मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

भाजपा के विजयरथ पर लगाम लगाना इतना आसान नहीं


SATEESH KUMAR 16/03/2018 14:42:56
7313 Views

 

16-03-2018144940Itsnotsoea1

LUCKNOW. उत्तर प्रदेश व बिहार लोकसभा उपचुनाव में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी को मिली करारी हार के बाद सोशल मीडिया समेत तमाम अखबार व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर पार्टी की हार की खबर सुर्ख़ियों पर है। ऐसे में विपक्षी पार्टियों ने 2019 लोकसभा चुनाव की तैयारियां और भी तेज़ कर दी हैं। उन्हें लगता है कि केंद्र में बनी भाजपा सरकार उपचुनाव नतीजों में मिली करारी हार के बाद पूरी तहर से फेल  दिख रही है।

यह भी पढ़ें....लापता नोबेल पुरस्कार विजेता घर से 320 किमी दूर जाकर मिले

अब सवाल यह है कि 2014 लोकसभा चुनाव में बनी भाजपा की बहुमत सरकार, क्या एक फिर केंद्र में सरकार बना पायेगी।

ऐसे सवालों के साथ कुछ राजनीतिक विचारकों का मानना है कि इतनी आसान नहीं भाजपा को हराना। भले ही वह उपचुनाव में हार का सामना की हो पर जमीनी स्तर पर वह मजबूत है। अब तक देश की 15 राज्यों में भाजपा बहुमत की सरकार है।

वहीं अम्बेडकर विश्वविद्यालय लखनऊ के प्रो. सुभाष झा बताते हैं कि प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर गढ़ व उपमुख्यमंत्री के फूलपुर गढ़ में भले ही भाजपा को करारी हार मिली हो पर यह कहना या समझना उचित नहीं है कि 2019 लोकसभा चुनाव में वह सरकार नहीं बना पायेगी। क्यों भाजपा के पास वह ताकत अभी भी बरकऱार है जिसके बदौलत सरकार बना सकती है। 

आपको बता दें कि प्रदेश के लोकसभा उपचुनाव में एक दूसरे के कट्टर विरोधी पार्टी बसपा व सपा  साथ होकर गोरखपुर व फुलपुर में बहुमत की जीत हासिल की हैं । इससे यह माना जा रहा है कि अगर दोनों पार्टियाँ 2019 लोकसभा में एक साथ इलेक्शन लड़ी तो उनके लिए आसान होगा केंद्र में सरकार बनाना। 

Web Title: It's not so easy to control the Vijay Chariot ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया

  1. 16-03-2018 15:34:54Hzjz

    Hzhxhx D D D

  2. 16-03-2018 15:07:42ZX

    askld asdas dasd asd