मुख्य समाचार
हंगामे की भेंट चढ़ा विधानसभा के मानसून सत्र का पहला दिन  प्रियंका को लेकर चुनार पहुंची पुलिस; सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस समर्थक मौजूद नारेबाजी जारी लखनऊ में शिवसेना का सदस्यता अभियान शुरू  जिला पंचायत सदस्य पर प्लाट कब्जाने का आरोप, एंटी भूमाफिया पोर्टल पर शिकायत  टैंपो चालकों ने किया हंगामा, भाजपा सांसद के पुत्र के करीबियों और पुलिस पर लगा वसूली का आरोप  फोरम के आदेश की नाफरमानी लखनऊ डीएम को पड़ी भारी, वेतन रोकने के आदेश अजय कुमार लल्लू बोले - जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड जमीनी विवाद नहीं, सामूहिक नरसंहार है घोरावल कांड : अजय कुमार लल्लू सुरक्षा प्रबंध सराहनीय हैं, लेकिन मेरी सुरक्षा का दायरा कम से कम रखें : प्रियंका वाड्रा
 

विधान परिषद चुनाव: भाजपा दे सकती है रिटर्न गिफ्ट, गठबंधन की भी होगी परीक्षा


RAJNISH KUMAR 03/04/2018 11:01 AM
368 Views

Lcuknow. विधान परिषद के लिए चुनाव मतदान की तारीख घोषित होते ही राजनीतिक दलों की सक्रियता बढ़ गई है। वहीं, राज्यसभा चुनाव की तरह सपा-बसपा के गठबंधन की भी परीक्षा होनी है। यूपी और बिहार में विधान परिषद की 24 सीटों के लिए 26 अप्रैल को चुनाव होना है।

up and bihar legislative council elections on 26 april

निर्वाचन आयोग के मुताबिक, यूपी की 13 और बिहार की 11 सीटों के लिए चुनाव होंगे। बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित 13 विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल पांच मई को और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी सहित 11 सदस्यों के कार्यालय छह मई को खत्म हो रहे हैं।

   मतदान 26 अप्रैल को होगा

निर्वाचन आयोग की ओर से यूपी और बिहार में विधान परिषद की 24 सीटों के लिए मतदान की तारीख घोषित कर दी है। चुनाव की अधिसूचना नौ अप्रैल को जारी की जाएगी। चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 16 अप्रैल तय की गई है। जबकि 17 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख 19 अप्रैल होगी। मतदान 26 अप्रैल को होगा और इसी दिन शाम को पांच बजे मतगणना भी होगी। विधानमंडल के लिए चुनाव मतदान की तारीख घोषित होते ही राजनीतिक दलों की सक्रियता बढ़ गई है। भापजा कार्यालय में दावेदारों की परिक्रमा बढ़ गई है। वहीं, सपा और बसपा के कार्यालयों में भी चहल कदमी बढ़ गई है।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार की कैबिनेट बैठक आज, इन फैसलों को मिल सकती है मंजूरी

   इन लोगों को मिल सकता है रिटर्न गिफ्ट

वहीं, प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री योगी, दो उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा, मंत्री महेंद्र सिंह और मोहसिन रजा विधानमंडल के किसी भी सदन के ​सदस्य नहीं थे। सरकार में बने रहने के लिए उन्हें किसी भी दल का सदस्य होना जरूरी था। ऐसे में सपा और बसपा के सदस्यों ने इस्तीफा देकर उनकी राह को आसान किया था। विधानमंडल की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले सभी सदस्य भाजपा में शामिल हो गए थे। ऐसे में भाजपा के लिए सभी को रिटर्न गिफ्ट यानि उनका समायोजन करना किसी चुनौती से कम नहीं होगा। भाजपा ने विधानमंडल की सीट छोड़ने वाले अशोक वाजपेयी को राज्यसभा भेज रिटर्न गिफ्ट दे चुकी है, विधानमंडल की सीट छोड़ने वाले सपा के ही यशवंत सिंह, बुक्कल नवाब, सरोजिनी अग्रवाल और बसपा के जयवीर सिंह को अभी रिटर्न गिफ्ट नहीं मिला है। हालांकि अब देखना यह होगा कि भाजपा इन्हें रिटर्न ​गिफ्ट देगी या किसी नए उम्मीदवार को विधानमंडल भेज 2019 में होने वाले चुनावों के लिए जातीय समीकरण साधेगी।

   इन लोगों का कार्यकाल हो रहा समाप्त

पांच मई को सपा अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, नरेश चंद्र उत्तम, उमर अली खान, मधु गुप्ता, राजेंद्र चौधरी, राम सकल गुर्जर, विजय यादव, अंबिका चौधरी, बसपा के विजय प्रताप और सुनील कुमार चित्ताैड़, रालोद के चौधरी मुश्ताक और प्रदेश सरकार के मंत्री महेंद्र सिंह व मोहसिन रजा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। पिछली बार इनमें आठ सीटें सपा, तीन बसपा, एक भाजपा तथा एक रालोद ने जीती थीं। बसपा के जयवीर सिंह के इस्तीफे के बाद चुनाव में मोहसिन रजा विजयी हुए थे।

यह भी पढ़ें : भारत बंद : प्रशासन ने पूर्व बसपा विधायक को बताया मुख्य साजिशकर्ता

   विधान परिषद चुनाव का यह है गणित

भाजपा के एक विधायक के निधन के बाद विधानसभा सदस्यों की संख्या 402 है। विधान परिषद की एक सीट के लिए 29 सदस्यों के मत की जरूरत है। भाजपा गठबंधन के पास कुल 324 सदस्य हैं। वहीं, निर्दलीय रघुराज प्रताप सिंह, विनोद सरोज, अमनमणि त्रिपाठी, निषाद पार्टी के विजय मिश्र, बसपा के अनिल सिंह और सपा के नितिन अग्रवाल समेत छह अतिरिक्त मत राज्यसभा चुनाव में भाजपा गठबंधन के उम्मीदवारों को मिलने का दावा किया जा रहा है। ऐसे में अगर विधान परिषद चुनाव में भाजपा के पक्ष में ये लोग मतदान करते हैं तो भाजपा के पक्ष में 330 सदस्य दिखते हैं। वहीं, अगर जेल में बंद सपा के हरिओम यादव और बसपा के मुख्तार अंसारी को अपना मत प्रयोग करने की अनुमति मिल गई तो सपा के 46, बसपा के 18 और कांग्रेस के सात सदस्य मिलकर 71 सदस्य होंगे। ऐसे में भाजपा गठबंधन को आसानी से 11 और सपा-बसपा-कांग्रेस को दो सीटें मिल जाएगी।

Web Title: up and bihar legislative council elections on 26 april ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया