उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस पालिसी के तहत काम कर रहे हैं।
भ्रष्टाचार पर सीएम योगी का कड़ा प्रहार, मॉनीटरिंग एंड आडिटर अथारिटी का होगा गठन

Lucknow. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस पालिसी के तहत काम कर रहे हैं। उन्होंने अब निर्माण योजनाओं में होने वाली कमीशनबाजी और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए मॉनीटरिंग एंड आडिटर अथारिटी के गठन को सहमति दे दी है। 

प्रदेश में निर्माण परियोजनाओं में लगातार भ्रष्टाचार की​ शिकायतें आती रहती हैं। भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए योगी सरकार ने मॉनीटरिंग एंड आडीटर अथॉरिटी का गठन करने का निर्णय लिया है। इसके लिए सीएम योगी के सामने एक प्रजेंटेशन किया गया था, जिस पर उन्होंने अपनी सहमति दे दी है। इस प्रस्ताव को जल्द ही कैबिनेट में पेश किया जाएगा।

प्रस्ताव के मुताबिक, मॉनिटरिंग एंड ऑडिटर अथॉरिटी का गठन नियोजन विभाग के अंतर्गत किया जाएगा। इसका मुख्य काम परियोजनाओं की रचना, मूल्यांकन, मॉनिटरिंग, ऑडिट और अभिनव प्रयोग करना होगा। यह अथारिटी पांच करोड़ से अधिक और 25 करोड़ तक के विभिन्न विभागों की परियोजनाओं (जहां मुख्य अभियंता न हो) का परीक्षण करेगी।

पूरी स्टोरी पढ़िए