मुख्य समाचार
शाकिब ने रचा इतिहास, वर्ल्‍ड कप में कपिल-युवराज के रिकॉर्ड की बराबरी की क्षेत्र-जिला पंचायत सदस्यों के रिक्त पदों पर उप निर्वाचन के लिए समय सारणी जारी  Tik Tok वीडियो से सुर्खियों में आई पीली साड़ी वाली महिला जेनेलिया डिसूजा के पैर दबाते रितेश देशमुख का वीडियो वायरल, यूजर्स ने कहा... जल्द ही 100 करोड़ का आंकड़ा छू सकती फिल्म कबीर सिंह सपा संरक्षक की होगी सर्जरी, इस गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं मुलायम कोल्ड ड्रिंक पीने से एक ही परिवार के 5 लोग पहुंचे अस्पताल, फिलहाल खतरे से बाहर इटौंजा प्रकरण : एसएसपी ने कॉस्टेबल को किया लाइन हाजिर, चौकी प्रभारी व थानाध्यक्ष पर भी कार्रवाई प्रचलित  राजस्थान: बीजेपी प्रमुख मदन लाल सैनी का लंबी बीमारी के बाद निधन दो पक्षों में विवाद के बाद जमकर चले लाठी डंडे, वीडियो वायरल
 

बड़ा खुलासा, RBI के पास नहीं है देश के महाघोटालों की जानकारी


SHUBHENDU SHUKLA 28/02/2018 14:09:58
305 Views

28-02-2018153046Thereisnotm1

Lucknow. देश में आए दिन बैंक घोटालों ने देश की अर्थव्यवस्था को धड़ाम कर दिया है। इतना ही नहीं महाघोटालों को अंजाम देने के बाद आरोपी देश छोड़कर भागने में भी सफल रहे हैं। अब न तो इसका जवाब सरकार के पास है और न ही जिम्मेदार अधिकारियों के पास। 

यह भी पढ़ें...हथियारों की वैश्विक बिक्री 5 साल के बाद बढ़ी

बैंकों के माध्यम से हो रहे घोटालों की कड़ी के बीच आरबीआई को लेकर चौंकाने वाला सच सामने अया है। लिंचेस्टाइन बैंक, पनामा पेपर्स, पैराडाइज पेपर्स जैसे बड़े-बड़े घोटालों या इन महाघोटालों पर की जा रही सरकारी कार्रवाईयों की कोई जानकारी आरबीआई के पास नहीं है। भले ही इस बात पर आप यकीन नहीं करें। लेकिन इस सच का खुलासा समाजसेवी संजय शर्मा की आरटीआई से हुआ है।

यह भी पढ़ें...अमेरिकी शेयर बाजर मिले-जुले रुख के साथ बंद

नहीं है कोई सूचना

बताते चलें कि अधिकांश वित्तीय घोटालों या अपराधों में किसी न किसी रूप में बैंकों की प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष भूमिका रहती है। ऐसे में देश के वित्तीय सिस्टम को रेगुलेट करने के साथ साथ  बड़े वित्तीय घोटालों को नियंत्रित करने व अपराधियों को सजा दिलाने में आरबीआई की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

यह भी पढ़ें...फेडरल रिजर्व की बैठक से पहले अमेरिकी शेयरों में मजबूती

आरबीआई को जनता के वित्तीय रख-रखाव का पहरेदार माना जाता है। लेकिन चिंताजनक बात है कि आरबीआई को ही इस बात की जानकारी नहीं है कि भारत सरकार द्वारा घोटालों को लेकर कितनी जांच बैठाई गई हैं। दोषी पाए गए व्यक्तियों व प्रतिष्ठानों के नाम क्या हैं। इतना ही नहीं आरबीआई के पास  HSBC बैंक, लिंचेस्टाइन बैंक, पनामा पेपर्स व पैराडाइज पेपर्स के माध्यम से प्रकाश में आये भारतीय नागरिकों, भारतीय प्रतिष्ठानों और NRIs के नामों की भी कोई सूचना नहीं है।

यह भी पढ़ें...कर सुधार विधेयक पारित होने से अमेरिकी डॉलर लुढ़के
उक्त जानकारी के लिए संजय ने आरटीआई से सूचना मांगी थी। लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक के जनसूचना अधिकारी एस. के. पाणिग्राही ने बताया कि संबंधित प्रश्नों की जानकारी आरबीआई के पास उपलब्ध नहीं है। 

Web Title: There is not much disclosure about RBI HSBC Liechtenstein Panama Paradise ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया