मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची कानपुर में पांच मंजिला इमारत में लगी भीषण आग जीत के बाद जल्द काशी पहुंचेंगे पीएम मोदी, तैयारियों में जुटा प्रशासन
 

ब्रिटेन ने किया चीन की वन बेल्ट-वन रोड योजना का विरोध


PRADEEP CHANDRA JOSHI 02/02/2018 18:28:32
502 Views

Britain news in Hindi at newstimes

New Delhi. चीन राष्ट्रपति जिनपिंग की महत्वाकांक्षी योजना वन बेल्ट-वन रोड (ओबीओआर) के विरोधियों में अब भारत के साथ-साथ ब्रिटेन भी शामिल हो गया है। ब्रिटेन ने चीन की इस योजना पर अपना विरोध प्रकट करते हुए चिंता व्यक्त की है।
यह भी पढ़ें... कराची में मृत मिले सिंध के मंत्री और उनकी पत्नी

60 देशों को जोड़ता यह प्रोजेक्ट

ब्रिटेन ने कहा है कि उन्हें चीन के इस प्रोजेक्ट के पीछे की लॉन्ग टर्म और शॉर्ट टर्म की सोच पर शक है। ब्रिटेन की पीएम थेरेसा मे ने साफ तौर पर चीन के इस प्रोजेक्ट के समर्थन से अपने आप को दूर कर लिया है। चीन का यह प्रोजेक्ट करीब 60 देशों को जोड़ता है। चीन के इस प्रोजेक्ट पर भारत पहले ही अपना एतराज जता चुका है। इसके अलावा ब्रिटेन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ ही फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों भी इस प्रोजेक्ट पर अपनी असहमति व्यक्त कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें... Pakistan एक बार फिर इस गंभीर मामले में हुआ बेनकाब  

जानें प्रोजेक्ट के बारे में

बता दें कि चीन ने अपने इस प्रोजेक्ट के पीछे जो मंशा जाहिर की है वह आर्थिक मंदी से उबरने और बेरोजगारी से निपटने और अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए है। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने एशिया, यूरोप और अफ्रीका को सड़क मार्ग, रेलमार्ग, गैस पाइप लाइन और बंदरगाह से जोड़ने के लिए वन बेल्ट, वन रोड के तहत सिल्क रोड इकोनॉमिक बेल्ट और मैरीटाइम सिल्क रोड परियोजना के तौर पर शुरू किया है।
यह भी पढ़ें... आंग सान सूची के घर पेट्रोल बम से हमला

चीन द्वारा छह गलियारे बनाए जाने का योजना

चीन द्वारा इसके तहत छह गलियारे बनाए जाने की योजना है। जिसमें कि कई गलियारों पर काम शुरू भी हो चुका है। इसमें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से गुजरने वाला चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा भी शामिल है। जिसका भारत कड़ा विरोध कर रहा है। भारत ने कहा है कि उसकी इजाजत के बिना पीओके में किसी भी तरह का निर्माण संप्रभुता का उल्लंघन है। चीन अपनी योजना के अनुसार चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा, न्यू यूरेशियन लैंड ब्रिज, चीन-मध्य एशिया-पश्चिम एशिया आर्थिक गलियारा, चीन-मंगोलिया-रूस आर्थिक गलियारा, बांग्लादेश-चीन-भारत-म्यांमार आर्थिक गलियारों का जाल बिछायेगा। चीन अपने इन आर्थिक गलियारों के जरिए जमीनी और समुद्री परिवहन का जाल बिछाने की इच्छा रखता है। 

Web Title: Britain protested China's One Belt-One Road Scheme ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया