मुख्य समाचार
रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ईडी ने अग्रिम जमानत निरस्त करने की मांग मोहनलालगंज में बसपा चौथी बार दूसरे स्थान पर डॉ. ओ.पी.चौधरी ने संभाला भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के चेयरमैन का कार्यभार अपने बयान में फंसे सिद्धू, सोशल मीडिया पर हो रही जमकर खिंचाई सेवक के रूप में करूॅगी जनता की सेवा : साध्वी संसद तक पहुंचने में सफल हुई यह 11 महिलाएं करेंगी यूपी का नेतृत्व  दोबारा चुनाव जीतकर कौशल ने रचा इतिहास बाइक की टक्कर से साइ​किल सवार महिला की मौत, बेटी घायल शाकिब-अल-हसन का विश्व कप को लेकर आया बड़ा बयान गंभीर ने की राजनीतिक करियर की शुरुआत, इतने वाटों से दर्ज की जीत ऐसा हुआ तो आज़म खान लोकसभा की सदस्यता से खुद दे देंगे इस्तीफा! पुलिस ने किया लूट की वारदात से इंकार, आपसी रंजिश का गहराया शक  आजम खान का बड़ा बयान, तो दे दूंगा लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा भाजपा व मीडिया को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट पर मुकदमा दर्ज, अभियुक्त भेजा गया जेल FIFA World Cup: हो गया निर्णय 2022 टूर्नामेंट में खेलेंगी 32 टीमें बुंदेलखंड की सभी 4 सीटें भाजपा के खाते में 52 सीटों पर सिमटी कांग्रेस, अपनी पारम्परिक ​सीट से हाथ धो बैठे राहुल गांधी भाजपा के सहयोगी अपना दल (एस) ने उप्र की दो सीटों विजयी सुरक्षा बलों ने आतंकी सरगना मूसा को ढेर कर दिया पीएम मोदी की जीत का तोहफा
 

नजरअंदाज करने से खत्म हो सकती श्रवण शक्ति


SANDEEP PANDEY 01/03/2018 12:51:26
362 Views

LUCKNOW.  कान के संक्रमण को नजरअंदाज करना काफी खतरनाक साबित हो सकता है। अधिक समय तक संक्रमण को नजरअंदाज करने से सुनाई देने की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है। इसी के चलते करीब आठ प्रतिशत आबादी कान की किसी न किसी बीमारी की चपेट में है। यह जानकारी ईएनटी विशेषज्ञ डॉ. विवेक वर्मा ने मंगलवार को पत्रकार वार्ता  के दौरान दी।

यह भी पढ़ेः- इससे पांच लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

श्रुति कार्यक्रम का संचालन

डॉ. विवेक वर्मा ने कहा कि कानों की बीमारी के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए श्रुति कार्यक्रम का संचालन हो रहा है। इसमें लोगों को कान से संबंधित बीमारियों के प्रति जागरुक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कम या फिर बिलकुल न सुनाई देने के कई कारण हो सकते हैं। इसमें संक्रमण और अनुवंशिक कारण प्रमुख है। उन्होंने बताया कि तमाम लोग सुनाई न देने की परेशानी का इलाज कराने में झिझक महसूस करते हैं। समय पर इलाज न मिलने से बीमारी गंभीर रूप ले लेती हे। जबकि इसका पुख्ता इलाज उपलब्ध है।

यह भी पढ़ेः- फाग गीतों के रंग संग मना फागोत्सव

18 शहरों में हो रहा संचालन

उन्होंने बताया कि श्रुति कार्यक्रम का संचालन 18 शहरों में हो रहा है। अब तक तीन लाख 90 हजार लोगों के कानों की जांच की जा चुकी है। इसमें 30 प्रतिशत लोगों को कान संबंधी परेशानी सामने आई। इनमें आठ प्रतिशत को नियमित इलाज व ऑपरेशन की सलाह दी गई। तीन प्रतिशत मरीज को सुनाई देने के लिए मशीन लगाने की सलाह दी गई।

 

Web Title: Ignoring can end hearing power ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया