मुख्य समाचार
आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर पलटी तेज रफ्तार कार, 2 की मौत, 4 घायल अमेठी में सुरेन्द्र सिंह के हत्यारों को बख्शा नहीं जायेगा : भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में मोदी सरकार की वापसी से शेयर बाजार में दिख सकती है बढ़त ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

दुनिया में प्रभावशाली भाषा बनी है हिंदी


SANDEEP PANDEY 11/01/2018 13:05:32
633 Views

11-01-2018131836Hindiisthed1

LUCKNOW. दुनिया में प्रशासनिक, व्यावसायिक और वैचारिक गतिविधियों को चलाने के लिये हिंदी सबसे प्रभावशाली भाषा बन गई है। देश-विदेश में हिन्दी के असर को देखते हुए कहा जा सकता है कि अगले एक दशक में यह दुनिया की सबसे ज्यादा बोली एवं समझी जाने वाली भाषा बन जाएगी। यह दावा डॉ. शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषा विभाग और भोजपुरी अध्ययन एवं अनुसंधान केन्द्र द्वारा विश्व हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित परिचर्चा में विवि के प्राक्टर प्रो. पी. राजीव नयन ने किया।

विदेशों में मच रही हिंदी की धूम

 हिन्दी का वैश्विक परिदृश्य: विस्तार एवं संभावनाएं विषय पर आयोजित इस परिचर्चा में बतौर मुख्य अतिथि बोलते हुए प्राक्टर और संगीत एवं ललित कला संकाय के डीन प्रो. पी. राजीव नयन ने जापान,मारीशस,ग्रीस,रोम व थाईलैण्ड देशों की यात्रा के अनुभवों को साझा किया। उन्होंने बताया कि भारतीय उपमहाद्वीप ही नहीं बल्कि दक्षिण पूर्व एशिया, मॉरीशस,चीन,जापान,कोरिया, मध्य एशिया, खाड़ी देशों, अफ्रीका, यूरोप, कनाडा और अमेरिका तक हिन्दी कार्यक्रम उपग्रह चैनलों के जरिए प्रसारित हो रहे हैं। साथ ही भारी तादाद में उन्हें दर्शक भी मिल रहे हैं। वर्तमान में हिन्दी अनेक चैनलों के जरिए मॉरीशस में धूम मचाए हुए है। पिछले कुछ वर्षों में एफएम रेडियो के विकास से हिन्दी कार्यक्रमों का नया श्रोता वर्ग उभरा है।

सम्पर्क भाषा के रूप में देश को एक सूत्र में बांधे 

 विभागाध्यक्ष डॉ. वीरेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि हिन्दी न सिर्फ सम्पर्क भाषा के रूप में देश को एक सूत्र में बांधे रखने का कार्य कर रही है, बल्कि अपने लचीलेपन व लोकप्रियता और सांस्कृतिक विरासत को अक्षुण्ण रखने की क्षमता के कारण ही यह व्यापार, ज्ञान-विज्ञान, अध्यात्म और संस्कृति के विभिन्न आयामों के जरिए अपनी पहचान का दायरा भी बढ़ा रही है। कंपनियाँ बाजार और मुनाफे के लिए हिन्दी के प्रयोग को बढ़ावा दें रही हैं।

हिन्दी सम्मेलन अहम भूमिका निभा रहा है

डॉ. प्रमोद कुमार सिंह ने कहा कि विश्व हिन्दी सम्मेलन हिन्दी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए अहम भूमिका निभा रहे हैं। इसमें विश्व भर से हिन्दी प्रेमी जुटते हैं। उन्होंने बताया कि पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन नागपुर में हुआ। इसमें विनोबा भावे ने हिन्दी के प्रचार-प्रसार पर बल दिया।

Web Title: Hindi is the dominant language in the world ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया