मुख्य समाचार
आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर पलटी तेज रफ्तार कार, 2 की मौत, 4 घायल अमेठी में सुरेन्द्र सिंह के हत्यारों को बख्शा नहीं जायेगा : भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में मोदी सरकार की वापसी से शेयर बाजार में दिख सकती है बढ़त ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

शास्त्रीय गायकी के घरानों पर केन्द्रित है रागगीरी संस्था का कैलेंडर


SANDEEP PANDEY 09/01/2018 12:14:14
331 Views

09-01-2018121734Calendarofth1

LUCKNOW. भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रचार-प्रसार का काम कर रही रागगीरी संस्था का सोमवार को जारी कैलेंडर शास्त्रीय गायकी के घरानों पर केन्द्रित किया गया है। यह कैलेंडर खेल एवं युवा कल्याण मंत्री चेतन चौहान ने रिलीज किया। कैलेंडर में घराने के शुरुआती कलाकारों से लेकर उन कलाकारों को भी शामिल किया गया है जिन्होंने घराने को पहचान दिलाई।

भारतीय संस्कृति के सामने नतमस्तक है पूरी दुनिया

कैलेंडर के रिलीज होने पर चेतन चौहान ने कहाकि युवाओं में अपनी परंपराओं और संस्कृति को संरक्षित और संवर्धित करने के लिए इस तरह के प्रयास करते रहने चाहिये। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया भारतीय संस्कृति के सामने नतमस्तक है जिसकी एक बड़ी वजह हमारी कलाएं हैं। उन्होंने कहाकि इस तरह के प्रयासों से बच्चों और युवाओं को अपने नामचीन कलाकारों और उनके घरानों के बारे में जानकारी मिलेगी।

सुनेंगे तभी तो सीखेंगे

रागगीरी संस्था की ट्रस्टी पल्लवी सिंह ने कहा कि हम विशेष तौर पर अपनी अगली पीढ़ी में शास्त्रीय संगीत के प्रचार-प्रसार के लिए 'सुनेंगे तभी तो सीखेंगे' शीर्षक से एक सिरीज चला रहे हैं। इसके तहत हम पिछले तीन साल से कैलेंडर का प्रकाशन करते हैं। उन्होंने बताया कि रागगीरी के इस कैलेंडर को देश के और भी कई शहरों में रिलीज किया जाएगा। जिससे युवाओं में हमारी इस महान कला के प्रति जागरूकता हो।

Web Title: Calendar of the Ragasiri institution is centered on classical singing houses ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया