मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

स्तन कैंसर में सर्जरी होने के बाद भी बनी रहेगी ब्रेस्ट की सुंदरता


SANDEEP PANDEY 02/02/2018 12:48:39
422 Views

02-02-2018125600Breastsbeaut1

LUCKNOW. महिलाओं को घबराने की जरूरत नहीं है, स्तन कैंसर की सर्जरी होने के बाद भी ब्रेस्ट की सुंदरता बरकरार रखी जा सकती है। ऐसा रीकॉन्स्ट्रक्टिव सर्जरी से ही ऐसा संभव है। यह अलग बात है कि सिर्फ 10 फीसदी ही महिलाएं ही रीकॉन्स्ट्रक्टिव सर्जरी करवाती हैं। लोगों में इसको लेकर भ्रम है कि इस सर्जरी में ज्यादा खर्चा होता है, जब कि यह सर्जरी बहुत ही कम पैसे में होती है, बस सर्जरी में थोड़ा समय बढ़ जाता है। पीजीआई में पहली बार स्तन कैंसर पर सोसाइटी ऑफ रीकॉन्स्ट्रक्टिव ऐंड एस्थेटिक (ब्रांसकान 2018) के आयोजन के दौरान गुरुवार को यह जानकारी दी गयी।

इस कार्यशाला में यूनिवर्सटी मलाया कुआलालम्पुर की प्रो.एमीरेटस चेंग हर चिप, सिंगापुर से माइकल हार्टमैन, अमेरिका से डॉ. पीटर कैरीडो सहित कई विशेषज्ञ हिस्सा लेने आएंगे।

यह भी पढ़ेः- मुक्तिधाम बतायेगा इतिहास का सच और झूठ

मल्टी डिसप्लनेरी विशेषज्ञता की जरूरत होती है

इंडो सर्जरी विभाग के प्रो.गौरव अग्रवाल, प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रो. अंकुर भटनागर और इंडो सर्जन प्रो.सबारत्नम ने बताया कि स्तन कैंसर के इलाज के लिए मल्टी डिसप्लनेरी विशेषज्ञता की जरूरत होती है जिसमें इंडो सर्जन, प्लास्टिक, रेडियोथेरेपी, हिस्टोपैथॉलजिस्ट, रेडियोलजिस्ट की अहम भूमिका है। इस कार्यशाला में एक ही मंच से महिला विशेषज्ञों द्वारा एमबीबीएस छात्रों को स्तन कैंसर के बारे में सारी जानकारी दी जाएगी।

यह भी पढ़ेः- डग्गामार वाहन बढ़ा रहे सड़क दुर्घटनाएं

पेट और पीठ की चर्बी से बनता है स्तन

प्रो. अंकुर भटनागर ने बताया कि ब्रेस्ट कैंसर के बाद जब स्तन निकाले जाते हैं तो उनकी पीठ की मांसपेशी (लैटिमस डोरसाई), पेट की चर्बी से स्तन बनाया जाता है। वहीं जिन महिलाओं के स्तन में केवल ट्यूमर होता है उनके ट्यूमर निकालने के बाद गड्ढे स्तन की मांसपेशी से भर जाते हैं, इसकी वजह से ब्रेस्ट का आकार खराब नहीं होती है। जहां खराब होने की स्थिति बनती है, वहां पर इंप्लांट लगाए जाते हैं।

यह भी पढ़ेः- अल्पसंख्यकों में शिक्षा का होगा प्रसार ,जिलों को जारी हुई धनराशि

वहीं कराएं इलाज ,जहां हो सब सुविधा

विशेषज्ञों ने कहा कि ब्रेस्ट कैंसर का इलाज उसी सेंटर पर कराना चाहिए जहां पर मल्टी स्पेशिएल्टी हो जिससे इलाज की सफलता दर बढ़ती है और मरीज को दौड़ना नहीं पड़ता है।

Web Title: Breast's beauty will continue even after surgery in breast cancer ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया