मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

सेमेस्टर प्रणाली शैक्षिक गुणवत्ता को प्राप्त करने में विफल : अभाविप


SHUBHENDU SHUKLA 23/01/2018 19:43:11
419 Views

23-01-2018195341semestersyste1

Lucknow. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पारा थाना स्थित राज स्टेट पब्लिक स्कूल में चल रहे 57वें प्रान्त अधिवेशन में मंगलवार को 'शिक्षा की गुणवत्ता एवं वर्तमान चुनौतियां’ को लेकर छात्रों के समक्ष एक विचारार्थ प्रस्ताव रखा गया। 
प्रस्ताव में योगी आदित्यनाथ सरकार की सेवानिवृत शिक्षकों को रखने की मंशा को अनुचित ठहराया गया है। अभाविप का कहना है कि माध्यमिक व उच्च शिक्षा में सेवानिवृत्त शिक्षकों की अपेक्षा प्रशिक्षित एवं योग्य युवाओं को अवसर दिया जाय। इस प्रस्ताव में प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा में रिक्त पड़े पदों को लेकर चिन्ता जताई गई है और सरकार से निष्पक्ष एवं पारदर्शी प्रक्रिया के माध्यम से इन्हें शीघ्र भरने की मांग की गई है। 

यह भी पढ़ें...सपना के रेड में पकड़े जाने का सच, बिस्तर के पास खड़ी पुलिस के साथ फोटो हुआ था वायरल

विश्वविद्यालय स्थापित करने की मांग

अभाविप ने यूपी में कृषि व चिकित्सा शिक्षा की दशा सुधारने तथा प्रदेश में कृषि, महिला तथा खेल के एक-एक विश्वविद्यालय की स्थापना को लेकर भी मांग की है। इसके अलावा प्रत्येक जिले में स्पोर्टस कालेज तथा गरीब बालिका छात्रावास की स्थापना करने की जरूरत बतायी गयी है। 
विद्यार्थी परिषद ने महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों में चल रहे सेमेस्टर प्रणाली को शैक्षिक गुणवत्ता को प्राप्त करने में विफल करार दिया है। संगठन ने छात्रहित में इसे तत्काल प्रभाव से बन्द करने तथा विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में छात्राओं की सुविधा के लिए ’वूमेन सेल’ बनाने की मांग की है। इसके साथ ही पाठ्यक्रमों की मांग एवं पूर्ति के लिए ’राज्य शैक्षिक योजना आयोग’, शिक्षण संस्थानों में समय से प्रवेश, परीक्षा, परिणाम एवं अन्य गतिविधियों के लिए शैक्षिक कैलेण्डर घोषित कर उसका पालन सुनिश्चित करने की अपील की गई है। 

यह भी पढ़ें...अनजान नंबर से आया फोन, प्यार में फंसी तलाकशुदा, युवक ने बनाया संबंध, फिर दोस्त से...

शुल्क वृद्धि पर रोक

संगठन ने इसके अलावा माध्यमिक शिक्षा को रोजगारोन्मुखी बनाने के लिए कौशल आधारित पाठयक्रम लागू करने, लिंगदोह समिति की सिफारिशों के अनुसार निश्चित समयावधि में प्रत्यक्ष छात्रसंघ चुनाव, शिक्षा अधिकार अधिनियम के तहत निजी विद्यालयों में 25 प्रतिशत सीटों पर निर्धन छात्रों को प्रवेश तथा मनमानी शुल्क वृद्धि पर रोक लगाने की मांग दोहरायी है।

यह भी पढ़ें......तो इसलिए मां ने किया अकाली नेता के बेटे का अपहरण

उल्लेखनीय है कि अभाविप ने इस प्रस्ताव को अधिवेशन में शामिल प्रतिनिधियों के विचारार्थ रखा है। इस प्रस्ताव में प्रतिनिधियों की मांग पर उनके कई सुझावों को शामिल करते हुए कुछ संशोधन किये जायेंगे। इसके बाद इस अन्तिम रूप देते हुए प्रस्ताव को 'ओम ध्वनि' के साथ बुधवार को ध्वनिमत से पारित किया जायेगा।

Web Title: semester system failed to achieve academic quality ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया