मड़ियांव जनसंवाद : कहां कहां हैं जन समस्याएं, क्या कह रहे हैं जिम्मेदार


SUYASH MISHRA 27/01/2018 12:54 PM
685 Views

27-Jan-2018zJN5hhJykx1

Lucknow. राजधानी लखनऊ के थाना मड़ियांव क्षेत्र के नौबस्ता खुर्द स्थित रामलीला मैदान में जन समस्याओं को लेकर जन संवाद का कार्यक्रम हुआ। इस कार्यक्रम में जन समस्याओं को सुनने के लिए फैजुल्लागंज-4 के पार्षद प्रदीप कुमार शुक्ला, फैजुल्लागंज से पार्षद पति राम किशोर, फैजुल्लागंज-२ जगलाल यादव, फैजुल्लागंज-3 से अमित मौर्या, नगर निगम से सेनेटरी एवं फ़ूड इंस्पेक्टर रूपेन्द्र भास्कर, मड़ियांव कोतवाली प्रभारी अमरनाथ वर्मा मौजूद रहे। 

 

जनसंवाद कार्यक्रम मड़ियांव रामलीला मैदान

Posted by News Times on Friday, January 26, 2018

अधिवक्ता अनुराग त्रिवेदी ने क्या कहा 

कहने को तो हम राजधानी लखनऊ में रहते हैं लेकिन इस क्षेत्र में 1995 से लेकर 2017 तक विकास नहीं दिखा। पार्षद बनते रहे विधायक बनते रहे। नया पुरवा इलाके का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सड़कें टूटी हैंं। पूर्व के पार्षदों को क्षेत्र की जनता ने न तो चुनाव में देखा और न चुनाव के बाद। फैजुल्लागंज इलाके में हालात बद से बदतर हैं। यह वही क्षेत्र है जहां 2016 में डेंगू से कई मौतें हुई थीं।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

फैजुल्लागंज द्वितीय  पार्षद जगलाल यादव

हमारे क्षेत्र में नाले की समस्या है। हम उसे बनवाना है। साथ ही दाउदनगर, नया पुरवा, कसलोक इलाका है जहां सड़कें नहीं बनी हैं उन्हें बनवाना है।

----------------------------------------

अमरनाथ वर्मा, एसओ मड़ियांव

हम लोगों की छुट्टियों की समस्याएं हैं। हमारे थाने के अंतर्गत 61 गांव हैं। 58 सिपाही हैं। हम अपने सिपाहियों को कैसे छुट्टियां दे दें। राजधानी में डकैतों का आतंक हो गया है। इन 61 गावों में मेरे द्वारा बार बार कहने के बाद सिर्फ 16 से 17 गांव के लोग ही हमारा सहयोग दे रहे हैं। हम अगर हर गांव में 2 सिपाही लगाएं तो हमें 300 सिपाहियों की आवश्यकता होती है। जो कि हमारे पास नहीं है। अब ऐसी स्थिति में आपके सहयोग के बिना कुछ संभव नहीं है। 

उन्होंने तमाम समस्याएं गिनाई। अपनी चुनौतियों को बताते हुए कहा कि आज कल लोग अपनी जिम्मेदारियां भी पुलिस के सहारे छोड़ देते हैं।

-------------------------------------------

बैदेही फाउंडेशन की अध्यक्षा

हम अपने छोटे छोटे समाधान खुद निकालें। हमें जागरूक रहने की आवश्यकता है। आज हम अपने घर की सफाई करके कूड़ा कचड़ा दूसरे के घर के बाहर फेंक देते हैं। अगर हम ऐसा करेंगे तो कैसे शहर साफ हो सकेगा। इसलिए हम सभी के प्रयास से ही सब कुछ संभव है। 

------------------------------------------------

ऊषा विश्वकर्मा रेड ब्रिगेड अध्यक्षा

महिला स​शक्तिकरण की ओर ध्यान दिलाते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस को अपनी शैली में परिवर्तन करने की जरूरत है। महिलाओं के साथ जब भी कोई घटना होती है और वह पुलिस थाने जाती है तो उससे ही सवाल जवाब किए जाते हैं। पुलिस थाने जाते वक्त वह खुद भयभीत हो जाती है|

-----------------------------------------------

डॉक्टर राम प्रसाद सोनी, लखनऊ सराफा एसोसिएशन के संरक्षक 

व्यापारियों के पास तिजोरी और असलहा होना जरूरी है, लेकिन असलहे का रजिस्ट्रेशन आसानी से नहीं हो पता है। यहां चौकी अगर बन जाएगी तो हम लोगों की सुरक्षा संभव हो पाएगी। मड़ियांव से रामलीला मैदान तक एक भी शौचालय नहीं है। इस कारण सभी को समस्याएं हो रही हैं। यहां पर एक भी इंटर कॉलेज नहीं है। अगर वह हो जाएगा तो हमारी बहनें भी शिक्षित हो पाएंगी। 

---------------------------------------------------

ये समस्याएं रहीं प्रमुख

-हैंडपंप खराब हो गए हैं उन्हें रिबोर करने की जरूरत है।
-क्षेत्र में हॉस्पिटल और सरकारी स्कूल की समस्या है।
-आए दिन घटनाएं होती हैं क्षेत्र में चौकी नहीं है।
-सड़कों की समस्या है, नालियां भी नहीं हैं जहां हैं भी वहां चोक हो गई हैं।
-महिला सुरक्षा का मुद्दा भी सामने आया।

--------------------------------------------

ऐसे होगा निदान

-न्यूजटाइम्स के सौजन्य से क्षेत्र में कमेटी बनाई गई है, क्षेत्र में 10 सिटीजन जर्नलिस्ट बनाए गए हैं। 
क्षेत्र में चौकी का निर्माण होगा जिससे अपराध पर विराम लगाया जा सके।

27-Jan-2018mpCTcdqPAp1

 

27-Jan-2018b4Xyy5S0CO2

27-Jan-2018ECstZTvl3c1

Web Title: jan sanwad program madiyaon lucknow ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया