मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा भाजपा सरकार ने जनता की सुरक्षा को अपराधियों के आगे गिरवी रख दिया है : अखिलेश जन्मदिन विशेष: शाहरुख की फिल्में हिट कराने में सुखविंदर सिंह का बड़ा योगदान हज यात्री इन्तज़ामों में कमी बतायें, दूर किया जायेगा : मोहसिन रज़ा ‘‘भूजल सप्ताह’’ के दूसरे दिन जल संरक्षण पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता एवं विज्ञान प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम आयोजित जालान पैनल ने तैयार की फंड ट्रांसफर की रिपोर्ट, सरकार को मिलेगी बड़ी राहत बाढ़ राहत के कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये : राहत आयुक्त राजकीय नलकूपों के यांत्रिक दोषों को 24 घंटे में दूर करें : धर्मपाल सिंह  पुलिस से परेशान व्यापारी ने खुद पर पेट्रोल छिड़क कर लगाई आग बाढ़ पीड़ितों के लिए आगे आए अक्षय, प्रियंका ने भी की अपील सोनभद्र: 90 बीघा जमीन के लिए हुआ खूनी संघर्ष, 11 की मौत
 

गोरखपुर दंगा: CM योगी के लिए आ सकती है बुरी खबर, HC आज करेगा फैसला


SUYASH MISHRA 22/02/2018 09:47 AM
3308 Views

22-Feb-20188R7QHyav5l1

Lucknow. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए आज बुरी खबर आ सकती है। गोरखपुर में 2007 में हुए सांप्रदायिक दंगे के मामले में गुरुवार को सुनवाई है। इलाहाबाद हाईकोर्ट गुरुवार 22 फरवरी को इसका फैसला करेगा। योगी पर 'नफरत फैलाने वाला भाषण देने' का आरोप लगा है। इस मामले में कई और अभियुक्त भी हैं।

क्या है पूरा मामला
11 साल पहले 27 जनवरी 2007 को यूपी के गोरखपुर में सांप्रदायिक दंगा हुआ था। इसमें दो लोगों की मौत हुई थी और कई लोग घायल हुए थे। इस दंगे के लिए तत्कालीन सांसद व मौजूदा सीएम योगी आदित्यनाथ, विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल और गोरखपुर की तत्कालीन मेयर अंजू चौधरी पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगा था। 

यह भी पढ़ें... पीएनबी घोटाले में चौंकाने वाला खुलासा, मुकेश अंबानी का भाई गिरफ्तार

दंगे के बाद हाईकोर्ट की दखल से योगी आदित्यनाथ सहित बीजेपी के कई नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी। साल 2017 में आदित्यनाथ योगी को राज्य सरकार ने यह कहते हुए अभियुक्त बनाने से मना कर दिया था कि उनके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं हैं।

यह भी पढ़ें... कनाडा से हो रही खालिस्तान के लिए फंडिंग, खुद सीएम ने किया खुलासा

याचिकाकर्ता परवेज़ परवाज़ की याचिका पर न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी और एसी शर्मा की बेंच ने सुनवाई कर लम्बी बहस के बाद 18 दिसम्बर 2017 को निर्णय सुरक्षित रख लिया गया था। गुरुवार को कोर्ट इस मामले में फैसला करेगा। 

 

Web Title: Gorakhpur riot High Court decide cm yogi adityanath ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया