मुख्य समाचार
महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए शिक्षा जरूरी : अनुपमा जायसवाल अवैध खनन मामले में दोषी पाए गए अधिकारी का तत्काल प्रभाव से स्थानान्तरण सड़क सुरक्षा सप्ताह के दूसरे दिन परिवहन मंत्री ने बांटे हेल्मेट, लोगों को किया जागरूक डीएम की बड़ी कार्रवाई, कानूनगो व लेखपाल सहित दो सस्पेन्ड यूपी में कमजोरों और बच्चियों की हत्याओं की आ गई है बाढ़ : अखिलेश क्रिकेट के बाद अब राजनीति की पिच पर भी पाकिस्तान को लग सकता है ये तगड़ा झटका अवैध रूप से संग्रह किये मिट्टी के तेल के साथ एक युवक गिरफ्तार निर्धनों को शिक्षा प्रदान करने के लिए होना चाहिए ह्यूमन टच : राज्यपाल पिता मुलायम को व्हील चेयर पर लेकर लोकसभा पहुंचे अखिलेश यादव
 

जिनकी मौत पर पीएम मोदी भी हुए दुखी, असल में वो ज़िंदा हैं! जानिए हकीकत


ANKIT RASTOGI 04/05/2018 14:27:06
349 Views

Patna. बीते दिन हुआ बिहार बस हादसा आज एक पहेली बन गया। पहेली इसलिए क्योंकि पहले इस हादसे में 27 लोगों के मरने की खबर थी। वहीं अब यह सवाल सामने खड़ा है कि इस हादसे में कोई मौत हुई भी कि नहीं। नई रिपोर्ट के अनुसार जिस वक्त ये हादसा हुआ, बस में कोई भी मौजूद नहीं था।

यह भी पढ़ें : नाबालिग से रेप करने की सजा हो नपुंसकता, पीएमओ को भेजी याचिका

On whose death PM Modi also grieved, in fact he is alive

पूरी तरह पलट गई हादसे की कहानी...

हालांकि अभी भी पांच लोगों की मौत और गुमशुदगी पर रहस्य बना हुआ है, लेकिन एक दिन में हादसे की कहानी पूरी तरह उलट हो गई।

बता दें हादसे की सूचना मिलने के बाद बिहार के सीएम नीतीश कुमार से लेकर पीएम मोदी तक ने शोक संवेदना प्रकट की थी। साथ ही नीतीश कुमार ने मरने वालों के परिवारों को मुआवजा देने का ऐलान भी कर दिया था।   

मीडिया में आई नई रिपोर्ट्स के अनुसार मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही बस के एनएच-28 पर कोटवा क्षेत्र में पलट गई, जिससे बस में आग लग गई लेकिन प्रशासन ने इस दुर्घटना में किसी की भी मौत की पुष्टि नहीं की है।

यह भी पढ़ें : जमानत पर छूटे रेप आरोपी की करतूत, तीन साल की मासूम से की हैवानियत

इस दुर्घटना को लेकर बड़ा खुलासा यह हुआ है कि बस का परिचालन अवैध तरीके से हो रहा था। किसी भी राज्य से उसका परमिट निर्गत नहीं हुआ था।

बताया जा रहा है कि बस का नंबर यूपी 75 एटी -2312 लिखा पाया गया है। वह मोटर कैब का नंबर है। इस श्रेणी में हल्के वाहन आते हैं।

इटावा के परिवहन विभाग के यात्री कर अधिकारी अरविंद कुमार जैसल ने बताया कि इस नंबर पर परिवहन विभाग में सचेंद्र कुमार सिंह पुत्र अंगद सिंह निवासी नगला रामसुंदर, इटावा का नाम दर्ज है। यह मोटर कैब श्रेणी में दर्ज है और महिंद्रा एण्ड महिंद्रा की गाड़ी है।

उन्होंने बताया कि इस नंबर पर टैक्स व फिटनेस पूरा जमा है। उन्होंने बताया कि यह नंबर बस पर कैसे चलाया जा रहा है यह तो जांच का विषय है। मामले की जांच के बाद ही इस पर कुछ कहा जा सकेगा। वहीं, बिहार के परिवहन मंत्री संतोष निराला ने भी कहा है कि मोतिहारी बस हादसे की जांच होगी।

मंत्री दिनेश चंद्र यादव ने भी इस हादसे में किसी की मौत न होने की बात कही। ये वही शख्स हैं जिन्होंने गुरुवार को इस हादसे में 27 लोगों की मौत की पुष्टि की थी। यह हादसा गुरुवार रात का है।

वहीं शुरुआती रिपोर्ट में बताया गया था कि बस में 30 लोग सवार थे। ऐसी रिपोर्ट्स के आधार पर बिहार के आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेश चंद्र यादव ने 27 लोगों की मौत की पुष्टि भी कर दी।

शुक्रवार को राहत बचाव कार्य पूरा होने के बाद एक अलग ही कहानी सामने आ गई। मुजफ्फुरपुर पुलिस जोन आईजी अनिल कुमार ने एक समाचार पत्र को दिए बयान में बताया कि बस के अंदर कोई शव नहीं मिला।

उन्होंने कहा 8 लोगों को बचाया गया और राख को फरेंसिक लैब में भेज कर जानने की कोशिश होगी कि क्या हादसे में किसी की मौत हुई।

इस बयान के सामने के बाद ही आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेश चंद्र यादव सफाई देने सामने आए और हादसे में किसी की मौत वाली बात गलत ठहराई गई।

मौके की नजाकत को देखते हुए मंत्री जी ने सफाई तो दे दी, लेकिन हादसों को लेकर हुई मौतों पर उनका संशय बरकरार है।

मंत्री का कहना है कि बस में 13 लोगों की बुकिंग थी, जिसमें से 8 लोगों को बचाकर अस्पताल ले जाया गया। जहां उनका इलाज किया जा रहा है। पर पांच लोगों का पता अभी तक नहीं चल पाया है।

आशंका जताई जा रही है कि हो सकता है कि हादसा होने से पहले ही वे पांच लोग उतर गए हों। फिलहाल मंत्री जी ने अपनी सफाई देते हुए यह तर्क दिया कि स्थानीय लोगों द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार 27 लोगों की मौत वाला बयान दिया गया था।

खैर अब मामला जो भी रहा हो लेकिन अभी भी पांच लोगों की मिसिंग की गुत्थी का स्पष्ट उत्तर अभी भी सरकार के पास नहीं है।

 

Web Title: On whose death PM Modi also grieved, in fact he is alive ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया