मुख्य समाचार
रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ईडी ने अग्रिम जमानत निरस्त करने की मांग मोहनलालगंज में बसपा चौथी बार दूसरे स्थान पर डॉ. ओ.पी.चौधरी ने संभाला भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के चेयरमैन का कार्यभार अपने बयान में फंसे सिद्धू, सोशल मीडिया पर हो रही जमकर खिंचाई सेवक के रूप में करूॅगी जनता की सेवा : साध्वी संसद तक पहुंचने में सफल हुई यह 11 महिलाएं करेंगी यूपी का नेतृत्व  दोबारा चुनाव जीतकर कौशल ने रचा इतिहास बाइक की टक्कर से साइ​किल सवार महिला की मौत, बेटी घायल शाकिब-अल-हसन का विश्व कप को लेकर आया बड़ा बयान गंभीर ने की राजनीतिक करियर की शुरुआत, इतने वाटों से दर्ज की जीत ऐसा हुआ तो आज़म खान लोकसभा की सदस्यता से खुद दे देंगे इस्तीफा! पुलिस ने किया लूट की वारदात से इंकार, आपसी रंजिश का गहराया शक  आजम खान का बड़ा बयान, तो दे दूंगा लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा भाजपा व मीडिया को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट पर मुकदमा दर्ज, अभियुक्त भेजा गया जेल FIFA World Cup: हो गया निर्णय 2022 टूर्नामेंट में खेलेंगी 32 टीमें बुंदेलखंड की सभी 4 सीटें भाजपा के खाते में 52 सीटों पर सिमटी कांग्रेस, अपनी पारम्परिक ​सीट से हाथ धो बैठे राहुल गांधी भाजपा के सहयोगी अपना दल (एस) ने उप्र की दो सीटों विजयी सुरक्षा बलों ने आतंकी सरगना मूसा को ढेर कर दिया पीएम मोदी की जीत का तोहफा
 

भारत के इस राज्य में सबसे पहले होगा जल का संकट


HARSHIT MISHRA 22/03/2018 23:17:39
6734 Views

लखनऊ। जल जनित बीमारियों के कारण विश्व में 22 लाख मौतें प्रतिवर्ष होती हैं। पूरे विश्व में धरती का लगभग तीन चौथाई भाग जल से घिरा हुआ है और इसमें से 97 प्रतिशत पानी खारा है, जो पीने योग्य नहीं है। शेष 3 प्रतिशत में भी 2 भाग पानी ग्लेशियर एवं बर्फ  के रूप में है। अगर यही स्थिति बनी रही तो वह दिन दूर नहीं जब भारत में भी केपटाउन जैसी स्थिति बन जायेगी। भारत में यह स्थिति सबसे पहले बैंगलोर में उत्पन्न होगी।

यह भी पढ़ें 790 पदों के लिए ऑनलाइन रोजगार मेले का आयोजन, आवेदन करने की अन्तिम तिथि 24 फरवरी

यह बातें गुरुवार को विश्व जल दिवस के अवसर पर सी-कार्बन संस्था की ओर से आयोजित कार्यक्रम में संस्था के अध्यक्ष वीपी श्रीवास्तव ने कहीं। संस्था ने लोगों को जागरूक करने के उदे्दश्य से कार्यक्रम का आयोजन किया था। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि सही मायने में देखा जाये तो मात्र 1 प्रतिशत पानी ही मानव के उपयोग के लिए उपलब्ध है जिसका 60 प्रतिशत भाग खेती व कारखानों में खपत हो जाता है और 40 प्रतिशत ही खाने, पीने, नहाने व साफ-सफाई में खपत होता है। साथ ही जल जनित बीमारियों के कारण विश्व में 22 लाख मौतें भी प्रतिवर्ष होती हैं।

यह भी पढ़ें:हाई स्कूल के लापता छात्र का लटकता मिला शव

उन्होंने कहा कि आने वाले समय में जहां स्वच्छ पेयजल की कमी को देखते हुए विश्व युद्ध की संभावना जताई जा रही है वहीं दूसरी और जो जल हमारे पास उपलब्ध है, वह प्रदूषित होता जा रहा है। ऐसे में जल का संरक्षण और प्रबंधन अत्यंत आवश्यक हो गया है। स्वच्छ जल की लगातार कमी को देखते हुए हम विश्व जल दिवस को संकल्प दिवस के रूप में मना रहे हैं साथ ही पानी संरक्षण को लेकर हर तरह से लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ सरकार से भी मांग करते हैं कि पानी संरक्षण को लेकर कोई ठोस कानून बनाया जाये। जिससे आने वाली पीढ़ी को स्वच्छ जल की समस्या का सामना ना करना पड़े।

यह भी पढ़ें:सिरफिरे ने ठेकेदार पर चाकू से किया हमला

इस मौके पर संस्था के कार्यकर्ताओं सहित वीपी श्रीवास्तव, डॉ. आर एल श्रीवास्तव, मुकेश कुमार, जे एस अस्थाना, तूलिका श्रीवास्तव व रितेश त्रिपाठी आदि मौजूद रहे व जल संरक्षण को लेकर अपने अपने विचार रखे ।

यह भी पढ़ें:#big breking : सिरफिरे ने राड से पीटकर पत्नी को उतारा मौत के घाट

Web Title: Bangalore to arrive soon in Cape Town ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया