मुख्य समाचार
रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ईडी ने अग्रिम जमानत निरस्त करने की मांग मोहनलालगंज में बसपा चौथी बार दूसरे स्थान पर डॉ. ओ.पी.चौधरी ने संभाला भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के चेयरमैन का कार्यभार अपने बयान में फंसे सिद्धू, सोशल मीडिया पर हो रही जमकर खिंचाई सेवक के रूप में करूॅगी जनता की सेवा : साध्वी संसद तक पहुंचने में सफल हुई यह 11 महिलाएं करेंगी यूपी का नेतृत्व  दोबारा चुनाव जीतकर कौशल ने रचा इतिहास बाइक की टक्कर से साइ​किल सवार महिला की मौत, बेटी घायल शाकिब-अल-हसन का विश्व कप को लेकर आया बड़ा बयान गंभीर ने की राजनीतिक करियर की शुरुआत, इतने वाटों से दर्ज की जीत ऐसा हुआ तो आज़म खान लोकसभा की सदस्यता से खुद दे देंगे इस्तीफा! पुलिस ने किया लूट की वारदात से इंकार, आपसी रंजिश का गहराया शक  आजम खान का बड़ा बयान, तो दे दूंगा लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा भाजपा व मीडिया को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट पर मुकदमा दर्ज, अभियुक्त भेजा गया जेल FIFA World Cup: हो गया निर्णय 2022 टूर्नामेंट में खेलेंगी 32 टीमें बुंदेलखंड की सभी 4 सीटें भाजपा के खाते में 52 सीटों पर सिमटी कांग्रेस, अपनी पारम्परिक ​सीट से हाथ धो बैठे राहुल गांधी भाजपा के सहयोगी अपना दल (एस) ने उप्र की दो सीटों विजयी सुरक्षा बलों ने आतंकी सरगना मूसा को ढेर कर दिया पीएम मोदी की जीत का तोहफा
 

इस पावन नदी के किनारे बसे गांव होंगे विकसित और हरे-भरे


SANDEEP PANDEY 17/03/2018 11:23:47
9105 Views

17-03-2018115148Thevillagesa1

 

LUCKNOW.  गंगा नदी के किनारे बसे सूबे के 11 मंडलों, 27 जिलों और 130 विकास खंडों के गांवों को विकसित कर इन्हें हरा भरा बनाया जाएगा। इसके लिए बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण होगा। यूपी कैबिनेट बैठक ने इसके लिये फैसला कर लिया है।

जमीन व पानी का होगा संरक्षण

फैसले के अनुसार गंगा हरितिमा अभियान के तहत गंगा नदी के जल ग्रहण क्षेत्र में खासकर गंगा नदी के दोनों ओर तटीय क्षेत्रों में एक किलोमीटर की चौड़ाई में सघन रूप से स्वच्छता एवं साफ सफाई की जाएगी। नदी का कटान रोकने के लिए जमीन का व पानी का संरक्षण किया जाएगा। साथ ही लाभार्थी परक योजनाओं से तटीय गांवों का विकास किया जाएगा। इस अभियान की शुरुआत 21 मार्च अंतरराष्ट्रीय वन दिवस से होगी। समापन 16 सितंबर विश्व ओजोन दिवस से होगा। अभियान के तहत गंगा नदी के तटीय क्षेत्रों में दोनों ओर एक किलोमीटर चौड़ाई में बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण, वानस्पतिक आच्छादन, स्वच्छता, साफ-सफाई, जमीन एवं जल संरक्षण और प्रदूषण की रोकथाम के जरिए गंगा नदी के संरक्षण के काम कराए जाने पर केंद्रित है।

यह भी पढ़ें- आरएसएस हिन्दू नववर्ष पर निकालेगा पथ संचलन

योजना का प्रचार किया जायेगा

गंगा नदी के किनारे बसे प्रदेश के 27 जिलों के सभी विकास खंडों में गोष्ठियां, प्रभातफेरी, नुक्कड़ नाटक, पैम्फलेट, बैनर आदि के जरिए योजना का प्रचार किया जाएगा। एनजीओ को भी इस योजना में जोड़ा जाएगा। एक व्यक्ति एक वृक्ष योजना में पौधे लगाने के लिए किसानों को प्रेरित किया जाएगा। इससे जुड़ने वाले किसानों को व अन्य लोगों को गंगा सेवक बैज, प्रमाण पत्र और कैप वितरित किए जाएंगे। कार्यक्रम मोबाइल एप और वेब पोर्टल बनाया जाएगा। स्कूलों में चलने वाले ईको क्लब के जरिए कार्यक्रम की जागरुकता बढ़ाई जाएगी।

यह भी पढ़ें- राजस्व ग्रामों का डिजिटल मैप तैयार

जनजागरण कार्यक्रम चलेंगे

गंगा नदी के तटीय क्षेत्रों में वनस्पति का क्षेत्र बढ़ाने और जमीन के क्षरण पर रोक लगा दी गई है। नदी की पारिस्थितिकी व जैव विविधता में समृद्धि के लिए गतिविधियों का चिन्हांकन किया जाएगा। साथ ही इन कामों को जमीन पर उतारने के लिए सरकारी विभागों एवं स्थानीय लोगों का सहयोग लिया जाएगा। गंगा के संरक्षण एवं नदी में उपलब्ध संसाधनों का समुचित उपयोग करने के उपाय किए जाएंगे और इसके लिए जनजागरण कार्यक्रम चलेंगे।

यह भी पढ़ें- 18 महिलाओं को मिला सावित्रीबाई फुले सम्मान

प्रदूषण की होगी रोकथाम

पर्यावरण हितैषी किसानों की आय में वृद्धि के लिए विभिन्न कृषि पद्धतियों और जैविक खेती को अपनाने के लिए जनजागरण किया जाएगा। नदी में प्रदूषण के विभिन्न कारणों की पहचान की जाएगी और उनकी रोकथाम के लिए उपाय और जनजागरण किया जाएगा। नदी के जल ग्रहण क्षेत्र में जल संग्रहण के लिए उपाय व जन जागरुकता कार्यक्रम होंगे। प्रदूषण की रोकथाम करने के साथ ही नदी के किनारों को हरा भरा बनाया जाएगा। निजी क्षेत्र में पौधा रोपण से किसानों की आय बढ़ेगी।

Web Title: The villages along this river will be developed and green ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया