मुख्य समाचार
कोल्ड ड्रिंक पीने से एक ही परिवार के 5 लोग पहुंचे अस्पताल, फिलहाल खतरे से बाहर इटौंजा प्रकरण : एसएसपी ने कॉस्टेबल को किया लाइन हाजिर, चौकी प्रभारी व थानाध्यक्ष पर भी कार्रवाई प्रचलित  दो पक्षों में विवाद के बाद जमकर चले लाठी डंडे, वीडियो वायरल मायावती ने फिर उठाया ये पुराना मुद्दा, कहा- भाजपा की साजिश में शामिल थे मुलायम आम उत्पादन के क्षेत्र को विस्तारित करने पर शोध करें : राज्यपाल RBI को फिर लगा बड़ा झटका, डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अचानक दिया इस्तीफा सबके विकास से ही देश का विकास होगा : राज्यपाल पूर्व सैनिकों के लिए मेरे घर के दरवाजे 24 घंटे खुले : महापौर संयुक्ता भाटिया करणी सेना को डायरेक्टर ने दिया जवाब, दोनों पक्षों में घमासान
 

शी के राष्ट्रपति बने रहने पर सीपीसी ने लगाई मुहर


PRADEEP CHANDRA JOSHI 01/03/2018 14:49 PM
165 Views

01-Mar-2018a3yTdqYcEA1

Beijing: चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के तीसरी बार राष्ट्रपति बने रहने का मार्ग प्रशस्त हो गया है। सीपीसी (कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना) की एक अहम बैठक में उस प्रस्ताव को मंजूरी दी गई जिसमें राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति के दो कार्यकाल की बंदिश को हटाया गया है। इस प्रस्ताव को नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) में पेश किया जाएगा।
यह भी पढ़ें... पाकिस्तानी मीडिया ने आतंकवाद के मुद्दे पर अपनी ही सरकार को घेरा

शी के राष्ट्रपति बने रहने का रास्ता साफ

बता दें कि एनपीसी को चीन की राष्ट्रीय संसद का दर्जा हासिल है, लेकिन इसे सीपीसी की रबर स्टैंप माना जाता है। जाहिर है कि सीपीसी के प्रस्ताव पर एनपीसी की बैठक में मुहर लग जाएगी और उसके बाद चिनफिंग को लगातार राष्ट्रपति बने रहने का रास्ता साफ हो जाएगा। हालांकि सीपीसी के इस प्रस्ताव पर अंतरराष्ट्रीय बिरादरी के साथ चीन में भी निंदा हो रही है। चीन के इस निर्णय के बाद वैश्विक स्तर पर ये माना जा रहा है कि इससे शी चिनफिंग बेलगाम हो सकते हैं।
यह भी पढ़ें... 2023 के बाद भी शी जिनपिंग हो सकते हैं राष्ट्रपति

चीनी राष्ट्रपति मनमर्जी से बने रह सकते हैं पद पर

  चीन के भीतर सोशल मीडिया पर इस बात की भी सुगबुगाहट है कि तानाशाही के एक नए युग की शुरुआत हो रही है। जिसके कारण चीन बहुत पीछे चला जाएगा। बता दें कि चीन में राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति को दो कार्यकाल ही मिल सकते हैं। लेकिन सीपीसी के तीन दिवसीय सत्र के समापन पर यह तय हो गया कि अब चिनफिंग मनमर्जी से पद पर बने रह सकते हैं।
यह भी पढ़ें... पीएम शेख हसीना ने बांग्लादेश के भविष्य पर जताई चिंता, देशवासियों से किया आग्रह

यूथ डेली के पूर्व संपादक ने की अपील

वहीं चीन के सरकारी समाचार पत्र यूथ डेली के पूर्व संपादक ली दतांग ने एक पत्र सोशल मीडिया पर प्रेषित कर के सांसदों से अपील की है कि वह इस प्रस्ताव के विरोध में अधिक से अधिक मतदान करें। उन्होंने कहा है कि इस प्रस्ताव के पारित होने का मतलब है कि चीन फिर से सीपीसी के संस्थापक माओ जेदांग के दौर में चला जाएगा।  

Web Title: CPC stamped seal on becoming president of Shi ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया