मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

विन मिन्त बने म्यांमार के नये राष्ट्रपति, आंग सान सू ची के हैं करीबी


PRADEEP CHANDRA JOSHI 28/03/2018 19:30 PM
285 Views

Win myint Myanmar

Nipithavah. म्यांमार की संसद ने आज अपने देश के नये राष्ट्रपति के रूप में विन मिन्त को निर्वाचित किया है। संसद के अध्यक्ष मान बिन खाइंग ने घोषणा करते हुए कहा कि बहुमत पाने वाले यू (आदरसूचक) विन मिन्त को देश का राष्ट्रपति निर्वाचित किया जाता है।

यह भी पढ़ें... पाकिस्तानी पीएम की अमेरिकी एयरपोर्ट पर हुई गहन जांच

पूर्व राष्ट्रपति ने अचानक छोड़ दिया था पद

विन मिन्त को आंग सान सू ची का करीबी माना जाता है। देश के शीर्ष स्तरीय नीति-निर्धारण की प्रक्रिया पर विन मिन्त उनकी मजबूत पकड़ है। बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति हतिन क्याव ने आराम की जरूरत बताते हुए पिछले हफ्ते एका-एक पद से त्याग पत्र दे दिया था। इसके बाद 66 वर्ष के विन मिन्त को राष्ट्रपति पद के लिए चुना गया। सेना द्वारा तैयार किए गए संविधान के तहत सू ची के राष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचित होने पर रोक लगी हुई है। क्यों कि सूची ने एक विदेशी से शादी की है और इस शादी से सू ची के 2 बेटे भी हैं  और देश के संविधान के तहत वह राष्ट्रपति पद की हकदार नहीं हैं।

यह भी पढ़ें... बांग्लादेश में अब तक पहुंच चुके हैं 7 लाख तक रोहिंग्या : बंगलादेशी राजदूत

सूची नहीं बन सकती हैं राष्ट्रपति

सू ची साल 2015 में अपनी पार्टी के ऐतिहासिक जीत के बाद से स्टेट काउंसलर हैं और वह घोषणा कर चुकी हैं कि वे राष्ट्रपति से ऊपर रहते हुए काम करेंगी। बहरहाल, उनके पद की कोई आधिकारिक संवैधानिक भूमिका नहीं है। इससे सू ची के लिए अपनी किसी करीबी को राष्ट्रपति बनाना जरूरी है ताकि वह अप्रत्यक्ष रूप से सहजतापूर्वक देश पर शासन कर सकें।

Web Title: Win myint Myanmar's new President,Aung San Suu Kyi's are close ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया