मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

50 लाख की नौकरी छोड़ इंजीनियर बना किसान


SANDEEP PANDEY 03/01/2018 16:55:03
365 Views

03-01-2018172747Makeafarmer1

LUCKNOW. अगर यह कहा जाये कि लाखों रुपये की नौकरी छोड़कर किसानी करो तो आपको शायद अच्छा नहीं लगेगा। मेरठ में मल्टीनेशनल कंपनी में सालाना 50 लाख रुपये पैकेज जॉब छोड़कर सॉफ्टवेयर इंजीनियर अजय त्यागी ने किसानी शुरू कर दी है। यही नहीं जैविक खेती में हाथ आजमा रहे अजय उगाई फल-सब्जियों की कुछ ही समय में पूरे देश में मांग हो रही है। बिना कीटनाशक और कृत्रिम खाद के वह दूसरे किसानों को भी जैविक खेती के लिए जागरूक कर रहे हैं।

जनरल मैनेजर के पद पर थे कार्यरत

अजय त्यागी ने मेरठ के राधा गोविंद कॉलेज से 15 साल पहले एमसीए किया। इसके बाद दिल्ली की एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करने लगे। मेहनत और लगन ने अजय को साल दर साल आगे बढ़ाया। लेकिन 50 लाख रुपये सालाना तनख्वाह और जनरल मैनेजर का ओहदा भी उन्हें मानसिक संतुष्टि नहीं दे पा रहा था।

दोस्त के कहने पर हुए आकर्षित

अजय बताते हैं कि नौकरी करते हुए जिंदगी मशीन की तरह हो गई। पैसे तो बहुत थे, लेकिन खर्च करने का समय नहीं था। कई साल से कुछ नया करने की सोच रहे थे। इसके बाद अपनी पुश्तैनी जमीन पर खेती करने की सोची। इसी दरम्यान अजय के किसी दोस्त ने जैविक खेती में अपार मौके की बात बताई।

छः महीने किया रिसर्च
अजय ने मई 2016 में नौकरी छोड़ दी। इसके बाद छह महीने तक जैविक खेती, इसके बाजार और मार्केटिंग पर खूब रिसर्च किया। देश के कई कृषि विशेषज्ञों, किसानों और होटलों से राय ली। नवंबर 2016 में जैविक खेती शुरू की और सालभर में कई राज्यों में किसानों का समूह तैयार किया। समूह में जैविक खेती करने वाले 40 किसान मेरठ से और अन्य महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा आदि राज्यों से हैं। इन किसानों के फेसबुक और व्हाट्सएप पर भी ग्रुप हैं। जरूरी सूचना ग्रुपों पर डाल दी जाती है।

10 से 15 गुना हैं फल-सब्जियों के दाम
जैविक तरीके से उगाए गए फल सब्जियों के दाम 10-15 गुना ज्यादा हैं। समूह के किसान आलू, गाजर, गोभी, ब्रोकली, सीताफल, आंवला, केला आदि जैविक तरीके से उगा रहे हैं। इसमें केवल गोबर या केंचुए की खाद ही प्रयोग की जाती है।

Web Title: Make a farmer leaving job of 50 lakhs ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया