भारत और चीन (China and India) के बीच 5 मई से जारी सीमा विवाद (Border Dispute) के बाद आज एक बड़ी खबर सामने आयी है।
आखिरकार गलवान घाटी से करीब 1.5 किलोमीटर पीछे हटी चीनी सेना!

New Delhi. भारत और चीन (China and India) के बीच 5 मई से जारी सीमा विवाद (Border Dispute) के बाद आज एक बड़ी खबर सामने आयी है। दरअसल, गलवान घाटी (Galwan valley) से चीनी सेना अब 1.5 किलोमीटर पीछे हट गई है। पिछले कई दिनों से जारी सैन्य वार्ता के बाद अब दोनों देश अपनी-अपनी सेना कुछ पीछे हटाने पर सहमत हो गए हैं। सूत्रों के मुताबिक, दोनों सेनाओं के बीच एक बफर जोन बना दिया गया है, जिससे की भविष्य में  हिंसक झड़प से बचा जा सके।

भारत और चीन (China and India) के बीच तनाव कम करने के लिए कई स्तर पर बातचीत हो चुकी है। 30 जून को कॉर्प्स कमांडर की बातचीत में भारत ने स्पष्ट कह दिया था कि चीनी सेना को विवादित क्षेत्र पेट्रोलिंग पॉइंट 14 (PP-14) से पीछे हटना ही होगा, इसके बाद ही आगे की बात की जाएगी। बता दें कि यह वही जगह है, जहां 15 जून की रात में दोनों सेनाओं के बीच  हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें भारत के 20 जवान और चीन के 43 जवान शहीद हो गए थे।

सूत्रों के मुताबिक, चीन की सेना (Chines Army) अपनी गाड़ियां, सैनिक और सेना के रहने के लिए बनाया गया अस्थाई टेंट भी हटा रही है। गलवान घाटी (Galwan Valley) में चीन सेना ने काफी हथियार और साजो सामान इकट्ठा कर लिया था, जिसे अब हटा रही है। सूत्रों के मुताबिक, हॉट स्प्रिंग एरिया (Hot spring area) और गोगरा पॉइंट से भी चीन की सेना अपने साजो सामान को पीछे ले जा रही है। भारत ने ड्रोन के जरिए इसकी जांच भी कर ली है। 

खराब मौसम बना चीन के लिए चुनौती

गलवान घाटी (Galwan Valley) सहित पूरे लद्दाख में गर्मी बढ़ने से चीन की चुनौती काफी बढ़ गई थी, जिससे निश्चित हो गया था कि चीन की सेना को गलवान घाटी (Galwan Valley) से पीछे हटना ही पड़ेगा और लगातार हुई बारिश की वजह से गलवान नदी भी उफान पर है।