मुख्य समाचार
पश्चिम बंगाल में किशोर सहित दो लोगों की मौत, भड़की हिंसा रेलवे भर्ती बोर्ड इस तिथि को जारी करेगा सीबीटी का एडमिट कार्ड गरीब की जमीन से कब्जा हटाने में लग रहे महीनों भविष्य के आर्यावर्त का असली चेहरा दिखाती है वेब सीरीज 'लैला' अधिकारी के फार्म हाउस पर दुष्कर्म मामले में अखिलेश समेत 7 गिरफ्तार, मुलायम और बाउंसर अभी भी फरार  लखनऊवासियों को ख़ूब रास आ रहे मेट्रो के सोवनियर आइटम्स निलंबित कोटेदार की दुकान निरस्त करने की जिलाधिकारी से मांग देह व्यापार की सूचना पर पहुंची पुलिस तो चौंकाने वाला हुआ खुलासा मेट्रो स्टेशन पर युवती को देख युवक करने लगा मास्टरबेट, तमाशा देखते रहे लोग ओडिशा: इस दिन जारी होगा CHSE+2 का परिणाम, शिक्षामंत्री ने की घोषणा वृहद कुक्कुट एवं लघु पशु एक दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला का आयोजन 20 को 91 हजार करोड़ कर्ज घोटाले में ED की गिरफ्त में दो बड़े ऑफिसर, मामले की पहली गिरफ्तारी यूपी में अपराधों की बाढ़ के बावजूद भाजपा सरकार के कानों पर नहीं रेंग रही जूं : अखिलेश टीम इंडिया को झटका, धवन पूरे वर्ल्ड कप से बाहर, ऋषभ पंत हुए शामिल
 

केकेसी डिग्री कालेज के छात्रों के बीच लगी लोकतंत्र की पाठशाला


SHUBHENDU SHUKLA 18/01/2018 19:43:40
598 Views

18-01-2018195209Schoolofdemo1

Lucknow. लोकतंत्र मुक्ति आन्दोलन के तहत लखनऊ के विभिन्न इंटर कालेजों, डिग्री कालेजों और विश्वविद्यालयों में “लोकतंत्र की पाठशाला” लगानें की श्रृंखला में केकेसी डिग्री कालेज के छात्रों के बीच पाठशाला लगाई गई।

यह भी पढ़ें...सपना के रेड में पकड़े जाने का सच, बिस्तर के पास खड़ी पुलिस के साथ फोटो हुआ था वायरल

पाठशाला में चर्चा करते हुए लोकतंत्र मुक्ति आन्दोलन के संयोजक प्रताप चन्द्रा ने कहा कि देश में कार लोन और गृह लोन से भी महंगा शिक्षा लोन है। जबकि शिक्षा लोन तो छात्रों के लिए पढने तक तो ब्याज मुक्त होना चाहिये। जिससे छात्र ब्याज के भार से मुक्त होकर बिना तनाव के अपनी पढ़ाई कर सकें। शिक्षित युवा ही सशक्त भारत बना सकता हैं।

यह भी पढ़ें...युवती से प्रेम करना युवक को पड़ा भारी, पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान, जूतों से पिटाई और

इन बातों का रखना होगा ध्यान

प्रताप चन्द्रा नें छात्रों से कहा कि चार विषयों पर अमल कराने हेती लोकतंत्र की पाठशाला लगाई जा रही है। जिनमें इन बातों का ध्यान रखा जाना जरूरी है- 

-शिक्षा लोन ब्याज मुक्त हो जिससे छात्र ब्याज के बोझ को न सोचकर अपनी पढ़ाई कर सके।
-छात्रों को मनरेगा की तरह रोजगार गारंटी हो क्यूंकि छात्र देश का भविष्य है। जिसे निराशा व अवसाद से बचाना होगा। मनरेगा में मजदूरी की गारंटी है कि छात्रों को कम से कम वर्ष के 90 दिन रोजगार की गारंटी हो। जिससे 36 हज़ार रुपये मिल सके ताकि अपने निजी खर्चों के लिए किसी के आगे हाथ न फैलाना पड़े। और शेष 275 दिन अपनी पढ़ाई या परीक्षा की तैयारी कर सके तभी सशक्त भारत की कल्पना साकार होगी।  

-NOTA को राईट-टू-रिजेक्ट माना जाये जिससे अच्छे उम्मीदवार चुनाव में आयेंगे और अगर जनता किसी उम्मीदवार को अपनें प्रतिनिधि के लायक नहीं समझती है, तो उसे रिजेक्ट कर सकेगी। इस डर से पार्टियाँ भी अच्छे प्रत्याशी खड़ा करेंगी और चुना हुआ प्रतिनिधि जनहित में काम करने को बाध्य होगा।

यह भी पढ़ें...शिक्षकों की मांगे पूरी करने का निदेशक ने दिया आश्वासन, क्रमिक उपवास स्थगित

-प्रत्याशी की फोटो ही चुनाव-चिन्ह हो क्यूंकि EVM पर अब प्रत्याशी की फोटो लगने लगी है, अब वोटर अपने प्रत्याशी को फोटो से पहचान कर वोट दे लेंगे। इससे न सिर्फ प्रतिनिधि जनता के बीच रहनें को बाध्य होगा बल्कि सबसे महंगी बिकाऊ चीज चुनाव चिन्ह की नीलामी बंद हो जाएगी। जिससे राजनीतिक भ्रष्टाचार ख़त्म होगा और लोकतंत्र प्रभावी हो जायेगा।

यह भी पढ़ें...अनजान नंबर से आया फोन, प्यार में फंसी तलाकशुदा, युवक ने बनाया संबंध, फिर दोस्त से...

समस्याओं के लिए जवाबदेह कौन

वहीं, समाजसेवी एम एल गुप्ता ने कहा कि लोकतंत्र में नागरिक अपनी समस्या के समाधान के लिए अपना जन-प्रतिनिधि चुनता है। अपेक्षा करता है कि उनका जन-प्रतिनिधि उनकी समस्याओं के लिए जवाबदेह होगा। परन्तु चुना हुआ जन-प्रतिनिधि के बजाये दल-प्रतिनिधि बन जाता है और जनहित के बजाये अपने हित में काम करनें लगता है। 

यह भी पढ़ें......तो इसलिए मां ने किया अकाली नेता के बेटे का अपहरण

शिक्षाविद एम पी यादव नें कहा कि लोकतान्त्रिक मूल्यों और संवैधानिक अधिकारों को जानना आज की आवश्यकता है। आज सोशल मीडिया के जमाने में छात्रों को न सही जानकारी मिल पाती है और न ही वो जानने के लिए समय निकलते हैं। ऐसे में कालेजों का और भी दायित्व बढ़ जाता है। छात्रों को उनके अधिकारों और लोकतान्त्रिक मूल्यों को बतानें का जिसके लिए “लोकतंत्र की पाठशाला” अभियान बिलकुल उपयुक्त कदम है।

यह भी पढ़ें...युवती से प्रेम करना युवक को पड़ा भारी, पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान, जूतों से पिटाई और

अगली लोकतंत्र की पाठशाला 30 जनवरी को लखनऊ के आशियाना कालोनी स्थित महाराजा पासी किला पोस्ट ग्रेजुएट कालेज में होगी जिसमें शहर के कई लोकतंत्र के पैरोकार छात्रों को अपने अनुभव बाटेंगे। 

Web Title: School of democracy engaged in KKC degree college students in lucknow ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया