मुख्य समाचार
UPTET : हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने किया निरस्त, 1 लाख से ज्यादा शिक्षकों को मिली राहत अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला, कहा- नौजवानों की जिन्दगी में ... फतेहपुर में प्रतिबंधित मांस मिलने पर बवाल, मदरसे पर पथराव साक्षी मामले पर मालिनी अवस्थी का बड़ा बयान, लड़कियां जीवन साथी चुनें लेकिन... यूपी पुलिस को मिली बड़ी सफलता, दो इनामी बदमाश किए ढेर वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल पर लगाए गम्भीर आरोप, मचा घमासान अंतिम संस्कार की चल रही थी तैयारी, अचानक युवक की खुली आंखे और फिर जो हुआ... सरकारी आवास के मोह पॉश में जकड़े दो पूर्व मंत्रियों को गहलोत सरकार ने दिया जुर्माने का झटका सलमान संग फिल्मों में डेब्यू कर सुपरस्टार बनीं कटरीना का नहीं है कोई क्राइम रिकॉर्ड 149 साल बाद बन रहा गुरू पूर्णिमा पर चंद्र दुर्लभ योग सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या, सियासत में भूचाल
 

फेफड़े की बीमारी से होती है 11 प्रतिशत लोगों की मौत: डा. सूर्यकांत


SHUBHENDU SHUKLA 05/04/2018 00:15:02
2322 Views

Lucknow. फेफड़े हमारे प्रमुख अंगो में से एक अंग है, जो कि हमारे शरीर में एक जोड़ी होते हैं। फेफड़ों का प्रमुख कार्य रक्त का शुद्धीकरण करना होता है। फेफड़ें सांस और रक्त के बीच गैसों का आदान-प्रदान करते है। फेफड़ों के द्वारा वातावरण से आक्सीजन लेकर, रक्त परिसंचरण में प्रवाहित होती है और रक्त से कार्बन-डाइऑक्साइड को निकाल कर वातावरण में छोड़ी जाती है।

Dr. Suryakant says 11% of people died from pulmonary disease

यह भी पढ़ें...Health_is_wealth: Electronic cigarette पीने वालों के लिए ये बड़ी खबर

2008 में, पूरे विश्व में सभी बीमारियों से होने वाली मौतों मे, अकेले फेफड़ों की बीमारियों से होने वाली मौतों की संख्या 92 लाख थी। भारत में, सभी बीमारियों से होने वाली मौतों में, अकेले 11 प्रतिशत लोग फेफड़ों की बीमारियों से मरते हैं। अस्पतालों में होने वाली सभी भर्तियों में लगभग 10 प्रतिशत मरीज अकेले फेफड़ों की बीमारियों के कारण भर्ती होते हैं।

यह भी पढ़ें...Health_is_wealth: दूध पीने वाले रहे सावधान, आपके लिए ये जरूरी खबर...

फेफड़ों से सम्बन्धित बीमारियां-

1. क्षय रोग (टी.बी.)

टी.बी. एक संक्रमक रोग है, जो कि माईको-बैक्टेरियम ट्यूबरक्लोसिस नामक जीवाणु से होता है। जब पीड़ित व्यक्ति खांसता, छींकता या थूकता है, तो उस थूक में मौजूद जीवाणु हवा में मिल जाते हैं और आस-पास में संक्रमण पैदा करते हैं।

Dr. Suryakant says 11% of people died from pulmonary disease

टी.बी. एक प्रमुख वैश्विक स्वास्थ समस्या है। वर्ष 2014 में सम्पूर्ण विश्व में एक करोड़ टीबी के नये मरीज पाये गये, जिनमें से कुल 14 लाख लोगों की मौतें हुयी। डब्लू एच ओ रिपोर्ट के अनुसार 2014 में भारत में दुनिया के एक चैथाई मामले पाये गये (लगभग 28 लाख) टीबी से मरने वाला हर पांचवा व्यक्ति भारतीय होता है। भारत में हर 5 मिनट में टीबी से दो मौतें होती है (प्रतिदिन एक हजार से ज्यादा)। लगभग चार लाख तेईस हजार लोग प्रतिवर्ष टीबी की बीमारी से मरते हैं। प्रदेश में लगभग 7.5 लाख टीबी के मरीज हैं,  जिनमें  से 2.5 लाख सरकारी और लगभग 2.5 लाख प्राइवेट सेक्टर से उपचार ले रहे हैं। चिन्ता का विषय यह है कि प्रदेश में बचे 2.5 लाख टीबी के रोगियों का पता नहीं चल पा रहा है।

2. सी.ओ.पी.डी.

सीओपीडी एक लम्बे समय की बीमारी है, जो कि फेफड़े सम्बन्धित बीमारियों में एक प्रमुख बीमारी है। इसके प्रमुख कारणों में धूम्रपान, वायु प्रदुषण व किसी भी प्रकार का धुआं है। सीओपीडी के भारत मे लगभग 3 करोड़ रोगी हैं। 


3. दमा (अस्थमा)  

दमा भी स्वांस रोगों में एक प्रमुख रोग है। जिसके प्रमुख कारणों में, अनुवांशिकी, वायु प्रदुषण, खान-पान, तनाव आदि हो सकते हैं। इस बीमारी में मरीज के श्वास नलियों में सूजन आ जाती है और मरीज को सांस लेने में कठिनाई होती है। पूरे विश्व में लगभग 30 करोड़ लोग तथा भारत में लगभग 3 करोड़ लोग दमा से ग्रसित हैं।  भारत की बात करें तो लगभग 1 लाख मौतें प्रतिवर्ष दमा से हो जाती है।

यह भी पढ़ें...मोटापा घटाने में मददगार दालचीनी
4. निमोनिया तथा फेफडों के अन्य संक्रमण

निमोनिया एक संक्रमण से होने वाली बीमारी है, जिसके प्रमुख कारणों में, जीवाणु, बिषाणु, फंगस तथा अन्य पैरासाइट हो सकते हैं। इसमे मरीज को तेज बुखार, ठण्ड के साथ कंपकपी, सांस लेने में दिक्कत, बदन दर्द खांसी आना आदि सामिल है। फेफडो से सम्बंधित बीमारियों से होने वाली मौतों में सबसे ज्यादा मौतें निमोनिया तथा अन्य संक्रमित बीमारियों से होती है।

2015 में, डब्लू.एच.ओ. के अनुसार कुल फेफड़े से संबंधित संक्रमण के 37,485,713 मरीज विश्व में पाये गये, जिसमें करीब 2893 मरीजों की मौत उपर्युक्त कारणों से हुयी।

यह भी पढ़ें...इन चीजों को भूलकर भी मत रखिए फ्रिज में, होगा सेहत को नुकसान

5. फेफडे़ का कैंसर

फेफडों का कैंसर, सामान्य रूप से होने वाने कैंसर से होने वाली मौतों में एक प्रमुख कारण है। फेफड़ों के कैंसर में, फेफडे की कोशिकाएं अनियत्रित गति से बढती जाती है। फेफडें के कैंसर के प्रमुख कारणों में, ध्रूमपान, पर्यावारण प्रदुषण, दैनिक इंड्रास्ट्रियल कार्य इत्यादि है।

फेफड़ों के कैंसर के प्रमुख लक्षण खांसी आना, खांसी में खून आना, वजन घटना, भूख न लगना, सांस लेने में कठिनाई होना, आवाज में बदलाव आ जाना है।

6. स्लीप एपनिया

स्लीप एपनिया के लक्षणों में जोर के खर्रराटे आना, रात में अचानक नींद से उठ जाना, दिन में सजगता की कमी,चिड़चिड़ापन, सांस की समस्या बार -बार नींद आना आदि है। इसके प्रमुख कारणों में भोजन का अधिक होना, धूम्रपान, बड़े आकार की गर्दन (17 इन्च से ज्यादा पुरूषों में और महिलाओं में 16 इन्च से ज्यादा होना) आदि।

7. फेफड़े की दुर्लभ बीमारियां

दुर्लभ बीमारियों में फेफड़ों में सिकुड़न की बीमारी जिसको इन्टरस्टीसियल लंग डीसीज कहते हैं। जिसका प्रमुख कारण, पर्यावरण, अक्यूपेसन, पशु-पक्षियों का एक्स्पोजर और कुछ कारण रहित होते हैं। वैश्विक स्तर पर इस बीमारी के लगभग 50 लाख मरीज, जबकि भारत में लगभग 10 लाख मरीज मौजूद हैं।

बीमारियों में प्रमुख कारण

फेफड़े संबन्धित बीमारियों के प्रमुख कारणों में, वायु प्रदुषण, धूम्रपान करना, चूल्हे पर खाना बनाना (बायोमास फ्यूल), स्वाचलित यंत्र (आटोमोबाइल), इंड्रास्ट्रियल कार्य, संक्रमण, खान-पान (फास्टफूड का ज्यादा सेवन) इत्यादि है।

यह भी पढ़ें...इस उंगली से लंबी है आपकी रिंग फिंगर तो आगे-पीछे घूमेंगी खूबसूरत लड़कियां

बचाव के उपाय

वायु प्रदूषण पर रोकथामः- वायु प्रदूषण को हम पौधा रोपड़ करके, आटो-मेाबाइल का कम से कम प्रयोग, फैक्ट्रियों को आवसीय परिसर से दूर स्थापित करके तथा निर्माण कार्यों में कमी लाकर, कम कर सकते  हैं।

 धूम्रपान पर रोकः-

भारत में लगभग 12 करोड़ लोग धूम्रपान का सेवन करते हैं। धूम्रपान जो कि सार्वजनिक स्थानों पर प्रतिबन्धित है, सरकार द्वारा इसका सख्ती से पालन कराया जाना चाहिए।

चूल्हे की जगह LPG गैस का प्रयोग

लकड़ी के चूल्हो का कम से कम प्रयोग करना चाहिए, चूल्हों के स्थान पर एलपीजी गैस (प्राकृतिक गैस) के उपयोग को बढ़ाया देना चाहिए। गॅाव  में चूल्हो के धुएं से होने वाली बीमारियों को ध्यान  में रखते हुए भारत सरकार द्वारा उज्जवला योजना का 01 मई 2016 मे शुरू किया जाना, इस दिशा में मील का पत्थर साबित होगा।

यह भी पढ़ें...Health_is_wealth: Vitamin D3 से होता है यह लाभ, जानिए

संक्रमण से बचाव

संक्रमित व्यक्ति का मास्क लगाना, खुले स्थान पर रखना (आइसोलेशन) टीबी के संक्रमण से बचाव से बचने के लिए , भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा टीबी नोटीफिकेशन एंड एक्टिव केस फाइंडिंग- जैसी योजनायें प्रारम्भ करना। इसके साथ ही भारत सरकार द्वारा 500 रू. प्रतिमाह हर टीबी के मरीज को पोषण भत्ता देने की घोषणा एक सराहनीय पहल है। इसके द्वारा निश्चित रूप से टीबी के संक्रमण]फैलाव में कमी लाया जा सकेगा।

टीकाकरणः-

अन्य संक्रमित बीमारियों को रोकने के लिए वैक्सीन (टीकाकरण) का भी महत्वपूर्ण योगदान लिया जा सकता है। इसके साथ-साथ बीमारियों को रोकने में प्रणायाम]योग विधि के योगदान को भी नकारा नहीं जा सकता।

 

Web Title: Dr. Suryakant says 11% of people died from pulmonary disease ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया