मुख्य समाचार
शाकिब ने रचा इतिहास, वर्ल्‍ड कप में कपिल-युवराज के रिकॉर्ड की बराबरी की क्षेत्र-जिला पंचायत सदस्यों के रिक्त पदों पर उप निर्वाचन के लिए समय सारणी जारी  Tik Tok वीडियो से सुर्खियों में आई पीली साड़ी वाली महिला जेनेलिया डिसूजा के पैर दबाते रितेश देशमुख का वीडियो वायरल, यूजर्स ने कहा... जल्द ही 100 करोड़ का आंकड़ा छू सकती फिल्म कबीर सिंह सपा संरक्षक की होगी सर्जरी, इस गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं मुलायम कोल्ड ड्रिंक पीने से एक ही परिवार के 5 लोग पहुंचे अस्पताल, फिलहाल खतरे से बाहर इटौंजा प्रकरण : एसएसपी ने कॉस्टेबल को किया लाइन हाजिर, चौकी प्रभारी व थानाध्यक्ष पर भी कार्रवाई प्रचलित  राजस्थान: बीजेपी प्रमुख मदन लाल सैनी का लंबी बीमारी के बाद निधन दो पक्षों में विवाद के बाद जमकर चले लाठी डंडे, वीडियो वायरल
 

26 जनवरी विशेष : 69वां गणतंत्र दिवस, परेड में शामिल होंगे आसियान देश


VINEET SINGH 17/01/2018 16:30:10
1325 Views

26 january 2018 - Newstimes

Lucknow. देश भर में इन दिनों 26 जनवरी की तैयारियां जोरों पर हैं। यह गणतंत्र दिवस भारत का 69 वां गणतंत्र दिवस है। इस दिन राष्ट्रपति इण्डिया गेट पर तिरंगा फहराते हैं जिसके बाद विभिन्न प्रकार के रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। राष्ट्रपति को तीनों सेना की सलामी दी जाती है। हर साल गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम के अवसर पर विदेशी मेहमानों को आमंत्रित करने की भारत की परम्परा रही है। इसी परम्परा को निभाते हुए भारत ने इस बार आसियान देशों के प्रमुखों को आमंत्रित किया है।

 

republic day celebration 2018- Newstimes

गणतंत्र दिवस 2018 के मेहमान #RepublicDay

भारत ने इस बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर आसियान समूह के देशों को प्रमुखता से निमंत्रण भेजा है। जिनमें ब्रुनेई के सुल्तान और प्रधानमंत्री हसन-अल-बोल्कियाह, कम्बोडिया के प्रधानमंत्री हुनसेन, इण्डोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो, लाओस के प्रधानमंत्री थांगलम साइसोलिथ, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक, म्यांमार के राष्ट्रपति यू तिन क्याव, फिलिपीन्स के राष्ट्रपति रॉड्रिगो रो, सिंगापुर के राष्ट्रपति हलिमा याकूब, थाइलैण्ड के प्रधानमंत्री प्रयुत चन, वियतनाम के प्रधानमंत्री ग्यूयेन तन ज़ूंग शामिल हैं।

 

chief guest of republic day 2018

गणतंत्र दिवस मनाने का कारण (Republic Day)

26 January को भारत के संविधान को लागू किया गया था जिसके साथ ही भारत को सम्पूर्ण गणराज्य का दर्जा मिल गया था और इसी दिन भारत को पूर्ण रूप से स्वतंत्रता मिली थी। भारत का संविधान जिसे 2 साल 11 महीने 18 दिनों में बना कर तैयार किया गया था। भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। जिसे बनाने के लिए एक संविधान सभा का गठन किया गया था।

 

republic day speech- Newstimes

संविधान सभा के सदस्य

14 अगस्त 1947 को संसद में एक बैठक की गई। जिसमें संविधान निर्माण की प्रक्रिया पर चर्चा के बाद संविधान सभा का गठन किया गया। संविधान निर्माण के लिए गठित संविधान सभा की अध्यक्षता की जिम्मेदारी डॉ. भीमराव अम्बेडकर को दी गई थी। आम्बेडकर के अलावा पं. गोविन्द वल्लभ पंत, के एम मुंशी, कृष्णास्वामी अय्यर, एन गोपालस्वामी अयंगर, बी एल मित्रा, मो. सदुल्लाह और डीपी खेतान इस सभा में शामिल थे, जिन्होंने संविधान की ड्राफ्टिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

 

26 january 2018 news times

संविधान निर्माण में लगा समय

संविधान निर्माण के लिए 165 दिन संसद की कार्यवाही चली। जिसमें 114 दिनों का समय सिर्फ और सिर्फ संविधान की ड्राफ्टिंग के लिए लगाया गया। इस दौरान महत्वपूर्ण मसलों पर गहन चर्चा की गई। काफी सहमतियों और असहमतियों के बीच सुधार के स,थ ही संविधान निर्माण की प्रक्रिया पूरी हुई और अंतत: 26 नवम्बर 1949 को 8 अनुसूचियां, 22 भाग औऱ 395 आर्टिकल के साथ निर्मित संविधान को संसद में स्वीकृति दे दी गई।

 

26 january 2018 news times

संविधान में अन्य देशों से लिया गया हिस्सा

भारतीय संविधान में कई देशों के के संविधान से कई सारे हिस्से लिए गए हैं। जिसमें ब्रिटेन के संविधान से एकल नागरिकता, सरकार का पार्लियामेंट्री रूप और कानून बनाने की प्रक्रिया,, ऑस्ट्रेलिया के संविधान से राज्यों में व्यापार और फेडरल सिस्टम, सोवियत संघ के संविधान से मूल कर्तव्य, यूएस के संविधान से इलेक्टोरल व्यवस्था, राष्ट्रपति की शक्तियां, और न्यायपालिका की शक्तियां शामिल हैं। इसके अलावा अन्य देशों के संविधान से स्वतंत्रता, समरूपता और आपातकाल जैसी बातें शामिल की गई हैं।   

Web Title: 26 january 2018- asean countries will attend republic day parade ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया