-will-talk-to-selectors-on-Dhonis-future903009Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019131558BCCIsfuture1.jpg' alt='Images/17-10-2019131558BCCIsfuture1.jpg' />क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम की हार के बाद पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के क्रिकेट से संन्यास को लेकर चर्चाओं का बाज़ार गर्म हैं। इसी बीच पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के भावी अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने धोनी के संन्यास को लेकर बड़ी बात कही है। गांगुली ने कहा है कि वह 24 अक्टूबर को चयनकर्ताओं से धोनी के भविष्य पर बात करेंगे।

धोनी के भविष्य पर चयनकर्ताओं से करूंगा बात: सौरभ गांगुली

Kolkata. क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम की हार के बाद पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के क्रिकेट से संन्यास को लेकर चर्चाओं का बाज़ार गर्म हैं। इसी बीच पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के भावी अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने धोनी के संन्यास को लेकर बड़ी बात कही है। गांगुली ने कहा कि वह 24 अक्टूबर को चयनकर्ताओं से धोनी के भविष्य पर बात करेंगे।

Images/17-10-2019131558BCCIsfuture1.jpg

बता दें कि विश्व कप के बाद से महेंद्र सिंह क्रिकेट के मैदान से दूर हैं। वह पिछले दो सीरीज में नहीं खेले हैं। वहीं, 24 अक्टूबर को भारत-बांग्लादेश सीरीज के लिए टीम चुनी जानी है। ऐसे में उनके भविष्य को लेकर गांगुली चर्चा कर सकते हैं।

महेंद्र सिंह धोनी को लेकर पूछे गए सवाल पर गांगुली ने बुधवार को कहा कि वह चयनकर्ताओं से 24 तारीख को बात करेंगे। वह जानने की कोशिश करेंगे कि वह धोनी को लेकर क्या सोच रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि वह यह भी जानने की कोशिश करेंगे कि धोनी संन्यास के बारे में क्या सोच रहे हैं। इसके बाद ही वह अपनी राय रखेंगे।

यह भी पढ़ें:-... श्रीलंका क्रिकेट प्रमुख के सुरक्षा इंतजाम पर इस टिप्पणी से पीसीबी हुआ निराश

गौरतलब कि विश्व कप 2019 के सेमीफ़ाइनल मैच में भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के हाथों हार मिली थी। वहीं, इस मैच में धोनी अपनी स्लो बैटिंग की वजह से आलोचनाओं का शिकार हुए थे और उसी के बाद से उनके संन्यास लेने की अटकले तेज हो गई। हालांकि धोनी ने खुद इसपर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
यूपी के डिग्री कालेजों में मोबाइल फोन के प्रयोग पर रोकhttps://www.newstimes.co.in/news/82581/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Use-of-mobile-phones-banned-in-UP-degree-colleges903010Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019132435Useofmobile3.jpg' alt='Images/17-10-2019132435Useofmobile3.jpg' />सूबे के डिग्री कालेजों में पढ़ने वाले छात्र छ़ात्राएं अब कैंपस के अंदर मोबाइल का प्रयोग नहीं कर सकेंगे। ऐसा करते मिलने पर उनके मोबाइल जब्त कर लिए जाएंगे। इस आशय के आदेश उच्च शिक्षा निदेशालय की ओर पठन पाठन को दुरूस्त रखने के लिए जारी किए गए हैं। हलांकि इस आदेश में मोबाइल साथ रखना प्रतिबंधित न​हीं किया गया है सिर्फ परिसर में उसके प्रवेश पर अंकुश लगाया गया है। 

यूपी के डिग्री कालेजों में मोबाइल फोन के प्रयोग पर रोक

- उच्च शिक्षा निदेशक ने जारी किए आदेश
- पकड़े जाने पर जब्त होगा मोबाइल

Lucknow. सूबे के डिग्री कालेजों में पढ़ने वाले छात्र छ़ात्राएं अब कैंपस के अंदर मोबाइल का प्रयोग नहीं कर सकेंगे। ऐसा करते मिलने पर उनके मोबाइल जब्त कर लिए जाएंगे। इस आशय के आदेश उच्च शिक्षा निदेशालय की ओर पठन पाठन को दुरूस्त रखने के लिए जारी किए गए हैं। हलांकि इस आदेश में मोबाइल साथ रखना प्रतिबंधित न​हीं किया गया है सिर्फ परिसर में उसके प्रवेश पर अंकुश लगाया गया है। 

Images/17-10-2019132339Useofmobile1.jpg

उच्च शिक्षा की लगातार खराब हो रही पठन पाठन व्यवस्था लेकर निदेशालय खासा संजीदा है। इसके कारणों की तलाश में कालेज परिसर में मोबाइल के प्रयोग को भी अहम माना गया है। 
माना जाता है कि कैंपस में आने छात्र छात्राएं पढ़ाई पर कम और अपने मोबाइल के जरिए सोशल मीडिया पर ज्यादा व्यस्त रहते हैं। 
जिसका सीधा असर उनके अध्ययन पर पड़ रहा है। सिर्फ छात्र ही नहीं बल्कि शिक्षकों पर भी यह बात लागू होती है। 
इसी को ध्यान में रखते हुए उच्च शिक्षा निदेशालय सूबे के सभी विश्वविद्यालयों और डिग्री कालेजों में परिसर के अंदर मोबाइल के प्रयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। 

Images/17-10-2019132403Useofmobile2.jpg

शिक्षकों को भी यह निर्देश दिए गए हैं कि वे अध्यापन के दौरान मोबाइल का प्रयोग न करें। यह प्रतिबंध लागू होने के बाद अगर कोई छात्र या छात्रा कालेज कैंपस में मोबाइल का प्रयोग करते नजर आता है तो उसका मोबाइल संबंधित कालेज के प्रबंधतंत्र द्वारा जब्त कर लिया जाएगा। उनके परिजनों को बुलाकर चेतावनी के बाद ही मोबाइल वापस किया जाएगा। 
  बोली निदेशक परिसर बाहर करें मोबाइल का प्रयोग
निदेशक उच्च शिक्षा डॉ. वंदना शर्मा ने कहा कि पठन-पाठन का माहौल बनाने के लिए राज्य विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेज परिसर में मोबाइल प्रयोग पर रोक लगाई गई है। परिसर के अंदर साइलेंट मोड पर मोबाइल अपने साथ लाया जा सकता है लेकिन उसका उपयोग परिसर के बाहर की करना होगा। 

Images/17-10-2019132435Useofmobile3.jpg

  सीसीटीवी कैमरों से होगी गतिविधियों की निगरानी
शिक्षण स्तर की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए निदेशालय अब निगरानी की व्यवस्था भी कर रहा है। इसके लिए सभी राज्य विश्वविद्यालयों और डिग्री कालेजों में सीसीटीवी कैमरे लगवाने के भी निर्देश दिए गए हैं। इन कैमरों वायस और वीडियो दोनों रिकार्डिंग होगी जिसके आधार पर कालेज की गतिविधियों की निगरानी की जाएगी। 

यह भी पढ़ें...इसरो में निकली इन पदों की वैकेंसी, जानिए क्या है अंतिम तिथि और अहर्ताएं

 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
इसरो में निकली इन पदों की वैकेंसी, जानिए क्या है अंतिम तिथि और अहर्ताएंhttps://www.newstimes.co.in/news/82577/भारत/दिल्ली/Vacancy-of-these-posts-in-ISRO-know-what-is-the-last-date-and-qualifications903006Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019123539Vacancyofthe3.jpg' alt='Images/17-10-2019123539Vacancyofthe3.jpg' />अगर आप एक अच्छी नौकरी की तलाश में हैं तो आपके लिए एक काम की खबर है। दरअसल 'इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन (ISRO)' में कई पदों पर भर्ती निकली है जिनमें चयनित होकर आप एक शानदार संस्थान में काम कर अच्छे वेतन का लाभ पा सकते हैं। इन पदों पर आवेदन इसी अक्टूबर माह की 21 तारीख तक कर सकते हैं। 

इसरो में निकली इन पदों की वैकेंसी, जानिए क्या है अंतिम तिथि और अहर्ताएं

New Delhi. अगर आप एक अच्छी नौकरी की तलाश में हैं तो आपके लिए एक काम की खबर है। दरअसल 'इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन (ISRO)' में कई पदों पर भर्ती निकली है जिनमें चयनित होकर आप एक शानदार संस्थान में काम कर अच्छे वेतन का लाभ पा सकते हैं। इन पदों पर आवेदन इसी अक्टूबर माह की 21 तारीख तक कर सकते हैं। 

Images/17-10-2019123435Vacancyofthe1.jpg

इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन (ISRO) ने फॉर्मासिस्ट, फिटर और कुक समेत विभिन्न पदों के लिए इच्छुक और योग्य उम्मीदवारों से आवेदन आमंत्रित किए है।

विभिन्न पदों पर उम्मीदवारी से जुड़ी जानकारी के लिए इसरो की आधिकारिक वेबसाइट www.isro.gov.in पर जाकर पता लगाया जा सकता है। 
पद से संबंधित योग्यता एवं अन्य अर्हताओं की जानकारी करने के बाद ही आवेदन करें जिससे की आपका आवेदन व्यर्थ न जाए। इसके लिए नोटिफिकेशन को ध्यानपूर्वक जरूर पढ़ें। 

Images/17-10-2019123456Vacancyofthe2.jpg

  इन पदों पर है इतनी वैकेंसी
इसरों ने जिन पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किया है उनमें फार्मासिस्ट, हिंदी टाइपिस्ट, मैकेनिकल, कुक, बढ़ई और लाइट वाहन चालक का एक एक पद है। चालक, फायरमैन और इलेक्ट्रॉनिक मैकेनिक के दो दो पद हैं। जबकि वेल्डर के चार तो फिटर के सर्वाधिक छह पद हैं। 

Images/17-10-2019123539Vacancyofthe3.jpg

  7वें वेतन आयोग के अनुसार मिलेगा वेतन
इसरो में निकाले गए इन विभिन्न पदों पर चयनित होने वाले उम्मीदवारों को सातवें वेतन आयोग के आधार पर वेतन और अन्य भत्ते दिए जाएंगे। 

यह भी पढ़ें...पाक का नापाक प्लान: अयोध्या मसले की आड़ में दिल्ली और यूपी दहलाने की साजिश


 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
26 एकादशी की महिमा के पोस्टर का हुआ विमोचन https://www.newstimes.co.in/news/82576/भारत/उत्तर-प्रदेश-/26-ekadashi-ke-poster-ka-hua-vimochan-903005Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-201912335626ekadashike1.jpeg' alt='Images/17-10-201912335626ekadashike1.jpeg' />उत्तर प्रदेश लखनऊ की संस्था लोक परमार्थ सेवा समिति द्वारा 26 एकादशी की महिमा को भजन के रूप में तैयार करवाया गया है। जिसके पोस्टर का विमोचन बुधवार को बरसाना के प्रिय कुंड आश्रम में विनोद दास बाबा जी महाराज ने किया।  समिति के उपसचिव जितेंद्र सिंह ने बताया कि सबसे पहले समिति के सदस्यों ने राधारानी की पावन नगरी  बरसाना की परिक्रमा करने के बाद राधा रानी के मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद बरसाना में प्रिय कुंड आश्रम जाकर पूजनीय विनोद दास बाबा महाराज के दर्शन करने बाद उनसे 26 एकादशी की महिमा के पोस्टर का विमोचन करवाया। 26 एकादशी की महिमा के भजन का संगीत सचिन चौहान मुंबई द्वारा तैयार किया गया है। भजन की रचना विजय त्रिपाठी ने  की है। इसमें स्वर सचिन चौहान व प्रियांशी सक्सेना ने दिया है।

26 एकादशी की महिमा के पोस्टर का हुआ विमोचन 

Lucknow. उत्तर प्रदेश लखनऊ की संस्था लोक परमार्थ सेवा समिति द्वारा 26 एकादशी की महिमा को भजन के रूप में तैयार करवाया गया है। जिसके पोस्टर का विमोचन बुधवार को बरसाना के प्रिय कुंड आश्रम में विनोद दास बाबा जी महाराज ने किया। 

Images/17-10-201912335626ekadashike1.jpeg

समिति के उपसचिव जितेंद्र सिंह ने बताया कि सबसे पहले समिति के सदस्यों ने राधारानी की पावन नगरी  बरसाना की परिक्रमा करने के बाद राधा रानी के मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद बरसाना में प्रिय कुंड आश्रम जाकर पूजनीय विनोद दास बाबा महाराज के दर्शन करने बाद उनसे 26 एकादशी की महिमा के पोस्टर का विमोचन करवाया।

26 एकादशी की महिमा के भजन का संगीत सचिन चौहान मुंबई द्वारा तैयार किया गया है। भजन की रचना विजय त्रिपाठी ने  की है। इसमें स्वर सचिन चौहान व प्रियांशी सक्सेना ने दिया है।

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
कांग्रेस पार्टी को तगड़ा झटका, भुवनेश्वर और संजय सिंह के बाद इस वरिष्ठ नेता राज्यसभा से दिया इस्तीफाhttps://www.newstimes.co.in/news/82574/भारत/congress-party-ko-laga-tagda-jhatka903003Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1357<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019123018congressparty1.JPG' alt='Images/17-10-2019123018congressparty1.JPG' />बीते लोकसभा चुनावों में कांग्रेस को मिली हार के बाद पार्टी लगातार कमजोर होती जा रही है। काग्रेस के कई वरिष्ठ नेता इस्तीफा दे चुके हैं। इसी कड़ी में एक और वरिष्ठ नेता ने राज्य सभा सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया है।

कांग्रेस पार्टी को तगड़ा झटका, भुवनेश्वर और संजय सिंह के बाद इस वरिष्ठ नेता राज्यसभा से दिया इस्तीफा

New Delhi. बीते लोकसभा चुनावों में कांग्रेस को मिली हार के बाद पार्टी लगातार कमजोर होती जा रही है। काग्रेस के कई वरिष्ठ नेता इस्तीफा दे चुके हैं। इसी कड़ी में एक और वरिष्ठ नेता ने राज्य सभा सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफे के बाद से माना जा रहा है कि वह भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं।

Images/17-10-2019123018congressparty1.JPG

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य केसी राम मूर्ति ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है। राज्यसभा अध्यक्ष एम. वेंकैया नायडू ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। माना जा रहा है कि राम मूर्ति सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं। 

दो सांसद पहले भी दे चुके हैं इस्तीफा

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस के राज्यसभा सांसद भुवनेश्वर कलिता और संजय सिंह ने इस्तीफा दे दिया था। वरिष्ठ नेताओं के राज्यसभा से इस्तीफे के बाद कांग्रेस पार्टी उच्च सदन में  लगातार कमजोर होती जा रही है, जबकि भारतीय जनता पार्टी को मजबूती मिल रही है। 

सपा के तीन सांसदों ने भी दिया था इस्तीफा

वहीं, समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद, नीरज शेखर, सुरेन्द्र सिंह नागर, संजय सेठ ने भी इस्तीफा दे दिया था। हालांकि बाद में भारतीय जनता पार्टी से फिर से सदन के लिए निर्वाचित हो गए हैं। वहीं, टीडीपी के भी चार राज्यसभा सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था, जो बाद में बीजेपी में शामिल हो गए है। 

यह भी पढ़ें - 

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का बड़ा बयान, इन्हें बनाया बिहार में NDA का चेहरा

कांग्रेस के इस दिग्गज नेता ने संन्यास लेने का किया ऐलान, पार्टी में मचा हड़कंप

सऊदी अरब: भीषण बस हादसे में 35 तीर्थयात्रियों की मौत

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
अयोध्या केस: मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी का ऐलान, SC के फैसले को कभी नहीं देंगे चुनौतीhttps://www.newstimes.co.in/news/82575/भारत/उत्तर-प्रदेश-/फैजाबाद/Ayodhya-case:-Babri-Masjid-party-Iqbal-Ansari-said-that-he-will-not-challenge-Supreme-Court-verdict903004Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019123223Ayodhyacase1.jpg' alt='Images/17-10-2019123223Ayodhyacase1.jpg' />देश के सबसे संवेदनशील मुद्दे अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई आखिरकार बुधवार को खत्म हो गयी। कोर्ट ने इस मामले में फैसले को सुरक्षित रख लिया है। अब सभी को इस मुद्दे पर कोर्ट के फैसले का इंतजार है। वहीं। इस मामले में बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट जो भी फैसला सुनाता है उसे वह मानेंगे और फैसले को चुनौती नहीं देंगे।

अयोध्या केस: मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी का ऐलान, SC के फैसले को कभी नहीं देंगे चुनौती

Ayodhya. देश के सबसे संवेदनशील मुद्दे अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई आखिरकार बुधवार को खत्म हो गयी। कोर्ट ने इस मामले में फैसले को सुरक्षित रख लिया है। अब सभी को इस मुद्दे पर कोर्ट के फैसले का इंतजार है। वहीं इस मामले में बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट जो भी फैसला सुनाता है उसे वह मानेंगे और फैसले को चुनौती नहीं देंगे। 

Images/17-10-2019123223Ayodhyacase1.jpg

बता दें कि इकबाल अंसारी के पिता हाशिम अंसारी जो बाबरी मस्जिद मामले में सबसे पुराने पक्षकार थे। हाशिम अंसारी की 95 साल की उम्र में मृत्यु जुलाई 2016 में हुई थी, जिसके बाद इकबाल अंसारी अपने पिता की जगह बाबरी मस्जिद के मुख्य पक्षकार की भूमिका निभा रहे हैं। 

इकबाल अंसारी कहते हैं कि वह खुश हैं कि मामला अपने तार्किक निष्कर्ष पर पहुंच रहा है। लगभग 70 वर्षों तक, अयोध्या ने इस मामले पर सिर्फ राजनीति देखी है, अब उन्हें उम्मीद है कि यहां कुछ विकास होगा। 

मुस्लिम पक्षकार ने कहा कि उन्होंने अपने पिता की ओर से शुरू की गई लड़ाई को निभाने की कसम खाई थी और उन्होंने अपना वादा पूरा किया। उनके पिता की यह इच्छा थी कि वह उनके बाद केस लड़ते रहें।

यह भी पढ़ें:-...Ayodhya Case: आखिरी सुनवाई में दोनों पक्षों ने पेश की ये अहम दलीलें और साक्ष्य

1949 में बाबरी टाइटल सूट से जुड़े थे हाशिम अंसारी 

इकबाल अंसारी के पिता हाशिम अंसारी का नाम 1949 से बाबरी टाइटल सूट से जुड़ा था। उनका नाम सार्वजनिक सौहार्द को भंग करने के लिए गिरफ्तार किए गए लोगों में भी था, जब मस्जिद में राम की मूर्तियां लगाई गई थीं। वहीं, 1952 में विवादित स्थल पर नमाज़ के लिए 'अजान' देने के लिए हाशिम अंसारी को दो साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।

1961 में, हाशिम अंसारी और छह अन्य लोग फैजाबाद के सिविल जज की अदालत में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से दायर किए गए टाइटल सूट में मुख्य वादी थे। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
संकर शाकभाजी हेतु लागत का अधिकतम 20 हजार मिलेगा अनुदानhttps://www.newstimes.co.in/news/82578/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/aximum-20-thousand-grant-will-be-given-for-hybrid-Shakabhaji903007Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019124052aximum20thou.jpg' alt='Images/17-10-2019124052aximum20thou.jpg' /> राष्ट्रीय कृषि विकास योजना प्रदेश के समेकित बागवानी विकास हेतु 45 जनपदों मे संचालित

संकर शाकभाजी हेतु लागत का अधिकतम 20 हजार मिलेगा अनुदान

LUCKNOW. राष्ट्रीय कृषि विकास योजना प्रदेश के समेकित बागवानी विकास हेतु 45 जनपदों मे संचालित थी। एकीकृत बागवानी विकास मिशन के पैटर्न संचा​लित इस योजना को अब प्रदेश के शेष 30 जनपदों यथा-गौतमबुद्ध नगर, बागपत, शामली, हापुड़, अमरोहा, बिजनौर, सम्भल, पीलीभीत, एटा, शाहजहाॅपुर, बदायूं, कासगंज, अलीगढ़, फिरोजाबाद, औरैया, कानपुर देहात, फतेहपुर, हरदोई, लखीमपुर खीरी, अम्बेडकर नगर, अमेठी, गोण्डा, बलरामपुर, श्रावस्ती, चन्दौली, आजमगढ़, मऊ, देवरिया, एवं रामपुर को भी आच्छादित किया गया है। 

Images/17-10-2019124052aximum20thou.jpg

उद्यान निदेशक एस.बी.शर्मा ने बताया कि योजनान्तर्गत वर्ष 2019-20 हेतु रवी मौसम में शाकभाजी को बढ़ावा देने के उद्देंश्य से संकर, शिमला मिर्च, संकर टमाटर, संकर पातगोभी, संकर फूलगोभी, लतावर्गीय सब्जियाॅ एवं परवल के कार्यक्रम कराये जा रहे हैं, जो परम्परागत शाकभाजी की तुलना में संकर शाकभाजी का प्रति इकाई दो से ढाई गुना अधिक उत्पादन होता है। इसके साथ ही तुड़ाई उपरान्त सब्जियों में होने वाली क्षति को कम करने हेतु प्लास्टिक क्रेट्स की व्यवस्था अनुमन्य है।

उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के अन्तर्गत संकर शाकभाजी हेतु ईकाई लागत का 40 प्रतिशत अधिकतम रू0 20,000 प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान की सुविधा उपलब्ध है। इसी प्रकार योजनान्तर्गत मसाला उत्पादन को बढ़ावा देने हेतु मिर्च, प्याज, लहसुन, हल्दी एवं धनिया के क्षेत्र विस्तार कार्यक्रम क्रियान्वित कराये जा रहे हैं। जिनपर ईकाई लागत का 40 प्रतिशत अधिकतम रू0 12,000 प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान देय है। इसके अतिरिक्त योजनान्तर्गत पुष्प विकास हेतु गेंदा, ग्लैडियोलस, रजनीगंधा कार्यक्रम तथा मधुमक्खी पालन को प्रोत्साहित करने हेतु अनुदान की सुविधा उपलब्ध है। 

उद्यान निदेशक ने बताया कि बागवानी कार्यक्रम का लाभ प्राप्त करने हेतु विभाग द्वारा पूर्ण पारदर्शी व्यवस्था लागू की गयी है। इसके तहत किसानों को सर्वप्रथम पारदर्शी किसान सेवा के पोर्टल पर अपना पंजीकरण कराते हुए आनलाईन आवेदन करना होगा, जिसमें कार्यक्रम के अन्तर्गत पंजीकृत कृषकों का प्रथम आवक-प्रथम पावक के आधार पर चयन किया जाएगा। चयनित कृषकों को आवेदित कार्यक्रम हेतु रोपण सामग्री एवं अन्य निवेशों की व्यवस्था हेतु स्वयं की नकद धनराशि से स्वेच्छानुसार क्रय करने की पूर्ण स्वतन्त्रता प्रदान की गयी है।

उन्होंने बताया कि किसानों द्वारा इस योजनान्तर्गत चयनित फसल का रोपण करने के उपरान्त उसे अनुदान की धनराशि आनलाइन उपलब्ध कराये गये बैंक खाते में सीधे कोषागार से डी.बी.टी. के माध्यम से अन्तरित किये जाने की व्यवस्था की गई है। इस योजना की विस्तृत जानकारी हेतु कृषकगण अपने जनपद के जिला उद्यान अधिकारी/मण्डलीय उपनिदेशक, उद्यान कार्यालय  से सम्पर्क स्थापित कर अधिकाधिक लाभ उठा सकते हैं। 
 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
उचित दर की दुकानों की समय सारणी निर्धारितhttps://www.newstimes.co.in/news/82573/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Special-campaign-will-be-conducted-for-selection-of-fair-price-vacant-shops903002Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019121326Specialcampai.jpg' alt='Images/17-10-2019121326Specialcampai.jpg' />उत्तर प्रदेश में खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा संचालित उचित दर की दुकानों की समय सारणी निर्धारित कर दी गयी है।

उचित दर की दुकानों की समय सारणी निर्धारित

LUCKNOW. उत्तर प्रदेश में खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा संचालित उचित दर की दुकानों की समय सारणी निर्धारित कर दी गयी है। जिसके तहत नगरीय क्षेत्रों में 29 नवम्बर तक और ग्रामीण क्षेत्रों में 21 दिसम्बर तक दुकानों के आवंटन की तिथि तय की गई है। उचित दर की दुकानों की नियुक्ति का कार्य विशेष अभियान चलाकर पूर्ण किया जाएगा।

Images/17-10-2019121326Specialcampai.jpg

खाद्य एवं रसद आयुक्त मनीष चौहान द्वारा ने बताया कि वर्तमान में प्रदेश में बड़ी संख्या में उचित दर की दुकानें रिक्त हैं, जिसके कारण उपभोक्ताओं को उचित दर की दुकानों से आवश्यक वस्तुएं प्राप्त नहीं हो पा रही हैं। उन्होंने बताया कि नगरीय/शहरी क्षेत्रों में रिक्त उचित दर की दुकानों की नियुक्ति हेतु समय सारिणी के अनुसार 30 अक्टूबर, 2019 को विज्ञापन प्रकाशित किया जाएगा। इच्छुक व्यक्ति 15 नवम्बर तक प्रार्थना पत्र जमा कर सकते हैं। प्रार्थना पत्रों की जांच 22 नवम्बर को होगी। 29 नवम्बर को लाॅटरी के माध्यम से चयन सुनिश्चित किया जायेगा और 30 नवम्बर को चयनित व्यक्ति को नियुक्ति पत्र जारी कर दिया जायेगा।

खाद्य आयुक्त ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में रिक्त उचित दर की दुकानों के आरक्षणवार चिन्हांकन के उपरान्त नियुक्ति हेतु नियमानुसार सभी जिलों में एक साथ 07 नवम्बर को ग्राम सभा की खुली बैठक कर प्रस्ताव तैयार   किया जायेगा। जिन ग्राम सभा में 07 नवम्बर को कतिपय कारणों से बैठक नहीं हो पाती है, तो वहां 14 नवम्बर अथवा 21 नवम्बर को खुली बैठक प्रत्येक दशा में आहूत की जायेगी। उचित दर की दुकान लेने के इच्छुक अभ्यर्थियों के प्रस्ताव खण्ड विकास अधिकारी के कार्यालय में 8, 15 अथवा 22 नवम्बर को जमा करना अनिवार्य होगा। 22 और 29 नवम्बर तथा 06 दिसम्बर तक खण्ड विकास अधिकारी प्राप्त प्रस्ताव एस0डी0एम0 को भेजेंगे।

एस0डी0एम0 द्वारा 15 दिन के अंदर निर्णय लिया जायेगा और चयनित अभ्यर्थी को आवंटन पत्र प्रदान किया जायेगा। उन्होंने बताया कि उचित दर की दुकानों के आवंटन की पूरी प्रक्रिया 21 दिसम्बर तक पूरी कर लेने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए हैं।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
राज्पपाल आनंदीबेन पटेल की मौजूदगी में हुआ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि का 17वां दीक्षांत समारोह https://www.newstimes.co.in/news/82570/भारत/उत्तर-प्रदेश-/AKTU-KA-17-va-DIKSHANT-SAMAROH-902999Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019111754AKTUKA17va4.jpeg' alt='Images/17-10-2019111754AKTUKA17va4.jpeg' />एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि का 17 वें दीक्षांत समरोह बुधवार को विवि परिसर स्थित अटल विहारी वाजपेई बहुउद्देशीय सभागार में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। इस अवसर पर जल पुरुष राजेंद्र सिंह बतौर मुख्य अतिथि मंचासीन रहे। जल पुरुष राजेंद्र सिंह को डीलिट् की मानद उपाधि प्रदान की गयी। इसके साथ ही प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित रही।  दीक्षांत समरोह में 62 पीएचडी छात्र-छात्राओं को उपाधि प्रदान की गयी। साथ ही कुल 66 मेधावियों को स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक प्रदान किये गये। जबकि बीटेक कंप्यूटर साइंस की दीक्षा सिंह,  जिन्होंने सबसे अधिक अंक प्राप्त किये हैं को कुलाधिपति स्वर्ण पदक प्रदान किया गया। इस दौरान प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने 58699 छात्र-छात्राओं को विभिन्न पाठ्यक्रमों में उपाधि प्रदान की। साथ ही साथ प्राथमिक विद्यालय, माध्यमिक विद्यालय एवं परमार्थ के 30 बालक-बालिकाओं को सम्मानित किया गया। लगभग 1184 छात्र-छात्राएं दीक्षांत समारोह में शामिल हुए, जिन्हें सभागार में एक साथ उपाधि प्रदान की गयी।   

राज्पपाल आनंदीबेन पटेल की मौजूदगी में हुआ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि का 17वां दीक्षांत समारोह

Lucknow. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि का 17 वें दीक्षांत समरोह बुधवार को विवि परिसर स्थित अटल विहारी वाजपेई बहुउद्देशीय सभागार में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। इस अवसर पर जल पुरुष राजेंद्र सिंह बतौर मुख्य अतिथि मंचासीन रहे। जल पुरुष राजेंद्र सिंह को डीलिट् की मानद उपाधि प्रदान की गयी। इसके साथ ही प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित रही। 

Images/17-10-2019111711AKTUKA17va1.jpegImages/17-10-2019111739AKTUKA17va3.jpeg

यह भी पढ़ें... SSP ने निरीक्षण में जानी अपने अभियान की असलियत, CO से मांगी रिपोर्ट चौकी प्रभारी को निलंबित करने का आदेश

साथ ही डॉ कलाम स्टार्टअप परिक्रमा परियोजना के अंतर्गत विभिन्न सम्बद्ध संस्थानों में कार्यक्रम आयोजित कर आईडिया को बिजनेस प्लान में तब्दील करने का कार्य किया जा रहा है। अब तक दो हजार से ज्यादा इनोवेटिव आईडिया को बिजनेस प्लान के लिए तैयार किया जा चुका है। डिजिटल प्लेटफॉर्म कार्य में तेजी लाने के साथ ही पारदर्शिता को भी प्रदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि यह एक हर्ष का विषय है कि  विश्वविद्यालय स्वयं को डिजिटल करने की प्रतिबद्धता पर खरा उतरा है। विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा फार्म, पेपर डिलिवरी, मूल्यांकन, परिणाम, टेंडर, सम्बद्धता, से लेकर बिल पेमेंट तक सभी कार्य डिजिटल और ऑनलाइन कर दिए गये हैं। साथ ही 01 नवम्बर से विश्वविद्यालय ई-ऑफिस के माध्यम से पूर्ण कार्यप्रणाली संचालित करने जा रहा है। 
उन्होंने कहा कि मुझे यह जानकर प्रसन्नता हुई कि गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा को सुनिश्चित करवाने हेतु नेशनल बोर्ड ऑफ़ एक्रीडिटेशन (NBA) से विश्वविद्यालय के सम्बद्ध संस्थानों के पाठ्यक्रमों के  एक्रीडिटेशन करवाने के लिए प्रयत्न किये जा रहे हैं। 2022 तक समस्त राजकीय एवं अनुदानित संस्थानों के अधिकतर पाठ्यक्रमों को एन.बी.ए. एक्रीडिटेशन करवाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक और माध्यमिक स्तर के बच्चो को दीक्षांत में बुलाने का एक मात्र उद्देश्य उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित करना है। साथ ही उन्होंने जल संचयन के लिए सभी से आवाहन किया।

Images/17-10-2019111724AKTUKA17va2.jpeg

इस दौरान प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी ने कहा कि विवि परिसर में वन टाइम यूजेबल प्लास्टिक के प्रयोग को निषेध किया गया है। उन्होंने कहा कि विवि की समस्त प्रयोगशालों का आधुनिकरण कर सराहनीय कार्य किया गया है। साथ ही उन्होंने विवि के कुलपति प्रो पाठक द्वारा किये जा रहे विकास कार्यों की सराहना की। उन्होंने उपाधि प्राप्त कर रहे छात्र-छात्राओं से आवाहन किया कि गरीब और असहाय बालक-बालिकाओं को शिक्षा की मुख्यधारा में लाने के लिए अपने स्तर से प्रयास करें। 

यह भी पढ़ें... करवाचौथ व्रत बना टूटने जा रहे परिवार को जोड़ने का जरिया

विवि के कुलपति प्रो विनय कुमार पाठक ने विवि की प्रगति आख्या प्रस्तुत की उन्होंने कहा कि विवि ने मूक्स बेस्ड लर्निंग को बढ़ावा देने के लिए  दो ऑडियो - विजुअल स्टूडियो की स्थापना  गयी है। उन्होंने कहा कि वैल्यू एजुकेशन को क्रेडिट कोर्स के रूप में लागू करने वाला देश का पहला प्राविधिक विवि बना है। उन्होंने कहा कि महात्मा गाँधी की 150 वीं जयंती पर गाँव गोद लेकर ग्रामीण अंचलों में कार्य करने वाले 20 सम्बद्ध संस्थानों को सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा विवि प्रदेश का पहला विवि है जो पूरी तरह से डिजिटल है। उन्होंने उपाधि प्राप्त कर रहे छात्रों को शपथ भी दिलाई कि वे दहेज़ का बहिस्कार कर समाज में कुरीतियों के अंत के लिए प्रयत्न करेंगे। 

Images/17-10-2019111754AKTUKA17va4.jpeg

 समारोह के मुख्य अतिथि जल पुरुष राजेंद्र सिंह ने कहा जल ही जीवन है और हमें जल संचयन के लिए युद्ध स्तर पर पहल करनी होगी।  उन्होंने कहा कि विवि द्वारा गाँव गोद लेकर जल संचयन के लिए प्रोजेट्स शुरू किये जाने की पहल करना सराहनीय कदम है।  उन्होंने कहा कि  विवि परिसर में वर्ष के जल के संचयन के लिए उकृष्ट कार्य किया गया है। इसी तरह विवि के 756 संस्थानों को वर्षा जल संचयन के लिए अपने संस्थान परिसर में व्यवस्था करनी चाहिए। इस अवसर पर कुलसचिव नन्द लाल सिंह प्रतिकुलपति प्रो विनीत कंसल, विद्या परिषद् एवं कार्य परिषद् के सदस्य तथा डीन उपस्थित रहे कार्यक्रम विधिवत सम्पन्न हो गया।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
पाक का नापाक प्लान: अयोध्या मसले की आड़ में दिल्ली और यूपी दहलाने की साजिशhttps://www.newstimes.co.in/news/82569/भारत/दिल्ली/Pakistans-nefarious-plan:-plot-to-shake-Delhi-and-UP-under-the-cover-of-Ayodhya-issue902998Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019110721Pakistansnef3.jpg' alt='Images/17-10-2019110721Pakistansnef3.jpg' />अनुच्छेद 370 से झल्लाया पाकिस्तान अब अयोध्या मसले की आड़ लेकर अपने नापाक इरादों को अंजाम देने की फिराक में है। खूफिया जानकारी के मुताबिक देश की राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश पर आतंकी हमले की साजिश आतंकी रच रहे हैं। इसके लिए वे सुरक्षाबलों के प्रशिक्षण केन्द्रों को निशाना बना सकते हैं। इस खुफिया जानकारी के बाद पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां चौकन्न हो गयी है। 

पाक का नापाक प्लान: अयोध्या मसले की आड़ में दिल्ली और यूपी दहलाने की साजिश

- खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट
- सुरक्षा एजेंसियां हुई चौकन्ना, बढ़ी चौकसी

New Delhi. अनुच्छेद 370 से झल्लाया पाकिस्तान अब अयोध्या मसले की आड़ लेकर अपने नापाक इरादों को अंजाम देने की फिराक में है। खूफिया जानकारी के मुताबिक देश की राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश पर आतंकी हमले की साजिश आतंकी रच रहे हैं। इसके लिए वे सुरक्षाबलों के प्रशिक्षण केन्द्रों को निशाना बना सकते हैं। इस खुफिया जानकारी के बाद पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां चौकन्न हो गयी है। 

Images/17-10-2019110614Pakistansnef1.jpg

सूत्रों से मिली खुफिया जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान अब भारत में आतंक के लिए अयोध्या मसले की आड़ लेने की योजना बना रहा है। 
अब आतंकी कश्मीर सीमा से नहीं बल्कि पड़ोसी देश नेपाल और बांग्लादेश के रास्ते घुसपैठ की योजना बना रहे हैं। 

Images/17-10-2019110649Pakistansnef2.jpg

सुरक्षा एजेंसियों का ध्यान बांटने के लिए आतंकवादियों ने बहुत ही खास योजना तैयार की है। आतंकी जहां दूसरे रास्तों से आने की फिराक में हैं तो वहीं दूसरी ओर दहशत फैलाने का साजो सामान अलग रास्तों से पहुंचाया जाएगा। 
खुफिया जानकारी के मुताबिक आतंकियों को गोला बारूद जम्मू कश्मीर और पंजाब के रास्ते पहुंचाया जा सकता है। 
इस खास प्लान को अंजाम तक पहुंचाने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में आतंकवादियों के स्लीपर सेल सक्रिय हो गए हैं। 

Images/17-10-2019110721Pakistansnef3.jpg

मालूम हो कि देश के बहुप्रतीक्षित आयोध्या केस की सुनवाई पूरी होने के बाद संविधान पीठ ने फैसला सुरक्षित कर लिया है। 
इसे लेकर देश के कोने कोने में बहस जारी है। इसी बहस की आड़ लेकर पाकिस्तान ने दहशत का नापाक जाल बुना है। 
इसके लिए दंगे और हिंसा भड़काने और उसी दौरान बड़े आतंकी हमले का कुचक्र रचा जा रहा है। इस अलर्ट के बाद खास तौर से यूपी और दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था के खास इंतजाम किए जा रहे हैं। 

यह भी पढ़ें...सऊदी अरब: भीषण बस हादसे में 35 तीर्थयात्रियों की मौत

 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
करवाचौथ स्पेशल : व्रत बना टूटने जा रहे परिवार को जोड़ने का जरियाhttps://www.newstimes.co.in/news/82568/भारत/उत्तर-प्रदेश-/karvachauth-vrat-special-story-902997Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019104531karvachauthvr2.jpg' alt='Images/17-10-2019104531karvachauthvr2.jpg' />.

करवाचौथ स्पेशल : व्रत बना टूटने जा रहे परिवार को जोड़ने का जरिया

Lucknow. करवाचौथ व्रत को लेकर भोपाल से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां करवाचौथ उपवास बिखरने जा रहे परिवार को वापस जोड़ने का जरिया बना है। दरअसल पारिवारिक कलह के बाद एक युवक तलाक की अर्जी लेकर कोर्ट पहुंचा था। जहां न्यायाधीश ने सुनवाई को रोकते हुए कहा कि जाओ पहले पत्नी को करवाचौथ की खरीददारी करवाओ और त्योहार मनाओ। इसके साथ ही अदालत ने एक काउंसलर भी उसके लिए नियुक्त किया। 

Images/17-10-2019104459karvachauthvr1.jpgImages/17-10-2019104531karvachauthvr2.jpg
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
करवा चौथ: जानिए अर्घ्य देने और चंद्रोदय का सही समयhttps://www.newstimes.co.in/news/82566/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Karva-Chauth:-Know-the-right-time-for-Arghya-and-Chandrodaya902995Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019100252KarvaChauth4.jpg' alt='Images/17-10-2019100252KarvaChauth4.jpg' />पति पत्नी के प्रेम का पर्व करवा चौथ आज पूरे देश में मनाया जा रहा है। सुहागन महिलाओं ने इसके लिए खासी तैयारी कर रखी हैं। पति की दीर्घायु और महिलाओं को सौभाग्य देने वाले इस निर्जला व्रत का शाम चंद्र दर्शन के बाद पति के हाथों पानी पीकर पारण किया जाता है। चांद के दर्शन के लिए बार बार महिलाओं को छत की दौड़ न लगानी पड़े इसके हम आपकों आज गुरूवार चंद्रोदय का सही समय बता रहें हैं। ताकि आप उसी अनुसार अपनी पूजा की तैयारी कर सकें। 

करवा चौथ: जानिए अर्घ्य देने और चंद्रोदय का सही समय

Lucknow. पति पत्नी के प्रेम का पर्व करवा चौथ आज पूरे देश में मनाया जा रहा है। सुहागन महिलाओं ने इसके लिए खासी तैयारी कर रखी हैं। पति की दीर्घायु और महिलाओं को सौभाग्य देने वाले इस निर्जला व्रत का शाम चंद्र दर्शन के बाद पति के हाथों पानी पीकर पारण किया जाता है। चांद के दर्शन के लिए बार बार महिलाओं को छत की दौड़ न लगानी पड़े इसके हम आपकों आज गुरूवार चंद्रोदय का सही समय बता रहें हैं। ताकि आप उसी अनुसार अपनी पूजा की तैयारी कर सकें। 

Images/17-10-2019100134KarvaChauth1.jpg

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार चंद्रोदय के बाद उसके दर्शन और अर्घ्य देकर ही व्रत का पारण करना चाहिए अन्यथा इच्छित फल की प्राप्ति नहीं होती है। आज दिन गुरूवार कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि पर शाम 7 बजकर 58 मिनट पर चंद्रोदय होगा। ज्योतिष और धर्म शास्त्रों के अनुसार चंद्र देव का अर्घ्य देने का सर्वोत्तम समय यही है। 

Images/17-10-2019100159KarvaChauth2.jpg

  70 साल बाद बना है करवा चौथ पर यह अद्भुद संयोग
इस वर्ष के करवा चौथ का अद्भुद संयोग इसे अत्यंत फलदायक और शुभ बना रहा है। ज्योतिष के अनुसार 70 सालों बाद करवा चौथ पर ऐसा योग बन रहा है जब चंद्र देव अपनी रोहिणी के साथ उदय होगें। ऐसा इसलिए है कि इस बार करवा चौथ का चंद्रोदय रोहिणी नक्षत्र में होगा। ऐसे संयोग कई सालों में सिर्फ एक ही बार बनते हैं। 

Images/17-10-2019100221KarvaChauth3.jpg

  ऐसे करें पूजा की तैयारी
हमारे धर्म शास्त्री कहते है कि पूजा पूरे विधि विधान से करनी चाहिए। ऐसे में पूजा सामग्री भी अहम हो जाती है। करवा चौथ पर आपकी में कोई प्रमुख सामग्री छूट न जाए इसलिए यह भी जान ले कि आपको किन किन वस्तुओं की आवश्कयता पड़ेगी। पूजा के आपकों एक छलनी, करवा, दीपक, सिंदूर, फूल, फल, मेवे, रुई की बत्ती, कांसे की 9 या 11 तीलियां, नमकीन, मीठी मठ्ठियां, मिठाई, रोली और साबुत चावल, आटे का दिया, धूपबत्ती, पानी से भरा हुआ तांबे या स्टील का लोटा, आठ पूरियों की अठावरी और हलवा इन चीजों का प्रबंध कर लेना है। 

Images/17-10-2019100252KarvaChauth4.jpg

  व्रत की सफलता के लिए जरूर पढ़ें कथा
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार किसी व्रत पर एक कथा भी होती है जिसमें उसके महत्व का वर्णन होता है। इस कथा को सुने बिना व्रत अधूरा माना जाता है। इसलिए करवा चौथ की व्रत कथा भी पढ़नी आवश्यक है।  
करवा चौथ व्रत कथा...
प्राचीन काल में इंद्रप्रस्थ नामक नगर में एक ब्राह्मण रहता था जिसका नाम वेद शर्मा था। उसकी पत्नी का नाम लीलावती था। उसके सात पुत्र और वीरावती नामक एक पुत्री थी। विवाह के बाद वीरावती जब कार्तिक कृष्ण चतुर्थी आई तो उसने अपनी भाभियों के साथ करवा चौथ का व्रत रखा, लेकिन भूख-प्यास से वह चंद्रोदय के पूर्व ही बेहोश हो गई। बहन को बेहोश देखकर सातों भाई परेशान हो गए।
सभी भाइयों ने बहन के लिए पेड़ के पीछे से जलती मशाल का उजाला दिखाकर बहन को होश में लाकर चंद्रोदय निकलने की सूचना दी। वीरावती ने भाइयों की बात मानकर विधिपूर्वक अर्घ्य दिया और भोजन कर लिया। ऐसा करने से कुछ समय बाद ही उसके पति की मृत्यु हो गई। इससे आहत होकर उसने अन्न-जल का त्याग दिया उसी रात को इंद्राणी पृथ्वी पर आई। जब उसने इंद्राणी से अपने दुख का कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि तुमने अपने पिता के घर पर करवा चौथ के व्रत के दौरान वास्तविक चंद्रोदय के होने से पहले ही अर्घ्य देकर भोजन कर लिया, इसीलिए तुम्हारा पति मर गया।
अगर तुम विधि विधान से करवा चौथ का पूजन अर्चन करोगी तो तुम्हारे पति पुनर्जीवित हो जाएंगे। वीरावती ने बारह मास की चौथ सहित करवाचौथ का व्रत पूर्ण विधि-विधानानुसार किया। इससे प्रसन्न होकर इंद्राणी ने उसके पति को जीवनदान दिया।


यह भी पढ़ें...मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, एक रुपए में दो लाख का इंश्योरेंस

 

 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
​​​​विश्व एनेस्थीसिया दिवस : एनेस्थीसिया के बिना ऑपरेशन संभव नहीं https://www.newstimes.co.in/news/82563/भारत/उत्तर-प्रदेश-/-World-Anesthesia-Day:-Operation-not-possible-without-anesthesia902992Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019190742WorldAnesthes1.jpg' alt='Images/16-10-2019190742WorldAnesthes1.jpg' />विश्व एनेस्थीसिया दिवस: एनेस्थीसिया के बिना ऑपरेशन संभव नहीं

​​​​विश्व एनेस्थीसिया दिवस : एनेस्थीसिया के बिना ऑपरेशन संभव नहीं

Lucknow आज विश्व एनेस्थीसिया दिवस है ऑपरेशन थ्रियटर (ओटी) के अंदर किसी भी सर्जरी में जितना महत्व सर्जन का होता है उतना ही एनेस्थेसिया का भी होता है। 16 अक्टूबर को विश्व एनेस्थेसिया दिवस मनाया जाता है। 173 साल पहले 16 अक्टूबर 1846 को शल्य क्रिया में पहली बार अमेरिका के बॉस्टन शहर में मेशाच्चुसेट्स जनरल हॉस्पिटल के एम्फी थियेटर जिसे अब इथर डोम कहा जाता है। वहां पर एक जबड़े के मरीज की सर्जरी में डॉ.विलियम थॉमस ग्रीन मॉर्टन ने ईथर एनेस्थीसिया का पहला सफल प्रदर्शन किया था। तब से इस दिन को विश्व एनेस्थीसिया दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसे चिकित्सा जगत की सबसे बड़ी खोज बताया जाता है। क्योंकि एनेस्थीसिया के बिना कोई भी ऑपरेशन संभव नहीं होता है। 1846 से लेकर आज तक इस क्षेत्र में इतना विकास हो गया है कि अब निश्चेतना बहुत ही सुरक्षित हो चुका है।

Images/16-10-2019190742WorldAnesthes1.jpg

एनेस्थीसिया शब्द ग्रीक भाषा के दो शब्द an और aethesis शब्द से मिलकर बना है। an अर्थात बिनाऔर “aethesis” अर्थात संवेदना। इस प्रकार शब्द से ही इसका भाव स्पष्ट है संवेदना के बिना। एनेस्थीसिया या निश्चेतना चिकित्सा विज्ञान का वह महत्वपूर्ण शाखा है जिसमें किसी भी प्रकार के सर्जरी या ऑपरेशन में मरीज को दर्द के अनुभव के बिना ऑपरेशन सफलता पूर्वक किया जाता है। इस प्रक्रिया में मरीज होश में रहकर ऑपरेशन देख भी सकता है पर उसे दर्द या कष्ट का अनुभव नहीं होता है। इसके बिना जटिल ऑपरेशन संभव नहीं होते हैं। एनेस्थीसिया के प्रक्रिया को करने वाले चिकित्सक को एनेस्थीसियोलॉजिस्ट या एनेस्थेटिस्ट तथा इसमें प्रयोग किए जाने वाले दवाओं को एनेस्थेटिक दवा कहते हैं।

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
निराश्रित गोवंश को सीमैप और गोसेवा आयोग मिलकर किसानों के लिए बनाएंगे उपयोगीhttps://www.newstimes.co.in/news/82562/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Seemap-and-Goseva-Commission-will-make-the-destitute-cow-dynasty-useful-for-the-farmers902991Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019190016SeemapandGos3.jpg' alt='Images/16-10-2019190016SeemapandGos3.jpg' />उत्तर प्रदेश में निराश्रित गोवंशों की समस्या के समाधना के लिए बुधवार 16 अक्टूबर को केन्द्रीय औषधीय एव सगंध पौधा संस्थान (सीमैप) लखनऊ

निराश्रित गोवंश को सीमैप और गोसेवा आयोग मिलकर किसानों के लिए बनाएंगे उपयोगी

Lucknow: उत्तर प्रदेश में निराश्रित गोवंशों की समस्या के समाधना के लिए बुधवार 16 अक्टूबर को केन्द्रीय औषधीय एव सगंध पौधा संस्थान (सीमैप) लखनऊ में सीमैप के पदाधिकारियों व  उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के अध्यक्ष श्याम नन्दन सिंह एवं सचिव आनंद कुमार व यूनाइट लखनऊ के पदाधिकारियों की संयुक्त बैठक निदेशक सीमैप डा. अब्दुल समद के मार्गदर्शन में सीमैप के कार्यालय पर हुई। इस अवसर पर  निर्णय लिया गया कि निराश्रित गोवंशों को किसानों के लिये उपयोगी बनाने के लिए निम्न विंदुओं पर काम करना होगा।

Images/16-10-2019185955SeemapandGos2.jpg

1- उ.प्र. गोसेवा आयोग द्वारा आयोजित मण्डल स्तर के जैविक खेती प्रशिक्षण कार्यशाला में विशेषज्ञ भेजकर प्रशिक्षण प्रदान करेंगे।
2- इच्छुक किसानों व गोशालाओं को औषधीय पौधों की खेती कर आय वृद्धि हेतु संस्थान के कार्यक्रमों में प्राथमिकता देकर सहयोग प्रदान करेंगे।
3- प्रदेश भर से आयोग गोशाला संचालकों व जैविक खेती के इच्छुक कृषकों को 15 नवम्बर में सीमैप परिसर में लाकर एकदिवसीय प्रशिक्षण कराया जायेगा।
4- सीमैप आयोग के माध्यम से किसानों व गोशालाओं को आयवर्धन के लिए प्रमाणित औषधीय व सगंध पौधा, बीज उपलब्ध करायेगा।
5- सीमैप (केन्द्रीय औषधीय व सगंध पौध अनुसंधान संस्थान) लखनऊ के वैज्ञानिक डा0 अजीत कुमार शासनेय एक माह के अन्तर्गत पंचगव्य आधारित उत्पादों से सन्दर्भित अब तक किया गया। शोध परिणाम विवरण तथा और शोध की आवश्यकता व उपयोगिता के अनुसार शोध कार्यक्रमों हेतु प्रोजेक्ट तैयार कर विचार विमर्श हेतु प्रस्तुत करेंगे।
6- उ.प्र. गोसेवा आयोग पंचगव्य आधारित उत्पादों के शोध एवं विकास हेतु ऐसे संस्थानों से समन्वय व यथा आवश्यक सहयोग उपलब्ध कराते हुए कार्य हेतु एक समिति टास्कफोर्स का गठन करेगा।

Images/16-10-2019190016SeemapandGos3.jpg

बैठक में डा. संजय कुमार सीमैप, लखनऊ, डा. अजीत कुमार शासनेय, डा. उमाशंकर, योगेश कुमार मिश्रा एवं राधेश्याम दीक्षित उपस्थित रहे।

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
जानिए क्या है विश्व खाद्य दिवस का उद्देश्य, क्या कहते हैं आंकड़ेhttps://www.newstimes.co.in/news/82559/भारत/Know-what-is-the-purpose-of-World-Food-Day-what-the-figures-say902988Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019172557Knowwhatist4.jpg' alt='Images/16-10-2019172557Knowwhatist4.jpg' />विश्व भर में हर दिन का अपना कोई ना कोई महत्व होता है। 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाएगा। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य दुनिया को गरीबी कुपोषण और भुखमरी से मुक्ति दिलाना है। इसके साथ ही खाद्य सुरक्षा और लोगों की स्थितियों को लेकर जागरूकता फैलाने का काम भी किया जाता है।  

जानिए क्या है विश्व खाद्य दिवस का उद्देश्य, क्या कहते हैं आंकड़े

Lucknow. विश्व भर में हर दिन का अपना कोई ना कोई महत्व होता है। 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाएगा। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य दुनिया को गरीबी कुपोषण और भुखमरी से मुक्ति दिलाना है। इसके साथ ही खाद्य सुरक्षा और लोगों की स्थितियों को लेकर जागरूकता फैलाने का काम भी किया जाता है।  

Images/16-10-2019172456Knowwhatist1.jpg

बताते चलें कि संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य व कृषि संगठन की स्थापना की याद में यह खास दिवस मनाया जाता है। सरकारी और गैर सरकारी रिपोर्टों का यदि हम ध्यान पूर्वक अवलोकन करें तो गरीबी और भुखमरी के आंकडे विरोधाभास मिलते हैं। आंकड़ों पर गौर किया जाए तो इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि विश्व भर में भूखे सो जाने वाले लोगों की संख्या कहीं से कम नहीं है।

Images/16-10-2019172511Knowwhatist2.jpg

भारत सरकार दावा हमेशा ही यह दावा करती रही है कि उसके प्रयासों से गरीबों को खाद्य सुरक्षा का लाभ मिलता रहा है। इससे गरीबी दूर करने में मदद मिली है। लेकिन दूसरी ओर  ग्लोबल हंगर इंडेक्स पर गौर करें तो हकीकत कुछ और ही नजर आती है। संयुक्त राष्ट्र ने जुलाई 2019 में जो रिपोर्ट जारी की थी उसके मुताबिक भारत में स्वास्थ्य, स्कूली शिक्षा समेत विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति से लोगों को गरीबी से बाहर निकाला जा सका है।

यह भी पढ़ें... कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

वर्ष 2006 से 2016 के मध्य गरीबी से 27.10 लोग बाहर निकल पाएं हैं। वहीं, वर्ष 2005-06 में रिपोर्ट पर गौर किया जाए तो भारत के करीब 64 करोड़ लोग यानि कि (55.1 प्रतिशत) गरीबी का जीवन व्यतीत कर रहे थे। जो कि गरीबी की संख्या घटकर 2015-16 में 36.9 करोड़ (27.9 प्रतिशत) तक आ गई। इस तरह देखा जाए तो गरीबी को दूर करने के लिए भारत ने जो प्रयास किए वह सफलता की ओर बढ़ी है।

Images/16-10-2019172536Knowwhatist3.jpg

ग्लोबल हंगर इंडेक्स की विभिन्न सालों की रिपोर्टों पर ध्यान दें तो भारत की रैंकिंग में लगातार गिरावट दिखाया गया है। वर्ष 2014 में भारत गरीबी के 55वें पायदान पर था। 2015 में 80वें, 2016 में 97वें 2017 में 100वें और 2018 में 103 वें पायदान पर पहुंच गया है। यह हैरान करने वाली स्थिति उस समय है कि जब भारत की कुपोषित आबादी में उल्लेखनीय कमी आयी है।  वर्ष 2000 की बात करें तो भारत में कुल आबादी का 18.2 फीसदी हिस्सा कुपोषण का शिकार था। वहीं, 2018 में कुल आबादी का 14.8 फीसदी वर्ग कुपोषण से जूझ रहा है।

यह भी पढ़ें... कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 40 फीसदी खाना बेकार हो जाता है। इसे भुखमरी का एक अहम कारण माना जाता है। रिपोर्ट के अनुसार भारत में खाद्य सामग्रियों का पार्याप्त माचा में उत्पादन होता है। लेकिन गरीबों तक यह नहीं पहुंच पाता। इसे लेकर कोई भी स्थाई समाधान नहीं निकाला जा सका है। खाद्यान्न उत्पादन में हर तरह से आत्म निर्भर बनने के लिए उन्नत कृषि प्रणाली को अपनाना होगा। इसे अपनाकर ही गरीबी की समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

Images/16-10-2019172557Knowwhatist4.jpg

विश्व बैंक के अनुसार विश्व भर में लगभग 76 करोड़ लोग गरीब हैं। गरीबी के इस आंकड़े में भारत में करीब 22.4 करोड़ लोग गरीबी रेखा से नीचे का जीवन यापन कर रहे हैं। भारत के 7 राज्यों छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और यूपी में लगभग 60 प्रतिशत गरीब अबादी है। गरीबों 80 प्रतिशत संख्या गांवों में है। जानकारी के अनुसार भारत की संख्या सवा सौ करोड़ से भी अधिक है। जिसमें लगभग 27 करोड़ लोग गरीबी रेखा के नीचे गुजर बसर कर रहे। गरीबों में अनुसूचित जनजाति के 45 प्रतिशत और अनुसूचित जाति के 31.5 प्रतिशत संख्या है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
हल्दी बीज उत्पादन में आम फल पट्टी का गांव प्रगति परhttps://www.newstimes.co.in/news/82561/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Village-of-mango-fruit-belt-in-progress-in-turmeric-seed-production902990Thu, 17 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/17-10-2019124824JhzByiziub.JPG' alt='Images/17-10-2019124824JhzByiziub.JPG' />लखनऊ ने फ़ार्मर फ़र्स्ट परियोजना के तहत मलिहाबाद के गाँव मोहम्मद नगर तालुकेदारी के १० किसानों को हल्दी की उन्नत क़िस्म 'नरेन्द्र देव हल्दी-२' क़िस्म के बीज दिये,

हल्दी बीज उत्पादन में आम फल पट्टी का गांव प्रगति पर

LUCKNOW. देश में गुणवत्ता युक्त बीजों की भारी माँग है और सिर्फ़ सरकारी तथा निजी कंपनियों के सहारे किसानों को उन्नत बीज उपलब्ध करा पाना सम्भव नहीं है। बदलते हालात में किसानों को जागृत कर एक अनोखे प्रयास से केन्द्रीय उपोष्ण बाग़वानी संस्थान, लखनऊ ने फ़ार्मर फ़र्स्ट परियोजना के तहत मलिहाबाद के गाँव मोहम्मद नगर तालुकेदारी के 10 किसानों को हल्दी की उन्नत क़िस्म 'नरेन्द्र देव हल्दी-2'  क़िस्म के बीज दिये, जिसमें करक्यूमिन की मात्रा 5% जो स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभप्रद है। हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन स्तन एवं प्रोस्टेट कैंसर से बचाव करने में सहायक है। किसी भी प्रकार के बीज तैयार करने के​ लिए कुछ गांव विकसित करने होगें जिससे उन्नत बीजों की उपलब्धता बढ़े। फलत: उत्पादकता बढ़े। 

Images/17-10-2019124824JhzByiziub.JPG

संस्थान के निदेशक डा. शैलेन्द्र राजन बताते हैं कि रूढ़िवादी मान्यताओं के चलते आम बागवान इसे बाग़ में उगाना अशुभ मानते थे। गाँव के एक जागरूक किसान राम किशोर मौर्य ने पहल की और आम के बाग़ में इस हल्दी के बीज को अंतर फ़सल के रूप में बोया। उनके इस प्रयास को नौ और किसानों ने अपनाया। परिणाम शानदार रहे। बाग़ की ख़ाली ज़मीन उपयोग में आयी। आम के पेड़ों की छाया में भी सफलता पूर्वक 45 क्विंटल प्रति एकड़ की उपज मिली जिसे किसानों ने 20-25 रूपये प्रति किलो के भाव से बीज के रूप मे बेच दिया।

सबसे ख़ास बात यह है कि इसके पौधे छुटटा जानवर भी नहीं खाते। डा. मनीष मिश्रा, प्रधान अन्वेषक बताते हैं कि देखते देखते इस गाँव के तीस किसानों ने हल्दी की इस क़िस्म को आम के बाग़ में सह-फ़सल के रूप में अपनाकर इस गाँव को बीज गाँव में तब्दील कर दिया। संस्थान के एक और वैज्ञानिक डा. पवन गुर्जर ने किसानों को हल्दी प्रसंस्करण की नयी विधि सिखाई, जिसमें हल्दी के कंदो को बिना उबाले, चिप्स बना कर, फिर इसे सुखा कर पीसने पर उत्तम क़िस्म का हल्दी पाउडर तैयार किया। इस गाँव के एक किसान रमेश बताते हैं कि अब उन्होने हल्दी चिप्स बनाने और डिहाईड्रेटर में सुखाने में महारथ हासिल कर ली है और मैं हल्दी पाउडर पैक कर के बेचता हूँ।

श्री मिश्र बताते हैं कि हल्दी बीज "गाँव" से उत्साहित होकर फ़ार्मर फ़र्स्ट परियोजना ने 10 किसानों को जिमीकंद की उन्नत क़िस्म राजेन्द्र दी| जिसमें एलक्लायड कम होने से गले में खराश नहींं होती है। इस प्रकार के जिमीकंद की दीवाली में भारी माँग होती है। किसानों ने जिमीकंद को आम के बाग़ों में अंतर फ़सल के रूप में अपनाया है। हल्दी और जिमीकंद ने इस गांव को अभिजात्य बना दिया है। पचास से ज़्यादा किसान इस बीज मुहिम से जुड़ चुके हैं।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, एक रुपए में दो लाख का इंश्योरेंसhttps://www.newstimes.co.in/news/82558/भारत/Modi-governments-big-gift-insurance-of-two-lacks-in-one-rupee902987Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019164906Modigovernmen1.jpg' alt='Images/16-10-2019164906Modigovernmen1.jpg' />प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार बनने के बाद कई तरह की खास योजनाएं जनता को दी गई। जिसका आज करोड़ों गरीब जनता लाभ उठा रही है। मोदी की योजनओं को लेकर बात करें तो उज्जवला योजना से लेकर किसान सम्मान निधि जैसी अहम योजनाओं ने लोगों की किस्मत बदलने का काम किया है।

मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, एक रुपए में दो लाख का इंश्योरेंस

Lucknow. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार बनने के बाद कई तरह की खास योजनाएं जनता को दी गई। जिसका आज करोड़ों गरीब जनता लाभ उठा रही है। मोदी की योजनओं को लेकर बात करें तो उज्जवला योजना से लेकर किसान सम्मान निधि जैसी अहम योजनाओं ने लोगों की किस्मत बदलने का काम किया है।

Images/16-10-2019164906Modigovernmen1.jpg

अब प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना लेकर केन्द्र सरकार आई है। इस योजना के तहत एक रुपए देकर ही दो लाख रुपए का लाभ आप उठा सकेंगे। इसके लिए आपको 28 रुपये प्रति माह यानी रोजाना एक रुपये देना होगा। हम आपको विस्तार से इस योजना के बारे में बता रहे हैं।

आपको बता दें कि इस योजना का फायदा लेने के लिए न्यूनतम आयु 18 वर्ष होना जरूरी है। वहीं, अधिकतम 50 वर्ष होनी चाहिए। इस पॉलिसी के मैच्योरिटी की उम्र सीमा 55 साल है। योजना के तहत आपको कम से कम एक साल तक रकम चुकानी होगी। यह योजना लोगों को काफी पसंद आ रहा है। चूंकि यह बेहद ही सस्ता होने के साथ बचत वाला भी है। इसके तहत आपको सालाना 330 रुपये यानी प्रति माह 27.5 रुपये प्रीमियम के तौर पर देने होंगे। यह रकम आपको अकाउंट से कटेगी। इसके लिए जीएसटी का भुगतान भी करना होगा।

यह भी पढ़ें... एक भी बालिका विद्यालय जाने से वंचित न रहे: स्वाती सिंह

बताते चलें कि प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में बीमा कराने पर यदि किसी की मौत हो जाती है, तो नॉमिनी को दो लाख रुपये का कवर मिलेगा।  यह योजना हर साल रिन्यू होती है। इस योजना का लाभ अंग्रेजी, हिंदी, गुजराती, बांग्ला, कन्नड़, ओडिया, मराठी, तेलुगू व अन्य भाषाओं में भी उठा सकेंगे। योजना एक टर्म इंश्योरेंस प्लान जैसा है। जो भी पॉलिसीधारक होंगे उनकी मौत होने पर कंपनी इंश्योरेंस का भुगतान करेगी। यदि पॉलिसी किसी व्यक्ति ने ली है और समय पूरा गया हो, लेकिन व्यक्ति ठीक-ठाक रहता है तो कोई लाभ नहीं मिलता।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
भाजपा सांसद की भी नहीं सुनती यूपी पुलिस, सोशल मीडिया पर छल्का दर्दhttps://www.newstimes.co.in/news/82556/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/-अमीनाबाद--अलीगंज--आलमबाग--आशियाना--इंटौजा--इंदिरा-नगर--ऐशबाग--कैन्ट--कृष्णा-नगर--कैसरबाग--काकोरी--गुडम्बा--गाजीपुर--गोमती-नगर--गोसाईंगंज--गौतमपल्ली--चिनहट--चौक--जानकीपुरम--ठाकुरगंज--तालकोटरा--नगराम--नाका-हिन्डोला--निगोहां--पारा--पीजीआई--बख्शी-का-तालाब--बाजारखाला--मड़ियांव--मलिहाबाद--महानगर--मानक-नगर--माल--मोहनलालगंज--वज़ीरगंज--विकास-नगर--विभूति-खण्ड--सआदतगंज--सरोजनी-नगर--हजरतगंज--हसनगंज--हुसैनगंज-Even-the-BJP-MP-does-not-listen-to-the-UP-Police-spill-pain-on-social-media902985Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019155658EventheBJPM3.jpg' alt='Images/16-10-2019155658EventheBJPM3.jpg' />यूपी की पुलिस को लेकर विपक्ष तो प्रदेश सरकार को घेर ही रहा है अब उनकी ही पार्टी के लोग भी इस व्यवस्था पर सवाल उठाने लगे हैं। ताजा मामला राजधानी लखनऊ के ही मोहनलालगंज का है। यहां से भाजपा सांसद ने ट्विटर के जरिए पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए है। मामला एक महिला का है जिससे हुई एक मारपीट के मामले में सांसद की पैरवी के बावजूद पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। अपने ट्वीट में सांसद ने कार्रवाई न होने पर थाने में धरने पर बैठने की चेतावनी तक दी है।

भाजपा सांसद की भी नहीं सुनती यूपी पुलिस, सोशल मीडिया पर छल्का दर्द

- पुलिस की कार्यशैली से आहत मोहनलालगंज सांसद
- ट्वीट के जरिए साझा की व्यथा तब हरकत में आई पुलिस
- सिफारिश के बावजूद पीड़ित को धमका रही थी पुलिस

Lucknow. यूपी की पुलिस को लेकर विपक्ष तो प्रदेश सरकार को घेर ही रहा है अब उनकी ही पार्टी के लोग भी इस व्यवस्था पर सवाल उठाने लगे हैं। ताजा मामला राजधानी लखनऊ के ही मोहनलालगंज का है। यहां से भाजपा सांसद ने ट्विटर के जरिए पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए है। मामला एक महिला का है जिससे हुई एक मारपीट के मामले में सांसद की पैरवी के बावजूद पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। अपने ट्वीट में सांसद ने कार्रवाई न होने पर थाने में धरने पर बैठने की चेतावनी तक दी है। 

Images/16-10-2019155551EventheBJPM1.jpg

मिली जानकारी के अनुसार मोहनलालगंज सीट से दूसरे बार भाजपा के टिकट पर सांसद चुने गए कौशल किशोर के क्षेत्र की रामा देवी नाम की एक महिला किसी विवाद के लेकर थाने पहुंची थी। 
महिला का आरोप था कि दो दबंगों ने उसके साथ मारपीट की इसकी शिकायत लेकर जब वह थाने पहुंची तो पुलिस आरोपियों पर कार्रवाई के बजाए उसे ही धमकाने लगी। 
अपनी फरियाद लेकर जब यह महिला सांसद कौशल किशोर के पास पहुंची तो उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों से बात करते महिला की पैरवी की। 

Images/16-10-2019155627EventheBJPM2.JPG

बावजूद इसके पुलिस ने आरोपियों पर कार्रवाई के बजाए महिला को ही जेल में डालने की धमकी दे डाली। 
यह बात जब सांसद के कानों तक पहुंची तो वह तमतमा गए। नतीजे में उन्होंने अपनी भड़ास सोशल मीडिया पर निकालते हुए पूरा मामला साक्षा किया। 
उन्होंने ट्विटर के जरिए पूरे मामले को साझा करते हुए कार्रवाई न होने की दशा में मलिहाबाद थाने पर अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठने की चेतावनी दे डाली।

Images/16-10-2019155658EventheBJPM3.jpg

 

उन्होंने पुलिस पर अवैध वसूली करने और पीड़ितों को सताने और अपराधियों का संरक्षण देने का आरोप लगाया।  
इस ट्वीट के बाद हरकत में आई पुलिस ने आनन फानन कार्रवाई करते हुए आरोपी के खिलाफ की गयी कार्रवाई से अवगत कराते हुए रिट्वीट किया है। 
मालूम हो कि इन दिनों विपक्षी पार्टियां प्रदेश में बिगड़ी कानून व्यवस्था को लेकर लगातार योगी सरकार पर निशाना साध रही हैं। 
भाजपा के सांसद का यह ट्वीट विपक्ष के आरोपों पर पुष्टि की मुहर लगाता नजर आ रहा है। 

यह भी पढ़ें...अयोध्या मसला: संजीदा हुई योगी सरकार, अफसरों की छुट्टियों पर लगाई रोक

 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#NewstimesTrending : अयोध्या मामले पर सुनवाई का अंतिम दौर जारी, देखें अपडेटhttps://www.newstimes.co.in/news/82555/भारत/उत्तर-प्रदेश-/newstimes-trending-ayodhya-mamle-par-sunvai-ka-antim-daur-902984Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019155037newstimestren3.JPG' alt='Images/16-10-2019155037newstimestren3.JPG' />बहुप्रतीक्षित अयोध्या मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में अंतिम दौर में है। मामले का फैसला चाहे जो भी हो शांति व्यवस्था किसी प्रकार प्रभावित न होने पर इसके लिए शासन स्तर पर युद्ध स्तर पर तैयारी की जा रही है। वहीं योगी सरकार इस मसले पर बेहद संजीदा है। इसी कड़ी में योगी सरकार के प्रदेश ने सभी सरकारी अधिकारियों की छुट्टियां रद्द कर दी है। सरकार की ओर से फरमान जारी हुआ है कि फील्ड में तैनात कोई भी पुलिस या प्रशासनिक अधिकारी 30 नवंबर तक कोई छुट्टी नहीं लेगा। सभी अधिकारियों को हर हाल में मुख्यालय पर बने रहने और हालातों पर पैनी निगाह बनाए रखने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। 

#NewstimesTrending : अयोध्या मामले पर सुनवाई का अंतिम दौर जारी, देखें अपडेट

Lucknow. अयोध्या केस की सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई शुरू हो गयी है। इस मामले की निरंतर 40वीं दिन सुनवाई शुरू होते ही मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने बहस की डेडलाइन तय कर दी। मुख्य न्यायाधीश ने साफ तौर पर कहा कि अब कोई बीच में टोका-टाकी नहीं करेगा, बहस आज ही शाम 5 बजे खत्म होगी। और यही बहस का अंत होगा। सुनवाई के लिए न्यायाधीश कोर्ट रूम में पहुंचे। जिसके बाद कुछ छोटे पक्षकारों ने समय दिए जाने की मांग की। जिसपर मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि आज 5 बजे सुनवाई पूरी हो जाएगी इसी के साथ हम और समय नहीं देंगे। 

Images/16-10-2019154535newstimestren1.jpgImages/16-10-2019154730newstimestren2.JPGImages/16-10-2019155037newstimestren3.JPG
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
Ayodhya Case: योगी के मंत्री बोले- नेहरू के बाद अब बाबर की भूल ठीक करने का वक्तhttps://www.newstimes.co.in/news/82554/भारत/उत्तर-प्रदेश-/फैजाबाद/Siddharth-Nath-Singh-said-that-time-to-correct-Baburs-mistake-in-Ayodhya902983Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019152820SiddharthNath1.jpg' alt='Images/16-10-2019152820SiddharthNath1.jpg' />अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के आखिरी दिन यूपी के कैबिनेट मंत्री और सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह का विवादित बयान सामने आया है। सिद्धार्थनाथ सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा उन्होंने कहा कि जिस तरह पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू की ओर से कश्मीर में अनुच्‍छेद 370 लगाने की गलती को ठीक किया गया, उसी तरह अयोध्या में बाबर की ओर से की गई भूल को भी ठीक करने का सही वक्त आ गया है। 

Ayodhya Case: योगी के मंत्री बोले- नेहरू के बाद अब बाबर की भूल ठीक करने का वक्त

Prayagraj. अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के आखिरी दिन यूपी के कैबिनेट मंत्री और सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह का विवादित बयान सामने आया है। सिद्धार्थनाथ सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा उन्होंने कि जिस तरह पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू की ओर से कश्मीर में अनुच्‍छेद 370 लगाने की गलती को ठीक किया गया, उसी तरह अयोध्या में बाबर की ओर से की गई भूल को भी ठीक करने का सही वक्त आ गया है। 

Images/16-10-2019152820SiddharthNath1.jpg

बता दें कि कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह प्रयागराज में बोल रहे थे, इस दौरान उनका यह बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में मुग़ल शासक बाबर ने ऐतिहासिक भूल की थी। अब उसे सुधारने का सही वक्त आ गया है। उन्होंने कहा कि जिस तरह पंडित जवाहरलाल नेहरू की ओर से कश्मीर में अनुच्‍छेद 370 लगाने की गलती को ठीक किया गया, उसी तरह अयोध्या में बाबर की ओर से की गई भूल को भी ठीक करने का सही वक्त आ गया है। 

यह भी पढ़ें:-...Ayodhya Case: CJI ने तय की बहस की डेडलाइन, कहा- शाम 5 बजे पूरी हो जाएगी सुनवाई

कैबिनेट मंत्री ने आगे कहा कि मामला सुप्रीम कोर्ट में है, लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जो फैसला दिया था, उससे लोगों में काफी उत्साह और खुशी थी। उन्होंने कहा कि अब बाबर की इस भूल को ठीक कर देश को बंटने से रोका जाएगा।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
अयोध्या मसला: संजीदा हुई योगी सरकार, अफसरों की छुट्टियों पर लगाई रोकhttps://www.newstimes.co.in/news/82553/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Ayodhya-issue:-Yogi-government-worried-ban-on-officers-holidays902982Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019150712Ayodhyaissue3.jpg' alt='Images/16-10-2019150712Ayodhyaissue3.jpg' />अयोध्या मामले को लेकर बड़ी सरगर्मियों के बीच योगी सरकार का प्रशासनिक अमला पूरी तरह चौकन्ना हो गया। अयोध्या में जहां प्रशासनिक गतिविधियां शुरू हो गयी है वहीं दूसरी ओर ताजा हालातों के मद्देनजर सभी सरकारी अधिकारियों की छुट्टियां निरस्त कर दी गयी हैं। 

अयोध्या मसला: संजीदा हुई योगी सरकार, अफसरों की छुट्टियों पर लगाई रोक

Lucknow. अयोध्या मामले को लेकर बड़ी सरगर्मियों के बीच योगी सरकार का प्रशासनिक अमला पूरी तरह चौकन्ना हो गया। अयोध्या में जहां प्रशासनिक गतिविधियां शुरू हो गयी है वहीं दूसरी ओर ताजा हालातों के मद्देनजर सभी सरकारी अधिकारियों की छुट्टियां निरस्त कर दी गयी हैं। 

Images/16-10-2019150630Ayodhyaissue1.jpg

मालूम हो कि बहुप्रतीक्षित अयोध्या मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में अंतिम दौर में है। मामले का फैसला चाहे जो भी हो शांति व्यवस्था किसी प्रकार प्रभावित न होने पर इसके लिए शासन स्तर पर युद्ध स्तर पर तैयारी की जा रही है। 
योगी सरकार इस मसले पर बेहद संजीदा है। इसी कड़ी में योगी सरकार के प्रदेश ने सभी सरकारी अधिकारियों की छुट्टियां रद्द कर दी है। 
सरकार की ओर से फरमान जारी हुआ है कि फील्ड में तैनात कोई भी पुलिस या प्रशासनिक अधिकारी 30 नवंबर तक कोई छुट्टी नहीं लेगा। 
सभी अधिकारियों को हर हाल में मुख्यालय पर बने रहने और हालातों पर पैनी निगाह बनाए रखने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। 

Images/16-10-2019150712Ayodhyaissue3.jpg

  सोशल मीडिया पर रखी जा रही है पैनी निगाहें
आज के दौर में बातों को फैलाने का सशक्त माध्यम बन चुके सोशल मीडिया पर भी सरकारी तंत्र ने पैनी निगाह गड़ा रखी है। फेसबुक, व्हाट्स ऐप, ट्विटर हैंडल जैसे विभिन्न सोशल मीडिया साइट्स पर पुलिस की साइबर सेल निगरानी कर रही है। किसी तरह से भ्रामक और भड़काऊ पोस्ट करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

यह भी पढ़ें...Ayodhya Case: CJI ने तय की बहस की डेडलाइन, कहा- शाम 5 बजे पूरी हो जाएगी सुनवाई


 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
करवा चौथ: सुहागिनों की खुलेगी किस्मत, स्वामी ग्रह की होगी विशेष कृपाhttps://www.newstimes.co.in/news/82551/भारत/Karva-Chauth:-Suhaagins-will-have-good-luck-Swami-Graha-will-have-special-blessings902980Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019145841KarvaChauth2.JPG' alt='Images/16-10-2019145841KarvaChauth2.JPG' />देश भर में करवा चौथ व्रत विवाहिताएं 17 अक्तूबर को रखेंगी। विवाहिताएं यह व्रत पति की लंबी आयु के लिए रखती हैं। इस बार करवा चौथ का व्रत रखने से सुहागिन महिलाओं की किस्मत चमकेगी। सुहिगिन महिलाओं को व्रत रखने पर कई गुना अधिक फल की प्रप्ति होगी। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस बार करवा चौथ को नौ ग्रहों में मन के कारक ग्रह और कलाओं के स्वामी ग्रह का विशेष कृपा मिलने वाली है।

करवा चौथ: सुहागिनों की खुलेगी किस्मत, स्वामी ग्रह की होगी विशेष कृपा

New Delhi. देश भर में करवा चौथ व्रत विवाहिताएं 17 अक्तूबर को रखेंगी। विवाहिताएं यह व्रत पति की लंबी आयु के लिए रखती हैं। इस बार करवा चौथ का व्रत रखने से सुहागिन महिलाओं की किस्मत चमकेगी। सुहिगिन महिलाओं को व्रत रखने पर कई गुना अधिक फल की प्रप्ति होगी। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक इस बार करवा चौथ को नौ ग्रहों में मन के कारक ग्रह और कलाओं के स्वामी ग्रह का विशेष कृपा मिलने वाली है।

Images/16-10-2019145757KarvaChauth1.jpg

ज्योतिषशात्र की माने तो इस बार का व्रत विवाहिताओं को सच्चे मन से व्रत रखने पर सौभाग्य देने वाला है। यदि विधि विधान से विवाहिताएं निर्जला व्रत रखकर पूजा करती हैं, तो पति की दीर्घायु, सफलता और वैवाहिक जीवन की मंगल कामना करने पर स्त्रियों को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होगी।

हिंदू पंचांग के मुताबिक कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत रखने का नियम है। विवाहिताएं निर्जला व्रत रखते हुए भगवान चंद्र देव को अर्घ्य देती है। इसके बाद पति का दर्शन कर जल ग्रहण करते हुए अपना व्रत खोलती हैं। व्रत का प्रारंभ श्री गणेश का पूजन से होता है। इस बार के व्रत में करवा चौथ के दिन चंद्रमा पूरे दिन अपनी उच्च राशि, वृषभ में होगा।

Images/16-10-2019145841KarvaChauth2.JPG

ज्योतिषशास्त्र के मुताबिक वृष शुक्र की राशि है। इस राशि में चंद्रमा विशेष फलदायी होगा। ऐसे में करवा चौथ के व्रत का महत्व और भी अधिक हो जाता है। व्रत रखने पर वृष राशि दांपत्य और जीवन में प्रेम व सौंदर्य के स्वामी ग्रह शुक्र के घर में होगा। वृष राशि में चंद्रमा उच्च का हो जाता है। वहीं, उच्च का चंद्रमा होने तत्पर्य यह है कि सच्चे मन से व्रत रखने वाली विवाहिताओं को फल प्राप्ति अधिक होगी। बताते चलें कि चंद्रमा और शुक्र ज्याेतिष शास्त्र में सम हैं। इन दोनों की बीच ही शत्रुता और मित्रता दोनों ही नहीं है।

भारतीय ज्योतिष में गोचर का फल चंद्रमा के हिसाब से देखा जाता है, जिसमें इस बार खास संयोग बन रहा है। सबसे अहम बात ये है कि करवा चौथ के दिन चंद्रमा तीन दिन के अंतराल में अपनी प्रिय और सुंदर राशि वृष में रहेगा। इसके अलावा 70 साल बाद रोहिणी नक्षत्र और मंगल का विशेष संयोग भी बन रहा है। मार्कण्डेय और सत्यभामा योग भी बन रहा है, जो सुहागिनों के लिए विशेष लाभकारी रहेगा।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
SSP ने निरीक्षण में जानी अपने अभियान की असलियत, CO से मांगी रिपोर्ट चौकी प्रभारी को निलंबित करने का आदेश https://www.newstimes.co.in/news/82550/भारत/उत्तर-प्रदेश-/SSP-ne-nirikshan-me-jaani-apne-abhiyan-ki-asliyat-co-se-mangi-report-902979Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019142655SSPneniriksh2.jpeg' alt='Images/16-10-2019142655SSPneniriksh2.jpeg' />एसएसपी कलानिधी नैथानी द्वारा चलाए जा रहे अभियानों का किस तरह से मातहतों द्वारा मजाक बनाया जा रहा है इसकी खुद जिले के पुलिस कप्तान ने बुधवार को निरीक्षण के दौरान देख ली। एसएसपी द्वारा खुले में शराब पीने वालों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान को लेकर मिल रही शिकायतों पर जब एसएसपी अचानक थाना गाजीपुर अंतर्गत पॉलीटेक्निक पुलिस चौकी के पास पहुंचे तो नजारा होश उड़ाने वाला था। शराब ठेके और बीयर बार के निरीक्षण में पाया गया कि लोग बड़े आराम से बाहर खुले में खड़े होकर मदिरा का सेवन कर रहे थे। यह दृश्य भी उस दौरान था जब दोपहर का समय था। जिसके बाद एसएसपी ने मामले में चौकी इंचार्ज फिरोज आलम को निलंबित करने का आदेश दे दिया। 

SSP ने निरीक्षण में जानी अपने अभियान की असलियत, CO से मांगी रिपोर्ट चौकी प्रभारी को निलंबित करने का आदेश 

Lucknow. राजधानी ने एसएसपी कलानिधी नैथानी द्वारा चलाए जा रहे अभियानों का किस तरह से मातहतों द्वारा मजाक बनाया जा रहा है इसकी खुद जिले के पुलिस कप्तान ने बुधवार को निरीक्षण के दौरान देख ली। एसएसपी द्वारा खुले में शराब पीने वालों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान को लेकर मिल रही शिकायतों पर जब एसएसपी अचानक थाना गाजीपुर अंतर्गत पॉलीटेक्निक पुलिस चौकी के पास पहुंचे तो नजारा होश उड़ाने वाला था। शराब ठेके और बीयर बार के निरीक्षण में पाया गया कि लोग बड़े आराम से बाहर खुले में खड़े होकर मदिरा का सेवन कर रहे थे। यह दृश्य भी उस दौरान था जब दोपहर का समय था। जिसके बाद एसएसपी ने मामले में चौकी इंचार्ज फिरोज आलम को निलंबित करने का आदेश दे दिया। 

Images/16-10-2019142642SSPneniriksh1.jpegImages/16-10-2019142655SSPneniriksh2.jpeg

यह भी पढ़ें... कांग्रेस ने चला सबसे बड़ा दांव, सरकार को घेरने के लिए मैदान में उतारेगी यह दिग्गज

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
कानपुर: ट्रकों की आमने सामने भिड़ंत के बाद लगी आगhttps://www.newstimes.co.in/news/82548/भारत/उत्तर-प्रदेश-/कानपुर/-BADASSA--चिल्ला----जगदीशपुरा--जगनेर--फतेहगंज---बेकन-गंज---बसई-जगनेर--सदर-बाजार-Kanpur:-Fire-breaks-out-after-confrontation-of-trucks902977Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019141556KanpurFireb2.jpg' alt='Images/16-10-2019141556KanpurFireb2.jpg' />कानपुर-झांसी हाईवे पर आधी रात उस समय हड़कंप मच गया जब आपस में भिड़ंत के बाद दो ट्रक धूं धूं कर जलने लगे। व्यस्त मार्ग होने के चलते वहां कुछ ही देर में वाहनों की लंबी कतारे लग गयी। सूचना पर पहुंची दमकल ने दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इस दौरान दोनों लेन का ट्रैफिक किसी तरह एक लेन से गुजारा जाता रहा। दुर्घटनाग्रस्त ट्रकों के हटाए जाने के बाद मार्ग पर यातायात बहाल हो सका। 

कानपुर: ट्रकों की आमने सामने भिड़ंत के बाद लगी आग

Kanpur. कानपुर-झांसी हाईवे पर आधी रात उस समय हड़कंप मच गया जब आपस में भिड़ंत के बाद दो ट्रक धूं धूं कर जलने लगे। व्यस्त मार्ग होने के चलते वहां कुछ ही देर में वाहनों की लंबी कतारे लग गयी। सूचना पर पहुंची दमकल ने दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इस दौरान दोनों लेन का ट्रैफिक किसी तरह एक लेन से गुजारा जाता रहा। दुर्घटनाग्रस्त ट्रकों के हटाए जाने के बाद मार्ग पर यातायात बहाल हो सका। 

Images/16-10-2019141536KanpurFireb1.jpg

मिली जानकारी के अनुसार यह हादसा कानपुर झांसी हाईवे पर पिरौना के पास हुआ। बीती देर रात झांसी की ओर जा रहा एक ट्रक अचानक ड्राइवर को झपकी आने से दूसरी लेन में पहुंच गया। 
जिससे उसकी भिड़ंत सामने से आ रहे दूसरे ट्रक से हो गयी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि एक ट्रक का डीजल टैंक फटने से उसमें आग लग गयी। 
देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण करते हुए दोनों ट्रकों को अपनी चपेट में ले लिया। गिट्टी लदा ट्रक पलटने से उस पर सवार चालक और क्लीनजर घायल हो गए है। हादसे के बाद हाइवे पर भीषण जाम लग गया। 

Images/16-10-2019141556KanpurFireb2.jpg

सूचना मिलते ही पहुंची पुलिस ने दमकल को बुलाया। तकरीबन दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। 
इसके बाद पहले तो एक ही लेन से दोनों ओर के वाहनों किसी तरह निकाला जाता रहा। बाद में क्रेन मंगवाकर दोनों क्षतिग्रस्त ट्रक हटवाए गए तब जाकर हाइवे पर यातयात बहाल हो सका। 
घायल चालक और क्लीनर को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया है जबकि दूसरे ट्रक के चालक का पता लगाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें...साक्षी महाराज का बड़ा बयान, 6 दिसंबर से शुरू होगा मंदिर निर्माण

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#WorldFoodDay: भूख ही नहीं फास्ट फूड भी है सेहत बिगड़ने का कारण https://www.newstimes.co.in/news/82547/भारत/उत्तर-प्रदेश-/WorldFoodDay:-Not-only-is-hunger-fast-it-is-also-the-reason-for-deteriorating-health902976Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019151812R3vddU3zfU.jpg' alt='Images/16-10-2019151812R3vddU3zfU.jpg' />16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस (World Food Day) के रूप में दुनिया भर में मनाया जाता है।

#WorldFoodDay: भूख ही नहीं फास्ट फूड भी है सेहत बिगड़ने का कारण

Lucknow: 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस (World Food Day) के रूप में दुनिया भर में मनाया जाता है। इसी दिन संयुक्त राष्ट्र संघ में खाद्य व कृषि संगठन की स्थापना 1945 में हुई थी। इस अंतर्राष्ट्रीय संगठन का लक्ष्य है दुनिया से भुखमरी मिटाना। साल 2019 के वर्ल्ड फूड डे की थीम है –‘हमारे कार्य, हमारा भविष्य, जीरो हंगर के लिए हेल्दी डायट्स।’ विश्व भर जहां कुछ लोग भूख से बीमार और मर रहे है, तो वहीं कुछ लोग सेहत बिगड़ने वाला खाद्य पदार्थ खा कर अपनी सेहत खराब कर रहे है।

Images/16-10-2019151653KLRuJJLILy.pngImages/16-10-2019151812R3vddU3zfU.jpg
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
साक्षी महाराज का बड़ा बयान, 6 दिसंबर से शुरू होगा मंदिर निर्माणhttps://www.newstimes.co.in/news/82546/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Sakshi-Maharajs-big-statement-temple-construction-will-start-from-December-6902975Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019134227SakshiMaharaj1.jpg' alt='Images/16-10-2019134227SakshiMaharaj1.jpg' />अपने बयानों को लेकर चर्चाओं में बने रहने वाले भाजपा के फायर ब्रांड नेता व उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज राम मंदिर को लेकर बड़ी बात कही है। अपने बयान में उन्होंने न सिर्फ सुप्रीम कोर्ट का फैसला राम मंदिर पक्ष में आने की बात कही बल्कि यह भी कहा कि 6 दिसंबर से मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा। साक्षी महाराज का यह बयान ठीक उस समय आया है जब इस बहुप्रतीक्षित मामले की सुनवाई बिल्कुल अंतिम चरण में है और पूरे देश की निगाहें इस पर टिकी हैं। 

साक्षी महाराज का बड़ा बयान, 6 दिसंबर से शुरू होगा मंदिर निर्माण

Lucknow. अपने बयानों को लेकर चर्चाओं में बने रहने वाले भाजपा के फायर ब्रांड नेता व उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज राम मंदिर को लेकर बड़ी बात कही है। अपने बयान में उन्होंने न सिर्फ सुप्रीम कोर्ट का फैसला राम मंदिर पक्ष में आने की बात कही बल्कि यह भी कहा कि 6 दिसंबर से मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा। साक्षी महाराज का यह बयान ठीक उस समय आया है जब इस बहुप्रतीक्षित मामले की सुनवाई बिल्कुल अंतिम चरण में है और पूरे देश की निगाहें इस पर टिकी हैं। 

Images/16-10-2019134227SakshiMaharaj1.jpg

मालूम हो कि साक्षी महाराज ने राम मंदिर आंदोलन से ही अपने राजनीति का सफर शुरू किया था। उन्होंने अपने ताजा बयान में कहा कि एक म​हीने के अंदर राम मंदिर मुद्दे पर तस्वीर बिल्कुल साफ हो जाएगी। 
मेरी अंतरआत्मा कहती है कि फैसला राम मंदिर पक्ष में ही आएगा और ऐसा होना भी चाहिए। उन्होंने कहा कि अच्छी बात यह है कि हिंदू के साथ साथ मुस्लिमों का एक बड़ा वर्ग भी यही चाहता है। 
उन्होंने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड जिस पर इस मसले में पूरी तरह समर्थन में है ऐसे में कोर्ट का निर्णय आने पर मुस्लिम भाइयों का भी मैं आभार व्यक्त करूंगा। 
हिंदुओं के आराध्य भगवान श्री राम को जिस तरह सम्मान शिया वक्फ बोर्ड कर रहा है उसके लिए वे वाकई आभार के पात्र हैं। 
  मोदी और शाह की भी करी तारीफ
सांसद साक्षी महाराज ने कहा कि मोदी के नेतृत्व में गृह मंत्री अमित शाह ने जिस तरह से सौहार्दपूर्ण माहौल बनाया उसने धारा 370 और 35 ए की तरह राम मंदिर के पक्ष में आए निर्णय को भी सभी स्वीकार करेंगे। यह देश के इतिहास में एक मील का पत्थर साबित होगा। हिंदु और मुस्लिम दोनों मिलकर 6 दिसंबर से अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण करेंगे। 

यह भी पढ़ें...अयोध्या कांड: सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने राममंदिर का फाड़ा नक्शा

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
लालू की पार्टी तोड़ने की तैयारी में यह बागी नेता, कहा- आरजेडी के कई विधायक हमारे साथhttps://www.newstimes.co.in/news/82545/भारत/बिहार/पटना/RJD-MLA-Maheshwar-Yadav-hinted-at-joining-JDU902974Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1509<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019131849RJDMLAMahesh2.jpg' alt='Images/16-10-2019131849RJDMLAMahesh2.jpg' />लालू की गैर-मौजूदगी में पार्टी की कमान संभाल रहे तेजस्वी यादव के नेतृत्व के खिलाफ बगावत शुरू हो गयी। अब पार्टी के ही कुछ नेता आरजेडी को तोड़ने की तैयारी में हैं। दावा किया जा रहा है कि पार्टी को सक्षम नेतृत्व देने वाले नेता उपेक्षित हैं और कम योग्यता वाले नेता पार्टी चला रहे हैं। इस बात से नाराज कई विधायक जेडीयू में जाने की तैयारी कर रहे हैं। 

लालू की पार्टी तोड़ने की तैयारी में यह बागी नेता, कहा- आरजेडी के कई विधायक हमारे साथ

Patna. लालू की गैर-मौजूदगी में पार्टी की कमान संभाल रहे तेजस्वी यादव के नेतृत्व के खिलाफ बगावत शुरू हो गयी। अब पार्टी के ही कुछ नेता आरजेडी को तोड़ने की तैयारी में हैं। दावा किया जा रहा है कि पार्टी को सक्षम नेतृत्व देने वाले नेता उपेक्षित हैं और कम योग्यता वाले नेता पार्टी चला रहे हैं। इस बात से नाराज कई विधायक जेडीयू में जाने की तैयारी कर रहे हैं। 

Images/16-10-2019131719RJDMLAMahesh1.jpg

बता दें कि आरजेडी नेतृत्व पर सवाल खड़े करने वाले नेता कोई और नहीं बल्कि मुजफ्फरपुर के गायघाट सीट से विधायक महेश्वर यादव हैं। महेश्वर यादव का कहना है कि आरजेडी सही रास्ते पर नहीं चल रही है, इसलिए वह पार्टी के सभी कार्यक्रम से अलग रहते हैं। उन्होंने कहा कि सदस्यता अभियान में भी वह भाग नहीं ले रहे हैं। पार्टी भारी भटकाव की हालत में है। 

तेजस्वी यादव पर इशारों-इशारों में हमला बोलते हुए महेश्वर यादव ने कहा कि पार्टी को सक्षम नेतृत्व देने वाले नेता उपेक्षित हैं और कम योग्यता वाले नेता पार्टी चला रहे हैं, जिसके चलते पार्टी पर परिवारवाद हावी है। उन्होंने बगावत के संकेत देते हुए कहा कि उपचुनाव के बाद प्रदेश की राजनिति में बड़ा बदलाव हो सकता है। आरजेडी के अधिकतर विधायक उनके साथ हैं। 

Images/16-10-2019131849RJDMLAMahesh2.jpg

यह भी पढ़ें:-... तेजस्वी की सभा में बवाल करवाने में इस नेता का था हाथ, सामने आयी चौंकाने वाली सच्चाई

जेडीयू में जाने के दिये संकेत

इस दौरान महेश्वर यादव ने नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा कि देश भर के समाजवादी नेता नीतीश कुमार के नेतृत्व में आने को तैयार हैं। अपने जेडीयू में जाने का इशारा करते हुए अब्दुल बारी सिद्दिकी और रघुवंश सिंह के समर्थन का दावा किया।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
आखिर दारोगा ने क्या पूछा जो किशोरी ने लगा ली फांसी! https://www.newstimes.co.in/news/82543/भारत/उत्तर-प्रदेश-/कानपुर/-BADASSA--चिल्ला----जगदीशपुरा--जगनेर--फतेहगंज---बेकन-गंज---बसई-जगनेर--सदर-बाजार-After-all-what-did-the-inspector-ask-the-teenager-committed-suicide902972Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019124823Afterall,wha2.jpg' alt='Images/16-10-2019124823Afterall,wha2.jpg' />यूपी के फर्रूखाबाद में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जहां एक किशोरी ने संदिग्ध हालातों में फांसी लगा ली। इस घटना से ठीक कुछ देर पहले एक दारोगा उससे पूछताछ करने आया था। दरअसल चार माह पूर्व लापता हुई किशोरी को डेढ़ माह पहले ही पुलिस ने बरामद किया था। जिसमें आरोपी के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर उसे जेल भेजा जा चुका है। मामला क्या है यह तो जांच का विषय है लेकिन दारोगा की भूमिका को संदेह में रखते हुए यह घटना क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी है। 

आखिर दारोगा ने क्या पूछा जो किशोरी ने लगा ली फांसी! 

Kanpur. यूपी के फर्रूखाबाद में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जहां एक किशोरी ने संदिग्ध हालातों में फांसी लगा ली। इस घटना से ठीक कुछ देर पहले एक दारोगा उससे पूछताछ करने आया था। दरअसल चार माह पूर्व लापता हुई किशोरी को डेढ़ माह पहले ही पुलिस ने बरामद किया था। जिसमें आरोपी के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर उसे जेल भेजा जा चुका है। मामला क्या है यह तो जांच का विषय है लेकिन दारोगा की भूमिका को संदेह में रखते हुए यह घटना क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी है। 

Images/16-10-2019124823Afterall,wha2.jpg

मिली जानकारी के मुताबिक फर्रूखाबाद शहर कोतवाली क्षेत्र के एक मोहल्ले की रहने वाली 14 वर्षीय किशोरी को बीते चार माह पूर्व तलैया फजल इमाम मोहल्ले का रहने वाला गोपाल कश्यप नाम का युवक बहला फुसला कर भगवा ले गया था। 
इस मामले की छानबीन कर रही पुलिस ने डेढ माह पूर्व किशोरी को बरामद कर लिया था। जबकि आरोपी युवक का आरोप पत्र दाखिल करते हुए उसे जेल भेज दिया था। 
इसी किशोरी ने मंगलवार देर रात संदिग्ध हालातों में दुपट्टे से फांसी लगाकर जीवन लीला समाप्त कर ली। सुबह उसका शव लटकता देख परिजनों में हड़कंप मच गया। पुताई का काम करने वाले पिता ने बताया कि वह काम पर था। उसने बताया कि सदर कोतवाली से एक दारोगा बेटी से पूछताछ करने आया था। 
उसी के बाद बेटी ने फांसी लगा ली। दारोगा ने ऐसा क्या पूछा कि किशोरी ने आत्मघाती कदम उठा लिया इस सवाल पर बेबस पिता निरूत्तर है। 
इस संबंध में दारोगा ने सफाई देते हुए कहा कि उधर से गुजरते समय यूं ही हालचाल लेने के लिए वह आया था वह कोई पूछताछ करने नहीं आया था। 
इस मामले में फर्रूखाबाद के पुलिस अधीक्षक से हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि आरोप पत्र के बाद ​पूछताछ का कोई औचित्य ही नहीं बनता। इस मामले की जांच कराई जाएगी अगर दोष सिद्ध होता है कार्रवाई की जाएगी। 

यह भी पढ़ें...हरियाणा: यहां भाजपा प्रत्याशी की कार में आग लगने से मचा हड़कंप, कई झुलसे

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
स्कूलों में उगाई जाएंगी सब्जियां, केन्द्र सरकार ने इसलिए तैयार किया प्लानhttps://www.newstimes.co.in/news/82542/भारत/Vegetables-will-be-grown-in-schools-the-central-government-has-prepared-a-plan902971Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019124200Vegetableswil1.jpg' alt='Images/16-10-2019124200Vegetableswil1.jpg' />देश में बढ़ती महंगाई और सब्जियों की मार और बच्चों को कुपोषण से दूर करने के लिए केंद्र सरकार ने नई योजना तैयार की है। सरकार ने निर्देश जारी किया है कि अब स्कूलों में भी सब्जियां उगानी पड़ेगी। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय इसके लिए निर्देश दिया है। सब्जियों को उगाने का काम शहरी और ग्रामीण दोनों ही इलाकों के स्कूलों को करना होगा।

स्कूलों में उगाई जाएंगी सब्जियां, केन्द्र सरकार ने इसलिए तैयार किया प्लान

New Delhi. देश में बढ़ती महंगाई और सब्जियों की मार और बच्चों को कुपोषण से दूर करने के लिए केंद्र सरकार ने नई योजना तैयार की है। सरकार ने निर्देश जारी किया है कि अब स्कूलों में भी सब्जियां उगानी पड़ेगी। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय इसके लिए निर्देश दिया है। सब्जियों को उगाने का काम शहरी और ग्रामीण दोनों ही इलाकों के स्कूलों को करना होगा।

Images/16-10-2019124200Vegetableswil1.jpg

मंत्रालय का कहना है कि स्कूल में पढ़ रहे बच्चों को हरी सब्जियां मिल सके इसके लिए यह कदम उठाया जा रहा है। इससे बच्चों में कुपोषण को दूर करने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही  छात्रों के बीच व्यवहारिक शिक्षा को बढ़ावा देने में भी सहायता मिलेगी।

यह भी कहा गया है कि स्कूलों अपने परिसरों में एक स्कूल न्यूट्रिशन (किचन) गार्डन तैयार करेंगे। इस काम के लिए देश भर के स्कूल विभिन्न सरकारी विभागों और संस्थाओं से तकनीकी, ढांचागत व अन्य सहायता ले सकते हैं। इससे छात्रों को कुछ नया सीखने को भी मिलेगा।

यह भी पढ़ें... कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

मंत्रालय ने यह भी बताया है कि इन गार्डन्स से जलवायु परिवर्तन के हानिकारक प्रभावों को कम करने में मदद मिलेगी। किचन गार्डन बनने के बाद जो पौधे उगाए जाएंगे वह पर्यावरण से कार्बन की मात्रा कम करने में मददगार होंगे। 

सभी स्कूलों में सब्जियां उगाने पर इसका अधिक आयात नहीं करना होगा। बताते चलें कि देश भर में लगभग 11.75 लाख सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूल संचालित किए जा रहे हैं। यदि हर स्कूलों में इस दिशा निर्देश का पालन किया जाता है तो पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यह खास योजना तैयार कर इस पर काम करने वाला पहला देश भारत ही नहीं है, फिनलैंड मे यह कार्यक्रम पहले से चलाया जा रहा है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
विवाहिता से हैवानियत की हदें पार, अपहरण कर पांच दिनों तक गैंगरेपhttps://www.newstimes.co.in/news/82541/भारत/Married-woman-crosses-limits-of-abduction-kidnapped-and-gang-raped-for-five-days902970Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019123433Marriedwoman1.jpg' alt='Images/16-10-2019123433Marriedwoman1.jpg' />महिलाओं से गैंगरेप जैसी घिनौनी वारादातें रुकने का नाम नहीं ले रही है। आए दिन अपराधी अपनी हैवानियत भरे मनसूबों को अंजाम दे रहे हैं। बागपत के एक गांव में एक महिला और उसके दो बेटों ने ऐसी घिनौनी वारदात को अंजाम दिया कि सच्चाई जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी। 

विवाहिता से हैवानियत की हदें पार, अपहरण कर पांच दिनों तक गैंगरेप

New Delhi. महिलाओं से गैंगरेप जैसी घिनौनी वारादातें रुकने का नाम नहीं ले रही है। आए दिन अपराधी अपनी हैवानियत भरे मनसूबों को अंजाम दे रहे हैं। बागपत के एक गांव में एक महिला और उसके दो बेटों ने ऐसी घिनौनी वारदात को अंजाम दिया कि सच्चाई जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी। 

Images/16-10-2019123433Marriedwoman1.jpg

दिल्ली में गांव की ही एक लड़की की ससुराल जाकर लूट की वारदात को अंजाम दिया गया। इसके बाद कोल्डड्रिंक में नशा देकर उसका अपहरण कर लिया। आरोप है कि एक भाई ने अपने दोस्तों के साथ पांच दिनों तक बंधक बनाकर गैंगरेप किया। इसके बाद जब युवती बदहवाश हो गई तो आरोपी विवाहिता को जंगल के पास फेंककर भाग निकले। गत मंगलवार को पीड़िता किसी तरह मायके वालों के साथ थाने पहुंची और पुलिस को तहरीर दी।

यह भी पढ़ें... कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

खबरों के मुताबिक खेकड़ा क्षेत्र के एक गांव के युवती की शादी दिल्ली निवासी युवक से हुई थी। विवाहिता ने आरोप लगाया है कि गत सात अक्तूबर को गांव की ही एक जान पहचान की महिला अपने दो बेटों के साथ उसके ससुराल दिल्ली आई। उसके घर में उस समय कोई नहीं था। आरोपी महिला ने विवाहिता से पहले कुछ देर तक बातचीत की। इसके बाद उसके बेटों ने कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ पिलाकर बेहोश कर दिया। आरोपी महिला का सोने का कुंडल, सोने के दो लॉकेट, एक अंगूठी, गले के दो सेट, दो झुमकी समेत 30 हजार रुपए लूट लिए।

खबरों के मुताबिक आरोपी मां और उसका एक बेटा सामान लूट कर फरार हो गए। वहीं, दूसरा बेटा पीड़िता को लेकर नशे की हालत में अलीगढ़ ले गया। इसके बाद अपने दोस्तों से मिलकर गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया।

यही नहीं दरिंदों ने अश्लील वीडियो भी बना लिया और किसी से भी कुछ बताने पर धमकी दी। पांच दिनों तक गैंगरेप करने के बाद पीड़िता को फेंककर फरार हो गए। किसी तरह बदहवास हालत में पीड़िता विवाहिता अपने मायके पहुंची और आपबीती सुनाई। इसके बाद पीड़िता के परिजन खेकड़ा कोतवाली पहुंचे और आरोपियों के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
कांग्रेस ने चला सबसे बड़ा दांव, सरकार को घेरने के लिए मैदान में उतारेगी यह दिग्गज https://www.newstimes.co.in/news/82538/भारत/उत्तर-प्रदेश-/bjp-ke-gherne-ke-liye-congress-maidan-me-utaregi-manmohan-singh-ko-902967Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019120251bjpkegherne1.jpg' alt='Images/16-10-2019120251bjpkegherne1.jpg' />.

कांग्रेस ने चला सबसे बड़ा दांव, सरकार को घेरने के लिए मैदान में उतारेगी यह दिग्गज 

Lucknow. अर्थव्यवस्था के मोर्चे को लेकर कांग्रेस ने एक बार फिर केंद्र की भाजपा सरकार को घेरने की रणनीति तैयार की है। इस कड़ी में बड़ा दांव खेलते हुए इस बार कांग्रेस की ओर  से पूर्व पीएम और अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह को आगे लाने का निर्णय किया गया है। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की ही अगुवाई में इस बार सरकार की नीतियों का विरोध कांग्रेस की ओर से किया जाएगा। 

Images/16-10-2019120251bjpkegherne1.jpg

यह भी पढ़ें...  25 हजार होमगार्ड स्वंय सेवकों की तैनाती तत्कालिक प्रभाव से समाप्त
प्राप्त जानकारी के मुताबिक पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का यह कार्यक्रम देश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई में रखा गया है। बता दें कि महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को ही विधानसभा का चुनाव होना है। जिसकी मतगणना 24 अक्टूबर को होगी। इसी बीच गुरुवार को मनमोहन सिंह मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम के गरवारे क्लब में संबोधित करेंगे। प्रेस को संबोधित करने के दौरान पूर्व पीएम राज्य के कुछ प्रमुख व्यक्तियों से मुलाकात भी करेंगे, जिनकी सूची को अंतिम रूप दिया जा रहा है। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
हरियाणा: यहां भाजपा प्रत्याशी की कार में आग लगने से मचा हड़कंप, कई झुलसेhttps://www.newstimes.co.in/news/82536/भारत/हरियाणा/Haryana:-A-fire-broke-out-in-BJP-candidates-car-here-many-scorched902965Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019112311HaryanaAfir2.jpg' alt='Images/16-10-2019112311HaryanaAfir2.jpg' />हरियाणा विधानसभा चुनाव में नूंह सीट से भाजपा प्रत्याशी की गाड़ी में अचानक आग लगने से आधा दर्जन कार्यकर्ता झुलस गए। इसके साथ ही गाड़ी में रखी प्रचार सामग्री भी जलकर स्वाहा हो गयी। कार्यकर्ताओं को नलहड़ मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। फिलहाल सभी का हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि गाड़ी की छत पर बैठ कर आतिशबाजी करने के दौरान यह हादसा हुआ। 

हरियाणा: यहां भाजपा प्रत्याशी की कार में आग लगने से मचा हड़कंप, कई झुलसे

- नूंह विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी की थी गाड़ी
- छत पर बैठ कर आतिशबाजी करते समय हुआ हादसा

New Delhi. हरियाणा विधानसभा चुनाव में नूंह सीट से भाजपा प्रत्याशी की गाड़ी में अचानक आग लगने से आधा दर्जन कार्यकर्ता झुलस (Worker Scorched) गए। इसके साथ ही गाड़ी में रखी प्रचार सामग्री भी जलकर स्वाहा हो गयी। कार्यकर्ताओं को नलहड़ मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। फिलहाल सभी का हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि गाड़ी की छत पर बैठ कर आतिशबाजी (Fireworks) करने के दौरान यह हादसा हुआ। 

Images/16-10-2019112215HaryanaAfir1.jpg

 

मिली जानकारी के मुताबिक नूंह विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी चौधरी जाकिर हुसैन की स्कार्पियो गाड़ी संख्या एचआर 41 बी 0002 से उनके कुछ कार्यकर्ता बीती रात प्रचार के लिए निकले थे। गाड़ी में प्रचार सामग्री भी रखी थी। 
इस दौरान प्रत्याशी के कार्यकर्ता गाड़ी की छत पर बैठकर आतिशबाजी (Fireworks) करने लगे। इसकी चिंगार गाड़ी के अंदर रखी प्रचार सामग्री पर गिरी तो आग भड़क उठी। 
धूं धूं कर जलती गाड़ी में प्रचार सामग्री के साथ रखे पटाखों ने आग में घी का काम कर दिया। 
अचानक हुई इस घटना में उनके कुछ कार्यकर्ता भी झुलस (Worker Scorched) गए। बता दें कि चौधरी जाकिर हुसैन निवर्तमान विधायक भी हैं। 

Images/16-10-2019112311HaryanaAfir2.jpg

इन सभी कार्यकर्ताओं को उपचार के लिए नलहड़ स्थित मेवाती मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। डॉक्टरों के मुताबिक सभी की हालत खतरे से बाहर है। 
इस विधानसभा चुनाव में नूंह विधानसभा कुछ ज्यादा ही सुर्खियां बटोर रही है। इससे पहले कई जगह नेताओं के समर्थकों की आपस बहस हो चुकी है वहीं कई जगह पर रौब गांठने के इरादे से फायरिंग की बाते भी सामने आयी हैं। 
फिलहाल भाजपा प्रत्याशी की प्रचार गाड़ी में आग लगने की इस घटना को लेकर प्रशासनिक अमला खासा चौकन्ना है। मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी गयी है। 

यह भी पढ़ें...अनंतनाग मुठभेड़: सुरक्षाबलों ने हिजबुल कमांडर समेत तीन आतंकियों को किया ढेर

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
RRB NTPC भर्ती परीक्षा के लिए करना होगा इंतजार, एजेंसी की तलाशhttps://www.newstimes.co.in/news/82537/भारत/Must-wait-for-RRB-NTPC-recruitment-exam-seek-agency902966Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019120328Mustwaitfor1.jpg' alt='Images/16-10-2019120328Mustwaitfor1.jpg' />रेलवे भर्ती बोर्ड की नॉल टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (NTPC) भर्ती परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को अभी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए तिथि की घोषणा को लेकर लंबे समय से उत्साह बना हुआ था। लेकिन यह उत्साह नई सूचना के बाद कम पड़ गयाा है।

RRB NTPC भर्ती परीक्षा के लिए करना होगा इंतजार, एजेंसी की तलाश

New Delhi. रेलवे भर्ती बोर्ड की नॉन टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (NTPC) भर्ती परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को अभी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए तिथि की घोषणा को लेकर लंबे समय से उत्साह बना हुआ था। लेकिन यह उत्साह नई सूचना के बाद कम पड़ गयाा है। बताते चलें कि संभावना जताई जा रही थी कि पहले चरण की कंप्यूटर आधारित परीक्षा (CBT-1) जून से सितंबर 2019 के बीच आयोजित हो सकती है। लेकिन रेलवे बोर्ड ने इसे स्थगित कर दिया है।

Images/16-10-2019120328Mustwaitfor1.jpg

रेलवे अधिकारियों ने कहा है कि बोर्ड जूनियर इंजीनियर (RRB JE) के साथ ही अन्य परीक्षाओं को आयोजित कराया जाना है। भर्ती परीक्षाओं को लेकर बोर्ड काफी व्यस्त है।

इस संबंध में बोर्ड ने एक सूचना जारी करते हुए कहा कि अभी तक परीक्षा की तारीखों के संबंध में कुछ भी निर्धारित नहीं किया गया है। तारीखें तय होते ही इस की जानकारी आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड कर दी जाएगी।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे भर्ती बोर्ड परीक्षा कराने के लिए किसी नई एजेंसी की तलाश कर रहा है। ऐसे में एनटीपीसी भर्ती परीक्षा जल्द कराया जाएगा इसकी संभावना कम ही नजर आ रही है। खबरों के मुताबिक रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक बोर्ड ने एक समिति बनाई है।

यह समिति भर्ती परीक्षाओं का आयोजन करने वाली संस्थाओं की पहचान व चयन को लेकर कार्य करेगी। इसमें एक महीने से भी अधिक का समय लग सकता है। गौरतलब है कि आरआरबी NTPC में कुल 35,277 पदों पर भर्तियां होनी है। इंटरमीडिएट पास अभ्यर्थियों के लिए कुल पदों की संख्या 10,628 हैं। वहीं, स्नातक अभ्यर्थियों के के लिए कुल पदों की संख्या 24,649 हैं।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
एयर इंडिया पर फिर गहराया संकट, तेल आपूर्ति रोकने की धमकीhttps://www.newstimes.co.in/news/82535/भारत/Air-India-crisis-again-threatens-to-stop-oil-supply902964Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019110357AirIndiacris1.jpg' alt='Images/16-10-2019110357AirIndiacris1.jpg' />एयर इंडिया (air india) मुश्किलें रुकती  नजर नहीं आ रही है। इंडियन ऑयल के बाद अब अन्य कंपनियों ने तेल आपूर्ति रोक देने की चेतावनी दी है। तेल कंपनियों का आरोप है कि एयर इंडिया ने वादा करने के बाद भी भुगतान नहीं किया।

एयर इंडिया पर फिर गहराया संकट, तेल आपूर्ति रोकने की धमकी

New Delhi. एयर इंडिया (air india) मुश्किलें रुकती  नजर नहीं आ रही है। इंडियन ऑयल के बाद अब अन्य कंपनियों ने तेल आपूर्ति रोक देने की चेतावनी दी है। तेल कंपनियों का आरोप है कि एयर इंडिया ने वादा करने के बाद भी भुगतान नहीं किया। कंपनियों ने गत मंगलवार को यह बताया कि हर महीने 100 करोड़ रुपए का भुगतान करने को कहा था, लेकिन इस वादो को पूरा नहीं किया जा रहा। यही नहीं भुगतान नहीं कर पाने की कोई ठोस वजह भी नहीं बताई जा रही। कंपनी पर कुल बकाया 5,000 करोड़ पहुंच गया है।

Images/16-10-2019110357AirIndiacris1.jpg

इंडियन ऑयल के निदेशक (वित्त) संदीप कुमार गुप्ता के अनुसार एयर इंडिया कंपनी ने तेल कंपनियों से वादा किया था कि हर महीने 100 करोड़ रुपए का भुगतान करेगी। जिससे एविएशन टरबाइन फ्यूल (एटीएफ) के पुराने कर्ज को चुका दिया जाए। लेकिन यह हैरान करने वाली बात है कि वादे के बाद भी कंपनी उस पर अमल नहीं कर रही।

यह भी पढ़ें... बैकफुट पर योगी सरकार, मंत्री बोले नहीं जाएगी होमगार्ड की नौकरी

खबरों के मुताबिक आईओसी के साथ बीपीसीएल और एचपीसीएल ने भी एयर इंडिया को नोटिस जारी किया है। नोटिस में साफ कहा गया है कि यदि बकाया रुपयों का भुगतान नहीं किया गया तो तेल आपूर्ति रोक दी जाएगी। कंपनी पर आईओसी का 2,700 करोड़ रुपये बकाया है। जिसमें 450 करोड़ का केवल ब्याज शामिल है। बता दें कि एयर इंडिया आईओसी से प्रतिदिन 13-14 करोड़ का तेल खरीद करती है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
बैकफुट पर योगी सरकार, मंत्री बोले नहीं जाएगी होमगार्ड की नौकरीhttps://www.newstimes.co.in/news/82530/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Yogi-government-on-backfoot-minister-said-no-home-guard-will-loose-his-job902959Wed, 16 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/16-10-2019092451Yogigovernmen2.jpg' alt='Images/16-10-2019092451Yogigovernmen2.jpg' />प्रदेश के 25 हजार होमगार्ड  की ड्यूटी खत्म करने के मामले में प्रदेश की योगी सरकार बैकफुट पर नजर आ रही है। होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान ने इस मामले में बयान जारी कर कहा है कि किसी भी होमगार्ड को निकाला नहीं जाएगा। अपने सीमित बजट पर पुलिस 17000 होमगार्ड्स को रख सकती है शेष 8000 को मुख्यालय से ड्यूटी दी जाएगी। 

बैकफुट पर योगी सरकार, मंत्री बोले नहीं जाएगी होमगार्ड की नौकरी

Lucknow. प्रदेश के 25 हजार होमगार्ड  की ड्यूटी खत्म करने के मामले में प्रदेश की योगी सरकार बैकफुट पर नजर आ रही है। होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान ने इस मामले में बयान जारी कर कहा है कि किसी भी होमगार्ड को निकाला नहीं जाएगा। अपने सीमित बजट पर पुलिस 17000 होमगार्ड्स को रख सकती है शेष 8000 को मुख्यालय से ड्यूटी दी जाएगी। 

Images/16-10-2019092413Yogigovernmen1.jpg

मालूम हो कि सोमवार को बजट का हवाला देकर प्रदेश की कानून व्यवस्था में ड्यूटी करने वाले 32 प्रतिशत होमगार्डों की ड्यूटी में कटौती करने का आदेश जारी हुआ था। इस संबंध में एडीजी ने आदेश जारी किया था जिसमें 25 हजार होगार्ड की सेवाएं समाप्त करने की बात कही गयी थी। 
बीती 28 अगस्त को मुख्य सचिव की बैठक में इस कटौती का फैसला लिया गया था। बता दें कि धीरे धीरे कर अब तक सूबे में 40 हजार होमगार्ड्स की सेवाएं समाप्त की जा चुकी है। 

Images/16-10-2019092515Yogigovernmen3.jpg

दीपावली के पर्व से पहले जहां सभी कर्मचारी बोनस की बाट जोहते है ऐसे में इतनी बड़ी संख्या में होमगार्ड्स को नौकरी से निकालने के फरमान पर योगी सरकार की घेराबंदी शुरू हो गयी थी। 
इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार अब इस फैसले से यूटर्न ले चुकी है। जिसकी पुष्टि होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान ने की। 
उन्होंने कहा कि किसी भी होमगार्ड की सेवा समाप्त नहीं की जाएगी। इस समस्या का हल निकालने के लिए सीमित जवान और कम ड्यूटी वाला फार्मूला लागू किया जाएगा।

Images/16-10-2019092451Yogigovernmen2.jpg

आगामी 31 मार्च से सभी होमगार्ड को नए मानदेय के हिसाब से ड्यूटी दी जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगल बजट में इस समस्या से निपटने के लिए होमगार्ड और पुलिस बजट बढ़ाया जाएगा। 
त्योहार के पहले नौकरी गंवाने के संकट से घिरे यूपी के इन 25000 मायूस होमगार्ड के लिए मंत्री का यह बयान काफी राहत पहुंचाने वाला है। 

यह भी पढ़ें...एएमयू: छात्र की संदिग्ध मौत पर हुआ बवाल

 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
श्रीमद भागवत कथा श्रवण करने से मानसिक विकारों का होता है नाश : श्याम नंन्दन सिंहhttps://www.newstimes.co.in/news/82527/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Listening-to-Shrimad-Bhagwat-Katha-kills-mental-disorders:-Shyam-Nandan-Singh902956Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019191017ListeningtoS3.jpg' alt='Images/15-10-2019191017ListeningtoS3.jpg' /> कार्यक्रम के शुभारम्भ के बाद श्यामनन्दन सिंह ने कथा व्यास श्री अतुल जी महराज को अंगवस्त्र भेंट कर स्वागत किया।

श्रीमद भागवत कथा श्रवण करने से मानसिक विकारों का होता है नाश : श्याम नंन्दन सिंह

Lucknow: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के जानकीपुरम स्थित गोमती लान सेंट मैरी हॉस्पिटल के पीछे कुर्सी रोड पर मंगलवार, 15 से 23 अक्टूबर तक आयोजित श्रीमद भगवत कथा का शुभारम्भ उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के अध्यक्ष श्यामनन्दन सिंह और कथा व्यास श्री अतुल जी महराज रामायणी ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम के शुभारम्भ के बाद श्यामनन्दन सिंह ने कथा व्यास श्री अतुल जी महराज को अंगवस्त्र भेंट कर स्वागत किया।

Images/15-10-2019190908ListeningtoS1.jpg

उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए श्याम नन्दन ने श्रद्धालुओं से कहा कि श्रीमद भागवत कथा श्रवण करने से मानसिक विकारों का नाश होता है।  उन्होंने कहा कि भागवत कथा श्रवण से मानव को मुक्ति मिल सकती है। इस तरह के आयोजन से समाज में शांति, खुशहाली का वातावरण कायम होता है। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण बचपन में अपने लिए नहीं, बल्कि अपनी बाल सखा के लिए माखन चोरी करते थे। उन्होंने कहा कि जब किसी क्षेत्र का पुण्योदय होता है तभी वहां भागवत कथा कही जाती है। भागवत कथा मोक्षप्रदायिनी है। इसे श्रद्धालुओं को श्रवण कर अपने जीवन में उतारने की जरूरत है।

Images/15-10-2019190936ListeningtoS2.jpg

उद्घाटन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद कथावाचक श्री अतुल जी महराज रामायणी ने श्रद्धालुओं को भागवत कथा का मर्म, उसके श्रवण से होने वाले लाभ के बारे में विस्तार से बताया। कथा व्यास- श्री अतुल जी महराज रामायणी ने भागवत कथा के पहले दिन कहा कि भगवान परीक्षा से नहीं प्रतीक्षा से प्राप्त होते है। उन्होंने कहा कि जिस इंसान के अंदर धैर्य होता है उसे हर चीज प्राप्त होती है, वह चाहे ईश्वर ही क्यूं न हो। महराज जी ने कहा कि राजा दशरथ और शबरी ने प्रतिक्षा करके पी भगवान को पाया था।

Images/15-10-2019191017ListeningtoS3.jpg

उन्होंने कहा कि भागवत कथा वेद रूपी कल्प वृक्ष का पका फल है। जिसमें रस ही रस भरा हुआ है। ऐसे भागवत कथा का रसपान कर सभी जीवों को मोक्ष प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति अपने माता-पिता का अपमान करता है, वह मरने के बाद प्रेत योनि में जन्म लेता है।  कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में यूनाइट फाउण्डेशन के अध्यक्ष पी.के त्रिपाठी, उपाध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित, सनातन ज्ञान पीठ के संस्थापक योगेश कुमार मिश्र आदि लोग मौजूद थे। कार्यक्रम के आयोजन मंण्डल में अध्यक्ष अरविंद चन्द्र मन्ना, उपाध्यक्ष सुनील सिंह, उपाध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद, संयोजक सुरेश यादव, महासचिव शरद मिश्र, सहसंयोजक दिलीप यादव,  सहसंयोजक जयप्रकाश और कोषाध्यक्ष नीतीश वाजपेयी आदि लोग शामिल है। 


 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
आंध्र प्रदेश में दर्दनाक सड़क हादसा,8 की मौत -कई घायलhttps://www.newstimes.co.in/news/82524/भारत/आंध्र-प्रदेश/Tragic-road-accident-in-Andhra-Pradesh-8-killed---many-injured902953Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP97<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019180339Tragicroadac1.jpg' alt='Images/15-10-2019180339Tragicroadac1.jpg' />.

आंध्र प्रदेश में दर्दनाक सड़क हादसा,8 की मौत -कई घायल

Hyderabad. आंध्र प्रदेश में मंगलवार को दर्दनाक सड़क हादसा हो गया है। आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले में यात्रियों से भरी बस पलट गई है। ​इस हादसे में 8 लोगों की मौत हो गई जबकि कई अन्य घायल हुए हैं।

Images/15-10-2019180339Tragicroadac1.jpg

घटना मारेदुमिली और चिंतूर के बीच घटित हुई है

आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले के मारेदुमिली और आदिवासी क्षेत्र चिंतूर घाट रोड पर वाल्मीकि कोंडा के पास यात्रियों से भरी बस खाई में पलट गई। आस—पास वालों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर गोदावरी जिले के पुलिस अधीक्षक अदनान नईम अस्मी ने कहा हादसे की पुष्टि की। पुलिस अधीक्षक अदनान नईम अस्मी ने कहा कि हादसे में 8 की मौत हो गई जबकि कई घायल हो गए हैं। अधीक्षक ने बताया कि मृत की संख्या का आंकड़ा बढ़ सकता है। वहीं घायलों को ​पास के अस्पताल में भर्ती कराया है।  

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
इंटरनेशनल चाइल्ड पोर्न रैकेट का भंडाफोड़, 7 पर केस दर्जhttps://www.newstimes.co.in/news/82523/भारत/International-child-porn-racket-busted-case-filed-on-7902952Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019173947International1.jpg' alt='Images/15-10-2019173947International1.jpg' />जर्मनी पुलिस ने एक अंतरराष्ट्रीय चाइल्ड पोर्न रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए बड़ी सफलता हासिल की है। बताया जा रहा कि इस रैकेट के तार भारत से जुड़े हुए हैं। जर्मन पुलिस की इस सफलता के बाद भारतीय सीबीआई ने सात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है।  

इंटरनेशनल चाइल्ड पोर्न रैकेट का भंडाफोड़, 7 पर केस दर्ज

New Delhi. जर्मनी पुलिस ने एक अंतरराष्ट्रीय चाइल्ड पोर्न रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए बड़ी सफलता हासिल की है। बताया जा रहा कि इस रैकेट के तार भारत से जुड़े हुए हैं। जर्मन पुलिस की इस सफलता के बाद भारतीय सीबीआई ने सात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है।  

Images/15-10-2019173947International1.jpg

खबरों के मुताबिक, सभी आरोपी व्हाट्सएप ग्रुप के सदस्य हैं। यह ग्रुप व्हाट्सएप पर बच्चों की गंदी तस्वीरों को साझा करती थी। सात लोग ग्रुप के मेंबर थे। अपराधिक मामले को रोकने के लिए जर्मनी की फेडरल पुलिस ने योजना तैयार की थी।

इसके बाद जर्मन पुलिस ने इसका खुलासा भी कर दिया। यह बड़ा खुलासा होने के बाद पुलिस इस तरह के चलने वाले ग्रुपों पर नकेल कसने की तैयारी में तेजी से जुट गई है। सीबीआई की एफआईआर के मुताबिक जर्मन पुलिस ने सैशे ट्रेपकी नाम का आरोपी मामले में के गिरफ्तार किया गया था।

जब पुलिस ने जांच शुरू की तो उसे दोषी पाया गया और 5 साल की सजा सुनाई गई। एफआईआर के मुताबिक जांच करते हुए जर्मन पुलिस ने आरोपी के घर पर रेड मार दी। यहां पुलिस को कई संदिग्ध सामग्रियां बरामद हुई। बच्चों के पोर्न से जुड़े पिक्चर और वीडियो भी बरामद कर लिए गये। आरोपी से पूछताछ में सच सामने आया कि आरोपी इससे जुड़े 29 व्हाट्सअप ग्रुप चला रहा था।

यह भी पढ़ें... एक भी बालिका विद्यालय जाने से वंचित न रहे: स्वाती सिंह

खबरों के मुताबिक सभी 29 व्हाट्सअप ग्रुप पर 483 लोग सक्रिय थे। इनमें 7 भारतीय भी शामिल थे। सभी 7 आरोपियों के खिलाफ सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर लिया है। आरोपियों के नाम विनोत काना, जुहेब अली, खोजेमा एच, राकेश कुमार, अभिषेक कुमार त्रिपाठी, जयदीप रॉय और रहीस हैं। भारतीय सीबीआई ने मामले को लेकर जांच शुरू कर दी है। शुरुआती जांच में  आरोप सही पाए गए हैं। जल्द ही सीबीआई आरोपियों को गिरफ्तार कर सकती है।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
एक टेस्ट संवार देगी आपकी जिंदगी, पास करने पर मिलेगी नौकरीhttps://www.newstimes.co.in/news/82522/भारत/A-test-groom-will-give-your-life-you-will-get-a-job-if-you-pass902951Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019172350Atestgroomw1.JPG' alt='Images/15-10-2019172350Atestgroomw1.JPG' />MFL TAT में कई पदों पर भर्तियां होने जा रही है। यह भर्तियां 62 तकनीकी सहायक प्रशिक्षु के पदों पर होनी है। इसके लिए अभ्यर्थी 16 अक्टूबर तक आवेदन कर सकेंगे। निर्धारित अवधि के भीतर ही अभ्यर्थियों को आवेदन करना होगा।

एक टेस्ट संवार देगी आपकी जिंदगी, पास करने पर मिलेगी नौकरी

Lucknow. MFL TAT में कई पदों पर भर्तियां होने जा रही है। यह भर्तियां 62 तकनीकी सहायक प्रशिक्षु के पदों पर होनी है। इसके लिए अभ्यर्थी 16 अक्टूबर तक आवेदन कर सकेंगे। निर्धारित अवधि के भीतर ही अभ्यर्थियों को आवेदन करना होगा।

Images/15-10-2019172350Atestgroomw1.JPG

बताते चलें कि पद का नाम तकनीकी सहायक प्रशिक्षु (TAT) / लैब विश्लेषक प्रशिक्षु (LAT) है। वेतन 20000 रुपए प्रति महीने मिलेगी। आवेदन के लिए अभ्यर्थियों की अधिकतम आयु 25 वर्ष निर्धारित है। आवेदन शुल्क जनरल व ओबीसी को 300 रुपए देय होंगे। वहीं,महिलाओं, एससी, एसटी, पीडब्ल्यूडी को कोई शुल्क नहीं देना होगा।

यह भी पढ़ें... एक भी बालिका विद्यालय जाने से वंचित न रहे: स्वाती सिंह

अभ्यर्थी शुल्क का भुगतान एसबीआई की नेट बैंकिंग, डेबिट कार्ड के माध्यम से कर सकते हैं। जो भी अभ्यर्थी आवेदन के इच्छुक हों वह वेबसाइट www.madrasfert.co.in पर जाकर प्रक्रिया पूरी कर सकेंगे। अभ्यर्थियों का चयन ऑनलाइन टेस्ट पर आधारित होगा।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#NewstimesTrending : यूपी उपचुनाव 2019 में राजनीतिक दलों को दागियों से गुरेज नहींhttps://www.newstimes.co.in/news/82520/भारत/उत्तर-प्रदेश-/newstimes-trending-up-upchunav-2019-me-chunav-me-apradhi-902948Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019173053AvrfcOBwqM.JPG' alt='Images/15-10-2019173053AvrfcOBwqM.JPG' />यूपी विधानसभा उपचुनाव में 109 में से 101 प्रत्याशियों का विश्लेषण किया तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आएं। इन सभी का विश्लेषण दाखिल किये गये नामांकन पत्र के आधार पर किया गया था। नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान ही 101 प्रत्याशियों में से 24फीसदी प्रत्याशियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामलों और 21 फीसदी प्रत्याशियों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामलों की घोषणा की। अगर आपराधिक मामले वाले प्रत्याशियों का विश्लेषण दलों के आधार पर किया जाए तो सबसे ज्यादा 45फीसदी बीएसपी प्रत्याशियों, 40 फीसदी बीजेपी प्रत्याशियों, 30 फीसदी कांग्रेस और 22 फीसदी समाजवादी प्रत्याशियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किये हैं। जबकि 45फीसदी बीएसपी प्रत्याशियों, 30 फीसदी बीजेपी प्रत्याशियों, 20 फीसदी कांग्रेस और 22 फीसदी समाजवादी प्रत्याशियों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले होने की बात स्वीकार की है। 

#NewstimesTrending : यूपी उपचुनाव 2019 में राजनीतिक दलों को दागियों से गुरेज नहीं

- Gaurav Shukla 

LUCKNOW. उत्तर प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव को लेकर राजनीतिक दलों से लेकर प्रदेश की गलियों तक गहमागहमी का दौर जारी है। 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए 109 प्रत्याशियों द्वारा नामांकन दाखिल किया गया है। नामांकन दाखिल किये जाने के साथ ही इन प्रत्याशियों और राजनीतिक दलों द्वारा कवायद जारी है कि किस तरह ज्यादा से ज्यादा सीटों पर अपना कब्जा जमाया जाए। हालांकि गत चुनावों की भांति ही इस बार भी राजनीतिक दलों द्वारा टिकट बांटने के दौरान दागियों से कोई परहेज नहीं किया गया है। लगभग सभी दलों ने ही 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में कोई न कोई दागी चुनाव में उतारा ही है। 

Images/15-10-2019172408newstimestren1.jpgImages/16-10-2019113244asVu9MxrUr.jpgImages/15-10-2019173053AvrfcOBwqM.JPG
© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
जानें क्यों राष्ट्रपति अब्दुल कलाम की याद में मनाते हैं विश्व छात्र दिवसhttps://www.newstimes.co.in/news/82519/भारत/Learn-why-World-Students-Day-is-celebrated-in-memory-of-President-Abdul-Kalam902947Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019170038LearnwhyWorl1.jpg' alt='Images/15-10-2019170038LearnwhyWorl1.jpg' />भारत के पूर्व राष्ट्रपति व महान वैज्ञानिक रहे डॉ. एपीजी अब्दुल कलाम की याद में हर वर्ष 15 अक्टूबर को विश्व छात्र दिवस मनाया जाता है। भारत के मिसाइल मैन कहे जाने वाले एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। उनकी याद में संयुक्त राष्ट्र हर वर्ष इस दिन को विश्व छात्र दिवस के तौर पर मनाता है।

जानें क्यों राष्ट्रपति अब्दुल कलाम की याद में मनाते हैं विश्व छात्र दिवस

Lucknow. भारत के पूर्व राष्ट्रपति व महान वैज्ञानिक रहे डॉ. एपीजी अब्दुल कलाम की याद में हर वर्ष 15 अक्टूबर को विश्व छात्र दिवस मनाया जाता है। भारत के मिसाइल मैन कहे जाने वाले एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। उनकी याद में संयुक्त राष्ट्र हर वर्ष इस दिन को विश्व छात्र दिवस के तौर पर मनाता है।

Images/15-10-2019170038LearnwhyWorl1.jpg

डॉ. कलाम की याद में इस दिन देश भर के सभी स्कूलों में कार्यक्रमों का अयोजन किया जाता है। छात्रों के लिए प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया जाता है। इनमें भाषण और निबंध लिखने की प्रतियोगिताएं अपना अलग ही महत्व रखती हैं। विजेता बच्चों को स्कूलों में समानित भी किया जाता है।

छात्र अपने भाषण को तैयार करने के लिए ऐसी तैयारी करते हैं, जिसमें डॉ.कलाम के जीवन से संबंधित हर पहलू होते हैं। जैसे उनका जन्म कहां हुआ, शिक्षा कहां से ग्रहण की, परिवार का शुरुआती जीवन कैसे था व अन्य। साथ ही उनकी सफलताओं और कामयाबी का बखान भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें... कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम आज हमारे बीच नहीं होकर भी लोगों के लिए प्रेरणा के रूप में मौजूद हैं। उन्होंने ईमानदारी और कड़ी मेहनत से जो मिसाल कायम की एक महान वैज्ञानिक के तौर पर पहचान बनाई इसके लिए उनको पूरा विश्व मिसाइल मैन के नाम से भी जानता है। उनके जीवन से जुड़े कुछ पहलुओं पर गौर किया जाए तो उन्होंने अखबार बेचकर अपनी पढ़ाई का खर्च निकाला और काफी गरीबी में शिक्षा पूरी की।  

बताते चलें कि वह भारत के पूर्व राष्ट्रपति और वैज्ञानिक ही नहीं विचारक, दार्शनिक और एक शिक्षक भी थे। वह लोगों को हमेशा ही प्रेरित करते रहते थे। उनके जीवन से संबंधित कई किताबें भी लिखी गई हैं। जिनमें विंग्स ऑफ फायर और इंडिया 2020 एक है।

डॉ कलाम को आधुनिक भारत का जनक भी कहा जा सकता है। वह जब तक इस दुनिया में रहे युवाओं को प्रेरणा देने के साथ ही उनके अंदर आत्मविश्वास जगाते रहे। उनको पढ़ाने का काफी शौक था। उनका निधन भी उस दौरान हुआ जब वह आईआईएम में लेक्चर देने के लिए स्टेज पर पहुंचे थे।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
इलाहाबाद विवि में छात्रों का हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्जhttps://www.newstimes.co.in/news/82517/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Uproar-among-students-in-Allahabad-University-police-lathi-charged902945Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019161840Uproaramongs2.jpg' alt='Images/15-10-2019161840Uproaramongs2.jpg' />इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ बहाली की मांग कर रहे छात्रों की प्रॉक्टोरियल बोर्ड से तीखी नोकझोंक हुई। मामला इतना बढ़ा कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस दौरान कई छात्रों के घायल होने की सूचना है। वहीं दूसरी ओर 12 छात्रों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया हे। माहौल को देखते हुए भारी तादात में पुलिस फोर्स परिसर में तैनात कर दिया गया है। इस हंगामे तकरीबन आधा दर्जन गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की गयी है।  

इलाहाबाद विवि में छात्रों का हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

- छात्रसंघ चुनाव की मांग कर रहे थे छात्र
- 11 छात्रों को हिरासत में लिया गया, कई घायल

Allahabad. इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ बहाली की मांग कर रहे छात्रों की प्रॉक्टोरियल बोर्ड से तीखी नोकझोंक हुई। मामला इतना बढ़ा कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस दौरान कई छात्रों के घायल होने की सूचना है। वहीं दूसरी ओर 12 छात्रों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया हे। माहौल को देखते हुए भारी तादात में पुलिस फोर्स परिसर में तैनात कर दिया गया है। इस हंगामे तकरीबन आधा दर्जन गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की गयी है।  

Images/15-10-2019161816Uproaramongs1.JPG

बता दें कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र परिषद चुनाव की मांग कर रहा है। जबकि प्रॉक्टोरियल बोर्ड इसके खिलाफ है। 
इसी बात को लेकर मंगलवार हालात बिगड़ गए और छात्रों से नोकझोंक होने लगी। बता दें कि इससे पहले सोमवार को नाराज छात्रों ने यहां 'गधा' लेकर विश्वविद्यालय परिसर में विरोध दर्ज कराते हुए विवि प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की थी। 
मंगलवार को नाराज छात्र उग्र हुए तो पुलिस ने लाठियां पटकनी शुरू कर दी। जिससे छात्रों में भगदड़ मच गयी। 
छात्रों की ओर से भी पथराव कर परिसर में खड़ी तमाम गाड़ियों के शीशे क्षतिग्रस्त किए गए। घटना के बाद चीफ प्रॉक्टर ने प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे छात्र नेताओं समेत तकरीबन 35 छात्रों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। 

Images/15-10-2019161840Uproaramongs2.jpg

यह भी पढ़ें...उन्नाव: छेड़छाड़ का विरोध करने पर युवती को चलती ट्रेन से फेंका, एक पैर कटा

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
राम और भरत का मिलाप देख नम हुई दर्शकों की आंखेंhttps://www.newstimes.co.in/news/82516/भारत/उत्तर-प्रदेश-/उन्नाव/-कोतवाली-The-eyes-of-the-audience-became-moist-after-seeing-the-Ram-and-Bharat-meeting902944Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019154938Theeyesofth3.jpg' alt='Images/15-10-2019154938Theeyesofth3.jpg' />वृन्दावन गार्डन की रामलीला में पांचवे दिन भगवान श्रीराम और भरत मिलाप का मंचन देख दर्शक भावुक हो गए। इस दौरान मयूर नृत्य की प्रस्तुति ने सभी दर्शकों का मन मोह लिया। सदर विधायक ने भी कार्यक्रम में पहुंच कर मंचन का आनंद लिया। लीला के 6वें व अंतिम दिन राज्याभिषेक, ब्रज की मटकी, बरसाने की होली व डांडिया नृत्य का मचन किया जाएगा। 

राम और भरत का मिलाप देख नम हुई दर्शकों की आंखें

- वृन्दावन गार्डन रामलीला का पांचवा दिन
Unnao. वृन्दावन गार्डन की रामलीला में पांचवे दिन भगवान श्रीराम और भरत मिलाप का मंचन देख दर्शक भावुक हो गए। इस दौरान मयूर नृत्य की प्रस्तुति ने सभी दर्शकों का मन मोह लिया। सदर विधायक ने भी कार्यक्रम में पहुंच कर मंचन का आनंद लिया। लीला के 6वें व अंतिम दिन राज्याभिषेक, ब्रज की मटकी, बरसाने की होली व डांडिया नृत्य का मचन किया जाएगा। 

Images/15-10-2019154844Theeyesofth1.jpg

आवास विकास कालोनी स्थित वृन्दावन गार्डेन में चल रही रामलीला में लंका पर विजय पाने के बाद भगव श्रीराम की माता सीता और लक्ष्मण समेत आयोध्या वापसी की लीला का मंचन किया गया। 
इस दौरान जब राम और भरत मिलाप का मंचन हुआ तो पंडाल में मौजूद दर्शकों की आंखें नम हो गयी। 
वृंदावन के श्रेष्ठ कलाकारों ने मयूर नृत्य प्रस्तुत की कार्यक्रम की भव्यता और बढ़ा दी। मीरा चरित्र का भी मंचन खूब सराहा गया। 

Images/15-10-2019154907Theeyesofth2.jpg

सदर विधायक पंकज गुप्ता ने भी अपने साथियों के लाल पंडाल में पहुंच कर लीलाओं के मंचन का आनंद लिया। अंत में कमेटी पदाधिकारियों व सदस्यों ने राम दरबाज की आरती उतारी। 
इस दौरान प्रमुख रूप से मुन्ना सिंह चौहान, मुन्ना सिंह अवधूत, अवधेश सिंह, अजय शुक्ला, सतीश राजपाल, सर्वेश शुक्ला,राजेन्द्र तिवारी, रामजस गुप्ता, वीरेंद्र विक्रम सिंह व आशु दीक्षित आदि उपस्थित रहे। 

Images/15-10-2019154938Theeyesofth3.jpg

  भव्यता के साथ छठें दिन होगा लीला का समापन
महोत्सव प्रमुख अजीत पाल सिंघ ने बताया कि आयोजन को भव्यता प्रदान करने के लिए लीला के छठे और अंतिम दिन खास इंतजाम किए गए हैं। इस दिन श्रीराम के राज्याभिषेक के साथ ब्रज की मटकी, बरसाने की होली और डांडिया नृत्य का भी आयोजन किया जाएगा। समापन पर अनेकों अतिथियों के आगमन के साथ साथ विशिष्ट लोगों को सम्मानित भी किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें...कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

 

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
विकास के नाम पर सिर्फ पानी की टंकी का निर्माण,वह भी बंदhttps://www.newstimes.co.in/news/82514/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Construction-of-water-tank-only-in-the-name-of-development-that-too-closed902942Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019143305Constructiono1.jpg' alt='Images/15-10-2019143305Constructiono1.jpg' />सांसद आदर्श ग्राम आंट गढ़ी सौंरा में स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र में जानवर बांधे जा रहे हैं और उप स्वास्थ्य केन्द्र में गन्दगी और आस पास कूड़े के ढेर लगे हैं।

विकास के नाम पर सिर्फ पानी की टंकी का निर्माण,वह भी बंद

LUCKNOW.  सांसद आदर्श ग्राम आंट गढ़ी सौंरा स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र में जानवर बांधे जा रहे हैं और उप स्वास्थ्य केन्द्र में गन्दगी और आस पास कूड़े के ढेर लगे हैं। जिससे इस केन्द्र में एएनएम कभी नहीं बैठती। यह स्थिति‍ पिछले चार साल से है। इस गांव के सांसद कौशल किशोर द्वारा गोद लिए जाने के बाद से कोई बदलाव नहीं हुआ है।

Images/15-10-2019143305Constructiono1.jpg

यहां एक ही काम हुआ है, वह है पानी की टंकी का निर्माण, जिसको चालू हुए अभी 3-4 माह हुआ था कि अचानक पानी की टंकी बंद हो गयी। यहां रहने वाले छोटू ने बताया कि केबिल जल जाने के कारण टंकी बंद की 27 अगस्त को बंद हो गयी थी, तब से अब तक टंकी चालू नहीं हो पाई है। जिससे ग्रामीणों में असंतोष व्याप्त है।

ग्रामीणों का कहना है कि पानी की टंकी से अभी तक गांव वालों को कोई लाभ नहीं हो रहा है। इसके अलावा गांव का कौन सा विकास हुआ है पता नहीं। यहां के पंचायत भवन में पिछले प्रधान का नाम लिखा है। इससे यह पता चलता है कि यहां पंचायत भवन में कभी बैठक नहीं हुई।

ग्रामीणों ने कहा कि यहां सफाई कर्मी भी नहीं आता जिससे वे अपने दरवाजे की सफाई खुद करते हैं। जहां नालियां गहरी हैं वहां नालियों में गंदा पानी जमा होने से मच्छर पैदा हो रहे हैं। जिससे गांव में बीमारियां भी फैल रही हैं। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
#NewstimesTrending : 25 हजार होमगार्ड स्वंय सेवकों की तैनाती तत्कालिक प्रभाव से समाप्तhttps://www.newstimes.co.in/news/82508/भारत/उत्तर-प्रदेश-/25-hazar-homguard-ki-tainati-samapt-902936Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP863<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-201912404725hazarhomgu2.jpeg' alt='Images/15-10-201912404725hazarhomgu2.jpeg' />यूपी के 25 हजार होमगार्ड एक सरकारी आदेश के बाद बेरोजगार हो गये हैं। सोमवार को बजट का हवाला देते हुए ड्यूटी खत्म करने को लेकर दिये गये इस आदेश के बाद इन होमगार्ड स्वंयसेवकों की तैनाती तत्कालि

#NewstimesTrending : 25 हजार होमगार्ड स्वंय सेवकों की तैनाती तत्कालिक प्रभाव से समाप्त

Lucknow. यूपी के 25 हजार होमगार्ड एक सरकारी आदेश के बाद बेरोजगार हो गये हैं। सोमवार को बजट का हवाला देते हुए ड्यूटी खत्म करने को लेकर दिये गये इस आदेश के बाद इन होमगार्ड स्वंय सेवकों की तैनाती तत्कालिक प्रभाव से समाप्त हो गयी है। यह आदेश एडीजी पुलिस मुख्यालय बीपी जोगदंड के द्वारा जारी किया गया है। 

Images/15-10-201912402925hazarhomgu1.jpg

गौरतलब है कि पूर्व में कानून व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए पुलिस विभाग की रिक्तियों के सापेक्ष होमगार्ड स्वंयसेवकों की सेवाएं लेने का फैसला किया गया था। जिसके बाद सोमवार को जारी आदेश में कहा गया कि मुख्य सचिव उ.प्र. की अध्यक्षता में 28-08-2019 को हुई गोष्ठी में होमगार्ड स्वंयसेवकों को समाप्त करने का फैसला लिया गया है।

शासन स्तर पर लिये गये निर्णय के क्रम में उ.प्र. पुलिस विभाग में शासनादेश 03-04-2019 द्वारा जनपदों में तैनात कुल 25000 होमगार्डस स्वंयसेवकों की तैनाती तात्कालिक प्रभाव से समाप्त की जाती है। इसी के साथ जारी आदेश में अगले बिंदु में कहा गया है कि होमगार्डस स्वंयसेवकों को दी जाने वाली सेवाओं के लिए मानदेय के रूप में भुगतान की जाने वाली धनराशि का आंकलन माहवार कराकर 1 सप्ताह के भीतर पुलिस मुख्यालय, प्रयागराज को उपलब्ध करवाएं। 

Images/15-10-201912404725hazarhomgu2.jpeg

हालांकि होमगार्ड के स्वीकृत पद 1 लाख 18 पद स्वीकृत हैं। इसमें 99 हाजर में से 92 हजार होमगार्डों को कम से कम 25 दिनों की ड्यूटी दी जा रही थी। लेकिन अब बजट कम होने के बाद पुलिस महकमें में लिये गये 25 हजार होमगार्ड की सेवाएं समाप्त कर दी गयी हैं। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
देर रात फिल्म दंबग 3 की डबिंग के लिए पहुंचे सलमान खान, देखें दिलचस्प तस्वीरेंhttps://www.newstimes.co.in/news/82507/भारत/Salman-Khan-arrives-late-night-for-dubbing-of-film-Dambag-3-see-interesting-pictures902935Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNAZO ALI SHEIKH<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019123001SalmanKhanar4.JPG' alt='Images/15-10-2019123001SalmanKhanar4.JPG' />बॉलीवुड के दबंग सलमान खान (Salman Khan) अक्सर सोशल मीडिया पर छाए रहते हैं कभी प्रोफेशनल लाईफ को लेकर तो कभी पर्सनल लाईफ को लेकर हाल ही में सलमान को सोमवार देर रात मुंबई में किसी फिल्म की डबिंग में जाते हुए देखे गए जहां मौजूद कैमरों ने उनकी दिलचस्प तस्वीरें कैप्चर कीं।

देर रात फिल्म दंबग 3 की डबिंग के लिए पहुंचे सलमान खान, देखें दिलचस्प तस्वीरें

Mumbai. बॉलीवुड के दबंग सलमान खान (Salman Khan) अक्सर सोशल मीडिया पर छाए रहते हैं कभी प्रोफेशनल लाईफ को लेकर तो कभी पर्सनल लाईफ को लेकर हाल ही में सलमान को सोमवार देर रात मुंबई में किसी फिल्म की डबिंग में जाते हुए देखे गए जहां मौजूद कैमरों ने उनकी दिलचस्प तस्वीरें कैप्चर कीं।

Images/15-10-2019122901SalmanKhanar1.JPG

   सिंपल लुक

इस दौरान सलमान हमेशा की तरह बेहद सिंपल और स्मार्ट लुक में नजर आए काली टी-शर्ट और जींस में वह बेहद डैसिंग नजर आ रहे थे। ऐसा माना जा रहा है कि सलमान खान अपनी अगली फिल्म दबंग 3 की डबिंग के लिए गए थे।

यह भी पढ़ें... फेस्टिव सीजन में ग्राहकों को लुभाने के लिए कंपनियों ने अपनाए ये तरीके, सोच-विचार कर चुनें...

Images/15-10-2019122925SalmanKhanar2.JPG

बताते चलें कि समलान खान ने फिल्म दबंग 3 (Dabangg 3) की शूटिंग हाल ही में खत्म की है अब फिल्म के पोस्ट प्रोडक्शन का काम चल रहा है। सलमान ने फिल्म की शूटिंग के आखिरी दिन एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें वो पूरे क्रू और कास्ट के साथ नजर आए थे। दबंग 3 का निर्देशन प्रभुदेवा (Prabhudheva) कर रहे हैं।

Images/15-10-2019122944SalmanKhanar3.JPG

  साउथ का होगा विलेन 

इस फिल्म में साउथ के स्टार किच्चा सुदीप (Kicha Sudeep) विलेन के किरदार में दिखाई देने वाले हैं। दिलचस्प बात ये है कि दबंग 3 से महेश मांजरेकर की बेटी सई मांजरेकर (Sai Manjrekar) सलमान साथ बड़े परदे पर डेब्यू कर रही हैं। 
 

Images/15-10-2019123001SalmanKhanar4.JPG

  सई मांजरेकर का डेब्यू

दबंग 3 में एक बार सोनाक्षी सिन्हा सलमान के साथ नजर आएंगी उनके अलावा दिवगंत अभिनेता विनोद खन्ना (Vinod Khanna) के भाई प्रमोद खन्ना फिल्म में सलमान के पिता के किरदान में नजर आएंगे। बता दें कि दबंग 3 20 दिसंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहारhttps://www.newstimes.co.in/news/82510/भारत/उत्तर-प्रदेश-/Congress-candidates-strange-problem-pleaded-with-District-Election-Officer902938Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019132913Congresscandi2.jpg' alt='Images/15-10-2019132913Congresscandi2.jpg' />यूपी की राजधानी लखनऊ की कैंट विधानसभा सीट से उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी का जिला निर्वाचन अधिकारी को जिला गया पत्र खूब सुर्खियां बटोर रहा है। बात दरअसल यह है कि उनके गनर ने चुनाव प्रचार में उनके साथ पैदल चलने से इंकार कर दिया है। जिस पर उन्होंने अपना सुरक्षा गार्ड बदलने की मांग की है। 

कांग्रेस प्रत्याशी की अजब परेशानी, जिला निर्वाचन अधिकारी से लगाई गुहार

- राजधानी लखनऊ की कैंट विधानसभा सीट का मामला
- सुरक्षा गार्ड ने किया प्रचार में पैदल चलने से इंकार

Lucknow. यूपी की राजधानी लखनऊ की कैंट विधानसभा सीट से उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी का जिला निर्वाचन अधिकारी को जिला गया पत्र खूब सुर्खियां बटोर रहा है। बात दरअसल यह है कि उनके गनर ने चुनाव प्रचार में उनके साथ पैदल चलने से इंकार कर दिया है। जिस पर उन्होंने अपना सुरक्षा गार्ड बदलने की मांग की है। 

Images/15-10-2019132850Congresscandi1.jpg

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव का चुनाव प्रचार पूरे जोर शोर से चल रहा है। सभी राजनैतिक दर पूरी ताकत के साथ चुनावी माहौल अपने पक्ष में करने के प्रयास में जुटे हैं। सभी प्रत्याशी वोटरों की गणेश परिक्रमा कर रहे हैं। 
ऐसी ही कोशिश में जुटे लखनऊ की कैंट विधानसभा सीट से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे दिलप्रीत सिंह विर्क उर्फ डीपी सिंह के सामने एक नई समस्या खड़ी हो गयी है। 
उन्होंने जिला निर्वाचन अधिकारी को पत्र सौंपते हुए एक अनोखी गुहार लगाई है। उन्होंने इस पत्र में कहा कि उन्हें जो गनर दिया गया है सही से काम नहीं कर रहा है। 
बीते कुछ दिनों से वह उनके साथ आ भी नहीं रहा है। दिलप्रीत ने हवाला दिया है कि चुनाव प्रचार के लिए उन्हें कई किलोमीटर पैदल चलना पड़ा रहा है। 

Images/15-10-2019132913Congresscandi2.jpg

इस दौरान कई बार विरोधी प्रत्याशियों के समर्थकों से उनका आमना सामना हो जाता है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा की दृष्टि से गार्ड साथ होना आवश्यक है लेकिन उनका सुरक्षा गार्ड संदीप पिछले कई दिनों से नहीं आ रहा है। वह प्रचार में उनके पैदल चलने को तैयार नहीं हैं। 
उन्होंने अपने इस पत्र जिला निर्वाचन अधिकारी से गार्ड संदीप सिंह के स्थान पर कोई अन्य सुरक्षा गार्ड उपलब्ध कराने की मांग की है। 
कांग्रेस प्रत्याशी का जिला निर्वाचन अधिकारी को लिखा गया यह पत्र इन दिनों राजनीति के गलियारों में खूब सुर्खियां बटोर रहा है। 

 

यह भी पढ़ें...राहुल गांधी का बड़ा बयान, अंग्रेजों की तरह काम कर रही भाजपा

 

 

 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
स्कूल की इमारत 10 साल में ही जर्जर,जिम्मेदारों पर कार्रवाई नहींhttps://www.newstimes.co.in/news/82511/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/School-building-dilapidated-in-10-years-no-action-on-responsibilities902939Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019135145Schoolbuildin.jpg' alt='Images/15-10-2019135145Schoolbuildin.jpg' />20 साल के लिए बनने वाली इमारत मात्र 10 साल में ही जर्जर हो गयी। फिर भी निर्माण कर्ता प्रधान और अध्यापक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

स्कूल की इमारत 10 साल में ही जर्जर,जिम्मेदारों पर कार्रवाई नहीं

LUCKNOW.  20 साल के लिए बनने वाली इमारत मात्र 10 साल में ही जर्जर हो गयी। फिर भी निर्माण कर्ता प्रधान और अध्यापक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। इंचार्ज अध्यापक संजय सिंह परिहार बताते हैं कि उनके स्कूल की जो इमारत जर्जर हो गयी है उसका निर्माण 2005—6 में हुआ था।पांच साल पहले घोषित सांसद आदर्श ग्राम योजना में च​यनित ग्राम आंट गढ़ी सौंरा के एक प्राथमिक विद्यालय की इमारत जर्जर होने के साथ ही बाउन्ड्रीवाल भी टूटी पड़ी है। विद्यालय परिसर में जंगल जैसी घास खड़ी है।

Images/15-10-2019135145Schoolbuildin.jpg

यहां एक अतिरिक्त कक्ष में पांचों कक्षाएं एक साथ लगाई जा रही हैं। विद्यालय के आस पास भी इतना जंगल खड़ा है कि बच्चों की पढ़ाई के समय सांप कीड़ों के आने का डर बना रहता है। चहारदीवारी टूटी होने के कारण यहां वृक्षारोपण के तहत लगाए गए पेड़ों को बचाने का कोई उपाय नहीं किया गया है। इस विद्यालय में 39 छात्र पंजीकृत हैं।​ जिनमें से आधे छात्र उपस्थित हो जाते हैं। यहां दो शिक्षा मित्र नीतू और रविन्द्र त्रिपाठी तैनात हैं जो अपनी मर्जी पर स्कूल आते हैं और घर चले जाते हैं। यहां तैनात इंचार्ज अध्यापक संजय सिंह परिहार भी शिक्षा मित्रों के स्कूल न आने पर उनको उपस्थित बताते रहते हैं। अगर कोई भी शिक्षा मित्र स्कूल न आए तो उसे बताते हैं कि वह घर लंच करने गया है। 
 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
एक भी बालिका विद्यालय जाने से वंचित न रहे: स्वाती सिंहhttps://www.newstimes.co.in/news/82505/भारत/उत्तर-प्रदेश-/लखनऊ/Not-a-single-girl-is-deprived-of-going-to-school-—-Swati-Singh902933Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1181<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019120159Notasingleg1.jpg' alt='Images/15-10-2019120159Notasingleg1.jpg' />डीपीओ व सीडीपीओ अपने-अपने ब्लाक में यह सुनिश्चित करें कि हर ब्लाक में प्रत्येक बालिका स्कूल जा रही है।

एक भी बालिका विद्यालय जाने से वंचित न रहे: स्वाती सिंह

LUCKNOW. प्रदेश की महिला कल्याण तथा बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाती सिंह ने पोषण पखवाड़े के दौरान बच्चों के चिन्हांकन के कार्य में शिथिलता पर सभी सीडीपीओ को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि आप लोग आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के माध्यम से अपने ब्लाक में घर-घर भेजकर बच्चों का सौ प्रतिशत चिन्हांकन करायें। उन्होंने कहा कि इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही सामने आयेगी तो सम्बन्धित ब्लाक की सीडीपीओ के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

Images/15-10-2019120159Notasingleg1.jpg


श्रीमती सिंह यहां विभागीय समीक्षा कर रही थीं। उन्होंने कहा कि पी0एफ0एम0एस0 पोर्टल पर पी0एल0आई0 प्राप्त कर रहीं लाभार्थियों के फीडिंग न किये जाने पर अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि ये लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सभी डीपीओ को निर्देश दिये कि दीपावली से पहले सभी पात्र लाभार्थियों की फीडिंग हो जानी चाहिए। जिससे कि लाभार्थियों को लाभ दिया जा सके।

राज्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना को गम्भीरता से लें और शासन की मंशा के अनुरूप कार्य करें। डीपीओ व सीडीपीओ अपने-अपने ब्लाक में यह सुनिश्चित करें कि हर ब्लाक में प्रत्येक बालिका स्कूल जा रही है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि बालिकाओं को प्रोत्साहित करके स्कूल भेजे जिससे उन्हें इस योजना का शत प्रतिशत लाभ मिल सके।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि टीम बनाकर हर जिले के आंगनबाड़ी केन्द्रों का औचक निरीक्षण करें और उनकी स्थिति के बारे में मुख्यालय पर अवगत करायें। उन्होंने डीपीओ व सीडीपीओ को निर्देश दिये कि सभी सरकारी योजनाओं का समयबद्ध तरीके से क्रियान्वयन किया जाये और इसमें किसी भी स्तर पर कोई भी लापरवाही पायी जाती है तो सम्बन्धित के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

समीक्षा बैठक में आर0आर0एस0 पोर्टल, किशोरी बालिका योजना के अन्तर्गत वीरागंना दलों के गठन की स्थिति, हाट कुक्ड फूड योजना, किशोरी बालिकाओं में एनीमिया का प्रबन्धन, सहित अन्य बिन्दुओं पर चर्चा की गयी। इस अवसर पर प्रमुख सचिव बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार,  मोनिका एस गर्ग, निदेशक शत्रुघ्न सिंह सहित लखनऊ मण्डल के डीपीओ व सीडीपीओ उपस्थित थे।

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
ग्रामीण महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवसhttps://www.newstimes.co.in/news/82506/भारत/उत्तर-प्रदेश-/International-Rural-Womens-Day-is-celebrated-to-encourage-rural-women902934Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1591<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019120452International2.jpg' alt='Images/15-10-2019120452International2.jpg' /> 15 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस मनाया जाता है, इसका उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका व उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मानित करना है।

ग्रामीण महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस

Lucknow: 15 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस मनाया जाता है, इसका उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका व उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मानित करना है। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं द्वारा कृषि, विकास, निर्धनता उन्मूलन, खाद्य सुरक्षा को बेहतर करने तथा ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका बेहतर बनाने में उनकी भूमिका तथा योगदान को लोगों तक पहुंचाना और उन्हें प्रोत्साहित करना है।

Images/15-10-2019120307International1.png

पूरे विश्व में इस दिन महिलाओं को समाज में उनके विशेष योगदान के लिए सम्मानित किया जाता है और समारोह आयोजित किए जाते हैं। समाज, राजनीति, संगीत, फिल्म, साहित्य, शिक्षा क्षेत्रों में श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए महिलाओं को सम्मानित किया जाता है। कई संस्थाओं द्वारा गरीब महिलाओं को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

भारत में महिलाओं को शिक्षा, वोट देने का अधिकार और मौलिक अधिकार प्राप्त है। धीरे-धीरे परिस्थितियां बदल रही हैं। भारत में आज महिला आर्मी, एयर फोर्स, पुलिस, आईटी, इंजीनियरिंग, चिकित्सा जैसे क्षेत्र में पुरूषों के कंधे से कंधा मिला कर चल रही हैं। माता-पिता अब बेटे-बेटियों में कोई फर्क नहीं समझते हैं। लेकिन यह सोच समाज के कुछ ही वर्ग तक सीमित है।

लेकिन आज भी पूरे विश्व में महिलाओं खासकर ग्राणीण महिलाओं की स्थिति काफी चिन्ताजनक है। ग्रामीण महिलाएं उन सब सुविधाओं से वंचित जो उन्हें मिलना चाहिए। सही मायने में ग्रामीण महिला दिवस तब ही सार्थक होगा, जब विश्व भर में महिलाओं को मानसिक व शारीरिक रूप से संपूर्ण आजादी मिलेगी, जहां उन्हें कोई प्रताड़ित नहीं करेगा, जहां उन्हें दहेज के लालच में जिंदा नहीं जलाया जाएगा, जहां कन्या भ्रूण हत्या नहीं की जाएगी, जहां बलात्कार नहीं किया जाएगा, जहां उसे बेचा नहीं जाएगा। समाज के हर महत्वपूर्ण फैसलों में उनके नजरिए को महत्वपूर्ण समझा जाएगा। जहां वह सिर उठा कर अपने महिला होने पर गर्व करे, न कि पश्चाताप, कि काश मैं एक लड़का होती। 

 अंतर्राष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस की स्थापना

अंतर्राष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस की स्थापना संयुक्त राष्ट्र महासभा ने दिसम्बर, 2007 में 62/136 प्रस्ताव पारित करके की थी। पहली बार 15 अक्टूबर, 2008 को अंतर्राष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस मनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार धारणीय विकास लक्ष्यों (Sustainable Development Goals – SDG) को प्राप्त करने के लिए ग्रामीण महिलाओं का सशक्तिकरण अति आवश्यक है।

SDG के द्वारा निर्धनता उन्मूलन, खाद्य सुरक्षा तथा महिलाओं व लड़कियों का सशक्तिकरण सुनिश्चित किया जायेगा। ग्रामीण महिलाएं विश्व की कुल जनसँख्या का ¼ हिस्सा है। इनमे से अधिकतर महिलाओं आजीविका के लिए प्राकृतिक संसाधनों तथा कृषि पर निर्भर हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के द्वारा खाद्य सुरक्षा तथा निर्धनता उन्मूलन में ग्रामीण महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका की सराहना की जाती है।

Images/15-10-2019120452International2.jpg

ग्रामीण महिलाओं की स्थिति

आज पूरे विश्व में विकसित या विकासशील देशों में ग्रामीण महिलाओं की स्थिति चिंताजनक है, जबकि ग्रामीण स्तर की महिलाएं पूरे परिवार का आधार स्तंभ होती हैं महिलाए ही परिवार की रीढ़ कही जाती हैं। बच्चों की परवरिश और घरेलू कार्य के अलावा और भी अन्य कार्य को भी वे बड़ी तत्परता के साथ करती है। लेकिन उनके साथ दोयम दर्जे का व्यवहार हमेशा होता रहा है, इन सब बातों पर गंभीर होकर संयुक्त राष्ट्र महासभा (डब्ल्यूएचओ) ने 15 अक्टूबर सन् 2008 से इस दिवस को मनाने का संकल्प लिया है।

ग्रामीण स्तर की महिलाएं हर स्तर पर आज पुरुष वर्ग के साथ कंधे से कंधा और कदम से कदम मिलाकर चल रही है उनके द्वारा किए गए कार्यों का श्रेय भी पुरुष वर्ग ले जाता है महिलाओं स्वास्थ्य शिक्षा तथा अन्य कई गंभीर क्षेत्रों में पुरुषों से काफी पिछड़ी हुई है अंतरराष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस के अवसर पर हम ग्रामीण महिलाओं को जागरुक करते हुए उन्हें उनके अधिकारों और समानता के संबंध में बताते हुए इस दिवस को मनाने की सार्थकता को तय कर सकते हैं। 

© Copyright न्यूज़ टाइम्स 2016. All rights reserved
]]>
उन्नाव: ट्रक ने बाइक सवार दो को रौंदा, मौतhttps://www.newstimes.co.in/news/82504/भारत/उत्तर-प्रदेश-/उन्नाव/-कोतवाली-Unnao:-Truck-crushed-two-bike-riders-dies902932Tue, 15 Oct 2019 00:00:00 GMTNP1534<img src='http://newstimes.co.in/Images/15-10-2019115419UnnaoTruckc2.jpg' alt='Images/15-10-2019115419UnnaoTruckc2.jpg' />लखनऊ कानपुर हाईवे पर बाइक सवार दो युवकों को तेज रफ्तार ट्रक ने रौंद दिया। गंभीर से घायल दोनों युवकों को आनन फानन केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। जहां भोरपहर दोनों की मौत हो गयी। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने आरोपी ट्रक चालक और क्लीनर को बंधक बना कर पिटाई कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह दोनों को ग्रामीणों से मुक्त कराया। घटना अजगैन कोतवाली क्षेत्र में बीती देर हुई। 

उन्नाव: ट्रक ने बाइक सवार दो को रौंदा, मौत

- दशहरा मेला देखने निकले थे दोनों बाइक सवार, ट्रामा सेंटर में हुई मौत
- भीड़ में ट्रक चालक और क्लीनर को पिटाई के बाद बनाया बंधक

Unnao. लखनऊ कानपुर हाईवे पर बाइक सवार दो युवकों को तेज रफ्तार ट्रक ने रौंद दिया। गंभीर से घायल दोनों युवकों को आनन फानन केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। जहां भोरपहर दोनों की मौत हो गयी। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने आरोपी ट्रक चालक और क्लीनर को बंधक बना कर पिटाई कर दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह दोनों को ग्रामीणों से मुक्त कराया। घटना अजगैन कोतवाली क्षेत्र में बीती देर हुई। 

Images/15-10-2019115347UnnaoTruckc1.jpg

मिली जानकारी के अनुसार अजगैन कोतवाली क्षेत्र के हिंदू खेड़ा गांव के रहने वाले  धर्मेंद्र पुत्र प्रकाश व दीपू पुत्र स्वर्गीय भन्नाराम बीती रात भवानीपुर गांव में लगने वाले पारम्परिक दशहरा मेला देखने के लिए निकले थे। 
एक ही बाइक पर सवार दोनों जैसे ही लखनऊ कानपुर हाईवे पर पहुंचे तो एक तेज रफ्तार ट्रक ने उन्हें रौंद दिया। 
बुरी तरह से घायल अवस्था में उन्हें आनन फानन ट्रामा सेंटर लखनऊ पहुंचाया गया। यहां उपचार के दौरान दोनों ने मंगलवार भोरपहर दम तोड़ दिया। 

Images/15-10-2019115419UnnaoTruckc2.jpg

घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने हादसे के बाद आरोपी ट्रक चालक और क्लीनर को दौड़ा कर पकड़ लिया।ग्रामीणों ने दोनों की जमकर पिटाई करने के बाद उन्हें बंधक बना लिया। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस के हाथ पांव फूल गए। 
आनन फानन दो थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गयी। कड़ी मशक्कत के दोनों को ग्रामीणों के कब्जे से मुक्त कराया गया। 

यह भी पढ़ें...उन्नाव: छेड़छाड़ का विरोध करने पर युवती को चलती ट्रेन से फेंका, एक पैर कटा

 

 

 

]]>