मुख्य समाचार
भाजपा के लिए बिहार में बहार गिरीराज सिंह ने कन्‍हैया कुमार को पीछे छोड़ा नेवी में जाने का सुनहरा मौका, जल्द करें आवेदन बंगाल में भाजपा की टीएमसी को तगड़ी टक्कर, फिलहाल टीएमसी बढ़त पर राजस्थान में कांग्रेस कॉन्फीडेंस को करारा झटका, भाजपा का 25 लोकसभा सीटों पर क्लीन स्वीप Lucknow Election Result Live : बड़ी बढ़त की ओर राजनाथ सिंह चुनाव नतीजे दिन अगर हुआ ये तो बंद होगा शेयर बाजार का कारोबार रायबरेली में कांग्रेस की सोनिया गांधी आगे, भाजपा को झटका Uttar Pradesh Election Result Live : यूपी की 80 सीटों में बीजेपी ने 59 पर बनाई बढ़त शुरूआती रूझानों में यूपी में गठबंधन को नहीं मिलती दिख रही आशातीत सफलता नई नवेली दुल्हन को प्रेमी संग रंगे हाथ पकड़ा तो ससुरालियों ने रख दी ये शर्त एग्जिट पोल वाले ट्वीट को लेकर अनुपम खेर ने की विवेक ओबेरॉय की आलोचना, ईशा गुप्ता बोलीं... COA ने किया ऐलान, 22 अक्टूबर को होंगे बीसीसीआई के चुनाव पिता से लगाई एक शर्त के बाद इस महिला ने 15 वर्षों में किए 600 पोस्टमार्टम यहां निकली बंपर भर्ती, जल्द करें आवेदन KGMU : पल्मोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग ने किया भंडारे का आयोजन  ICC World Cup 2019 : टीम इंडिया इंग्लैंड हुई रवाना, धोनी को लेकर बनी यह रणनीति डीएम-एसपी ने लिया मतगणना स्थल पर तैयारियों का जायजा, तैयारियां पूरी मध्य कमान ने केन्द्रीय विद्यालय के छात्रों को कराया सीमा दर्शन नाराज तीन विधायक दे सकते हैं राजभर को झटका  सुप्रीम कोर्ट के बाद चुनाव आयोग ने दिया विपक्ष को झटका
 

उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में एटीएम हुए कैशलेश, सरकार ने बताई ये वजह


RAJNISH KUMAR 18/04/2018 10:32 AM
216 Views

Lucknow. उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, गुजरात, और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में एटीएम में कैश न होने की खबरें सामने आ रही हैं। लोग अपने ही पैसों को एटीएम और बैंकों से निकाल पाने में असमर्थ है। लोगों को खाली हाथ लौटना पड़ा है। कैश की किल्लत की खबरों को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गम्भीरता से लिया।

ATM  Cashless in  Uttar Pradesh and Other States

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ट्वीट किया कि नकदी की यह कमी सिर्फ अस्थायी है और इसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। इसके कुछ ही देर बाद वित्त मंत्रालय के आला अधिकारियों ने प्रेस कांफ्रेंस करके इस कमी को अचानक नकदी की मांग में हुई वृद्धि को वजह बताया। देर शाम तक भारतीय रिजर्व बैंक की भी सफाई आ गई। आरबीआई के मुताबिक कुछ हिस्सों में लॉजिस्टिक्स में दिक्कत की वजह से नकदी एटीएम में नहीं पहुंच पा रही है।

यह भी पढ़ें ... उपमुख्यमंत्री समेत भाजपा के सभी मंत्रियों ने दिया इस्तीफा, मचा सियासी तूफान

केंद्रीय बैंक ने आश्वासन दिया है कि जहां नकदी की समस्या है, वहां ज्यादा करेंसी पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। वहीं, बैंकों अधिकारियों का कहना है कि नकदी संकट की एक वजह यह भी है कि लोग पैसा निकाल तो रहे हैं, लेकिन उसे खर्च नहीं कर रहे हैं।

  छोटे नोटों के लिए उपयुक्त नहीं एटीएम

नोटों की किल्लत के लिए एक बड़ी वजह देश में छोटे नोटों की कमी है। नोटबंदी के बाद से 200 रुपये के नए नोट जारी हुए हैं, लेकिन उनकी संख्या काफी कम है। अभी एटीएम को 50 रुपये के लायक बनाया भी नहीं गया है।

यह भी पढ़ें ... प्रधानमंत्री मोदी लंदन पहुंचे, 'भारत की बात, सबके साथ' कार्यक्रम को करेंगे संबोधित

इसका असर यह हुआ है कि लोगों को छोटे नोट मिलने बंद हो गए हैं। ऐसे में बैंक सिर्फ 500 व 2000 रुपए के नोट एटीएम में डाल रहे हैं जो राशि के लिहाज से तो अधिक होते हैं, लेकिन संख्या में नोट कम होते हैं।

  देवास बैंक नोट प्रेस में तीन शिफ्ट में हो रहा काम

देश के अधिकतर एटीएम कैश की किल्लत से जूझ रहे हैं। यही वजह है कि सरकार ने फौरी कार्रवाई करते हुए नोटों की छपाई की प्रक्रिया में तेजी लाई है। बताया जा रहा है कि कैश की किल्लतों को देखते हुए देवास बैंक नोट प्रेस में मंगलवार से तीन शिफ्टों में काम होने लगा है। बैंक कर्मचारियों से तीन शिफ्ट में काम ले रहे हैं, ताकि नोटों की छपाई जल्दी से जल्दी हो सके।

यह भी पढ़ें ... बैंक घोटाला: संसदीय समिति ने आरबीआई गवर्नर को किया तलब, होगी पूछताछ

पहली शिफ्ट सुबह 7 से 2 बजे तक, दूसरी शिफ्ट दोपहर 2 से 11 बजे तक और तीसरी शिफ्ट रात 11 से सुबह 11 तक चल रही है। इन तीन शिफ्टों में देवास में 500 तथा 200 रुपए मूल्य के नोट छापे जा रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि नोटों की बढ़ती किल्लत के कारण ही नोट छपाई में तेजी लाई गई है। तीनों पालियों में छपाई का काम होने से नोट उत्पादन में इजाफा होगा।

Web Title: ATM Cashless in Uttar Pradesh and Other States ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया