मुख्य समाचार
पश्चिम बंगाल में किशोर सहित दो लोगों की मौत, भड़की हिंसा रेलवे भर्ती बोर्ड इस तिथि को जारी करेगा सीबीटी का एडमिट कार्ड गरीब की जमीन से कब्जा हटाने में लग रहे महीनों भविष्य के आर्यावर्त का असली चेहरा दिखाती है वेब सीरीज 'लैला' अधिकारी के फार्म हाउस पर दुष्कर्म मामले में अखिलेश समेत 7 गिरफ्तार, मुलायम और बाउंसर अभी भी फरार  लखनऊवासियों को ख़ूब रास आ रहे मेट्रो के सोवनियर आइटम्स निलंबित कोटेदार की दुकान निरस्त करने की जिलाधिकारी से मांग देह व्यापार की सूचना पर पहुंची पुलिस तो चौंकाने वाला हुआ खुलासा मेट्रो स्टेशन पर युवती को देख युवक करने लगा मास्टरबेट, तमाशा देखते रहे लोग ओडिशा: इस दिन जारी होगा CHSE+2 का परिणाम, शिक्षामंत्री ने की घोषणा वृहद कुक्कुट एवं लघु पशु एक दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला का आयोजन 20 को 91 हजार करोड़ कर्ज घोटाले में ED की गिरफ्त में दो बड़े ऑफिसर, मामले की पहली गिरफ्तारी यूपी में अपराधों की बाढ़ के बावजूद भाजपा सरकार के कानों पर नहीं रेंग रही जूं : अखिलेश टीम इंडिया को झटका, धवन पूरे वर्ल्ड कप से बाहर, ऋषभ पंत हुए शामिल अमेठी: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने धूम-धाम से मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन एरिया कमांडर समेत 4 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण हाईवे किनारे जड़ी बूटियां उगाकर यूपी सरकार सुधारेगी लोगों का स्वास्थ्य  लखनऊ: सीएम योगी ने लेखपालों को बांटे लैपटॉप लखनऊ में गर्मी का कहर, राज्य में 23 जून तक नहीं चलेंगे स्कूल अर्जुन पटियाला का पोस्टर्स हुआ रिलीज,फिल्म मे दिलजीत-कृति मुख्य भूमिका में पहली बार सांसद बने सनी देओल से हुई बड़ी चूक, जा सकती है लोकसभा की सदस्यता  सीवर सफाई करने चैंबर में उतरे दो कर्मचारी गैस से अचेत होकर डूबें, मौत नेहा धूपिया के चैट शो में पहुंची परिणीति चोपड़ा और सानिया मिर्जा गरीब मजदूर की मजदूरी नहीं दिला पा रही मलिहाबाद पुलिस इयोन मोर्गन ने तोड़ डाला छक्कों का सबसे बड़ा रिकॉर्ड, एक पारी में लगा दिए इतने छक्के संभल में भीषण सड़क हादसा, दो बच्चों समेत आठ की मौत सपा सांसद ने नहीं लगाया वंदे मातरम का नारा तो अखिलेश ने कह दी चौंकाने वाली बात मोदी सरकार ने किये ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में संशोधन, जानिए क्या है नियम? परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक धर्मांतरण के विरोध में विहिप ने डीएम को सौंपा ज्ञापन महिला अपनी ताकत को पहचाने और समाज को यह संदेश दें कि नारी अबला नहीं अब सबला है : अनुपमा जायसवाल याचिका दायर कर पाकिस्तान की क्रिकेट टीम को बैन करने की मांग दलित हत्या मामले बहन जी के करीबी नेता को अखिलेश ने सौंपी अहम जिम्मेदारी प्रत्येक विकास खण्ड की दो पंचायतों को आदर्श पंचायत के रूप में विकसित किया जाय
 

26 जनवरी 2018 विशेष: संविधान के नायक डॉ. गोविन्द वल्लभ पंत


VINEET SINGH 25/01/2018 09:01:41
1045 Views

25-01-201809042426january2011

Lucknow. पं. गोविंद वल्ल्भ पंत एक प्रसिद्ध देशभक्त ,राजनीतिज्ञ, संविधान और आधुनिक उत्तर प्रदेश के निर्माण की नींव रखने वाले नेता के तौर पर जाने जाते हैं। पंडित गोविन्द वल्लभ पंत का जन्म 30 अगस्त 1887 को अल्मोड़ा (उत्तराखंड) के खूंट गाँव में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा उनके नानाजी की देख-रेख में अल्मोड़ा में हुई। इसके बाद में छात्रवृति लेकर उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री प्राप्त की।  इलाहाबाद से ही पंत जी सार्वजनिक कार्यों में रुचि लेने लगे थे।

25-01-201809045126january2012

सामाजिक जीवन

1905 की बनारस कांग्रेस में वे स्वयंसेवक के रूप में सम्मिलित हुए। जहां गोपाल कृष्ण गोखले के भाषण का उन पर बहुत प्रभाव पड़ा। वकालत की परीक्षा पास करने के बाद पंत जी ने कुछ दिन अल्मोड़ा और रानीखेत में वकालत की। इनके प्रयत्न से कुमाऊँ परिषदकी स्थापना हुई। इसी परिषद के प्रयत्न से 1921 में कुमाऊँ में प्रचलित कुली बेगारकी अपमानजनक प्रथा का अंत हुआ।

25-01-201809091126january2016

स्वतंत्रता आंदोलन में भागीदारी

रोलेट एक्टके विरोध में जब गांधीजी ने 1920 में असहयोग आन्दोलन आरम्भ किया तो पन्त जी ने अपनी चलती वकालत छोड़ दी। बाद में वो नैनीताल जिला बोर्ड और काशीपुर नगर पालिका के अध्यक्ष चुने गये। स्वराज्य पार्टी के उम्मीदवार के रूप में 1923 में पंत जी ने उत्तर प्रदेश विधान परिषद के चुनाव में सफल हुए और स्वराज्य पार्टी के नेता के रूप में वहां उन्होंने अपनी धाक जमा दी। 1925 के काकोरी काण्ड में क्रान्तिकारियो का मुकदमा भी पंत जी ने लड़ा।|

25-01-201809074026january2014

1928 में साइमन कमीशन के विरोध में लखनऊ में आयोजित प्रदर्शन में इन्होंने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। 1930 के नमक सत्याग्रह और उसके बाद के आन्दोलनों में वो कई बार गिरफतार हुए। 1937 में पंत जी उत्तर प्रदेश की विधान सभा के सदस्य चुने गये और उनके नेतृत्व में प्रदेश में पहला कांग्रेस मंत्रिमंडल बना।

25-01-201809082326january2015

द्वितीय विश्वयुद्ध आरम्भ होने पर जब कांग्रेस मंत्रिमंडलों ने इस्तीफ़ा दे दिया तो पंत जी सीधे संघर्ष से सम्मिलित हो गये।  1940 के व्यक्तिगत सत्याग्रह में वो गिरफ्तार हुए और भारत छोड़ोआन्दोलन में पं. नेहरु जी के साथ 1945 तक नजरबंद रहे। 1946 में वो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और जमींदारी उन्मूलन सहित अनेक जन-कल्याणकारी कार्यो तथा पंचवर्षीय योजना का आरम्भ उनके नेतृत्व में हुआ। 1954 तक वो इस पद पर रहे।

25-01-201809102526january2017

सम्मान और मृत्यु

सरदार पटेल के देहांत के बाद पं. नेहरु ने पंत जी को जनवरी 1955 में देश का गृहमंत्री बनाया।| कहा जाता है कि वो रोज 18  घंटे काम किया करते थे |स्वतंत्रता संग्राम और प्रशासन दोनों पर उन्होंने अपनी छाप छोड़ी।  26 जनवरी 1957 को पंत जी को देश के सर्वश्रेष्ट अलंकरण भारत रत्नसे सम्मानित किया गया।  कुछ दिनों की बीमारी के बाद 7 मार्च 1961 को दिल्ली में पंत जी  का देहांत हो गया |

25-01-201809121626january2018

''न्यूज टाइम्स नेटवर्क भारत के संविधान के निर्माण के लिए गठित विधान सभा के सदस्यों और उस वक्त की कैबिनेट से जुड़े शख्सियतों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियों की सिरीज चला रहा है। आपको बता दें कि 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था। जिसे लिखने में 2 साल 11 माह 18 दिन का समय लगा था जिसे लिखने के लिए संविधान सभा का गठन किया गया था, जिसकी ड्राफ्टिंग कमेटी का अध्यक्ष डॉ. भीमराव अम्बेडकर को नियुक्त किया गया था।''

Web Title: 26 january 2018 special hero of indian constitution dr. g b pant ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया