मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची कानपुर में पांच मंजिला इमारत में लगी भीषण आग जीत के बाद जल्द काशी पहुंचेंगे पीएम मोदी, तैयारियों में जुटा प्रशासन
 

रेगुलर इलाज से ठीक हो सकती है यह बीमारी


SANDEEP PANDEY 19/02/2018 12:16:47
338 Views

19-02-2018122742Regulartreatm1

LUCKNOW.  लखनऊ के डालीगंज क्षेत्र स्थित मलिन बस्ती में उप्र क्षय निवारण संस्था की ओर से रविवार को चिकित्सा शिविर लगाया गया। बलरामपुर अस्पताल के पूर्व निदेशक डॉ. टीपी सिंह ने बताया कि बस्ती के लोगों की सेहत की जांच की गई। लोगों को टीबी के लक्षण के बारे में बताया गया। उन्होंने कहा कि टीबी पूरी तरह से ठीक होने वाली बीमारी है।

यह भी पढ़ेः-एक साथ हो सकता है डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया

 

इलाज को लेकर संजीदा नहीं लोग

डॉ. टीपी सिंह ने कहा कि टीबी के इलाज को लेकर लोग संजीदा नहीं रहते हैं। आराम मिलने पर मरीज इलाज बीच में छोड़ देते हैं। बार-बार इलाज छोड़ने से मरीज की सेहत को नुकसान पहुंचता है। मरीज को एमडीआर का खतरा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ेः- शैक्षणिक संस्थाओं में अब नहीं होगी लैंगिक असमानता , क्योंकि...

 

सांस के जरिए एक से दूसरे में फैलती है

 केजीएमयू पल्मोनरी मेडिसिन  विभाग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि टीबी सांस के जरिए एक से दूसरे में फैलती है। टीबी का एक मरीज कई सेहतमंद लोगों को रोग बांट सकता है। इसलिए लक्षण नजर आते ही इलाज कराएं। उन्होंने बताया कि दो हफ्ते से खांसी, खांसी के साथ खून आना, बुखार और वजन कम होने पर संजीदा हो जाना चाहिए। यह टीबी के लक्षण हैं। समय पर इलाज से बीमारी ठीक हो सकती है। इलाज में देरी से दुश्वारियां बढ़ सकती हैं। डॉ. टीपी सिंह ने बताया कि शिविर में 100 से ज्यादा लोगों की सेहत की जांच कराई गई।

Web Title: Regular treatment can cure this disease ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया