मुख्य समाचार
राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण है अयोध्या आने का मकसद: उद्धव ठाकरे सीतापुर में भीषण सड़क हादसा, ट्रक की चपेट में आकर बाइक सवार दो युवकों की मौत न्यूजीलैंड में आया 7.2 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 5-1 से हराकर FIH सीरीज़ का फाइनल जीता Air India में नौकरी का सुनहरा मौका, नहीं देनी होगी लिखित परीक्षा इस दिन जारी होंगे UP Polytechnic के परीक्षा परिणाम पति करता था परेशान, पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर उठाया खौफनाक कदम पश्चिम बंगालः डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म होने के आसार एक्सप्रेस वे पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत पाकिस्तान ने दी पुलवामा में संभावित आतंकी हमले सूचना, घाटी में हाई अलर्ट भारत-पाक महामुकाबले पर बारिश का खतरा बरकरार मिस इंडिया 2019: सुमन राव ने जीता खिताब, शिवानी रहीं फर्स्ट रनर अप रेल यात्रियों को सफर में मसाज सेवा देने की योजना पर लगा ग्रहण, जानिए क्या रही वजह
 

तो क्या अब पाकिस्तान पर भरोसा नहीं करता है चीन


PRADEEP CHANDRA JOSHI 21/02/2018 12:55 PM
177 Views

newstimes.co.in

Islamabad. चीन पाकिस्तान में अपनी चल रही 60 अरब डॉलर की परियोजनाओं को लेकर काफी चिंतित है। ऐसा लगता शायद चीन को पाकिस्तान पर अपनी इस परियोजना को लेकर भरोसा नहीं है। बता दें कि चीन अपनी इस परियोजना (CPEC) की सुरक्षा के लिए 5 सालों से अधिक समय से बलूच लड़ाकों से चुपचाप बातचीत कर रहा है। इन बातों का खुलासा एक मीडिया रिपोर्ट में किया गया है।
यह भी पढ़ें...चीन के साथ बांग्लादेश के संबंधों पर चिंतित न हो भारतः शेख हसीना

बलूच लड़ाकों के साथ संपर्क में है चीन

 पाकिस्तान के एक समाचार पत्र ने 3 अधिकारियों के हवाले से कहा है कि चीन दक्षिण-पश्चिमी प्रांत में लड़ाकों के साथ प्रत्यक्ष संपर्क में था। बता दें कि सी.पी.ई.सी. की अधिकांश महत्वपूर्ण परियोजनाएं इसी प्रांत में चल रही हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान की राजनीति में हस्तक्षेप के चीन के इरादे से भारत परिचित है।
यह भी पढ़ें... भारतीय प्रोफेशनल्स UK सरकार के खिलाफ उतरे सड़कों पर

भारत के पड़ोसी देशों पर बढ़ा चीन का प्रभाव

नेपाल, म्यांमार और श्रीलंका समेत कई पड़ोसी देशों में चीन के बढ़ते राजनीतिक प्रभार से भारत पहले ही चिंतित है। चीन की 3000 किलोमीटर लंबी CPEC परियोजना का लक्ष्य चीन और पाकिस्तान के रेल, सड़क, पाइपलाइन और ऑप्टिकल केबल फाइबर नैटवर्क के माध्यम से जोड़ना है। चीन की यह परियोजना पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह को चीन के शिनजियांग प्रांत से जोड़ेगी।  

Web Title: China does not believe in the security of its Pakistan-based projects ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया