मुख्य समाचार
ममता के करीबी अधिकारी को आउटलुक नोटिस, एक साल तक नहीं जा सकेंगे​ विदेश राजौरी में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी, एक किशोर घायल ममता बोलीं, सांप्रदायिकता का जहर फैलाकर बंगाल में जीती भाजपा चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी में होने जा रहा बड़ा फेरबदल, राहुल लगाएंगे मुहर श्रमिक की संदिग्ध मौत: परिजनों ने मुआवजे को लेकर किया हंगामा जब क्रीज पर दर्शकों ने कहा, धोखेबाज भाग जाओ CWC की बैठक में राहुल का फूटा गुस्सा, हार के लिए इन दिग्गज नेताओं को ठहराया जिम्मेदार हाईस्कूल पास के लिए DRDO में नौकरी का सुनहरा मौका, आज अंतिम दिन जनसुविधा केन्द्रों पर भी आधार से जोड़े जाएंगे राशन कार्ड माध्यमिक विद्यालयों को 28 मई तक सम्मिट करना होगा यू-डायस प्रपत्र इस नेता ने दे डाली मोदी सरकार को चुनौती, जानिए क्या कहा पूर्व सैनिक की मृत्यु पर मिलेगी सहायता बड़ी खबर: ममता बनर्जी ने कहा, अब सीएम नहीं रहना चाहती सड़क हादसों में महिला समेत आधा दर्जन घायल जेट के पूर्व चेयरमैन नरेश गोयल थे पत्नी सहित देश छोड़ने की फिराक में, एयरपोर्ट से हुए अरेस्ट मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने राष्ट्रपति को सौंपी जीते सांसदों की सूची
 

...कहीं सियासी बरगद को गिराने की साजिश तो नहीं उन्नाव गैंग रेप काण्ड 


PRANAY VIKRAM SINGH 13/04/2018 18:01:25
11460 Views

प्रणय विक्रम सिंह 

एक हाई वोल्टेज ड्रामा में तब्दील हो चुका उन्नाव गैंग रेप कांड, बड़े ही दिलचस्प मोड़ से गुजर रहा है। इस कथित रेप कांड की कथित पीडि़ता के बहते निर्झर आंसुओं की फरमाइश (विधायक की गिरफ्तारी) सीबीआई ने पूरी कर दी है तो दूसरी ओर आरोपी विधायक कुलदीप सिंह की पत्नी संगीता सिंह के अनवरत बहते आंसुओं की चुनौतीनुमा फरियाद (मामले की सीबीआई जांच) भी धरातल पर अपना जलवा दिखा रही है। पीडि़ता के परिवार ने कहा है कि अब उन्हे इंसाफ मिलने की उम्मीद है।

माननीय उच्च न्यायालय ने भी सख्त दिशा निर्देश जारी करते हुये कानून का राज कैसे स्थापित होता है, का संदेश देने की कोशिश की है। विपक्ष योगी सरकार पर निशााना साधने में समस्त स्थापित मर्यादाएं लांघने को आतुर दिखाई पड़ रहा है। गैर भाजपा दलों की अनेक राजनीतिक नेत्रियां कथित पीडि़ता के विडियो डाल कर सरकार विरोधी वातावरण निर्मित करने के अपने पूर्व निर्धारित उद्देश्य को पूर्ण करने हेतु अत्यंत आक्रमकता के साथ कार्य को अंजाम देती दिखाई पड़ रही हैं। 

 

... conspiracy to demolish the political banyan tree, not the Unnao gang rap kand


 उस पर मीडिया, जिस तरह उन्नाव प्रकरण में पार्टी बन गई है, वह हैरानी और दुर्भाग्य की बात है। कथित पीडि़ता के साथ आसुंओं के समंदर में तैरती-उतराती मीडिया स्वयं सीबीआई और न्यायपालिका की भूमिका अदा कर खुद पर इतरा रही है। हद तो तब हो गई जब एक राष्ट्रीय समाचार चैनल के मशहूर एंकर ने बाकायदा आरोपी विधायक कुलदीप सिंह का परिचय अपने नाटकीय अंदाज में क्षत्रिय विधायक के संबोधन के साथ दिया और अनेक बार यूं जोर देकर कहा कि मानो वह दर्शकों को क्षत्रिय विधायक संबोधन के मार्फत किसी नतीजे पर पहुंचाना चाहते हों। 

सवाल, सरकार, साजिश, समझौता, हत्या और दुराचार के पेंचोखम में उलझे कथित उन्नाव गैंग रेप कांड में मीडिया, तथ्यों की खोज से अधिक सरकार को घेरने में दिलचस्पी दिखा रही है। उसकी खोजी पत्रकारिता सिर्फ विधायक की गिरफ्तारी कब ? से सजा कब? तक ही सीमित हो गयी है। 

मीडिया को कथित पीडि़ता के उस बयान से कोई सरोकार नहीं है, जो उसने लगभग एक साल पूर्व वर्तमान में चल रहे मुकदमें (जिसमें आरोपी विधायक को जांच से पूर्व ही बलात्कारी बताया रहा है) के संदर्भ दिया था। जिसमें कथित पीडि़ता ने बताया था उसे 60 हजार रुपये में औरैया के यादव के हांथ बेंचा गया था। जहां नरेश ड्राइवर और शुभम ने उसके साथ बलात्कार किया। यही नहीं कथित पीडि़ता के चाचा ने भी 2017 में मीडिया के सामने अपनी भतीजी की बात को बड़े ही दार्शनिक अंदाज में सही बताते हुये पुलिस पर सवाल खड़ा किया था। यह वाडियो कोई गुप्त नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर चर्चा को विषय बना हुआ है लेकिन समाचार पत्र और चैनलों के लिये यह बेकार हैं क्योंकि शायद इनसे उन्माद पैदा होने की संभावना नहीं होगी . 
 

सवाल यह भी है कि हालातों में ऐसी कौन सी तब्दीली आ गई है कि कथित पीडि़ता और उसके चाचा का 2017 में दिया गया बयान आज बदल चुका है। कहीं यह किसी परिवार को राजनीतिक रूप से नेस्तानाबूत करने की कूट रचना तो नहीं? स्थानीय राजनीति में वर्चस्व स्थापित करने के उद्देश्य से कहीं साजिशों की बिसात पर मोहरा तो नहीं बन रहा है कथित पीडि़ता का परिवार? 

 

दीगर है चरणबद्ध तरीके से एक बाद एक आडियो रिकॉर्ड का सामने आना, उस पर घटना से जुड़े विभिन्न अवसरों के वीडियो का प्रसारित होना, एक पूर्व नियोजित कूट रचना की तरफ भी इशारा कर रहा है । मीडिया में प्रसारित कथित पीडि़ता के चाचा के साथ आरोपी विधायक का संवाद हो याकि जिले के पुलिस अधीक्षक के रीडर से बातचीत सभी कुछ रिकार्ड, और फिर उनका ऐन मौके पर समाचार चैनलों, व्हाट्सअप और न्यूज पोर्टलों के माध्यम से एक नियमित अंतराल पर प्रसारित होना किसी सस्पेंस थ्रिलर फिल्म की पटकथा का हिस्सा होने का अहसास करा रहा है। 

गौरतलब है कि अभी आडियो का जारी होना खत्म नहीं हुआ है। लगातार जारी हो रहे आडियो, संस्पेस को बढ़ा रहे हैं। अभी एक आडियो प्रकाश में आया है , जिसमें कथित उन्नाव गैंग रेप की पीडि़ता अपने परिजनों के किरदार और घर से गायब होने के विषय में खुल कर बात कर रही है। पीडि़ता के इस कथित आडियो को सुनने के बाद वर्तमान प्रसंग के विभिन्न पहलुओं पर रोशनी पड़ती है। आप भी ध्यान से सुनिये आडियो को और फिर सोचिये कि अभी...घटनाक्रम कितना मोड़ ले सकता है ।

Web Title: Unnao Gange Rape Case - conspiracy to demolish the political banyan tree ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया