मुख्य समाचार
पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की बैठक आज, ममता और केसीआर नहीं होंगे शामिल एनडी टीवी के खास प्रमोटरों पर सेबी ने लगाई रोक, लगा इतने साल का प्रतिबंध एयरपोर्ट पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी, टीडीपी ने बदले की राजनीति का लगाया आरोप यूपी को डिजिटल उत्तर प्रदेश बनाने के लिए व्यापक और मजबूत दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री बल्लेबाजी डॉट कॉम के ब्रांड एम्बेसडर बने युवराज राज्यपाल ने केन्द्रीय गृह मंत्री से भेंट की सड़क सुरक्षा समिति की बैठक : बसों में अग्निशमन यन्त्र लगाने के निर्देश बसपा सांसद के घर कुर्की का आदेश हुआ चस्पा दान के सिक्कों को लेकर परेशानी में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट, जानिए क्या है वजह मीसा भारती ने चुनाव में हार का लिया ऐसे बदला संभावित आतंकी हमले को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट स्कूल चलो अभियान में सभी बच्चों को नजदीकी स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन कराये जाने के निर्देश पाकिस्तान से वीडियो कॉल कर युवक ने कहा- भाईजान बम कहां रखना है और फिर...
 

तो क्या अब पाकिस्तान पर भरोसा नहीं करता है चीन


PRADEEP CHANDRA JOSHI 21/02/2018 12:55 PM
176 Views

newstimes.co.in

Islamabad. चीन पाकिस्तान में अपनी चल रही 60 अरब डॉलर की परियोजनाओं को लेकर काफी चिंतित है। ऐसा लगता शायद चीन को पाकिस्तान पर अपनी इस परियोजना को लेकर भरोसा नहीं है। बता दें कि चीन अपनी इस परियोजना (CPEC) की सुरक्षा के लिए 5 सालों से अधिक समय से बलूच लड़ाकों से चुपचाप बातचीत कर रहा है। इन बातों का खुलासा एक मीडिया रिपोर्ट में किया गया है।
यह भी पढ़ें...चीन के साथ बांग्लादेश के संबंधों पर चिंतित न हो भारतः शेख हसीना

बलूच लड़ाकों के साथ संपर्क में है चीन

 पाकिस्तान के एक समाचार पत्र ने 3 अधिकारियों के हवाले से कहा है कि चीन दक्षिण-पश्चिमी प्रांत में लड़ाकों के साथ प्रत्यक्ष संपर्क में था। बता दें कि सी.पी.ई.सी. की अधिकांश महत्वपूर्ण परियोजनाएं इसी प्रांत में चल रही हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान की राजनीति में हस्तक्षेप के चीन के इरादे से भारत परिचित है।
यह भी पढ़ें... भारतीय प्रोफेशनल्स UK सरकार के खिलाफ उतरे सड़कों पर

भारत के पड़ोसी देशों पर बढ़ा चीन का प्रभाव

नेपाल, म्यांमार और श्रीलंका समेत कई पड़ोसी देशों में चीन के बढ़ते राजनीतिक प्रभार से भारत पहले ही चिंतित है। चीन की 3000 किलोमीटर लंबी CPEC परियोजना का लक्ष्य चीन और पाकिस्तान के रेल, सड़क, पाइपलाइन और ऑप्टिकल केबल फाइबर नैटवर्क के माध्यम से जोड़ना है। चीन की यह परियोजना पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह को चीन के शिनजियांग प्रांत से जोड़ेगी।  

Web Title: China does not believe in the security of its Pakistan-based projects ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया