मुख्य समाचार
अमेठी: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने धूम-धाम से मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन एरिया कमांडर समेत 4 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण हाईवे किनारे जड़ी बूटियां उगाकर यूपी सरकार सुधारेगी लोगों का स्वास्थ्य  लखनऊ: सीएम योगी ने लेखपालों को बांटे लैपटॉप लखनऊ में गर्मी का कहर, राज्य में 23 जून तक नहीं चलेंगे स्कूल अर्जुन पटियाला का पोस्टर्स हुआ रिलीज,फिल्म मे दिलजीत-कृति मुख्य भूमिका में पहली बार सांसद बने सनी देओल से हुई बड़ी चूक, जा सकती है लोकसभा की सदस्यता  सीवर सफाई करने चैंबर में उतरे दो कर्मचारी गैस से अचेत होकर डूबें, मौत नेहा धूपिया के चैट शो में पहुंची परिणीति चोपड़ा और सानिया मिर्जा गरीब मजदूर की मजदूरी नहीं दिला पा रही मलिहाबाद पुलिस इयोन मोर्गन ने तोड़ डाला छक्कों का सबसे बड़ा रिकॉर्ड, एक पारी में लगा दिए इतने छक्के संभल में भीषण सड़क हादसा, दो बच्चों समेत आठ की मौत सपा सांसद ने नहीं लगाया वंदे मातरम का नारा तो अखिलेश ने कह दी चौंकाने वाली बात मोदी सरकार ने किये ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में संशोधन, जानिए क्या है नियम? परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक धर्मांतरण के विरोध में विहिप ने डीएम को सौंपा ज्ञापन महिला अपनी ताकत को पहचाने और समाज को यह संदेश दें कि नारी अबला नहीं अब सबला है : अनुपमा जायसवाल याचिका दायर कर पाकिस्तान की क्रिकेट टीम को बैन करने की मांग दलित हत्या मामले बहन जी के करीबी नेता को अखिलेश ने सौंपी अहम जिम्मेदारी प्रत्येक विकास खण्ड की दो पंचायतों को आदर्श पंचायत के रूप में विकसित किया जाय
 

AMU : राष्ट्रपति के दौरे से नाराज पूर्व छात्रों में नाराजगी, कहा माफी मांगे या...


GAURAV SHUKLA 01/03/2018 14:46:44
240 Views

01-03-2018145028studentsunion1

LUCKNOW. अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को आमंत्रित करने को लेकर विवाद बढ़ता चला जा रहा है। बुधवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय स्टूडेंट यूनियन के उपाध्यक्ष सजाद सुभान ने कहा कि राष्ट्रपति महोदय 2010 में अपने द्वारा दिये गये बयान पर माफी मांगे या फिर विश्विद्यालय में होने वाले दीक्षांत समारोह में शिरकत न करें। 

यह भी पढ़ें... कांग्रेस ने लहराया जीत का परचम, काम नहीं आए बीजेपी के 19 मंत्री और 40 विधायकों के दौरे
उपाध्यक्ष सजाद सुभान द्वारा बताया गया कि रंगनाथ मिश्रा कमीशन ने सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े धार्मिक व भाषाई अल्पसंख्यकों के लिए 15 फीसदी आरक्षण की सिफारिश की थी। जिस पर रामनाथ कोविंद द्वारा कहा गया था कि यह संभव नहीं हैं। इसके पीछे उनका तर्क था कि मुस्लिमों और ईसाईयों को अनुसूचित जाति में शामिल करना गैर संवैधानिक होगा। इस पर जब रामनाथ कोविंद से सिखों को उसी वर्ग में रखे जाने और आरक्षण देने पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इस्लाम और ईसाईयत देश के लिए बाहरी है। जिसके बाद सजाद सुभान द्वारा लगातार इस बयान का विरोध कर राष्ट्रपति के समारोह पर आने के लिए सवाल किये जा रहे हैं। 

यह भी पढ़ें... रामदास अठावले ने बसपा सुप्रीमो को लेकर दिया विवादित बयान, कहा...
संगठन की ओर से यह भी स्पष्ट कर दिया गया है कि राष्ट्रपति के दौरे के दौरान कुछ गलत होता है तो इसके लिए राष्ट्रपति और कुलपति स्वंय जिम्मेदार होंगे। इसी के साथ छात्र नेता की ओर से यह भी स्पष्ट किया गया कि यह तो राष्ट्रपति यह स्वीकार कर लें कि हिन्दू, मुस्लिम, सिख व ईसाई सभी धर्म भारत के हैं या तो वह कैंपस में न आएं। 

Web Title: students union asks president to apologise for his 2010 statement ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया