गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने बुधवार को राजीव गांधी फ़ाउंडेशन (Rajeev Gandhi Foundation) द्वारा क़ानूनों के उल्लंघन की जांच के लिए अंतरमंत्रालय समिति के गठन का ऐलान किया है।
राजीव गांधी फ़ाउंडेशन समेत 3 और ट्रस्टों में आने वाली फीडिंग की होगी जांच

New Delhi. गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने बुधवार को राजीव गांधी फ़ाउंडेशन (Rajeev Gandhi Foundation) द्वारा क़ानूनों के उल्लंघन की जांच के लिए अंतरमंत्रालय समिति के गठन का ऐलान किया है। बता दें, काँग्रेस (congress) समेत गांधी परिवार के 3 और ट्रस्टों के फीडिंग(feeding) की जांच की जाएगी। राजीव गांधी फ़ाउंडेशन (Rajeev Gandhi Foundation) समेत  राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट (Rajeev Gandhi Charitable Trust)  और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट (Indira Gandhi Memorial Trust) का नाम  सामने आया है।  

गृह मंत्रालय के इस फैसले से बढ़ सकती है काँग्रेस नेताओं की मुश्किलें

गृह मंत्रालय के इस फैसले के बाद कई काँग्रेस नेताओं की परेशानियाँ बढ़ सकती हैं। दरसल, हल ही में काँग्रेस पार्टी (congress party) से जुड़े कई  बड़े नेताओं और चीन से जुड़े फंडिंग कनेक्शन (connection) पर काफी बातचीत हुई थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक, बुधवार को मंत्रालय द्वारा एक अंतर-मंत्रालय कमेटी का गठन किया गया। बताया जा रहा है कि इस मामले में मनी लॉड्रिंग एक्ट समेत इनकम टैक्स एक्ट, विदेशी योगदान (विनियमन) अधिनियम, 2010 एक्ट (act) के नियमों के अंतर्गत जांच की जाएगी। सूचना के अनुसार, प्रवर्तन निदेशालय के स्पेशल डायरेक्टर(special director) स्तर के अधिकारी जांच कमेटी के प्रमुख होंगे। 

जानिए क्या है गांधी फ़ाउंडेशन?

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर इस फ़ाउंडेशन (राजीव फ़ाउंडेशन) की शुरुवात हुई थी। इस फ़ाउंडेशन की शुरुवात 21 जून 1991 को हुई थी। बता दें,  2010 में इस फ़ाउंडेशन ने शिक्षा के क्षेत्र में विशेष काम करने का फैसला लिया था। यह फ़ाउंडेशन संघर्ष से प्रभावित बच्चों को शैक्षणिक मदद, शारीरिक रूप से निशक्त युवाओं की गतिशीलता बढ़ाने और मेधावी भारतीय बच्चों को कैंब्रिज में पढ़ने हेतु वित्तीय सहायता देना का काम करती है। इस फ़ाउंडेशन की अध्यक्ष सोनिया गांधी हैं।

इतना ही नहीं, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, पी. चिदंबरम, प्रोफेसर एमएस स्वामीनाथन, डॉक्टर अशोक गांगुली, मोंटेक सिंह अहलूवालिया, सुमन दुबे, राहुल गांधी, डॉ. शेखर राहा, संजीव गोयनका प्रियंका गांधी वाड्रा फाउंडेशन (Wadra foundation)  के साथ जुड़े हैं।