मुख्य समाचार
भाजपा के लिए बिहार में बहार गिरीराज सिंह ने कन्‍हैया कुमार को पीछे छोड़ा नेवी में जाने का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन बंगाल में भाजपा की टीएमसी को तगड़ी टक्कर, फिलहाल टीएमसी बढ़त पर राजस्थान में कांग्रेस कॉन्फीडेंस को करारा झटका, भाजपा का 25 लोकसभा सीटों पर क्लीन स्वीप Lucknow Election Result Live : बड़ी बढ़त की ओर राजनाथ सिंह चुनाव नतीजे दिन अगर हुआ ये तो बंद होगा शेयर बाजार का कारोबार रायबरेली में कांग्रेस की सोनिया गांधी आगे, भाजपा को झटका Uttar Pradesh Election Result Live : यूपी की 80 सीटों में बीजेपी ने 59 पर बनाई बढ़त शुरूआती रूझानों में यूपी में गठबंधन को नहीं मिलती दिख रही आशातीत सफलता नई नवेली दुल्हन को प्रेमी संग रंगे हाथ पकड़ा तो ससुरालियों ने रख दी ये शर्त एग्जिट पोल वाले ट्वीट को लेकर अनुपम खेर ने की विवेक ओबेरॉय की आलोचना, ईशा गुप्ता बोलीं... COA ने किया ऐलान, 22 अक्टूबर को होंगे बीसीसीआई के चुनाव पिता से लगाई एक शर्त के बाद इस महिला ने 15 वर्षों में किए 600 पोस्टमार्टम यहां निकली बंपर भर्ती, जल्द करें आवेदन KGMU : पल्मोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग ने किया भंडारे का आयोजन  ICC World Cup 2019 : टीम इंडिया इंग्लैंड हुई रवाना, धोनी को लेकर बनी यह रणनीति डीएम-एसपी ने लिया मतगणना स्थल पर तैयारियों का जायजा, तैयारियां पूरी मध्य कमान ने केन्द्रीय विद्यालय के छात्रों को कराया सीमा दर्शन नाराज तीन विधायक दे सकते हैं राजभर को झटका  सुप्रीम कोर्ट के बाद चुनाव आयोग ने दिया विपक्ष को झटका
 

Lucknow के गांवों में कहर बन गया यह कीड़ा, विभाग ने खड़े किए हाथ


SANDEEP PANDEY 08/01/2018 16:25:30
381 Views

08-01-2018164557Termitehavoc1

LUCKNOW. लखनऊ के कई गांव में दीमक का कहर है। दीमक फसलों और घरों को बर्बाद कर रहा है। इससे लोगों का जीना दूभर होता जा रहा है। मोहनलालगंज के गांवों में पेड़ों के आसपास दीमक की बांबियां साफ नजर आती हैं। यह दर्द किसी एक गांव का ही नहीं बल्कि इलाके के दर्जन भर से अधिक गांवों का है। यहां तक कि दीमक के कहर से इन गांवों को दीमक बेल्ट कहा जाने लगा है।

इन गांव में कहर है

राजधानी से सटे मोहनलालगंज इलाके के निगोहां ,रघुनाथ खेड़ा ,अघइया ,पटसा ,उतरांवा ,डेबरिया ,भरोसवा ,रमपुरा ,षिवपुरा ,सिसेण्डी ,बरवलिया ,रमादाई खेड़ा ,कुसमौरा ,पतौना दहियर में दीपक का कहर साफ नजर आता है। दीमक ने इन गांवों के लोगों के घरों को ही खोखला कर डाला है।इन पर काबू पाने के घरेलू उपाय बेअसर साबित हो रहे हैं।

घर फर्नीचर बन रहे दीमक की खुराक

बाग और खेतों किनारे लगे पेड़ एक के बाद एक खोखले होते जा रहे हैं। घरों में खिड़कीदरवाजे समेत लकड़ी के फर्नीचर दीमक की खुराक बन रहे हैं। किसानों की फसलें चौपट हो रही हैं।

अधिकारी और जनप्रतिनिधि नही दे रहे ध्यान

पिछले दो दशक से दीमक की मार झेल रहे इन गांवों के बागवान और किसानों की आज तक किसी ने सुध नहीं ली। न तो जनप्रतिनिधियों ने इस समस्या को तवज्जो दी और न ही कृषि ,बागवानी और ग्राम्य विकास के हाकिमों को इस ओर ध्यान देने की फुरसत नहीं मिल सकी। रही-सही कसर सूखे ने पूरी कर दी जिससे दीमक का प्रकोप और भीषण हो गया है।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

सहायक विकास अधिकारी कृषि ने बताया दीमक को समाप्त करने के लिये विभाग की तरफ से कोई योजना नहीं है। इसकी दवा स्थानीय विभागीय स्टोरों पर उपलब्ध रहती है।

Web Title: Termite havoc in dozens of villages ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया