मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

पेट्रोल-डीजल में भी लगी आग, भाजपा सरकार में सबसे ज्यादा हुए रेट


NEELAM SHUKLA DEWANGAN 22/04/2018 14:28:50
572 Views

New Delhi. पेट्रोल और डीज़ल की बढ़ी हुई कीमतें बीजेपी के लिए बुरी खबर लेकर आई हैं. जहां पेट्रोल की कीमतें रविवार को बीजेपी के कार्यकाल के सर्वोच्च स्तर 74.40 रुपये प्रति लीटर हो गई हैं वहीँ डीजल की दरें अब तक रिकॉर्ड हाई 65.65 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गईं. सार्वजनिक तेल विपणन कंपनियां पिछले साल जून से रोजाना पेट्रोल-डीजल की कीमतें संशोधित कर रही हैं. रविवार को जारी अधिसूचना के अनुसार पेट्रोल-डीजल की कीमतें 19-19 पैसे प्रति लीटर बढ़ा दी गईं।

Petrol and diesel prices too highest after bjp govt formation

दक्षिण एशियाई देशों में भारत में पेट्रोल - डीजल की कीमतें सबसे ज्यादा हैं. देश में विपणन दरों में लगभग आधी हिस्सेदारी करों की है. वित्तमंत्री अरुण जेटली ने नवंबर 2014 से जनवरी 2016 के बीच उत्पाद शुल्क में 9 बार बढ़ोत्तरी की. उत्पाद शुल्क में महज एक बार पिछले साल अक्तूबर में दो रुपये प्रति लीटर की कटौती की गई. इससे पहले शनिवार को पेट्रोल की कीमतें 13 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमतें 15 पैसे प्रति लीटर बढ़ायी गई थी. दिल्ली में रविवार को पेट्रोल की कीमत 74.40 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गई़ जो 14 सितंबर 2013 के बाद का हाई लेवल है. उस समय पेट्रोल 76.06 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया था.

बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार ने नवंबर 2014 से जनवरी 2016 के बीच नौ बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई थी। उसने क्रूड में आई तेज गिरावट का फायदा उठाते हुए अपना खजाना भरने के लिए यह कदम उठाया था। सरकार ने पिछले साल सिर्फ एक बार अक्टूबर में एक्साइज ड्यूटी में दो रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी। इससे ग्राहकों के ऊपर पड़ रहे दबाव को कम करने के लिए उत्पाद शुल्क में कटौती की मांग तेज हो गई है।

ताज़ा नोटिफिकेशन में कहा गया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतें बढ़ने से घरेलू बाजार में भी इजाफा करना पड़ा है. फ्यूल के दाम में तेज उछाल आने की वजह इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड के दाम में आई तेजी है। इसके चलते ऑयल मिनिस्ट्री को फाइनेंस मिनिस्ट्री से बजट में एक्साइज ड्यूटी घटाने के लिए कहना पड़ गया। जेटली अगले हफ्ते 2018-19 का बजट पेश करने वाले हैं। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ड्यूटी घटाने की मांग बजट से पहले फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली के विचारार्थ ऑयल मिनिस्ट्री की तरफ से दिए गए मेमोरंडम का हिस्सा है। ऑयल सेक्रेटरी के डी त्रिपाठी ने कहा था कि मिनिस्ट्री ने इंडस्ट्री से मिली सिफारिशों को मिनिस्ट्री के पास फॉरवर्ड कर दिया है।

महानगरों में पेट्रोल की कीमत

शहर दाम

दिल्ली 74.40 रुपये

मुंबई 82.25 रुपये

कोलकाता 77.10 रुपये

चेन्नई 77.19 रुपये

 

महानगरों में डीजल की कीमत

शहर दाम

दिल्ली 65.65 रुपये

मुंबई 69.91 रुपये

कोलकाता 68.35 रुपये

चेन्नई 69.27 रुपये

Web Title: Petrol and diesel prices too highest after bjp govt formation ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया