मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

बिना मुक़दमे के हिरासत में चीन के मुसलमान


KAVITA JOSHI 03/02/2018 15:32 PM
430 Views

चीन में रह रहे मुसलमानों की चिंता ब्रिटिश सरकार को परेशान कर रही है। वहां के शिनजियांग प्रांत में कई लोगों को बिना मुक़दमे के हिरासत में लेने की बात सामने आई है।- newstimes
china. चीन में रह रहे मुसलमानों की चिंता ब्रिटिश सरकार को परेशान कर रही है। वहां के शिनजियांग प्रांत में कई लोगों को बिना मुक़दमे के हिरासत में लेने की बात सामने आई है। शिनजियांग में सरकार ने इस्लामी चरमपंथ के ख़िलाफ़ अभियान के तहत वीगर मुस्लिमों पर नए प्रतिबंध लगाए थे।

किन चीजों पर प्रतिबंध 

इनमें 'असामान्य' रूप से लंबी दाढ़ी रखने, सार्वजनिक स्थानों पर नक़ाब लगाने और सरकारी टीवी चैनल देखने से मना करने जैसी पाबंदियाँ शामिल थीं। साल 2014 के रमज़ान में मुसलमानों के रोज़े रखने पर रोक लगा दी गई थी।

03-Feb-2018AP337lc5Xi1

जासूसों की निगाह हर पल उन पर पहरा

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार वैसे तो दूर से देखने पर ये जगह चीन में होने पर भी इराक़ की राजधानी बगदाद जैसी दिखाई देती है, लेकिन ये है पश्चिमी चीन का शिनजियांग प्रांत, जहाँ रहने वालों पर सुरक्षा बलों की पैनी निगाह है। यहाँ वीगर समुदाय के लोग रहते हैं, जो कि मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं। वो यहां डर के माहौल में रह रहे हैं। सरकारी जासूसों की निगाह हर पल उन पर पहरा डाले रखती है, उनसे सवाल पूछे जाते हैं तो वो खुलकर इनका जवाब भी नहीं दे पाते हैं।

जेलों में डाला

गैर सरकारी आंकड़ों के अनुसार हज़ारों वीगर मुसलमानों को बिना मुकदमों के जेलों में डाला गया है। सैकड़ों वीगर मुसलमानों की तरह अब्दुर्रहमान हसन चीन छोड़ तुर्की चले गए थे। उन्हें लगा था कि उनकी मां और पत्नी चीन में सुरक्षित होंगे, लेकिन उन्हें आखिरी बार यही पता लगा कि उनकी मां और पत्नी को जेल भेज दिया गया है।

  • चीन कहता रहा है कि वीगर अफ़गानिस्तान में प्रशिक्षण हासिल किया है। हालांकि इस दावे के पक्ष में बहुत कम ही सबूत पेश किए जाते रहे।
  • अफ़गानिस्तान पर हमले के दौरान अमरीका सेना ने 20 से ज़्यादा वीगरों को पकड़ा था।
  • इन्हें बिना आरोप तय किए सालों तक गुआंतामाबोम में बंदी बनाकर रखा गया और इनमें से अधिकांश इधर-उधर बस गए हैं।
  • चीन में विवादित आतंकवादरोधी क़ानून पारित।
Web Title: China Muslims in the custody of without case ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया