मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

ब्लैक होल समेत कई ब्रह्माण्ड के रहस्य बताने वाले स्टीफन हॉकिंग का निधन


PRADEEP CHANDRA JOSHI 14/03/2018 10:40:54
2520 Views

14-03-2018104149StephenHawkin1

New Delhi. ब्रह्माण्ड के बारे में अपनी रिसर्च के माध्यम से कई बड़े खुलासे करने वाले स्टीफन हॉकिंग का 76 वर्ष की आयु में निधन हो गया। स्टीफन के निधन की पुष्टि उनके परिवार के सदस्यों ने की है।
यह भी पढ़ें... बलूचिस्तान का कोई व्यक्ति पहली बार बना पाकिस्तान सीनेट का सभापति 

  एमियोट्रोफिक लैटरल स्लेरोसिस नामक बीमारी से थे पीड़ित

बता दें कि हॉकिंग वो बेस्टसेलर बुक 'अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम' जैसी किताबों के लेखक भी थे। इसके अलावा वह कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सैद्धांतिक ब्रह्मांड विज्ञान केन्द्र (सेंटर ऑफ थ्योरेटिकल कॉस्मोलॉजी) के शोध निर्देशक भी रहे थे। बता दें कि हाकिंग एमियोट्रोफिक लैटरल स्लेरोसिस (amyotrophic lateral sclerosis) नामक लाइलाज बीमारी से पीड़ित थे। जब वह 21 वर्ष के थे तभी डॉक्टरों ने उन्हें इस बीमारी के बारे में बता दिया था।
यह भी पढ़ें... बांग्लादेश की पूर्व पीएम को मिली जमानत

  बीमारी वैज्ञानिक बनने में बड़ी भूमिका

इस बीमारी के चलते उनके शरीर के अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। बावजूद इसके वह विश्व के सबसे बड़े वैज्ञानिक बने। इस बीमारी में मनुष्य का नर्वस सिस्टम धीर-धीरे खत्म हो जाता है और शरीर के मूवमेंट करने और  कम्यूनिकेशन पावर समाप्त हो जाती है। स्टीफन हॉकिंग के दिमाग को छोड़कर उनके शरीर का कोई भी भाग काम नहीं करता था। हाकिंग की इस बीमारी ने उन्हें वैज्ञानिक बनने में बड़ी भूमिका अदा की थी। क्योंकि हाकिंग को पता था कि वह ज्यादा दिनों तक जीवित नहीं रहेंगे। इसके बाद उन्होंने अपना अधिकतर समय अपनी रिर्सच में लगा दिया।
यह भी पढ़ें... ब्रिटेन में ड्रग्स देकर एक हजार लड़कियों से रेप, 11 साल की बच्चियों तक को नहीं छोड़ा

  हॉकिंग ने की थी ब्लैक हॉल्स पर रिसर्च

स्टीफन ने 1974 में ब्लैक हॉल्स पर असाधारण रिसर्च करके उसकी थ्योरी को मोड़ दिया था। जिस कारण वे साइंस की दुनिया के सेलेब्रेटी बन गए थे। वह ईश्वर के सिंद्धान्त पर विश्वास नहीं करते थे। हॉकिंग ने अपने रिसर्च के माध्यम से यह कहा था कि ईश्वर ने यह दुनिया नहीं रची है बल्कि यह तो भौतिक विज्ञान के नियमों का नतीजा है।
यह भी पढ़ें... दुनिया में हथियार खरीद में भारत नम्बर 1

अपनी किताब 'ग्रांड डिजाइन' में कहा था कि गुरुत्वाकर्षण जैसे कई नियम हैं और ब्राह्मांड कुछ नहीं से भी खुद को बना सकता है, ब्रह्मांड एक स्फूर्त सृजन का नतीजा है।

Web Title: Stephen Hawking passes away telling the secret of many universes including Black Hole ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया