मुख्य समाचार
आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर पलटी तेज रफ्तार कार, 2 की मौत, 4 घायल अमेठी में सुरेन्द्र सिंह के हत्यारों को बख्शा नहीं जायेगा : भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में मोदी सरकार की वापसी से शेयर बाजार में दिख सकती है बढ़त ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

बिना सर्जरी के गर्भाशय के ट्यूमर से मिलेगी मुक्ति


SANDEEP PANDEY 16/02/2018 14:31:13
220 Views

16-02-2018144932Uterustumors1

LUCKNOW.  गर्भाशय के ट्यूमर के लिये अब सर्जरी की जरूरत नही होगी, यह महिलाओं के लिये काफी राहत की खबर है। यह सब इंटरवेंशन रेडियोलॉजी तकनीकि से संभव हो सका है। अल्ट्रासाउण्ड या सीटी स्कैन की मदद से गर्भाशय के ट्यूमर की स्थिति और उसके आकार को देखा जाता है। साथ ही ये भी देखा जाता है कि ट्यूमर को कौन सी नस खून सप्लाई कर रही है। इस तकनीकी से सूई के जरिए ट्यूमर को खून सप्लाई करने वाली नस को क्वायल व पाली बिनायल एल्कोहल (पीबीए) के जरिए बंद कर दिया जाता है। लिहाजा ट्यूमर को खून न मिलने पर कुछ दिन बाद यह ट्यूमर छोटे होने के साथ-साथ सूख जाता है। इस तकनीकि में सर्जरी के मुकाबले मरीज को कम दिक्कत के साथ ही खर्चा भी कम होता है। यह जानकारी पीजीआई के रेडियोलॉजी विभाग द्वारा आयोजित चार दिवसीय इंटरवेंशन रेडियोलॉजिकल तकनीकी पर आयोजित कांफ्रेंस के आखिरी दिन संस्थान के रेडियोलॉजी विभाग के डॉ. शिवकुमार ने दी।

यह भी पढ़ेः- प्रेरणा दिवस पर सम्मानित हुए किसान और व्यापारी

30 फीसदी महिलाओं में होती है परेशानी

उन्होने बताया कि गर्भाशय में ट्यूमर की दिक्कत 20 से 30 फीसदी महिलाओं में पायी जाती है। जिसकी वजह से महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती है। यदि गर्भधारण हो भी गया तो ट्यूमर का आकार बढ़ता जाता है। जिसके चलते गर्भ में फल रहे शिशु में दबाव पडता है। इससे शिशु का विकास नहीं पाता है। साथ ही ट्यूमर की वजह से भारी मात्रा में रक्त स्राव होने का खतरा बना रहता है। अमूनन ट्यूमर से पीड़ित महिलाएं सर्जरी ही कराती हैं। सर्जरी कई तरह के जोखिम होते हैं। जबकि इंटरवेंशन रेडियोलॉजी द्वारा ट्यूमर का इलाज आसान और सस्ता भी है।

यह भी पढ़ेः- साइबर सिक्योरिटी की कार्यशाला में बताई गयी बारीकियां

डेढ़ वर्ष में शुरू होगी पीजीआई में यह सुविधा

डॉ. शिव कुमार बताते हैं कि गर्भाशय के ट्यूमर के इलाज के लिए एमआर हाई इंटेस्टी फोकस अल्ट्रासाउंड (एमआर हाइफू) तकनीक बहुत आसान है। इस तकनीकि में न कोई सूई डाली जाती है और न ही कोई चीरा-टांका लगाया जाता है। यह तकनीकि पीजीआई में स्थापित करने की योजना चल रही है। डेढ़ वर्ष में यह सुविधा पीजीआई में शुरू हो जाएगी। इस तकनीकि से उच्च तीव्रता के अल्ट्रासाउण्ड की तरंगों के जरिए ट्यूमर को खत्म कर दिया जाता है। इस तकनीकि में मरीज को पूरी तरह से सुरक्षित रहता है।

यह भी पढ़ेः- छात्रों के लिये अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की पढ़ाई व शोध की संभावनाएं प्रबल

क्रायोथिरेपी से नष्ट होगा कैंसर

दिल्ली स्थित आईएलबीएस के रेडियोलाजिस्ट डॉ. यशवंत पट्टीदार ने बताया कि लिवर, फेफड़ा, गुर्दा सहित शरीर के दूसरे अंगों में ट्यूमर होने पर अमूमन इंटरवेंशन तकनीक से कैंसर को खत्म किया जाता है। जबकि रेडियोफ्रिक्वेंसी एबीलेशन तकनीक से ट्यूमर पर हाई करंट देकर कैंसर को खत्म किया जाता है। जबकि क्रायो थिरेपी तकनीकि के जरिए ट्यूमर का तापमान माइनस 40 डिग्री सेल्सियस किया जाता है। जिससे कैंसर खत्म हो जाता है। यह तकनीक कारगर है। अब जल्द ही यह तकनीकी भी देश के कुछ संस्थानों में शुरू होगी।

यह भी पढ़ेः- होली पर्व पर रोडवेज दे रहा यात्रियों को यह सुविधा

बंद नस खोलने में काफी मददगार

डॉ. पट्टीदार ने बताया कि गुर्दा खराब होने की स्थिति में मरीज को डायलसिस कराने के लिए फेस्चुला बनाया जाता है। एक से दो साल में 70 फीसदी से अधिक मरीजों में यह फेस्चुला बंद हो जाता है या नस पतली हो जाती है। ऐसे में दोबारा फेस्चुला बनाना काफी मुश्किल होता है। लिहाजा इंटरवेंशन तकनीकि के जरिए बंद नस को खोलने में काफी मददगार है।

Web Title: Uterus tumors can be treated without surgery ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया