पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में भारत और चीन (India-China) के सैनिकों में जारी तनाव के बीच पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को लेह (Leh) का दौरा किया।
पीएम मोदी के लेह दौरे से भड़का चीन, इशारों में दे डाली धमकी

New Delhi. पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में भारत और चीन (India-China) के सैनिकों में जारी तनाव के बीच पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को लेह (Leh) का दौरा किया। पीएम मोदी (PM Modi) के इस दौरे को लेकर चीन चिढ़ गया है और उसने बातचीत व कूटनीति की दलीलें दी हैं। शुक्रवार को चीन के विदेश मंत्रालय (Foreign Ministry of China) के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि भारत और चीन के बीच तनाव घटाने के लिए सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर बातचीत हो रही है। ऐसे में किसी पक्ष को हालात बिगाड़ने वाले कदम नहीं उठाने चाहिए। 

लेह में जवानों से मिले पीएम मोदी

बताया जा रहा है कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat) के साथ पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) अचानक शुक्रवार को सुबह करीब साढ़े 9 बजे लेह पहुंचे। यहां पर पीएम मोदी (PM Modi) ने निमू (Nimu) में एक अग्रिम स्थल पर गए। वहां उन्होंने थलसेना (Indian Army), वायुसेना (Air Force) और आईटीबीपी (ITBP) के कर्मियों से बातचीत की। इस दौरान सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने पीएम को सीमा की स्थिति से अवगत कराया। 

बता दें कि सिंधु नदी के तट पर 11,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित निमू सबसे दुर्गम स्थानों में से एक है। यह जंस्कार पर्वत श्रृंखला से घिरा हुआ है। वहीं, पीएम मोदी ने अपनी यात्रा के दौरान 15 जून को गलवां घाटी में चीन के सैनिकों के साथ हुई झड़प में घायल हुए सैनिकों से मिले और उनका हाल-चाल जाना। 

पीएम मोदी ने जवानों का बढ़ाया हौसला

इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने संबोधित करते हुए जवानों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने कहा कि मेरे जैसे 130 करोड़ देशवासी आपके प्रति बहुत गर्व महसूस करते हैं। आपका साहस, शौर्य हमारी नई पीढ़ी को प्रेरणा दे रहा है। आपका ये पराक्रम, ये शौर्य, हमारे देशवासियों को आने वाले कई वर्षों तक प्रेरणा देता रहेगा। 

पीएम मोदी (PM Modi) ने आगे कहा कि आज जो विश्व की स्थिति है, तब ये मैसेज जाता है कि भारत के वीर जवान अपना ऐसा पराक्रम दिखाते हैं। दुनिया भी जानने के लिए उत्सुक रहती है कि भारत के उन जवानों की ट्रेनिंग कैसी है, उनका त्याग कितना ऊंचा है। आज पूरा विश्व आपके पराक्रम की समीक्षा कर रहा है।