मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा
 

साहित्य का मूल भाव सबका हित है: योगी आदित्यनाथ


SHUBHENDU SHUKLA 22/01/2018 17:58:00
415 Views

22-01-2018180744CMYogiAditya1

Lucknow. उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के तत्वावधान में सम्मान समारोह का आयोजन सोमवार को मुख्यमंत्री आवास, कालिदास मार्ग, लखनऊ में किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ सीएम योगी आदित्यनाथ, विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन कर किया। सीएम योगी ने कहा कि साहित्य का मूल भाव सबका हित है। साहित्यकार समाज को दिशा देने पर महत्वपूर्ण काम करते हैं इसलिए प्रणम्य हैं। 

यह भी पढ़ें.....तो इसलिए मां ने किया अकाली नेता के बेटे का अपहरण
हिन्दी सेवियों तथा रचनाकारों और विद्वानों का सम्मान, राष्ट्रभाषा का सम्मान है। भारत की प्राचीन उज्ज्वल परम्परा का सम्मान है। हिन्दी भाषा और साहित्य राष्ट्र की सांस्कृतिक अस्मिता की अभिव्यक्ति का माध्यम है। 

उन्होंने कहा कि विश्व के लगभग एक सौ पचहत्तर देशों के विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जाती है। यह स्थिति इसकी अतिशय लोकप्रियता का प्रमाण है। हिन्दी की इस व्याप्ति और इसकी शक्ति को हमें खण्डित नहीं होने देना है। जनपदीय बोलियों को साथ लेकर हिन्दी निरन्तर आगे बढ़ती रहे यही प्रयास करना है। 

यह भी पढ़ें...कौन कर रहा भाजपा को सद्बुद्धि देने के लिए यज्ञ

कार्यक्रम में भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की छात्राओं सुश्री नीलू पाण्डेय, साहिल कौशिक सुश्री तूलिका, सुश्री रूबी शुक्ल ने​ वाणी वन्दना की प्रस्तुति कर लोगों का मन मोह लिया। 

अध्यक्षीय सम्बोधन में हृदय नारायण दीक्षित अध्यक्ष विधानसभा ने कहा, समाज के संस्कारों को जीवित करने में साहित्य का महत्वपूर्ण योगदान है। साहित्यकार विशेषरूप से हिन्दीतर भाषी प्रदेशों से पधारे विद्वानों को मैं प्रणाम करना चाहता हूं।  

22-01-2018181221CMYogiAditya5

यह भी पढ़ें...नकल नहीं कराना दलित छात्रा को पड़ा भारी, दी यह घिनौनी सजा

वसंत पंचमी पर लोगों का स्वागत

मुख्यमंत्री, उप्र एवं अध्यक्ष, उप्र हिन्दी संस्थान का उत्तरीय एवं प्रतीक चिह्न द्वारा स्वागत डाॅ. सदानन्दप्रसाद गुप्त,  कार्यकारी अध्यक्ष, उप्र हिन्दी संस्थान एवं  शिशिर, निदेशक, उप्र हिन्दी संस्थान ने किया। डाॅ. सदानन्दप्रसाद गुप्त, कार्यकारी अध्यक्ष, उप्र हिन्दी संस्थान ने कहा, लखनऊ द्वारा वर्ष 2016 के लिए प्रदान किये जाने वाले सम्मान के उपलक्ष्य में मां सरस्वती के प्राकट्य दिवस एवं महाप्राण निराला के जन्मदिन वसंत पंचमी पर लोगों का स्वागत किया।  

यह भी पढ़ें...हरियाणा छेड़छाड़ मामला, IAS की बेटी से 5 घंटे में 500 सवाल

उन्होंने कहा कि हिन्दी संस्थान के लिए बहुत ही प्रीतिकर एवं सुखद संयोग है कि मुख्यमंत्री प्रदेश के साथ ही संंस्थान के मुखिया भी हैं। सीएम ने अपने अमूल्य समय निकाले और लोगों के बीच उपस्थित हुए। साहित्यकारों के बीच पहुंचकर मंच का सम्मान बढ़ाया है। 

22-01-2018181203CMYogiAditya4

यह भी पढ़ें...पति को बदमाशों ने बनाया बंधक, पत्नी से किया गैंगरेप
विधानसभा अध्यक्ष के भी आभारी हैं कि उन्होंने अत्यन्त आत्मीयता प्रदर्शित करते हुए सहजता के साथ हमारे अनुरोध को स्वीकार किया और मंच की शोभा बढ़ाई।  उन्होंने कहा कि अगले वित्तीय वर्ष में चार दिवंगत साहित्यकारों हनुमान प्रसाद पोद्दार, पं. विद्यानिवास मिश्र, ठाकुर राम अधार सिंह तथा देवेन्द्र कुमार बंगाली पर पुस्तिका प्रकाशित करने की योजना है। संस्थान 18 से 30 वर्ष के आयुवर्ग के नवोदित रचनाकारों को प्रोत्साहित करने के लिए उनके बीच कहानी एवं कविता प्रतियोगिता भी आयोजित करने जा रहा है।

यह भी पढ़ें...युवती से प्रेम करना युवक को पड़ा भारी, पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान, जूतों से पिटाई और

लेखक सम्मेलन का आयोजन

उन्होंने कहा कि हिन्दी भाषा एवं साहित्य के संवर्धन एवं उसके स्वस्थ तथा सकारात्मक विकास के लिए लेखक सम्मेलन भी संस्थान आयोजित करेगा। मुख्यमंत्री से अनुरोध है कि यह संख्या 20 करने पर सहानुभूति पूर्वक विचार  करें। संस्थान दो विश्वविद्यालय स्तरीय सम्मान प्रदान करता है। इसकी पुरस्कार राशि पचास हजार से एक लाख किये जाने तथा विभिन्न विधाओं के अन्तर्गत दिये जाने वाले नामित एवं सर्जना पुरस्कारों की राशि क्रमशः पचास हजार से पचहत्तर हजार एवं बीस हजार से बढ़ाकर चालीस हजार किये जाने का निवेदन भी करना चाहता हूँ।

22-01-2018181154CMYogiAditya3

यह भी पढ़ें...एटा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, हाथ लगी 37 लाख की अंग्रेजी शराब-तीन गिरफ्तार

34 विधाओं में पुरुस्कार

उन्होंने कहा कि 34 विधाओं के अन्तर्गत पुरस्कार दिये जाते हैं। इसमें भीवृद्धि की आवश्यकता का अनुभव किया जा रहा है। संस्थान ने भारत-भारती सम्मान से डाॅ. आनन्द प्रकाश दीक्षित, लोहिया साहित्य सम्मान से आनन्द मिश्र ‘अभय’, हिन्दी गौरव सम्मान से डाॅ. विद्या बिन्दु सिंह से महात्मा गांधी साहित्य सम्मान से डाॅ. नन्द किशोर आचार्य, को सम्मानित किया गया। वहीं पं. दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान से डाॅ. महेश चन्द्र शर्मा, अवन्तीबाई साहित्य सम्मान से प्रो. नेत्रपाल सिंह, राजर्षि पुरुषोत्तमदास टण्डन सम्मान से डाॅ. इंदर राज बैद्य, साहित्य भूषण सम्मान से डाॅ. रामशरण गौड, प्रो. (डाॅ.) जय प्रकाश, डाॅ. गणेश नारायण शुक्ल, डाॅ. वेद प्रकाश अभिताभ, श्री मधुकर अष्ठाना विजय रंजन, डाॅ. श्रीराम परिहार, प्रो. सुरेन्द्र दुबे, डाॅ. प्रेमशंकर त्रिपाठी, बल्देव भाई शर्मा, को सम्मानित किया गया। 

यह भी पढ़ें...हरियाणा की लड़की का कारनामा, लड़कों से मिलकर करती थी घिनौना काम, इस शख्स के किया सौदा तो...
साथ ही लोक भूषण सम्मान से डाॅ. आद्याप्रसाद सिंह ‘प्रदीप’, कला भूषण सम्मान से डाॅ. मंजुला चतुर्वेदी, विद्या भूषण सम्मान से डाॅ. हरिशंकर मिश्र, विज्ञान भूषण सम्मान से श्री देवेन्द्र मेवाड़ी, पत्रकारिता भूषण सम्मान से राजनाथ सिंह ‘सूर्य’ से बाल साहित्य भारती सम्मान से भगवती प्रसाद द्विवेदी, मधुलिमये साहित्य सम्मान से श्री शिवनारायण मिश्र पं. श्रीनारायण चतुर्वेदी साहित्य सम्मान से डाॅ. हरिजोशी, विधि भूषण सम्मान से डाॅ. रामअवतार सिंह, सौहार्द सम्मान से श्रीमती मनोहरमयुम यमुना देवी, प्रकाश भातम्बे्रकर, डाॅ. बाबू कृष्ण मूर्ति,को सम्मानित किया गया। 

यह भी पढ़ें...एक रात में सनकी हत्यारे ने कि 6 को उतारा मौत के घाट, साईको किलर का राज कर दंग रह जाएंगे आप
वहीं, प्रो. ओम प्रकाश पाण्डेय, डाॅ. जे.एल. रेड्डी, श्री नन्द कुमार मनोचा ‘वारिज’, डाॅ. गंगेश गुंजन, वी. रवीन्द्रन, डाॅ. राजलक्ष्मी कृष्णन, डाॅ. यासमीन सुलताना नकवी, डाॅ. शशि शेखर तोषखानी, प्रो. प्रेमसुमन शर्मा एवं डाॅ. प्रणव शर्मा शास्त्री, नामित पुरस्कार से रमाशंकर, डाॅ. ज्ञानवती दीक्षित, डाॅ. दिनेश पाठक ‘शशि’, चन्देश्वर ‘परवाना’, डाॅ. शिवमंगल सिंह ‘मंगल’, डाॅ. अजय कुमार सिन्हा, आचार्य पण्डित उमाशंकर मिश्र ‘रसेन्दु’, रवीन्द्र प्रताप सिंह, डाॅ. देवव्रत चैबे, डाॅ. सुशील कुमार पाण्डेय ‘साहित्येन्दु’, रविनंदन सिंह, डाॅ. दया शंकर त्रिपाठी, डाॅ. प्रणव भारती, शीलेन्द्र कुमार वशिष्ठ, डाॅ. पशुपतिनाथ उपाध्याय, डाॅ. (श्रीमती) सरला अवस्थी, डाॅ. नुज़हत फ़ात्मा, डाॅ. गोपाल कृष्ण शर्मा ‘मृदुल’, डाॅ. विनीता सिंघल, सुश्री आरती मिश्र ‘आश्चर्य’, शंकर सुल्तानपुरी, डाॅ. योगेश, डाॅ. बीरेन्द्र कुमार चन्द्रसखी, अमित कुमार सिंह सम्पा. कृष्ण मुरारी‘विकल’, सुश्री शीला शर्मा, डाॅ. चन्द्रभानु शर्मा एवं कौशलेन्द्र को सम्मानित एवं पुरस्कृत किया गया। डाॅ. मंजु मोदी, छत्रपाल (जोगिन्दर पाल सराफ), रामनिरंजन गोयनका जी के प्रतिनिधि ने पुरस्कार ग्रहण किया। 

22-01-2018181142CMYogiAditya2

यह भी पढ़ें...सपना के रेड में पकड़े जाने का सच, बिस्तर के पास खड़ी पुलिस के साथ फोटो हुआ था वायरल

भारत भारती सम्मान

भारत भारती सम्मान-2016 से सम्मानित डाॅ. आनन्द प्रकाश दीक्षित ने    कहा, हिन्दी के अनुरागियों का सम्मान पूरे भारतवर्ष में हो यह भाव हिन्दी संस्थान का है। त्रिभाषा सूत्र पर ध्यान देना आवश्यक है तभी हिन्दी की उन्नति सम्भव है। समारोह के अन्त में भारखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की छात्राओं द्वारा वन्दे मातरम् का गायन किया गया।

Web Title: CM Yogi Adityanath in Honor ceremony program of Hindi institute ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया