मुख्य समाचार
पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की बैठक आज, ममता और केसीआर नहीं होंगे शामिल एनडी टीवी के खास प्रमोटरों पर सेबी ने लगाई रोक, लगा इतने साल का प्रतिबंध एयरपोर्ट पर चंद्रबाबू नायडू की ली गई तलाशी, टीडीपी ने बदले की राजनीति का लगाया आरोप यूपी को डिजिटल उत्तर प्रदेश बनाने के लिए व्यापक और मजबूत दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री बल्लेबाजी डॉट कॉम के ब्रांड एम्बेसडर बने युवराज राज्यपाल ने केन्द्रीय गृह मंत्री से भेंट की सड़क सुरक्षा समिति की बैठक : बसों में अग्निशमन यन्त्र लगाने के निर्देश बसपा सांसद के घर कुर्की का आदेश हुआ चस्पा दान के सिक्कों को लेकर परेशानी में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट, जानिए क्या है वजह मीसा भारती ने चुनाव में हार का लिया ऐसे बदला संभावित आतंकी हमले को लेकर अयोध्या में हाई अलर्ट स्कूल चलो अभियान में सभी बच्चों को नजदीकी स्कूलों में शत-प्रतिशत नामांकन कराये जाने के निर्देश पाकिस्तान से वीडियो कॉल कर युवक ने कहा- भाईजान बम कहां रखना है और फिर...
 

किसने कहा, न पढ़ें खुले में नमाज़


NEELAM SHUKLA DEWANGAN 07/05/2018 02:13:47
232 Views

New Delhi. खुले में नमाज पढ़े जाने को हरियाणा सरकार ने गंभीरता से लिया है और इसके खिलाफ हो रहे प्रदर्शन और हिंसा को देखते हुए हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि नमाज मस्जिद या ईदगाह में अदा की जानी चाहिए, सार्वजनिक स्थल पर नहीं।

इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए खट्टर ने कहा कि कानून-व्यवस्था बनाए रखना हमारा कर्तव्य है। खुले में नमाज पढ़े जाने के मामलों में वृद्धि हुई है। नमाज सार्वजनिक स्थलों की जगह मस्जिद या ईदगाह में पढ़ी जानी चाहिए।

आपको बता दें कि खट्टर सोमवार से इजरायल और ब्रिटेन के दौरे पर जा रहे हैं। इसी वजह से उन्होंने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। पत्रकारवार्ता के दौरान उनके विदेश दौरे को लेकर तो जो चर्चा हुई सो हुई, लेकिन सबसे ज्यारदा खुले में नमाज का मुद्दा हावी रहा। गुरुग्राम में 20 अप्रैल को खुले में नमाज पढ़ने को लेकर विवाद खड़ा हुआ था। यहां के सेक्टर 53 में कुछ युवकों ने खुले में नमाज पढ़ने आए लोगों को ऐसा करने से रोका था। बाद में पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया था। बीते शुक्रवार को भी खुले में नमाज पढ़ने को लेकर विवाद हुआ था। अल्पसंख्यक समुदाय के लोग वजीराबाद, अतुल कटारिया चौक, साइबर पार्क, बख्तावर चौक, आदि जगहों पर जुमे की नमाज के लिए जमा हुए थे। इन स्थानों पर विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल, हिन्दू क्रांति दल, गौ रक्षक दल और शिवसेना के सदस्य भी पहुंच गए थे। इन संगठनों ने खुले में नमाज पढ़ने का विरोध किया था।

हालांकि इस बयान के बाद खट्टर कई लोगों के निशाने पर आ गए हैं. लोग उनके इस बयान को तुगलकी फरमान बता रहे हैं वही कुछ लोग इसको कर्नाटक चुनाव से जोड़कर दख रहे हैं।

Web Title: maszid or dargaah is perfect for namaz-cm khattar ( Hindi News From Newstimes)


अब पाइए अपने शहर लखनऊ की खबरे (Lucknow News in Hindi) सबसे पहले Newstimes वेबसाइट पर और रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें न्यूजटाइम्स की हिंदी न्यूज़ ऐप एंड्राइड (Hindi News App)


कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया