मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

योगी सरकार में 836 मदरसों के छात्रों का भविष्य अधर में, बोर्ड परीक्षा में नहीं शामिल हो पाएंगे छात्र


PRANAY VIKRAM SINGH 02/01/2018 15:49:39
1125 Views

  • 02-01-2018155340YogiGovernmen2

  • मुंशी, मौलवी आदि की परीक्षाएं नहीं दे पाएंगे छात्र

  •  836 मदरसों ने अपलोड नहीं कराया डाटा 

  • मदरसों को परीक्षा फॉर्म भरने की नहीं दी गई इजाजत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के 800 से ज्यादा मदरसे यूपी बोर्ड के परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे। दीगर है कि अपना डाटा अपलोड नहीं कराये जाने के कारण इन मदरसों को यूपी बोर्ड से पहले परीक्षा फॉर्म भरने की इजाजत नहीं दी गई है।  लिहाज़ा इन मदरसों में पढ़ने वाले सैकडों छात्र मुंशी, मौलवी, आलिम, कामिल और फाजिल की परीक्षाएं नहीं दे सकेंगे। 
 
दीगर है कि उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड की तरफ से फर्जीवाड़ा रोकने के लिए सरकार ने सभी मदरसों को ऑनलाइन अपना डेटा लोड करने को कहा था। अब वेबसाइट पोर्टल पर डाटा अपलोड नहीं करने वाले मदरसों में इस बार परीक्षा कराने पर रोक लगाई जा रही हैं। बोर्ड के वेब पोर्टल पर अब तक 2,682 मदरसों ने अपना ब्यौरा अपलोड किया है। जबकि 19,143 मदरसों को अपना ब्यौरा अपलोड करना होगा। अपना डाटा वेबसाइट पर अपलोड नहीं कराने के कारण इस मदरसों की मान्यता पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं और उनके मान्य होने पर अब तलवार लटक रही है।
 
सरकार ने पहले ही तय कर रखा है जो मदरसे अपनी जानकारी पोर्टल में अपलोड करेंगे उन्हें ही मुंशी, मौलवी, आलिम, कामिल और फाजिल की परीक्षाएं आयोजित करने का मौका दिया जाएगा।
 
दरअसल, आलिया (कक्षा 8 से ऊपर के) स्तर के मदरसों में से सूबे में 836 में अपना डाटा सरकार की वेबसाइट पर अपलोड नहीं किया हैं। वेस्ट यूपी के हर जिले से सरकार के आदेश की नाफरमानी करने वाले काफी मदरसे हैं। इसलिए सरकार भी इन पर अब सख्त कदम उठा रही हैं। डेटा लोड़ नहीं करने वाले कुल 2682 मदरसों की मान्यता पर तलवार लटक गई है।

 

Web Title: Yogi Government will not be able to attend the board exams in future, the fate of 836 madrasa students ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया