‘लगातार पेपर लीक, कैंडीडेट हो रहे वीक’


RAJNISH KUMAR 31/03/2018 18:08:56
7322 Views

लखनऊ। जले पर नमक छिडक़नामुहावरा कहीं न कहीं से आज प्रतियोगी छात्रों के हालातों पर सटीक बैठ रहा है। एक तो बेरोजगारी उसके ऊपर से पेपरलीक, सॉल्वर गैंग की सेंधमारी। सरकारी नौकरियों के लिए होने वाली प्रतियोगी परीक्षाएं (ऑनलाइन और ऑफलाइन) केंद्र और प्रदेश सरकार ही नहीं छात्रों के लिए भी चुनौती बनती जा रही हैं। अगर बीते एक साल की बात की जाए तो करीब दर्जनभर नौकरियों की परीक्षाओं के पेपर लीक होने की बात सामने आई है। पेपर लीक और सॉल्वर गैंग की सिस्टम में सेंधमारी के कारण परीक्षाएं निरस्त कर दी गई, जिसका खामियाजा लाखों को भुगतना पड़ रहा है। ऐसे में सेंधमारी को रोकना सरकार के लिए भी किसी मुसीबत से कम नहीं हैं।

यह भी पढ़ें :- सपा के वरिष्ठ नेता के बचाव में आए अखिलेश, कहा- बदनाम कर रही है योगी सरकार

केंद्र और राज्य सरकार के फुलप्रूफ परीक्षा कराने के दावों के बीच साल्वर गैंग और पेपरलीक के मामले चुनौती बने हुए हैं। अगर बीते एक साल यानि योगी सरकार के शासनकाल की बात की जाए तो अब दर्जनभर परीक्षाओं में धांधली के मामले पकड़े जा चुके हैं। एसएससी-मल्टी टास्किंग स्टाफ परीक्षा, उप्र पुलिस की दारोगा भर्ती की ऑनलाइन परीक्षा, ‘अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी), ‘ हाईकोर्ट द्वारा आयोजित गु्रप सी व डी की परीक्षा, ‘उप्र माध्यमिक बोर्ड परीक्षा, एसएससी स्नातक स्तर की ऑनलाइन परीक्षा, यूपीपीसीएल ऑनलाइन परीक्षा समेत अन्य तमाम परीक्षाओं में अनियमितता, नकल, पेपरलीक के मामले सामने आए, जो गम्भीर चिंता का विषय है। इसके अलावा सीबीएसई बोर्ड की दसवीं और बारहवीं परीक्षा का पेपर आउट होने की बात सामने आई है, जिसे लेकर पूरे देश में छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

वहीं, एसटीएफ और पुलिस परीक्षाओं से जुड़े मामलों में करीब सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। यही नहीं, ऑनलाइन परीक्षा आयोजित कराने वाली एजेंसियां भी सवालों के घेरे में हैं। ऐसे में सरकार के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं को फुलप्रूफ कराना किसी चुनौती से कम नहीं है। इससे पहले भी पूर्ववर्ती सरकारों में जलनिगम और पशुधन प्रसार अधिकारी भर्ती परीक्षाएं भी सवालों के घेरे में रही हैं। वहीं, बेरोजगारी के दौर में पेपरलीक और सॉल्वर गैंग के सक्रिय होने से छात्रों की मानिसक दशा और दिशा भी प्रभावित हो रही है।

यह भी पढ़ें :- CBSE पेपर लीक मामला : 12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा 25 अप्रैल को, 10वीं पर अभी जांच जारी

बता दें कि पिछले कुछ सालों से नौकरियों की भर्ती को लेकर ऑनलाइन परीक्षाएं आयोजित कराई जा रही है, जो किसी न किसी एजेंसी के माध्यम से हो रहा है। यूपीपीसीएल की परीक्षा अपटेक ने कराई थी, लेकिन पेपरलीक होने की जानकारी सामने आते ही सरकार ने अपटेक कम्पनी को ब्लैकलिस्ट करने के साथ यूपीपीसीएल के प्रबंधक समेत दो लोगों को निलम्बित कर दिया गया है।

Web Title: candidate suffering from various paper leak case ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया